NDTV Khabar

Video: रात में खाना ढूंढने निकला था काला भालू, 'भूत' देखकर हुआ रफू चक्कर!

एक काला भालू भोजन की तलाश में इंसानों की कॉलोनी में आया हुआ है. यहां वह एक कचरे के डिब्बे में खाना तलाशता है. खाने के लिए वह कचरे के डिब्बे को पलटना चाहता है, तभी उसे भूत का वहम होता है और वह वहां से भाग खड़ा होता है.

1.8K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Video: रात में खाना ढूंढने निकला था काला भालू, 'भूत' देखकर हुआ रफू चक्कर!

इंसानों की बस्ती में पहुंचे भालू को भगाने के लिए लोगों ने अपनाया खास तरीका.

खास बातें

  1. वर्जीनिया में खाने की तलाश में इंसानों की कॉलोनी में पहुंचा काला भालू
  2. खाने के लिए कचरे के डिब्बे को पलटने की कर रहा था कोशिश
  3. तभी कचरे में बंधी गुड़िया जोर-जोर से हंसने लगे, घबराकर भाग गया भालू
नई दिल्ली: भूत के वहम से इंसानों के डरने की बात तो आपने सुनी और देखी होगी. वर्जीनिया में भूत के डर से भालू के भागने का वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में साफ तौर से दिख रहा है कि एक काला भालू भोजन की तलाश में इंसानों की कॉलोनी में आया हुआ है. यहां वह एक कचरे के डिब्बे में खाना तलाशता है. खाने के लिए वह कचरे के डिब्बे को पलटना चाहता है, तभी उसे भूत का वहम होता है और वह वहां से भाग खड़ा होता है. दरअसल, यह भूत नहीं होता है. कचरे के डिब्बे को भालू से बचाने के लिए जानबूझकर उसमें एक गुड़िया बांधी गई होती है. भालू जैसे ही कचरे के डिब्बे को पलटने की कोशिश करता है गुड़िया से हंसने की आवाज आने लगती है. भालू घबरा जाता है और वह से भाग जाता है.

यूपीआई की खबर के मुताबिक वर्जीनिया के इस इलाके में अक्सर भालू आ जाते हैं. भालू खाने की तलाश में कचरे के डिब्बों को पलट देते हैं, जिससे सड़क पर गंदगी फैल जाती है. कई बार वे कचरे के डिब्बे को तोड़ भी देते हैं. बार-बार कचरे के डिब्बे पर पैसे खर्च करने से बचने के लिए सालेम नाम के शख्स ने एक आइडिया ढूंढा. उसने घर के बाहर रखे कचरे डिब्बे में खिलौने की एक गुड़िया बांध दी. इस गुड़िया की खासियत यह है कि इसे हिलाने पर इससे जोर-जोर से हंसने की आवाज निकलने लगती है. रात के अंधेरे में भयानक आवाज सुनकर भालू भाग जाते हैं.


भारत में फसलों को बचाने के लिए अपनाया जाता है ऐसा ही तरीका

मालूम हो कि भारत के किसान वर्षों से पक्षियों से अपने खेत की रक्षा के लिए इस तरह के उपाय करते आ रहे हैं. अगर आप कभी खेत में गए होंगे तो गौर किया होगा कि वहां डंडे के सहारे एक मूर्ति खड़ी कर दी जाती है, जिसे देखकर आभास होता है कि वह कोई इंसान है. इस मूर्ति को बिजूका कहते हैं. इसे देखते ही पक्षी खेत में आने की हिम्मत नहीं करते हैं.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement