NDTV Khabar

रोबोट में अपने आप भी विकसित हो सकता है पूर्वाग्रह, ऐसे हुआ खुलासा

एक अध्ययन में सामने आया है कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता मशीन दूसरी मशीनों से सीखकर, नकलकर या पहचान के जरिये पूर्वाग्रह के लक्षण प्रदर्शित कर सकती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रोबोट में अपने आप भी विकसित हो सकता है पूर्वाग्रह, ऐसे हुआ खुलासा
एक अध्ययन में सामने आया है कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता मशीन दूसरी मशीनों से सीखकर, नकलकर या पहचान के जरिये पूर्वाग्रह के लक्षण प्रदर्शित कर सकती है. ब्रिटेन की कार्डिफ यूनिवर्सिटी और अमेरिका के मेसाच्यूसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के शोधकर्ताओं ने पाया कि दूसरों के प्रति पूर्वाग्रह दिखाने के लिये उच्च स्तर की संज्ञानात्मक क्षमता की जरूरत नहीं है और इसे मशीनों द्वारा आसानी से प्रदर्शित किया जा सकता है. 

अब रोबोट बताएगा कि आपके बच्चों को कौन सी किताब पढ़नी चाहिए, करेगा ये सब

साइंटिफिक रिपोर्ट्स जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, ऐसा लगता है कि पूर्वाग्रह मानव विशिष्ट धारणा है जिसमें किसी खास व्यक्ति या समूह को लेकर कोई राय बनाने के लिये, या रूढ़िवादी धारणा के लिये मानव संज्ञान की जरूरत होती है. कार्डिफ विश्वविद्यालय में प्रोफेसर रोजर व्हिटकर ने कहा, ‘‘यह संभव है कि पहचान या विभेद और दूसरों की नकल में सक्षम स्वायत्त मशीनें भविष्य में पूर्वाग्रह की धारणा को लेकर अतिसंवेदनशील हों जो अभी हम इंसानी आबादी में देखते हैं.’’

नेहा कक्कड़ के गाउन की खातिर लड़ पड़े 'रोबोट', फ्लाइंग Kiss देकर उड़ाए होश.. देखें Video

टिप्पणियां
यद्यपि कुछ तरह के कंप्यूटर कलन में सार्वजनिक आंकड़ों और इंसानों द्वारा मिले आंकड़ों जैसे नस्लभेद और लिंगभेद, के आधार पर पूर्वाग्रह की बात प्रदर्शित हुई है. शोध से यह संभावना सामने आई है कि कृत्रिम बुद्धिमता अपने आप ही पूर्वाग्रही समूह विकसित कर सकती है. 

(इनपुट-भाषा)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement