Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पाकिस्तानी पत्रकार ने UN में भारतीय प्रतिनिधि से पूछा- कब करेंगे पाक से बातचीत? मिलेगा ऐसा जवाब, देखें VIDEO

भारतीय दूत और यूएन (UN) के भारतीय प्रतिनिधी सैयद अकबरुद्दीन (Syed Akbaruddin) ने पाकिस्तानी पत्रकारों से दोस्ती का हाथ बढ़ाया और शांति रखने की पहल की.

पाकिस्तानी पत्रकार ने UN में भारतीय प्रतिनिधि से पूछा- कब करेंगे पाक से बातचीत? मिलेगा ऐसा जवाब, देखें VIDEO

पाकिस्तानी पत्रकार ने UN में भारतीय प्रतिनिधी से पूछा- कब करेंगे पाक से बातचीत?

भारतीय दूत और यूएन (UN) के भारतीय प्रतिनिधी सैयद अकबरुद्दीन (Syed Akbaruddin) ने पाकिस्तानी पत्रकारों से दोस्ती का हाथ बढ़ाया और शांति रखने की पहल की. सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) ने शुक्रवार को कश्मीर मसले पर अपने अनौपचारिक परामर्श के दौरान स्वीकार किया कि भारत ने कश्मीर में हालात सामान्य बनाने के लिए कदम उठाया. बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में अकबरुद्दीन ने कहा कि भारत का यह रुख है कि अनुच्छेद 370 पूरी तरह से भारत का आंतरिक मसला है और इसमें किसी प्रकार की बाहरी जटिलता नहीं है.

कश्मीर मामले पर सुरक्षा परिषद की बैठक में पाकिस्तान को सिर्फ चीन का समर्थन: समाचार पत्र

चीन और पाकिस्तान के प्रतिनिधियों के बात करने के बाद सैयद अकबरुद्दीन ने मीडिया से बातचीत की. उनके आते ही तीन पाकिस्तानी पत्रकारों ने एक के बाद एक सवाल कर डाले. उनमें से एक पाकिस्तानी पत्रकार ने पूछा- आप पाकिस्तान से बातचीत कब शुरू करेंगे? इतना सुनने के बाद अकबरुद्दीन पोडियम से उतरे और पाकिस्तानी पत्रकार से हाथ मिलाया. उसके बाद कहा- 'सबसे पहले आपके पास आकर, आपसे हाथ मिलाकर शुरुआत करते हैं.'

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर पर बंद कमरे में हुई बैठक के बाद भारत ने कहा- 'पूरी तरह से हमारा आंतरिक मामला'

अकबरुद्दीन ने पोडियम पर जाते हुए कहा- 'मैं आपको बताना चाहूंगा कि हम पहले ही दोस्ती का हाथ बढ़ा चुके हैं, ये कहते हुए कि हम शिमला समझौते पर प्रतिबद्ध हैं. हमें अब पाकिस्तान के रिस्पॉन्स का इंतजार करना चाहिए.' पाकिस्तानी रिपोर्टर ने फिर पूछा- 'तो फिर क्यों दोनों पड़ोसी देश बात नहीं करते. जब बात करने को कहा जाता है तो वो बात क्यों नहीं करता.'

सुरक्षा परिषद में 'कश्मीर मुद्दे' पर बैठक से बिफरी कांग्रेस, पीएम मोदी से की यह मांग

इस पर अकबरुद्दीन ने कहा- 'बातचीत शुरू करने के लिए आतंक को रोकें.' उन्होंने कहा कि पाकिस्तान उस स्थिति के लिए एक अलार्मवादी दृष्टिकोण पेश करने की कोशिश कर रहा है जो जमीनी वास्तविकताओं से दूर है. अकबरुद्दीन ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला है. कश्मीर पर लिए गए फैसले से बाहरी लोगों को कोई मतलब नहीं होना चाहिए. अकबरुद्दीन ने कहा कि पाकिस्तान जेहाद के नाम पर भारत में हिंसा फैला रहा है. उन्होंने कहा कि हम अपनी नीति पर हमेशा की तरह कायम हैं.