Shramik Special Train में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, Photo हो रही है वायरल

महिला ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक बच्चे को जन्म दिया है. आपको बता दें कि इस महिला और उसके बच्चे की फोटो रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया. प्राइमिया न्यूज के मुताबिक इस महिला का नाम सायरा फातिमा है.

Shramik Special Train में महिला ने दिया बच्चे को जन्म, Photo हो रही है वायरल

Shramik Special Train में महिला ने दिया बच्चे को जन्म

एक महिला की फोटो इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. दरअसल बात यह है कि इस महिला ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक बच्चे को जन्म दिया है. आपको बता दें कि इस महिला और उसके बच्चे की फोटो रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया. प्राइमिया न्यूज के मुताबिक इस महिला का नाम सायरा फातिमा है. सायरा फातिमा प्रेग्नेंट थी और श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सफर कर रहीं थीं. सफर के दौरान ओडिशा के खुर्दा रोड स्टेशन के पास उन्हें प्रसव पीड़ा हुआ जिसके बाद रेलवे अधिकारियों ने ट्रेन रोक दिया और फिर मेडिकल टीम की सहायता से ट्रेन के अंदर ही महिला की डिलीवरी करवाई गई. बाद में मां- बच्चे को एम्बुलेंस की सहायता से पास के अस्पताल में एडमिट करवाया गया.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी देते हुए लिखा, "सिकंदराबाद-हावड़ा स्पेशल ट्रेन में सवार एक महिला ने एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया. हम इस छोटे से बच्चे का स्वागत करते हैं. रेलवे के डॉक्टरों और मेडिकल टीम की मदद से मां और बच्चे दोनों सुरक्षित है.''


समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मई की शुरुआत से अब तक 30 से अधिक बच्चे श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में पैदा हो चुके हैं. रेलवे के प्रवक्ता ने कहा कि जब भी किसी यात्री को मदद की जरूरत होती है, तो वहां मौजूद कर्मचारी पास के स्टेशन को अलर्ट कर देते हैं. जहां चिकित्सा सहायता उपलब्ध होती है और स्टेशन के आसपास रेलवे कॉलोनियों में रहने वाले डॉक्टर हमेशा किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार होते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि कोरोनोवायरस महामारी के कारण लॉकडाउन के बीच, देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे प्रवासी और श्रमिकों को उनके घर पहुंचाने के लिए 1 मई से  श्रमिक ट्रेनें शुरू की गईं. रेल मंत्री ने घोषणा की है कि रेलवे ने 75 लाख से अधिक प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने के लिए अब तक 4,500 से अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा चुकी है.