NDTV Khabar

अटल बिहारी वाजपेयी


'अटल बिहारी वाजपेयी' - 367 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • खून से खत लिखकर पीएम नरेंद्र मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

    खून से खत लिखकर पीएम नरेंद्र मोदी को दी जन्मदिन की बधाई

    बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने की मांग को लेकर पिछले कई दिनों से अनशन पर बैठे बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर ने आज अपने साथियों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को खून से खत लिखकर बधाई दी है. इस दौरान तारा पाटकर ने कहा, "भाजपा तो हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही है. अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक साथ तीन नए राज्य न बनाते. बुंदेलखंड को बार-बार छला गया है. यहां की भाषा, संस्कृति और ऐतिहासिक विरासतों का लगातार गला घोंटा जा रहा है. इसलिए बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाया जाना चाहिए."

  • कश्मीर की झूठी तस्वीर पेश कर रही मोदी सरकार, सब कुछ ठीक तो फिर कर्फ्यू क्यों : दिग्विजय सिंह

    कश्मीर की झूठी तस्वीर पेश कर रही मोदी सरकार, सब कुछ ठीक तो फिर कर्फ्यू क्यों : दिग्विजय सिंह

    मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि सरकार की तरफ से कहा जा रहा है कि कश्मीर में स्थिति सामान्य है, लेकिन यदि सब कुछ सामान्य होता तो वहां कर्फ्यू जैसे हालात नहीं होते. गोवर्धन परिक्रमा करने आए दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, "कश्मीर अतिसंवेदनशील मुद्दा है. इसका समाधान वाजपेयी के फार्मूले पर ही होना चाहिए. कश्मीर पर सरकार झूठी तस्वीर पेश कर रही है. वहां अगर सब कुछ सामान्य होता तो कर्फ्यू क्यों लगता."

  • वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से थे बीमार

    वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से थे बीमार

    साल 2010 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन का अध्यक्ष चुना गया था. इसके अलावा छठी और सातवीं लोकसभा में उन्होंने भाजपा के टिकट पर मुबंई से चुनाव जीता था. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वह कानून मंत्री और शहरी विकास मंत्री रहे. यहां गौर करने वाली बात यह भी है कि साल 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी के ही खिलाफ लखनऊ सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा था.

  • लखनऊ के मशहूर हजरतगंज चौराहे का नाम बदला, अब इस नाम से जाना जाएगा

    लखनऊ के मशहूर  हजरतगंज चौराहे का नाम बदला, अब इस नाम से जाना जाएगा

    भारत रत्न व देश के पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेई के नाम पर लखनऊ शहर का मशहूर हजरतगंज चौराहा अब अटल चौराहा के नाम से जाना जाएगा. लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि पर इसकी आधिकारिक घोषणा की है. 

  • TOP 5 NEWS: पोखरण से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की दो टूक, महबूबा मुफ्ती की बेटी ने अमित शाह को लिखा खत

    TOP 5 NEWS: पोखरण से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की दो टूक, महबूबा मुफ्ती की बेटी ने अमित शाह को लिखा खत

    जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान से चल रहे तनाव के बीच भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पोखरण में कहा है कि आज हमारी न्यूक्लियर पॉलिसी  'No First Use', लेकिन आगे क्या होगा ये हालात बताएंगे. पोखरण दौरे पर गए राजनाथ सिंह ने कहा, 'आज तक हमारी न्यूक्लियर पॉलिसी No First Use' है.

  • पोखरण में बोले रक्षा मंत्री- आज हमारी न्यूक्लियर पॉलिसी 'No First Use' है, आगे क्या होगा ये हालात बताएंगे

    पोखरण में बोले रक्षा मंत्री- आज हमारी न्यूक्लियर पॉलिसी 'No First Use' है, आगे क्या होगा ये हालात बताएंगे

    रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पोखरण में अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी पहली पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि भी दी. सिंह ने कहा, 'यह एक संयोग है कि आज मैं जैसलमेर में इंटरनेशनल आर्मी स्काउट कम्पीटिशन के लिए आया था और आज ही अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि है. इसलिए, मुझे लगा कि मुझे पोखरण की धरती पर ही उन्हें श्रद्धांजलि देनी चाहिए.' बता दें, जब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे, तब मई 1998 में पोखरण में परमाणु परीक्षण किया गया था.

  • Atal Bihari Vajpayee: अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ी ऐसी बातें जो शायद ही आप जानते हों, जानें उनकी 11 खास बातें...

    Atal Bihari Vajpayee: अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ी ऐसी बातें जो शायद ही आप जानते हों, जानें उनकी 11 खास बातें...

    Atal Bihari Vajpayee Death Anniversary: भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) की आज पहली पुण्यतिथि है. एक साल पहले आज ही के दिन यानी 16 अगस्त, 2018 को भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया था. उनके निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी ने उनकी अस्थियों को देश की 100 नदियों में प्रवाहित किया था और इसकी शुरुआत हरिद्वार में गंगा में विसर्जन के साथ हुई थी. भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि के मौके पर उनके स्मारक सदैव अटल पर श्रद्धांजलि दी गई. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह समेत बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी...

  • सच्चाई है कि ऊँचाई ही काफ़ी नहीं... अटल बिहारी वाजपेयी की वे कविताएं जो 'काल के कपाट' पर अमिट हैं

    सच्चाई है कि ऊँचाई ही काफ़ी नहीं... अटल बिहारी वाजपेयी की वे कविताएं जो 'काल के कपाट' पर अमिट हैं

    पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी  की आज पहली पुण्यतिथि है. बीते साल 16 अगस्त को दिल्ली स्थित एम्स में उनका 93 साल की उम्र में निधन हो गया था. साल 2004 में  हुए लोकसभा में एनडीए की हार के बाद उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया था. उसके बाद उनकी सेहत लगातार बिगड़ती चली गई.

  • पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि : राष्ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

    पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी  वाजपेयी की पुण्यतिथि : राष्ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

    भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह सहित कैबिनेट के मंत्री और तमाम बीजेपी नेताओं ने पूर्व पीएम वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी.  बता दें कि एक साल पहले 16 अगस्त, 2018 को भारत रत्न एवं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया था. उनके निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी ने उनकी अस्थियों को देश की 100 नदियों में प्रवाहित किया था और इसकी शुरुआत हरिद्वार में गंगा में विसर्जन के साथ हुई थी.

  • PM मोदी आज लगातार छठी बार लाल किले की प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस समारोह को करेंगे संबोधित

    PM मोदी आज लगातार छठी बार लाल किले की प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस समारोह को करेंगे संबोधित

    लाल किले की प्राचीर से मोदी का यह लगातार छठा भाषण होगा और वह इस उपलब्धि के मायने में भाजपा के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समकक्ष हो जाएंगे जिन्होंने 1998 से 2003 के बीच लगातार छह बार लालकिले की प्राचीर से 15 अगस्त को भाषण दिया था. 

  • Bharat Ratna Award Winners List: अब तक इन लोगों को मिल चुका है भारत रत्न, ये है पूरी लिस्ट

    Bharat Ratna Award Winners List: अब तक इन लोगों को मिल चुका है भारत रत्न, ये है पूरी लिस्ट

    Bharat Ratna Award: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee), जनसंघ के नेता नाना जी देशमुख (Nanaji Deshmukh) और प्रख्‍यात गायक भूपेन हजारिका (Bhupen Hazarika) को आज भारत रत्न (Bharat Ratna 2019) से सम्मानित किया जाएगा. भारत रत्न सम्मान (Bharat Ratna 2019) का ऐलान गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी को किया गया था.  भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है. यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है.

  • महबूबा मुफ्ती को याद आए अटल बिहारी वाजपेयी, कहा- आज महसूस हो रही है उनकी कमी

    महबूबा मुफ्ती को याद आए अटल बिहारी वाजपेयी, कहा- आज महसूस हो रही है उनकी कमी

    इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए महबूबा ने ट्वीट किया, 'मोबाइल फोन कनेक्शन समेत जल्द ही इंटरनेट बंद किए जाने की खबरें सुनीं. कर्फ्यू का आदेश भी जारी किया जा रहा है. अल्लाह जानता है कि हमारे लिए कल क्या इंतजार कर रहा है. यह रात लंबी होने वाली है.' 

  • जब अटल जी के वजह से UP में मुलायम सिंह यादव की चली थी सबसे लंबी अवधि की सरकार!

    जब अटल जी के वजह से UP में मुलायम सिंह यादव की चली थी सबसे लंबी अवधि की सरकार!

    एनडीटीवी के कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा लंबे अवधि तक मुलायम सिंह जी की जो सरकार चली, वह सरकार किसने चलवाई? वह सरकार अटल बिहारी वाजपेयी ने चलवाई. मैंने ही बात की थी अटल जी से..प्रमोद महाजन जी से.. कह रहा हूं खुलेआम.

  • भारत और पाकिस्तान वाजपेयी के समय कश्मीर मुद्दा सुलझाने के बेहद नजदीक थे: इमरान खान

    भारत और पाकिस्तान वाजपेयी के समय कश्मीर मुद्दा सुलझाने के बेहद नजदीक थे: इमरान खान

    इमरान खान ने अमेरिकी कांग्रेस द्वारा वित्तपोषित विचारमंच ‘यूएस इंस्टीट्यूट आफ पीस’ में एक सवाल के जवाब में कहा, "वे वाजपेयी के समय कश्मीर के मुद्दे को चरणबद्ध तरीके से हल करने के काफी करीब आ गए थे."

  • कारगिल : LOC पार न करने की बात पर जब सेना प्रमुख ने PM वाजपेयी से पूछा था- अगर मुझे यह जरूरत लगी तो....

    कारगिल : LOC पार न करने की बात पर जब सेना प्रमुख ने PM वाजपेयी से पूछा था- अगर मुझे यह जरूरत लगी तो....

    वाजपेयी सरकार ने करगिल अभियान के दौरान नियंत्रण रेखा (एलओसी) को पार नहीं करने का फैसला जब सार्वजनिक किया था तब तत्कालीन सेना प्रमुख जनरल वी पी मलिक ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया था कि वह इसे फिर से सार्वजनिक तौर पर न कहें.  पूर्व सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि बालाकोट जैसे और हमलों को बार-बार किए जाने की जरूरत है “जिससे प्रतिरोध की यह भावना बनी रहे” और पाकिस्तान को यह संदेश भेजा जाए कि “भारत पलटवार कर सकता है.”

  • पूर्व सेना प्रमुख ने बताया- 'अटल बिहारी वाजपेयी को सलाह दी थी कि LoC पार ना करने के फैसले को सार्वजनिक ना करें'

    पूर्व सेना प्रमुख ने बताया- 'अटल बिहारी वाजपेयी को सलाह दी थी कि LoC पार ना करने के फैसले को सार्वजनिक ना करें'

    पूर्व सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि बालाकोट जैसे और हमलों को बार-बार किए जाने की जरूरत है, जिससे प्रतिरोध की यह भावना बनी रहे और पाकिस्तान को यह संदेश भेजा जाए कि भारत पलटवार कर सकता है. करगिल युद्ध के 20 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में मलिक ने कहा कि वाजपेयी सरकार के दौरान रक्षा मामलों की संसदीय समिति के नियंत्रण रेखा पार नहीं करने के फैसले को सार्वजनिक किया गया.

  • यशंवत सिन्हा इस तरह से अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में बने थे वित्त मंत्री

    यशंवत सिन्हा इस तरह से अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में बने थे वित्त मंत्री

    इसकी जानकारी खुद यशवंत सिन्हा ने ट्विटर पर अपने ट्वीट के जरिए दी. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ''मेरी आत्मकथा 'रिलेंटलेस' (Relentless) पुस्तक 15 जुलाई को पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी द्वारा आईआईसी के मल्टिपर्पज हॉल में शाम 6 बजे विमोचन किया जाएगा.''

  • पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की इस महत्वाकांक्षी योजना को मोदी सरकार ने बजट में दिये मात्र 1 लाख रुपये

    पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की इस महत्वाकांक्षी योजना को मोदी सरकार ने बजट में दिये मात्र 1 लाख रुपये

    मोदी सरकार 2.O का पहला बजट भले ही 27.86 लाख करोड़ रुपये का हो, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की महत्वाकांक्षी ‘नदी जोड़ो’ परियोजना के लिए इसमें मात्र एक लाख रुपये रखे गए हैं. राजग सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में देश की नदियों को आपस में जोड़ने की महत्वकांक्षी योजना को जोर-शोर से आगे बढ़ाया था, लेकिन इस बार के बजट में इसके लिए काफी कम धनराशि रखी गई है.