NDTV Khabar

इन गांवों में तो 100 साल पहले ही ले लिया गया था पटाखे न जलाने का फैसला

तिरूनलवेली के कूतनकुलम गांव में पक्षी विहार है और वहां के लोग लंबे समय से दिवाली के समय पटाखे चलाने से बचते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इन गांवों में तो 100 साल पहले ही ले लिया गया था पटाखे न जलाने का फैसला

फाइल फोटो

खास बातें

  1. चिड़ियों और चमगादड़ों को न हो दिक्कत
  2. ग्रामीण नहीं जलाते पटाखे
  3. तिरूनलवेली के कूतनकुलम गांव में है पक्षी विहार
चेन्नई:

तमिलनाडुके कई गांवों के लोग चिड़ियों और चमगादड़ों को होने वाली दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए दीवाली पर पटाखे नहीं चलाते हैं. तिरूनलवेली के कूतनकुलम गांव में पक्षी विहार है और वहां के लोग लंबे समय से दिवाली के समय पटाखे चलाने से बचते हैं. दिलचस्प बात यह है कि गांव के लोग पक्षियों को तेज आवाज से होने वाली परेशानियों को ध्यान में रखते हुए धार्मिक स्थलों और व्यक्तिगत समारोहों में भी तेज आवाज वाले लाऊडस्पीकर का प्रयोग कम से कम करते हैं.

सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी : हमें पता है दीपावली पटाखा मुक्त नहीं होने वाली, लोग पटाखे जलाएंगे

टिप्पणियां

इसी तरह सलेम पेराम्बुर के करीब वव्वाल तोप्पु गांव तथा कांचीपुरम के निकट विशार के लोग पटाखे इसलिए नहीं चलाते हैं ताकि आसपास बसे चमगादड़ों को परेशानी ना हो. पेराम्बुर के लोगों का कहना है कि पटाखे नहीं चलाने का फैसला करीब एक सदी पहले लिया गया ताकि चिड़ियों और चमगादड़ों को परेशानी ना हो.


वीडियो : व्यापारियों ने कहा हम मुफ्त बांट देंगे पटाखे
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में प्रदूषण रोकने के लिए इस बार दीपावली में पटाखे दगाने पर रोक लगा दी है. इसका अच्छा-खासा विरोध हो रहा है. कुछ लोगों ने इसे धर्म से भी जोड़ दिया है. दूसरी ओर व्यापारी भी इस निर्णय से नाराज हैं. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement