NDTV Khabar

यह कोई आम भाषण नहीं है...हार्वर्ड के इस ग्रेजुएट की कही बातें आपको प्रेरणा देंगी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यह कोई आम भाषण नहीं है...हार्वर्ड के इस ग्रेजुएट की कही बातें आपको प्रेरणा देंगी
मैसाचुसेट्स:

डोनोवन लिविंगस्टन - यह नाम है उस हार्वर्ड ग्रेजुएट का जिसका दिया भाषण इतना प्रेरणादायक और अनोखा था कि उसे 25 मई से अभी तक एक लाख से ज्यादा बार यू ट्यूब पर देखा जा चुका है। डोनोवन ने अपने भाषण को कविता के रूप में सुनाया जिसका शीर्षक 'Lift Off' यानि उड़ान भरना है। इस कविता में डोनोवन ने अतीत में शिक्षा की भूमिका, अफ्रीकी-अमेरिकी के लिए पढ़ाई के मायने और शिक्षाविदों को भविष्य में कौन सी राह अपनानी चाहिए जैसे मुद्दों पर दिलचस्प तरीके से अपनी बात रखी है।

टिप्पणियां


डोनोवन की कही इस कविता में से पढ़िए उनकी कही कुछ ऐसी लाइनें है जो न सिर्फ आपको सोचने के लिए मजबूर करेंगी  बल्कि आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित भी करेंगीं -

  1. मेरा अतीत मुझे शांत बैठने नहीं देता। मेरे दिमाग की तरह मेरा शरीर भी एक जगह नहीं टिक सकता।
  2. शिक्षक होने के नाते, आवाज़ उठाने से बेहतर है, हमें इन बंधनों से मुक्त करो, इस बंधन को तोड़ डालो, हमें आज़ाद करो
  3.  भीतर से हम में से कोई भी सामान्य नहीं है, हम सभी धूमकेतू की तरह पैदा हुए हैं जो अंतरिक्ष और समय  में चक्कर लगा रहे हैं और हम जहां भी टकराएंगे अपनी छाप छोड़ेंगे।
  4. ज्वालामुखी का मुंह हमें याद दिलाता है कि यहां कुछ कमाल का हुआ था। कुछ ऐसा जिसने पूरी दुनिया को ही बदल दिया था।
  5. किसी को यह बताना अन्याय है कि शिक्षा ही हर उलझन को सुलझाने की चाबी है, जबकि आप  बार बार उस चाबी का ताला बदल देते हैं।
  6. तो उठिए, जागिए!! अपनी आवाज़ उठाइए। तब तक जब तक आप हर बच्चे के हिस्से के आसमान में हुए छेद को भर नहीं देते।
  7. मैं अपनी क्लास का ब्लैक होल हूं जो सब कुछ अपने अंदर समेटे जा रहा था लेकिन खुद मेरे पास रोशनी का कोई सुराख नहीं था। लेकिन अब और नहीं, अब मैं भी सितारों का हिस्सा हूं।
  8. नहीं..आसमान के आगे भी बहुत कुछ है। आसमान तो बस एक शुरूआत है तो उठो और उड़ान भरो!!


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement