NDTV Khabar

मच गई अफरातफरी जब एक व्यक्ति अचानक सीएम देवेंद्र फडणवीस की तरफ दौड़ पड़ा!

एक कार्यक्रम में सीएम को नौकरी के लिए आवेदन देने के लिए भागे दिव्यांग युवक को पुलिस कर्मियों ने दौड़कर पकड़ा

162 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मच गई अफरातफरी जब एक व्यक्ति अचानक सीएम देवेंद्र फडणवीस की तरफ दौड़ पड़ा!

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के रालेगणसिद्धि में एक कार्यक्रम में एक व्यक्ति अचानक सीएम देवेंद्र फडणवीस की तरफ दौड़ पड़ा.

खास बातें

  1. मुख्यमंत्री को अपना आवेदन देने का प्रयास कर रहा था
  2. चार-पांच बार मंत्रालय जाकर नौकरी पाने की कोशिश कर चुका है
  3. अहमदनगर जिले के महकारी गांव का निवासी है बेरोजगार व्यक्ति
मुंबई: महाराष्ट्र में शनिवार को एक अजीब मामला सामने आया. एक कार्यक्रम के दौरान अचानक एक व्यक्ति वहां मौजूद सीएम देवेंद्र फडणवीस की तरफ दौड़ पड़ा. उसकी इस हरकत पर वहां मौजूद सभी लोग सकते में आ गए. पुलिस ने उसे दौड़कर पकड़ा. जब पूछताछ की तो रोचक मामला सामने आया.

बताया जाता है कि एक 35 वर्षीय बेरोजगार व्यक्ति नौकरी का आवेदन लेकर एक कार्यक्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की ओर लपका, लेकिन पुलिस ने उसे बीच में ही रोककर हिरासत में ले लिया. पुलिस ने बताया कि यह घटना यहां से तकरीबन 240 किलोमीटर दूर अहमदनगर जिले के रालेगणसिद्धि में हुई. वहां फडणवीस कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए गए थे.

यय भी पढ़ें : शिवसेना ने महाराष्ट्र सरकार की तीसरी वर्षगांठ पर फडणवीस पर साधा निशाना

पुलिस ने कहा कि व्यक्ति की पहचान प्रशांत महादेव कानाडे के तौर पर की गई है. वह अहमदनगर जिले में महकारी गांव का निवासी है. बताया जाता है कि वह ‘दिव्यांग’ है. अधिकारी ने बताया कि कानाडे सरपंचों की रैली में हिस्सा लेने के लिए आया था. वहां मुख्यमंत्री भी मौजूद थे. जब फडणवीस मंच पर थे तो कानाडे अचानक खड़ा हो गया और उनकी तरफ भागना शुरू कर दिया. अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा अधिकारी और स्थानीय पुलिसकर्मी हरकत में आए और उसकी तरफ भागे. उन्होंने उस व्यक्ति को मंच पर पहुंचने से पहले ही पकड़ लिया. उसके हाथ में सरकारी नौकरी के लिए आवेदन था.

पारनेर थाने के वरिष्ठ निरीक्षक हनुमंतराव गडे ने कहा कि कानाडे को हिरासत में लिया गया और उससे पूछताछ की गई. उसने कहा कि वह मुख्यमंत्री को अपना आवेदन देने का प्रयास कर रहा था. गडे ने कहा कि कानाडे बैंक में नौकरी की मांग रहा था. इससे पहले वह नौकरी का आवेदन देने के लिए चार से पांच बार मंत्रालय (राज्य सचिवालय) गया था, लेकिन उसे कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली.

VIDEO : एलफिंस्टन ब्रिज का होगा पुनर्निर्माण

पूछताछ में खुलासा हुआ कि 12 वीं कक्षा पास व्यक्ति की किसी को भी नुकसान पहुंचाने की मंशा नहीं थी. उन्होंने कहा कि जांच के बाद कानाडे को घर जाने की अनुमति दी जाएगी. उन्होंने कहा, ‘‘हमने उसके माता-पिता और रिश्तेदारों को उसे घर ले जाने के लिए बुलाया है.’’
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement