NDTV Khabar

दो ग्रहों की हुई खोज, जहां हैं जीवन के आसार, धरती मिली गर्म और पानी की उम्मीद

दो ऐसे ग्रहों की खोजे की गई है, जो पृथ्वी के समान गर्म हैं और उनमें पानी हो सकता है. साथ ही यह जीवन का समर्थन करने के लिए अच्छा विकल्प हो सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दो ग्रहों की हुई खोज, जहां हैं जीवन के आसार, धरती मिली गर्म और पानी की उम्मीद

ऐसे 2 ग्रहों की खोज, जहां जीवन के आसार

दो ऐसे ग्रहों की खोजे की गई है, जो पृथ्वी के समान गर्म हैं और उनमें पानी हो सकता है. साथ ही यह जीवन का समर्थन करने के लिए अच्छा विकल्प हो सकते हैं. यह एक शोध में पता चला. वैज्ञानिक 2016 के बाद से 3.5-मीटर टेलीस्कोप का उपयोग करके पास के सितारों के पास मौजूद ग्रहों पर जीवन की खोज कर रहे हैं. एफे न्यूज के अनुसार, अलमेरिया, दक्षिणी स्पेन में कैलार ऑल्टो वेधशाला और दो अन्य स्पैनिश दूरबीनों में कैद की गई छवियों में शोधकर्ताओं को हमारे सौर मंडल से लगभग 12.5 प्रकाश वर्ष दूर टेगेर्डन स्टार (एक ठंडा लाल बौना सितारे) से जुड़ी बड़ी महत्वपूर्ण जानकारी मिली है. 

VIDEO: इस शख्स ने बनाई पेड़ पर चलने वाली बाइक, एक लीटर पेट्रोल से चलेगी इतना

शोधपत्र के सह-लेखक इग्नासी रिबास ने कहा, "टेगार्डन हमारे सूरज के द्रव्यमान का केवल आठ प्रतिशत है. यह सूर्य की तुलना में बहुत छोटा और बहुत कम चमकीला है. वास्तव में, पृथ्वी के बहुत करीब होने के बावजूद इसे 2003 तक खोजा नहीं गया था." सूर्य का तापमान जहां 5,500 सेल्सियस है, वहीं सितारे का तापमान लगभग 2,600 सेल्सियस है. यह हमारे सूर्य की तुलना में 10 गुना छोटा है, इसलिए यह 1,500 गुना कमजोर है और ज्यादातर अवरक्त तरंगों को प्रसारित करता है.


Delhi Traffic कॉन्स्टेबल ने सुनाया Rap, बोले- 'हेल्मेट नहीं लगाया तो आपका टाइम आएगा...' देखें VIDEO

एक बार तारे के मिल जाने के बाद वैज्ञानिकों ने डॉपलर तकनीक का इस्तेमाल किया, जिसे वोबबल विधि के रूप में भी जाना जाता है, जो अपने चारों ओर ग्रहों का पता लगाने के लिए मूल तारे के रेडियल-वेग माप का उपयोग करता है. डॉपलर तकनीक ने कम से कम दो संकेतों का पता लगाया, जिन्हें अब ग्रहों टेगार्डन बी और टेगार्डन सी के रूप में पहचाना गया है.

कनपुरिया अंदाज में बच्चे ने बताया 'लोटा पनीर' बनाने का सनसनीखेज तरीका, देखें मजेदार VIDEO

टेगार्डन बी का द्रव्यमान पृथ्वी के समान है और प्रत्येक 4.9 दिनों में सितारे की परिक्रमा करता है. दूसरे ग्रह कक्षा को पूरा करने में 11.4 दिन का समय लेता है, जो उसके वर्ष की लंबाई है. रिबास ने कहा, "दूसरे शब्दों में, यह अपने सितारे के बेहद नजदीक है."

चांद की परत में छिपा है सूर्य का इतिहास, नासा के वैज्ञानिक ने किया खुलासा

उन्होंने कहा, "जितना प्रकाश हम सूर्य से प्राप्त करते है, उससे 10 प्रतिशत अधिक प्रकाश टेगार्डन एक प्राप्त करता हैं, इसलिए हम सोचते हैं कि यह बहुत गर्म हो सकता है और इसमें पानी नहीं हो सकता है. लेकिन यह सिर्फ अटकलें हैं, क्योंकि इसके जलवायु के तत्व हैं जो हमें नहीं पता है और इसका मतलब यह हो सकता है कि यहां क्या पता तरल पानी हो."

बस के ऊपर चढ़कर मस्ती करते हुए कॉलेज जा रहे थे स्टूडेंट्स, ब्रेक लगा और धड़ाम से गिरे... देखें VIDEO

टिप्पणियां

टेगार्डन एक रहने योग्य क्षेत्र के बीच में घूमता है, जिसका अर्थ है कि इसकी सतह पर तापमान 0 डिग्री सेल्युकस और 100 डिग्री सेल्यियस के बीच है, जिसका अर्थ है कि इसकी सतह पर बहुत अच्छी तरह से पानी हो सकता है. इसके अलावा वैज्ञानिक इस बात से उत्साहित हैं कि इसके दूसरे दोनों गृह प्राक्सीमा के साथ-साथ जीवन का समर्थन करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प हैं। ये वे ग्रह हैं, जिन्होंने अब तक खोजे गए सभी ग्रहों पर वास के लिए सबसे अच्छी स्थिति प्रस्तुत की.

(इनपुट-आईएएनएस)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement