हंसने और छींकने से इस महिला की टूट जाती हैं हड्डियां

महिला ने बताया कि पांच साल पहले भी उसकी गर्दन टूटी थी, वह भी छींकने के कारण. तब उसके सिर में ड्रिल करके रॉड लगाई गई थी, जिससे उसकी रीढ़ की हड्‌डी सीधी की जा सके. उन्हें ठीक होने में 14 हफ्ते लगे थे. यह जानकर डॉक्टरों ने उन्हें हंसते और छींकते वक्त सतर्क रहने के लिए कहा है.

हंसने और छींकने से इस महिला की टूट जाती हैं हड्डियां

ऑस्ट्रेलिया की महिला मोनिके जेफ्रे अजीबीगरीब बीमारी से ग्रसित हैं. तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  • ऑस्ट्रेलिया की इस महिला को हंसने से मनाही
  • हंसने से इस महिला की टूट जाती है गर्दन
  • छींकने से भी इस महिला की टूट जाती है हड्डियां
नई दिल्ली:

कहते हैं हंसने से शरीर स्वस्थ्य रहता है, लेकिन अगर यही कष्ट देने लगे तो इसे क्या कहेंगे. ऑस्ट्रेलिया की महिला मोनिके जेफ्रे ऐसी एक बीमारी से ग्रसित हैं. पिछले दिनों वह दोस्तों के साथ हंस रही थीं. अचानक गले में दर्द हुआ. दोस्तों ने अस्पताल पहुंचाया. पता चला कि गले की हड्‌डी टूट चुकी है. डॉक्टरों ने सर्जरी की. अब वे स्वस्थ हो रही हैं. डॉक्टरों ने कहा कि पहले ऐसा मामला नहीं देखा. हमने उन्हें सावधानी रखने को कहा है. मोनिके के साथ 2012 में भी छींकते वक्त ऐसा हुआ था. स्काई न्यूज के मुताबिक मोनिके ऑफिस में सहकर्मी के सुनाए चुटकुले पर जैसे ही वह हंसी, उसकी गर्दन की हड्‌डी टूट गई. उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टर उसकी हालत देखकर हैरत में पड़ गए, क्योंकि उन्होंने इससे पहले ऐसा कोई मामला नहीं देखा था. इससे भी ज्यादा हैरानी उन्हें तब हुई जब उस

महिला ने बताया कि पांच साल पहले भी उसकी गर्दन टूटी थी, वह भी छींकने के कारण. तब उसके सिर में ड्रिल करके रॉड लगाई गई थी, जिससे उसकी रीढ़ की हड्‌डी सीधी की जा सके. उन्हें ठीक होने में 14 हफ्ते लगे थे. यह जानकर डॉक्टरों ने उन्हें हंसते और छींकते वक्त सतर्क रहने के लिए कहा है.

चार वर्षीय बच्चा बचपन में बूढ़ा बना देने वाली रहस्यमयी बीमारी से पीड़ित

bayezid
बायेजीद सिकदर.

बांग्लादेश में एक चार वर्षीय बच्चा एक अजीबोगरीब बीमारी से पीड़ित है, जिसकी वजह से वह बचपन में ही एक बूढ़े व्यक्ति की तरह दिखाई देता है. उसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ढाका के एक शीर्ष अस्पताल के चिकित्सक एक गरीब कृषक परिवार से आने वाले बायेजीद सिकदर की स्थिति देखने के बाद उसके रोग की पहचान करने और उसका उपचार नि:शुल्क करने के लिए राजी हो गए हैं. बायेजीद इस रहस्यमयी बीमारी के अलावा दिल की बीमारी, देखने और सुनने संबंधित परेशानी का भी सामना कर रहे हैं.

उसके पिता, लाब्लू सिकदर ने बताया कि कई चिकित्सक उसकी बीमारी को समझ पाने में असफल रहे हैं. सिकदर ने इस हफ्ते ढाका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में कहा, 'हमने स्थानीय अस्पतालों में उसका उपचार कराने के लिए अपनी जमीन बेच दी. हम उसे धार्मिक और हर्बल चिकित्सकों के पास लेकर गए. लेकिन उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ. यह अस्पताल हमारी आखिरी उम्मीद है.' उन्होंने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि यहां के चिकित्सक उसे एक सामान्य बच्चे जैसा बना देंगे.'