पाकिस्तान में 'चायवाले' ने जीता चुनाव, संपत्ति देखी तो निकला करोड़ों का मालिक

पाकिस्तान चुनाव प्रचार के दौरान एक उम्मीदवार को चायवाला बताया गया था. उसकी संपत्ति देखी गई तो वो करोड़पति निकला. गुल जफर खान जो खाइबर पखतूनख्वा के NA-41 (Bajaur) से चुनाव जीता है. वो MNA (Member Of National Assembly) बन चुके हैं.

पाकिस्तान में 'चायवाले' ने जीता चुनाव, संपत्ति देखी तो निकला करोड़ों का मालिक

पाकिस्तान आम चुनावों में जीतने वाला चायवाला गुल जफर खान निकला करोड़पति.

Pakistan, Khyber Pakhtunkhwa: पाकिस्तान में हालही में चुनाव हुए हैं, जिसमें पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ की जीत हुई है. इमरान खान 18 अगस्त को शपथ लेंगे. 65 वर्षीय इमरान खान की पार्टी 25 जुलाई को हुए आम चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी. इसी बीच एक ऐसी खबर आई जिसने हर किसी को हैरान कर दिया. चुनाव प्रचार के दौरान एक उम्मीदवार को चायवाला बताया गया था. उसकी संपत्ति देखी गई तो वो करोड़पति निकला.

इमरान खान ने शपथ समारोह के मेहमानों की लिस्ट में किया बदलाव, अब भारत के इन तीन पूर्व क्रिकेटरों को भेजा न्योता

हर किसी को इस खबर से काफी हैरानी है. गुल जफर खान जो खाइबर पखतूनख्वा के NA-41 (Bajaur) से चुनाव जीता है. वो MNA (Member Of National Assembly) बन चुके हैं. Geo News के मुताबिक, चुनाव आयोग को दिए हलफनामें को देखा गया तो वो करोड़पति निकले. हलफनामें के मुकाबिक उनकी 3 करोड़ रुपये की संपत्ति है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पाकिस्तानी शख्स ने गलती से बॉलीवुड एक्टर इमरान खान को भेज दिया मैसेज, जानिए फिर क्या हुआ
 

taehb2u8

(पाकिस्तान आम चुनावों में जीतने वाला चायवाला गुल जफर खान निकला करोड़पति.)


दस्तावेजों के मुताबिक, गुल जफर खान का गार्मेंट का बिजनेस है. उनकी अचल संपत्ति 1 करोड़ रुपये है और 2 घर और खेत की कीमत 1 करोड़ 20 लाख है. बताया गया है कि एक साल में उनकी संपत्ति 1 लाख 84 हजार रुपये बढ़ी है. इमरान खान की पार्टी पीटीआई से टिकट मिलने से पहले वो रावलपिंडी में होटल के पास चाय बेचा करते थे. चुनाव प्रचार के दौरान उनकी चाय बेचते हुए तस्वीरें काफी वायरल हुई थीं. एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें वो लोगों को चाय पिला रहे थे. 

इमरान खान की जीत पर पीएम मोदी ने दी बधाई, कहा- पाकिस्‍तान में मजबूत होंगी लोकतंत्र की जड़ें

उस दौरान गुल जफर खान ने कहा था- ये मेरा काम है और मुझे MNA बनने के लिए चुना गया है. मेरा फोकस ज्यादा से ज्यादा बच्चों को राजनीति में लाने का है. जिससे स्थिति संभलेगी और लोगों का विश्वास राजनीति में बढ़ेगा. उस दौरान उन्होंने बच्चों की पढ़ाई पर भी जोर दिया था.