NDTV Khabar

गुफा में जैसे ही पहुंचा कैमरा तो ये करते दिखे फंसे हुए खिलाड़ी, कही ऐसी बात

थाईलैंड की गुफा में फंसे युवा फुटबॉल टीम के नये वीडियो से पता चलता है कि लड़के हंस रहे हैं और कह रहे हैं कि वे ठीक हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुफा में जैसे ही पहुंचा कैमरा तो ये करते दिखे फंसे हुए खिलाड़ी, कही ऐसी बात

Thailand: थाईलैंड की गुफा में फंसे युवा फुटबॉल टीम के नये वीडियो से पता चलता है कि लड़के हंस रहे हैं और कह रहे हैं कि वे ठीक हैं. लापता होने के नौ दिन बाद गोताखोरों ने उनका पता लगाया है. थाईलैंड की नौसेना सील के फुटेज में 12 सदस्यों की टीम में से 11 नजर आ रहे हैं और इनमें से प्रत्येक कैमरे के सामने परंपरागत थाई अंदाज में अभिवादन कर रहे हैं. वे खुद का उपनाम बताते हुए कहते हैं, ‘‘मैं ठीक हूं.’’कैमरे में नजर आने वाले कई लड़के रक्षात्मक कम्बल पहने हुए हैं और उनके साथ मुस्कुरा रहा गोताखोर भी है.

गुफा में जिंदा मिले 12 फुटबॉल खिलाड़ी, उनको बचाने के लिए सेना कर रही है ये काम

फुटेज में उनका 25 वर्षीय कोच नजर नहीं आ रहा है जो 23 जून को फुटबॉल प्रशिक्षण के बाद बच्चों के साथ गुफा में गया था. यह फुटेज थाईलैंड की नौसेना के फेसबुक पेज पर है. एक मिनट के क्लिप में 12 युवा फुटबॉल खिलाड़ियों में से एक कह रहा है कि पहचान कराने के दौरान उसे भूला दिया गया जिससे सभी हंस पड़ते हैं. ब्रिटेन के गोताखोरों ने सोमवार को जब उनका पता लगाया तब लड़के काफी शांत और सतर्क नजर आ रहे थे. गुफा के अंदर पानी बढ़ने से वे एक कीचड़ वाले स्थान पर नजर आ रहे हैं.


थाइलैंड ने की डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की बैठक की मेजबानी की पेशकश

गुफा के बाहर एक लड़के की मां की आंखों में आंसू हैं और वह कह रही है कि अपने बेटे की एक झलक पाकर वह काफी ‘‘खुश’’ है. फीराफट सोमपेंगजाई का परिवार फ्रीज में जन्मदिन का केक रखकर अब भी उसके लौटने का इंतजार कर रहा है. फीरफाट 23 जून को 16 वर्ष का होने वाला था और उसके जन्मदिन पर ग्रिल्ड पोर्क और डेजर्ट तैयार किया गया था. उसके परिवार के लोग प्यार से उसे ‘नाइट’ के नाम से पुकारते हैं. नाइट के परिजन उसका 17वां जन्मदिन थाई परम्परा से मनाने के लिए उस शाम को इंतजार कर रहे थे. लेकिन वह नहीं लौटा.

अमरनाथ यात्रा: जम्मू से 3708 श्रद्धालुओं का जत्‍था रवाना, अब तक 55 हजार तीर्थयात्रियों ने किए बाबा बर्फानी के दर्शन

टिप्पणियां

नाइट की बहन फुनफातसा कहती है, ‘‘हमने जन्मदिन मनाने के लिए रात का भोजन तैयार किया था और कुछ रिश्तेदार भी आए. केक फ्रीज में है. मैंने उसे सरप्राइज देने के लिए वहां रखा था.’’ फुनफातसा कहती है कि बचाव कार्य लंबा चलने पर परिवार ने केक संभालकर रखा क्योंकि ‘‘हमें अब भी उम्मीद है’’ कि वह जिंदा बच जाएगा. चुनौतीपूर्ण बचाव कार्य के दौरान नौसेना सील के कई गोताखोर और चिकित्सक वहां तैनात हैं. थाईलैंड के अधिकारियों का कहना है कि अब बच्चों को शारीरिक एवं मानसिक रूप से मजबूत बनाने पर ध्यान केंद्रित करना है.

(इनपुट-भाषा)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement