लद्दाख में शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि देकर बोले वीरेंद्र सहवाग, उम्मीद है, चीनी सुधर जाएं

Ladakh के गालवान घाटी (Galwan Valley) में भारतीय सैनिकों की चीनी सैनिकों के साथ मंगलवार रात को झड़प हुई. भारतीय सेना के कर्नल संतोष बाबू (Col. Santosh Babu) शहीद हो गए हैं. पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने उनको श्रद्धांजलि दी.

लद्दाख में शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि देकर बोले वीरेंद्र सहवाग, उम्मीद है, चीनी सुधर जाएं

लद्दाख में शहीद हुए भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि देकर वीरेंद्र सहवाग ने कही ये बात..

लद्दाख (Ladakh) के गालवान घाटी (Galwan Valley) में भारतीय सैनिकों की चीनी सैनिकों के साथ मंगलवार रात को झड़प हुई. चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए हैं. सेना ने बयान जारी कर इसकी पुष्टि की है, वहीं समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, चीन के 40 से ज्यादा सैनिक हताहत हुए हैं. इस झड़प में भारतीय सेना के कर्नल संतोष बाबू (Col. Santosh Babu) शहीद हो गए हैं. टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने इंस्टाग्राम पर उनको श्रद्धांजलि दी और इस घटना पर अपना रिएक्शन दिया. 

वीरेंद्र सहवाग ने संतोष बाबू की फोटो पोस्ट कर लिखा, 'कर्नल संतोष बाबू के प्रति हार्दिक संवेदनाएं जिन्होंने गालवान घाटी पर कार्रवाई में सर्वोच्च बलिदान दिया. इस समय जब दुनिया महामारी से जूझ रही है, यह आखिरी चीज ही रह गई थी, जिसकी हमें जरूरत थी. मुझे उम्मीद है कि चीनी सुधर जाएं.'

समाचार एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से यह भी बताया है कि भारतीय पक्ष द्वारा सुने गए इंटरसेप्ट से पता चला है कि लद्दाख की गालवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में चीनी पक्ष की ओर से कम से कम 43 सैनिक जान गंवा चुके हैं या गंभीर रूप से घायल हुए हैं.


सूत्रों ने समाचार एजेंसी ANI को बताया है कि LAC के पार से चीन की ओर से हेलीकॉप्टरों की आवाजाही में बढ़ोतरी देखी गई है, ताकि वे भारतीय सेना से हुई हिंसक झड़प के दौरान मारे गए और गंभीर रूप से घायल हुए अपने सैनिकों को ले जा सकें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि पेंगॉन्ग सो में हिंसक झड़प के बाद पांच मई से ही भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध चल रहा है. पेंगॉन्ग सो झील के पास फिंगर इलाके में भारत द्वारा महत्वपूर्ण सड़क बनाने पर चीन ने कड़ा ऐतराज किया था. इसके अलावा गलवान घाटी में दरबुक-शायोक-दौलत बेग ओल्डी रोड को जोड़ने वाली सड़क पर भी चीन ने आपत्ति जतायी थी. इसके बाद से ही दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं. छह जून को सैन्य स्तरीय वार्ता के दौरान भारत और चीन 2018 में वुहान शिखर बैठक में दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच बनी सहमति के आधार पर फैसला करने पर सहमत हुए थे .छह जून को लेह की 14 वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बती सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल लिउ लिन के बीच समग्र बैठक हुई थी.