दुनिया के 5 सबसे खतरनाक तूफान, जिनमें गई थीं लाखों की जान

तूफान जब आता है तो कई लोगों की जान चली जाती है. तबाही मचाता है. आइए नजर डालते हैं उन चक्रवाती तूफान के बारे में जिनमें लाखों की जान चली गई थी.

दुनिया के 5 सबसे खतरनाक तूफान, जिनमें गई थीं लाखों की जान

इन 5 जगह आए थे सबसे खतरनाक तूफान.

खास बातें

  • इन 5 जगह आए थे सबसे खतरनाक तूफान.
  • बांग्लादेश में आया था 'ग्रेट भोला साइक्लोन'
  • दुनिया का सबसे खतरनाक तूफान माना जाता है 'टॉर्नेडो' को

मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर सहित 20 राज्यों में 11 मई तक तूफान आने की आशंका है. चेतावनी के बाद दिल्ली-एनसीआर में तेज हवाएं, धूल भरी आंधी और बारिश हुई. मौसम विभाग ने दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा के साथ उत्तर प्रदेश के मेरठ और राजस्थान में तूफान की चेतावनी जारी की थी. भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कहा कि उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, असम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, कर्नाटक और केरल आंधी-तूफान से प्रभावित हो सकते हैं. चेतावनी के बाद इमरजेंसी सेवाएं को अलर्ट पर रखा गया है. तूफान जब आता है तो भारी तबाही मचती है और कई लोगों की जान चली जाती है. यहां पर हम आपको उन सबसे खतरनाक तूफान के बारे में बता रहे हैं जिनमें लाखों की जानें चली गईं थीं.

तूफान में ये लोग रहें सावधान, इन TIPS से बचाएं धूल और मिट्टी से अपनी जान
 

thunderstorm
 
बांग्लादेश में आया था 'ग्रेट भोला साइक्लोन'
बांग्लादेश में 12 और 13 नवंबर 1970 को ये चक्रवाती तूफान आया था. ये तूफान इतना खतरनाक था कि करीब 5 लाख जानें चली गईं थीं. इस तूफान ने 185 किलोमीटर तक कहर बरपाया था. इस तूफान से गांवो और फसलों को भारी नुकसान हुआ था.

आंधी-बारिश से शिमला में पेड़ उखड़े और घरों की छतें उड़ी, पंजाब, हरियाणा, दिल्‍ली में जनजीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त, 10 बातें
 

thunderstorm alert delhi afp
 
दुनिया का सबसे खतरनाक तूफान माना जाता है 'टॉर्नेडो' को
दुनिया का सबसे खतरनाक तूफान बांग्लादेश में 1989 को आया था. ये तूफान 26 अप्रैल को बांग्‍लादेश के माणिकगंज जिले में आया था, जिसमें करीब 1300 लोग मारे गए थे और 12 हजार लोग बेघर हो गए थे. दौलतपुर और सतुरिया में करीब 80 हजार लोग बेघर हो गए थे.

दिल्ली-NCR में तूफान ने फिर दी दस्तक, कई इलाकों में चल रही धूल भरी आंधी
 

egypt train
 
तूफान से तबाह हो गया था मिस्र
नवंबर 1994 को मिस्र के द्रोन्का क्षेत्र में तूफान के चलते 500 लोगों की मौत हो गई थी. बाढ़ और तूफान ने यहां कहर बरपाया था. तेल के 3 भंडार टैंकों में बिजली गिरने से 5 हजार टन का तेल बरबाद हो गया था. इससे रेलवे पर भी असर पड़ा था. तेल भंडार में बिजली गिरने से आग लग गई थी. 

Thunderstorm Warning: आंधी-तूफान का पीछा करने का इन्हें है शौक, बवंडर से निबटने के तलाशते हैं तरीके
 
जिम्बाब्वे में आया था 1975 में खतरनाक तूफान
जिम्बाब्वे को 1975 के दौरान रोडेशिया कहा जाता था. 23 दिसंबर 1975 में ईट भट्टी पर बिजली गिरने से 21 लोगों की उसी वक्त मौत हो गई थी. इसके बाद यहां कई बार तूफान आने के बाद बिजली गिरी, जिससे काफी नुकसान हुआ था. 
 
सबसे घातक मूसलधार बारिश
30 अप्रैल 1888 को मुरादाबाद में इतनी खतरनाक बारिश हुई थी कि 246 लोगों की मौत हो गई थी. क्रिकेट बॉल के आकार के ओले गिरे थे. करीब 1600 जानवरों की मौत हुई थी. 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com