NDTV Khabar

बारातें तो आपने कई देखी होंगी लेकिन घोड़ी पर सवार 'दुल्हन' को कभी देखा है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बारातें तो आपने कई देखी होंगी लेकिन घोड़ी पर सवार 'दुल्हन' को कभी देखा है

खास बातें

  1. मुंबई के एक इलाके में दुल्हन घोड़ी पर सवार थी
  2. सोशल मीडिया पर बारात की यह तस्वीर चर्चा में है
  3. भारत में कुछ समुदायों में इस तरह की बारातें निकाली जाती हैं
मुंबई: शादियों का मौसम है और देश भर की सड़कों पर बारातों ने कब्ज़ा जमा रखा है. कोई 'देश है वीर जवानों का' पर झूम रहा है, तो कोई नागिन डांस करके बारातियों का मन मोह लेने में लगा हुआ है. इसमें कोई शक ही नहीं है कि भारतीय बारातें इतनी रोचक और मज़ेदार होती हैं कि इसके पास से गुज़रते हुए थोड़ी देर के लिए ही सही आप रुककर दुल्हे वालों को निहारने लगते हैं.

ऐसी ही एक बारात पिछले दिनों मुंबई में निकली, बस इस बारात में एक ही फर्क था कि इस बार घोड़ी पर दुल्हा नहीं दुल्हन सवार थी. इस अनोखी बारात के गवाह बने वैभव विशाल जो कि एक मीडिया प्रोफेशनल हैं और इस तरह के नायाब पलों को अक्सर कैद कर ही लेते हैं. इस बार भी उन्होंने इस मौके को हाथ से जाने नहीं दिया और इस निराली बारात की तस्वीर खींच डाली.
 

 
 


हालांकि वैभव यह पता नहीं कर पाए कि यह बारात दरअसल किस समुदाय की है. हां थोड़ा रुककर किसी बाराती से यह सवाल किया जा सकता था लेकिन बकौल वैभव उन्हें डर था कि 'कहीं कोई नाराज़ होकर उनकी पिटाई न कर दे.'

वैसे इस बारात के बारे में ज्यादा जानकारी भले ही न मिल पाई हो लेकिन यह भारत में कुछ समुदाय हैं जहां बारात दुल्हन, दुल्हों के घर लेकर जाती हैं. कुछ साल पहले इंदौर के पास सतवाड़ा गांव में भी ऐसी ही एक बारात निकाली गई थी. अंग्रेज़ी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार पाटीदार समुदाय में 'कन्या घटारी' नाम की प्रथा चलती हैं जिसमें दुल्हन, दुल्हे के यहां बारात लेकर जाती है. हालांकि अब यह प्रथा का मानने वाले कम हो रहे हैं लेकिन रजनी पाटीदार ने इस प्रथा का एक नई परिभाषा गढ़ने के लिए पालन किया था.

फिलहाल, प्रथा से या अपनी मर्ज़ी से ढर्रे पर चले आ रहे उसूलों को तोड़ने का अपना आनंद है और अगर ऐसा करने से बराबरी का संदेश मिले तो फिर तो ऐसे नयेपन का हमेशा ही स्वागत किया जाना चाहिए. जैसे फिलहाल, वैभव की फेसबुक पोस्ट पर कमेंट बॉक्स में किया जा रहा है. अगर आपने भी अपने आसपास रूढ़ीवाद को किनारे लगाने वाली ऐसी ही किसी पहल को देखा है तो नीचे कमेंट बॉक्स में हमें बताइए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement