MP पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया तो पैर छूने लगे लोग, टिकटॉक वीडियो ने मचाया धमाल, देखें Viral Video

Jyotiraditya Scindia सोशल मीडिया (Social Media) पर छाए हुए हैं. जब भी ज्योतिरादित्य मध्यप्रदेश (Jyotiraditya Scindia) पहुंचते हैं तो उनका धूमधाम से स्वागत किया जाता है. TikTok पर भी Jyotiraditya Scindia के वीडियो वायरल (Viral Video) हो रहे हैं.

MP पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया तो पैर छूने लगे लोग, टिकटॉक वीडियो ने मचाया धमाल, देखें Viral Video

TikTok Viral Video: ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे ही पहुंचे MP तो पैर छूने लगे लोग

TikTok Viral Video: ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) काफी दिनों से सोशल मीडिया (Social Media) पर छाए हुए हैं. जैसे ही उन्होंने कांग्रेस (Congress) छोड़कर बीजेपी (BJP) ज्वाइन की तो उनको लेकर कई ट्वीट्स और वीडियो पोस्ट किए गए. टिकटॉक (TikTok) पर भी ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के वीडियो वायरल (Viral Video) हो रहे हैं. जिसमें देखकर आप भी समझ जाएंगे की मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में उनको कितना प्यार मिलता है. जब भी ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्यप्रदेश (Jyotiraditya Scindia) पहुंचते हैं तो उनका धूमधाम से स्वागत किया जाता है. उनको लोग प्यार से 'महाराज' बुलाते हैं. वो जब भी आम लोगों के बीच पहुंचते हैं तो लोग उनके पैर पड़कर और आरती करके स्वागत करते हैं. 

ऐसा ही एक पुराना वीडियो टिकटॉक पर वायरल हो रहा है. जिसमें देखा जा सकता है कि जैसे ही ज्योतिरादित्य सिंधिया सड़क पर आते हैं तो लोग उनको घेर लेते हैं और फूलों की माला पहनाने लगते हैं. कुछ लोग उनके पैर पड़ने लगते हैं. सिंधिया शानदार अंदाज में लोगों का अभिवादन करते हैं. वहीं दूसरे वीडियो में एक शख्स ज्योतिरादित्य की आरती करता है और उनका गांव में स्वागत करता है. 

देखें Video:

@bobbyyadavrao

♬ original sound - äaruu

@abhinav_raja.123

♬ original sound - äaruu

सिंधिया के साथ ही उनके समर्थक पार्टी के कई विधायकों के इस्तीफे से राज्य की कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. कांग्रेस ने पार्टी विरोधी गतिविधि के कारण पार्टी के महासचिव एवं पूर्ववर्ती ग्वालियर राजघराने के वंशज ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी से निष्कासित कर दिया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को नौ मार्च को लिखे इस्तीफा पत्र में सिंधिया ने कहा कि उनके लिये आगे बढ़ने का समय आ गया है क्योंकि इस पार्टी में रहते हुए अब वह देश के लोगों की सेवा करने में अक्षम हैं. 

सिंधिया के पिता माधव राव सिंधिया ने भी अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत 1971 में जनसंघ के सांसद के रूप में की थी और बाद में वह कांग्रेस में शामिल हो गये थे.