एक छोटे से कीड़े की वजह से रुक गईं दर्जनों ट्रेनें, 12 हजार यात्री हो गए लेट

बिजली आपूर्ति में आई इस दिक्‍कत के एक हफ्ते बाद अधिकारियों ने बताया कि उन्‍होंने इस घटना के आरोपी को ढूंढ लिया गया है. आरोपी और कोई नहीं बल्‍कि एक घोंघा है.

एक छोटे से कीड़े की वजह से रुक गईं दर्जनों ट्रेनें, 12 हजार यात्री हो गए लेट

जापान में घोंघे के चलते ट्रनें रद्द हो गईं

खास बातें

  • एक छोटे से कीड़े की वजह से दर्जनों ट्रेनों को रद्द करना पड़ा
  • कीड़ा ट्रैप पर लगे बिजली उपकरण में घुस गया था
  • मामला जापान का है
नई दिल्‍ली:

एक छोटे से घोंघे को बिजली कटौती के लिए जिम्‍मेदार ठहराया गया है जिसके चलते दर्जनों ट्रेनें रुक गईं और 12 हजार यात्रियों को अपने गंतव्‍य तक पहुंचने में बहुत देर हो गई. मामला जापान का है. 

यह भी पढ़ें: चलती हुईं वाशिंग मशीन में आधे घंटे तक फंसी रही बिल्ली

रेलेव ऑपरेटर ने रविवार को बताया कि क्‍योशो रेलवे द्वारा संचालित दक्षिणी जापान की कुछ लाइनों पर 30 मई को बिजली आपूर्ति बाधित रही. इस वजह से कंपनी को मजबूरन 26 ट्रेनों और कई दूसरी सेवाओं को निरस्‍त करना पड़ा. अपनी कार्यक्षमता विशेषकर ट्रांसपोर्ट के मामले में हमेशा टाइम पर रहने वाले जापान में इस घटना के चलते असमंजस और अव्‍यवस्‍थता की स्थिति बन गई. 

बिजली आपूर्ति में आई इस दिक्‍कत के एक हफ्ते बाद अधिकारियों ने बताया कि उन्‍होंने इस घटना के आरोपी को ढूंढ लिया गया है. आरोपी और कोई नहीं बल्‍कि एक घोंघा है. दरअसल, घोंघा रेलवे ट्रैक के पास लगाए गए एक बिजली उपकरण के अंदर चला गया था. 

कंपनी के प्रवक्‍ता के मुताबिक, "बिजली आपूर्ति में आई इस बाधा के लिए जो जिम्‍मेदार है उसका पता चल गया है. पहले हमें लगा था कि उसके अंदर कोई जिंदा कीड़ा है, लेकिन वह एक मरा हुआ घोंघा निकला." 

यह भी पढ़ें: इंसानों की तरह 'ट्विंकल ट्विंकल लिटिल स्टार' गा सकती है ये सील मछली

स्‍थानीय मीडिया के मुताबिक बिजली उपकरण में शॉर्ट सर्किट करने के बाद घोंघा भी मारा गया. 

अधिकारी के मुताबिक वह यह तो नहीं कह सकते कि ऐसा पहली बार हुआ है लेकिन यह घटना अनूठी जरूर है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्‍होंने कहा, "अक्‍सर हिरण तो ट्रेन से टकरा जाते हैं और उस वजह से हमें काफी दिक्‍कत भी होती है लेकिन घोंघे के साथ कभी कोई परेशानी नहीं हुई." 

उन्‍होंने बताया कि इसी तरह के दूसरे उपकरणों की भी जांच की गई है, लेकिन उनमें घोंघे की मौजूदगी नहीं पाई गई.