NDTV Khabar

Yahoo Messenger 20 साल बाद हुआ बंद, बाकियों को टक्कर देने के लिए ला रहा है नया ऐप

20 साल बाद यानी 17 जुलाई 2018 को याहू मैसेंजर बंद कर दिया गया. ओथ याहू का संचालन करती थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Yahoo Messenger 20 साल बाद हुआ बंद, बाकियों को टक्कर देने के लिए ला रहा है नया ऐप

20 साल बाद बंद हुआ याहू मैसेंजर.

आज कल सबसे ज्यादा फेसबुक, इंस्टाग्राम और जीमेल का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन एक समय था जब सभी को याहू मैसेंजर का चसका था. उसके बिना कोई काम होना मुमकिन नहीं था. 20 साल बाद यानी 17 जुलाई 2018 को याहू मैसेंजर बंद कर दिया गया. ओथ याहू का संचालन करती थी. मंगलवार से इस सेवा को बंद करने का एलान करते हुए याहू ने कहा कि हमने नया और बेहतर कम्युनिकेशन टूल लाने के लिए इसे बंद किया है.  याहू ने बीते शुक्रवार को एक बयान में कहा था, "याहू मैसेंजर को 17 जुलाई से बंद कर दिया जाएगा. तब तक आप सेवा का प्रयोग सामान्य तौर पर कर सकते हैं. 17 जुलाई के बाद आप इस पर चैट करने में सक्षम नहीं होंगे और यह कार्य करना बंद कर देगी."

ईमेल करने से पहले ध्यान रखने वाली ख़ास बातें

याहू मैसेंजर अब पूरी तरह से बंद हो चुका है. लेकिन यूजर चैट हिस्ट्री निकाल सकते हैं. याहू ने चैट हिस्ट्री बैकअप लेने के लिए नवंबर 2018 तक का वक्त दिया है. नवंबर के बाद यूजर्स याहू मैसेंजर से चैट हिंस्ट्री नहीं निकाल पाएंगे. बता दें, वाट्सऐप, फेसबुक मैसेंजर और गूगल चैट आने के बाद याहू काफी पिछड़ गया था. कंपनी ने समय के साथ-साथ तकनीकी बदलाव नहीं किए. जिससे उनको काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा.

जीमेल गो ऐप डाउनलोड के लिए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध, कम होगी डेटा की खपत

याहू ने कहा, "वर्तमान में याहू मैसेंजर के विकल्प के लिए कोई और उत्पाद उपलब्ध नहीं है." कंपनी ने कहा, "वह लगातार नई सेवाओं और ऐप्स के साथ प्रयोग कर रहे हैं, जिसमें से एक 'याहू स्कवीरल ' नाम का ऐप भी है, फिलहाल यह बीटा फॉर्म में है." 'स्क्वीरल' एक ग्रुप मैसेंजिंग ऐप है, जिसका याहू ने पिछले साल परीक्षण किया था. याहू ने कहा कि अगले छह महीनों तक उपयोगकर्ता अपने निजी कंप्यूटर या उपकरण में अपना चैट इतिहास डाउनलोड करने में सक्षम होंगे.

टिप्पणियां
याहू (Yahoo) और एओएल (AOL) से करीब 2 हजार लोगों की नौकरी जा सकती है : रिपोर्ट

बाकी कंपनियां जहां नई तकनीक लॉन्च कर रही थी तो वहीं याहू मैसेंजर पुरानी तकनीक से ही चल रहा था. ऐसे में यूजर्स ने भी याहू मैसेंजर से दूरी बना ली. याहू ने कहा कि कुछ नए बदलाव के साथ कंपनी अपने नए एप स्क्विरल को याहू मेसेंजर की जगह पेश करने जा रही है. उनका मानना है कि ये नया ऐप लोगों को काफी पसंद आएगा. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement