तलाक लेने कोर्ट पहुंची महिला, कहा- "पति के बेइंतहा प्‍यार से नर्क बन गई है जिंदगी"

महिला ने कोर्ट को बताया, "मुझे उसके बेइंतहा प्‍यार और लगाव से घुटन होती है. वह घर की साफ-सफाई में भी मेरी मदद करता है." 

तलाक लेने कोर्ट पहुंची महिला, कहा-

कोर्ट में तलाक लेने पहुंची महिला ने इसके लिए पति के प्‍यार को जिम्‍मेदार ठहराया है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • महिला ने कोर्ट में तलाक के लिए अजीबोगरीब दलील दी
  • महिला का कहना है कि वो पति के प्‍यार से घुटन महसूस करती है
  • पति ने बचाव में कहा कि सिर्फ एक साल में किसी फैसले पर पहुंचना सही नहीं
नई दिल्‍ली:

कोर्ट में तलाक लेने पहुंची एक महिला का कहना है कि पति के बेइंतहा प्‍यार की वजह से वह इस रिश्‍ते में घुटन महसूस करती है और उसकी जिंदगी 'नर्क' बन गई है. मामला संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) का है. 

यह भी पढ़ें: पत्नी दिन-रात खिलाती थी लड्डू, पति ने मांगा तलाक
  
खलीज टाइम्‍स के मुताबिक यूएई की शरिया कोर्ट में तलाक लेने आई एक अनाम महिला ने कहा कि शादी के एक साल बाद वह अपने पति से अलग होना चाहती है. उसका कहना है कि वह पति के हद से ज्‍यादा प्‍यार और इबादत से तंग आ चुकी है इसलिए वह तलाक चाहती है. 

महिला ने कोर्ट को बताया, "मुझे उसके बेइंतहा प्‍यार और लगाव से घुटन होती है. वह घर की साफ-सफाई में भी मेरी मदद करता है." 

महिला ने दावा किया कि पति के अच्‍छे बर्ताव से उसकी जिंदकी 'नर्क' बन गई है इसलिए उसने इस शादी को तोड़ने का मन बनाया. 

यह भी पढ़ें: पत्नी के च्युइंगम खाने से इंकार करने पर पति ने दिया तीन तलाक

महिला ने तथाकथित रूप से कहा, "मैं झगड़े के एक दिन के लिए तरसती हूं लेकिन मेरे रोमांटिक पति के साथ ऐसा होना नामुमकिन है जो हमेशा मुझे माफ कर देता है और आए दिन मुझ पर तोहफों की बारिश करता रहता है." 

महिला ने कहा, "मुझे बहस करनी है, एक झगड़ा चाहिए न कि बिना परेशानियों वाली फर्माबरदार जिंदगी." 

वहीं पति ने बचाव में कहा कि उसने कुछ गलत नहीं किया है. उसके मुताबिक, मैं पर्फेक्‍ट और अच्‍छा पति बनना चाह रहा था. 

और तो और महिला ने एक बार पति के वजन को लेकर शिकायत की तो वह डाइट पर चला गया और एक्‍सरसाइज करके वापस शेप में आ गया. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पति ने कोर्ट से पत्‍नी को समझाने की गुहार लगाते हुए कहा, "एक साल में ही शादी को लेकर राय बनाना और फैसला लेना तर्कसंगत नहीं है और हर कोई अपनी गल्तियों से सीखता है." 

कोर्ट ने पति की गुहार के बाद इस मामले को खारिज कर दिया है ताकि दोनों अपने मतभेदों को सुलझा कर साथ रह सकें.