Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सुरेश रैना ने की टीम इंडिया के ड्राइवर की मदद, पत्‍नी के इलाज के लिए किया ये काम

टीम इंडिया के खिलाड़ी सुरेश रैना ने इस तरह टीम इंडिया के बस ड्राइवर की मदद की.

सुरेश रैना ने की टीम इंडिया के ड्राइवर की मदद, पत्‍नी के इलाज के लिए किया ये काम

सुरेश रैना

खास बातें

  • इंग्‍लैंड में टीम इंडिया के बस ड्राइवर ने भारतीय टीम की तारीफ की है
  • उनका कहना है कि वह सुरेश रैना का एहसान नहीं भूल पाएंगे
  • सुरेश रैना ने बस ड्राइवर की मदद की थी
नई दिल्‍ली:

टीम इंडिया इस वक्‍त इंग्‍लैंड में है, जहां क्रिकेट जगत की ये दोनों दिग्‍गज टीमें गेम के तीनों फॉर्मेट में आपस में भिड़ रही हैं. हालांकि यहां पर हम खिलाड़‍ियों के पर्फार्मेंस की बात नहीं कर रहे हैं. यहां टीम इंडिया के उस स्‍टाफ की बात हो रही है, जिसकी महत्ता को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. जी हां, यहां पर हम इंग्‍लैंड में टीम इंडिया के बस ड्राइवर जेफ गुडविन की बात कर रहे हैं. 

धोनी, हरभजन और रैना की बेटियों ने किया इस गाने पर डांस, Video Viral
  बीसीसीआई को दिए एक इंटरव्‍यू में जेफ गुडविन ने टीम इंडिया के बारे में कई बातें बताईं. उन्‍होंने टीम इंडिया को बेहद प्रोफेशनल बताया. उन्‍होंने यह भी कहा कि खिलाड़‍ियों का रवैया बेहद दोस्‍ताना है. इसके अलावा गुडविन का कहना है कि वह उस वाकए को ताउम्र नहीं भूल पाएंगे जब क्रिकेटर सुरेश रैना ने उन्‍हें पत्‍नी के इलाज की खातिर अपनी शर्ट ऑक्‍शन के लिए दे दी. थी

जेफ गुडविन के मुताबिक, 'अब से कुछ साल पहले सुरेश रैना लीड्स में थे. उन्‍होंने ऑक्‍शन के लिए मुझे अपनी शर्ट दे दी थी. मैं उस बात को कभी नहीं भूल सकता.'

VIDEO: सिंगर बने सुरेश रैना, खिलाड़ियों के बीच ऐसे गाया किशोर कुमार का गाना गुडविन ही नहीं उनका 21 साल का बेटा भी बस चलाता है. उन्‍होंने बताया कि बस चलाते वक्‍त सचिन तेंदुलकर उनके बेटे के बगल में बैठा करते थे. वह उससे कहा करते थे कि तुम्‍हारे पिता स्‍टार हैं.

जेफ के मुताबिक, 'मेरा बेटा टीम इंडिया की बस चला रहा था. तेंदुलकर ड्राइवर के बगल में बैठा करते थे और उससे कहा करते थे कि तुम्‍हारे पिता बड़े स्‍टार हैं. टूर के आखिरी में मेरा बेटा भी स्‍टार बन गया. वह सिर्फ 21 साल का है. उसे भारत सरकार की ओर से धन्‍यवाद वाला एक लेटर मिला.'

गौरतलब है कि जेफ गुडविन इंग्‍लैंड टूर के दौरान ज्‍यादातर क्रिकेट टीमों की बस चलाते हैं. उन्‍होंने 1999 वर्ल्‍ड कप से टीम की बस चलाना शुरू किया और बेहतरीन सर्विस दी. हालांकि सुरेश रैना ने जो किय वो तारीफ के काबिल है.