NDTV Khabar

एक ऐसा सुपर मार्केट, जहां मिलता है बचा हुआ खाना

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एक ऐसा सुपर मार्केट, जहां मिलता है बचा हुआ खाना

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी के एक सुपर मार्केट में बचा हुआ खाना बिकता है. तस्वीर: प्रतीकात्मक

सिडनी:

ऑस्ट्रेलिया में सिडनी के करीब केंसिंगटन में पहला रेस्क्यूड फूड सुपरमार्केट खुला है. यहां मुफ्त या बेहद सस्ते दाम में खाने और जरूरत के अन्य सामान मिलते हैं. पर इसकी खासियत मुफ्त या सस्ता खाना नहीं है. बल्कि यहां मिलने वाला खाना है, जो लोगों द्वारा दान किया होता है. 

यह सुपरमार्केट चैरिटेबल संस्था ऑजीहार्वेस्ट ने खोला है. इसकी संस्थापक रॉनी काहन बताती हैं कि उन्होंने 12 साल पहले कुछ लोगों के साथ मिलकर ऑजीहार्वेस्ट की स्थापना की थी. तब वे लोग आसपास की कॉलोनी से बचा हुआ खाना जमा करते और उसे गरीबों को बांट देते थे. धीरे-धीरे और लोग साथ आ गए. पहचान बन गई. अब उनकी संस्था 2000 से अधिक आउटलेट से बचा हुआ खाना जमा करती है. कई लोग खुद ही बचा हुआ सामान दान कर जाते हैं. 

एक रिपोर्ट के मुताबिक ऑजीहार्वेस्ट अपने कैंपेन से एक साल में करीब 10 अरब डॉलर (करीब 64,240 करोड़ रु.) का खाना बर्बाद होने से बचाएगा. ऑजीहार्वेस्ट के कई शहरों में पहले से आउटलेट भी हैं.


ऑजीहार्वेस्ट का मूल मंत्र है, 'टेक व्हॉट यू नीड- गिव इफ यू कैन' यानी, जो जरूरी है वह लें और यदि संभव है तो कुछ देते जाएं. सुपरमार्केट में काम करने वाले आधे लोग वॉलंटियर हैं. ऑजीहार्वेस्ट की मैनेजर एलिसिया कहती हैं कि सुपरमार्केट में एक शिफ्ट में 5 से 10 वॉलंटियर काम करते हैं. मिशेल इनमें से एक हैं. 

वे कहती हैं, 'हम आमतौर पर जब सुपरमार्केट या होटल में खाने जाते हैं तो करीब 30 फीसदी खाना छोड़ देते हैं. मैं हमेशा सोचती थी कि इसे रोकने के लिए कुछ करना चाहिए. तभी मुझे रेस्क्यूड फूड सुपरमार्केट का पता चला. अब मैं यहां कुछ घंटे मुफ्त में काम करती हूं. लोगों को समझाती हूं. कभी जरूरत होती है तो कुछ ले भी लेती हूं.' 

दो बच्चों की मां जूली कहती हैं, 'मैं इस वक्त आर्थिक परेशानी से गुजर रही हूं. नामी सुपरमार्केट से महंगा सामान नहीं खरीद सकती. पर यह सुपरमार्केट ऐसा है, जहां मैं न सिर्फ खाना ले सकती हूं बल्कि दूसरे सामान भी खरीद सकती हूं. चीज जैसे कुछ सामान यहां नहीं भी मिलते. पर इसका भी फायदा है. मेरा बिल कम बनता है.' 

टिप्पणियां

सुपरमार्केट आने वाली सराह ने कहा कि यहां ब्रेड, अंडे, मशरूम, पाइनेपल जैसे फल से लेकर मसाले, सैनिटरी प्रॉडक्ट और टूथपेस्ट तक मिलता है. मेरी जरूरत का सब कुछ. साथ ही, इस बात की संतुष्टि मिलती है कि मेरे पैसे से किसी गरीब का भला होगा.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement