NDTV Khabar

आम चुनाव 2014


'आम चुनाव 2014' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • मोदी सरकार के गठन के लिए केंद्र बना अमित शाह का घर, 10 बातों में जानें अब तक क्या हुआ

    मोदी सरकार के गठन के लिए केंद्र बना अमित शाह का घर, 10 बातों में जानें अब तक क्या हुआ

    राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में आयोजित होने वाले इस शपथ ग्रहण समारोह में करीब आठ हजार मेहमानों के शामिल होने की उम्मीद है. वर्ष 2014 में मोदी को तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दक्षेस देशों के प्रमुखों सहित 3500 से अधिक मेहमानों की मौजूदगी में शपथ दिलायी थी. राष्ट्रपति भवन के प्रांगण का इस्तेमाल आम तौर पर देश की यात्रा पर आने वाले राष्ट्राध्यक्षों एवं सरकार के प्रमुखों के औपचारिक स्वागत के लिए किया जाता है. इससे पहले 1990 में चंद्रशेखर और 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में शपथ दिलायी गई थी. शपथ ग्रहण समारोह में बिम्सटेक देशों, बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली, म्यामांर के राष्ट्रपति यू विन मिंट और भूटान के प्रधानमंत्री लोताय शेरिंग ने शामिल होने की पुष्टि पहले ही कर दी है. थाईलैंड से उसके विशेष दूत जी बूनराच देश का प्रतिनिधित्व करेंगे. भारत के अलावा बिम्सटेक में बांग्लादेश, म्यामां, श्रीलंका, थाईलैंड, नेपाल और भूटान शामिल हैं. इन नेताओं के साथ-साथ शंघाई सहयोग संगठन के वर्तमान अध्यक्ष और किर्गिस्तान के वर्तमान राष्ट्रपति जीनबेकोव और मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ को भी शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया गया है. मोदी नीत भाजपा ने लोकसभा चुनाव में 542 सीटों में से 303 सीटें जीतकर सत्ता में बहुमत के साथ वापसी की है.

  • राहुल गांधी को क्यों इस्तीफ़ा देना चाहिए...?

    राहुल गांधी को क्यों इस्तीफ़ा देना चाहिए...?

    यह सच है कि 2014 और 2019 के आम चुनाव में राहुल गांधी और कांग्रेस बुरी तरह पराजित हुए हैं. नरेंद्र मोदी और BJP की ऐतिहासिक जीत के आईने में यह हार कुछ और बड़ी और दुखी करने वाली लगती है. लेकिन अतीत में देखें तो ऐसे इकतरफ़ा परिणाम और अनुमान कांग्रेस और BJP दोनों के हक़ में आते रहे हैं और दोनों को हंसाते-रुलाते रहे हैं. 1984 में जब राजीव गांधी को 400 से ज्यादा सीटें मिली थीं और अटल-आडवाणी को महज 2, तब भी कुछ लोगों को लगा था कि अब तो BJP का सफ़ाया हो गया. लेकिन 1989 आते-आते BJP वीपी सिंह की सत्ता का एक पाया बनी हुई थी.

  • नरेंद्र मोदी ने रचा इतिहास, पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद यह करिश्मा करने वाले तीसरे प्रधानमंत्री बने

    नरेंद्र मोदी ने रचा इतिहास, पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद यह करिश्मा करने वाले तीसरे प्रधानमंत्री बने

    पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के लोकतांत्रिक इतिहास में एक नया अध्याय जोड़ दिया है. नेहरू और इंदिरा के बाद मोदी पूर्ण बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सत्ता के शिखर पर पहुंचने वाले तीसरे प्रधानमंत्री बन गए हैं.  आज गुरूवार को देशभर में लोकसभा चुनाव के लिए मतगणना अभी जारी है और अभी तक मिले रूझान बता रहे हैं कि मोदी की कमान में भगवा पार्टी 17वीं लोकसभा में पूर्ण बहुमत के लिए जरूरी 272 के आंकड़े तक आसानी से पहुंच जाएगी. 2014 में हुए आम चुनाव में भाजपा ने लोकसभा की कुल 543 सीटों में से 282 सीटों पर जीत हासिल की थी.

  • Jharkhand Election Results 2019: 12 सीटों पर एनडीए जीता; कई दिग्गजों की हुई हार

    Jharkhand Election Results 2019: 12 सीटों पर एनडीए जीता; कई दिग्गजों की हुई हार

    Jharkhand Election Results 2019: झारखंड की 14 लोकसभा सीटों में से 12 सीटों पर भाजपा और उसकी सहयोगी ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन (आजसू) के उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की है. भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए को 2014 के आम चुनावों में भी झारखंड में इतनी ही सीटें मिली थीं.

  • Punjab Election Results 2019: पंजाब में फिर दिखा कांग्रेस का दबदबा, 8 सीटों पर हुई जीत

    Punjab Election Results 2019: पंजाब में फिर दिखा कांग्रेस का दबदबा, 8 सीटों पर हुई जीत

    पंजाब में कांग्रेस 8 सीटें मिली हैं. अकाली-बीजेपी गंठबंधन को 4 और आप को सिर्फ 1 सीट मिली हैं. पंजाब में अंतिम दिन 19 मई को एक ही चरण में मतदान हुआ था. पंजाब में 13 लोकसभा सीटें और राज्य में 117 विधानसभा क्षेत्र हैं. साल 2011 की जनगणना के अनुसार, पंजाब की आबादी 27,743,338 करोड़ है जिसमें 14,639,465 पुरुष और 27,743,338 महिलाएं शामिल हैं. सन 2014 के लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections 2019) में, बीजेपी- शिरोमणि अकाली दल राज्य में 6 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी. अकाली दल ने चार सीटें जीती थीं और बीजेपी ने दो संसदीय सीटें जीती थीं. आम आदमी पार्टी (AAP) ने राज्य में चार सीटों पर जीत हासिल करते हुए तीसरे विकल्प के रूप में शानदार शुरुआत की. कांग्रेस को सिर्फ तीन सीटों पर जीत मिल सकी थी.

  • Exit Poll Results 2019 : बीजेपी की सरकार बनने के दावों की पड़ताल, पढ़ें 10 बड़ी बातें

    Exit Poll Results 2019 : बीजेपी की सरकार बनने के दावों की पड़ताल, पढ़ें 10 बड़ी बातें

    लोकसभा चुनाव के रविवार शाम आए ज्यादातर एग्जिट पोल के मुताबिक नरेन्द्र मोदी एक बार फिर प्रधानमंत्री के रूप में वापसी करने जा रहे हैं. यहां तक कि कुछ एग्जिट पोल ने बीजेपी की अगुवाई एनडीए को बहुमत के लिए जरूरी 272 सीटों से कहीं अधिक 300 प्लस सीट मिलने का अनुमान व्यक्त किया है. हालांकि कई एक्जिट पोल के मुताबिक भाजपा-गठबंधन को उत्तर प्रदेश में खासा नुकसान हो रहा है. 2014 के आम चुनाव में पार्टी को 71 सीटें मिली थीं. एबीपी नीलसन की मानें तो भाजपा-गठबंधन को उत्तर प्रदेश में सिर्फ 22 सीटें मिलने की संभावना है, जबकि न्यूज 18-इपसस और न्यूज24 चाणक्य के अनुसार राजग को 60 से ज्यादा सीटें मिलेंगी. भगवा पार्टी को पश्चिम बंगाल और ओडिशा में इस बार ज्यादा फायदा होता दिख रहा है. न्यूज18 इपसस, इंडिया टुडे-एक्सिस और न्यूज24 चाणक्य के एक्जिट पोल के मुताबिक एनडीए को क्रमश: 336, 339-368 और 336-364 सीटें मिलने जा रही हैं. वहीं, एबीपी न्यूज नीलसन और नेता-न्यूज एक्स के अनुसार सत्तारूढ़ राजग गठबंधन को बहुमत के लिए जरूरी 272 सीटों से कुछ कम सीट मिलेंगी. बहुमत के लिए किसी भी पार्टी या गठबंधन को कम से कम 272 सीटें चाहिए. टाइम्स नाउ चैनल पर प्रसारित दो एक्जिट पोल के मुताबिक एनडीए को 296 से 306 सीटें मिलने की संभावना है जबकि यूपीए को 126 से 132 सीटें मिल सकती हैं. सी-वोटर-रिपब्लिक के एक्जिट पोल के मुताबिक, एनडीए और यूपीए को क्रमश: 287 और 128 सीटें मिलने की संभावना है. हालांकि नेक्सा-न्यूज एक्स के अनुसार, एनडीए को बहुमत से कम 242 सीटें मिलने की संभावना है. इसने यूपीए को 164 सीटें दी हैं.

  • लोकसभा चुनाव 2019: 5 सबसे पॉपुलर राजनीतिक बयान जो जनता के बीच हैं सुपरहिट

    लोकसभा चुनाव 2019: 5 सबसे पॉपुलर राजनीतिक बयान जो जनता के बीच हैं सुपरहिट

    लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के लिए 19 मई को मतदान होना है और इस पूरे चुनाव के नतीजे 23 मई को आएंगे. इस बार के चुनाव और 2014 के चुनावों की अगर तुलना की जाए तो कई नई बातें सामने आएंगी. इस बार नेताओं ने एक-दूसरे के खिलाफ दिए गए बयान खूब चर्चा में रहे. इस बयानबाजी ने कई नेताओं को सुर्खियां दिलाईं और जनता के बीच उनकी छवि को एक नया आधार दिया.

  • रवि किशन को सलमान खान की फिल्म से मिली पहचान, जानें सिनेमा से सियासत तक का सफर

    रवि किशन को सलमान खान की फिल्म से मिली पहचान, जानें सिनेमा से सियासत तक का सफर

    जपुरी फिल्मों के सुपरस्टार रवि किशन राजनीति में अपनी नई पारी का आगाज कर चुके हैं, 2019 के आम चुनावों में वह बीजेपी के टिकट पर गोरखपुर से चुनाव लड़ रहे हैं.हालांकि 2014 के लोकसभा चुनावों में भी वह अपनी किस्मत आजमा चुके हैं

  • Asaduddin Owaisi: अधिवक्ता बनने के बाद ओवैसी ने ऐसे शुरू किया राजनीतिक सफर, जानें यहां...

    Asaduddin Owaisi: अधिवक्ता बनने के बाद ओवैसी ने ऐसे शुरू किया राजनीतिक सफर, जानें यहां...

    साल 2004 में सांसद चुने जाने के बाद 2009 और 2014 के आम चुनाव में भी हैदराबाद क्षेत्र से सांसद चुने गए. 2019 के आम चुनाव में वह अपनी पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन से फिर एक बार हैदराबाद क्षेत्र से उम्मीदवार हैं. इसके अलावा, ओवैसी हैदराबाद स्थित ओवैसी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के अध्यक्ष हैं.

  • राहुल गांधी ने केजरीवाल पर साधा निशाना, 'आप' के साथ गठबंधन ना होने की वजह भी बताई

    राहुल गांधी ने केजरीवाल पर साधा निशाना, 'आप' के साथ गठबंधन ना होने की वजह भी बताई

    राहुल गांधी (Rahul Gandhi दिल्ली के मौजूदा मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें इस बात पर विचार करना चाहिए कि 2014 में कांग्रेस के बारे में किसने झूठ बोला और बीजेपी (BJP) के लिए दरवाजा खोल दिया.

  • अमेठी में राहुल को जिताने के लिए सपा और बीएसपी नेताओं से भी संपर्क : सूत्र

    अमेठी में राहुल को जिताने के लिए सपा और बीएसपी नेताओं से भी संपर्क : सूत्र

    भाजपा के धुआंधार चुनाव प्रचार का सामना कर रही कांग्रेस अमेठी में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की अच्छे अंतर से जीत सुनिश्चित करने के लिए पूरी ताकत झोंक रही है. यहां समस्या 2014 आम चुनाव में तब शुरू हुई, जब भाजपा ने अमेठी में राहुल के विरुद्ध स्मृति ईरानी को उतारा. नई उम्मीदवार ने तत्कालीन कांग्रेस उपाध्यक्ष को अच्छी चुनौती दी और 2009 में उनके जीत के 3.7 लाख अंतर को घटाकर केवल एक लाख मतों तक ला दिया.

  • कांग्रेस ने पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी में अजय राय को ही क्यों बनाया उम्मीदवार? जानें सियासी मायने

    कांग्रेस ने पीएम मोदी के खिलाफ वाराणसी में अजय राय को ही क्यों बनाया उम्मीदवार? जानें सियासी मायने

    वाराणसी संसदीय सीट पर पिछली बार 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने अजय राय को ही प्रत्याशी बनाया था. जिसमें उन्हें कुल 75,614 वोट मिले थे. पहले पर पीएम मोदी नरेंद्र मोदी (5,16,593 वोट) और दूसरे स्थान पर आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल (2,09,238 वोट) थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर में अजय राय काफी पीछे रह गए थे, लेकिन...

  • लोकसभा चुनाव 2019 : बिहार में कौन किस पर पड़ रहा है भारी - 10 बातें

    लोकसभा चुनाव 2019 : बिहार में कौन किस पर पड़ रहा है भारी - 10 बातें

    बिहार में मतदान के दो चरण हो चुके हैं. इन दोनों चरणों के मतदान के रुझान के बाद NDA हो या फिर महागठबंधन दोनों पक्षों के नेताओं ने अपने-अपने गठबंधन के बेहतर प्रदर्शन का दावा किया है. हालांकि इस बार साल 2014 के चुनाव की तुलना में राजनीतिक गणित बिल्कुल अलग है. इस बार नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाईटेड बीजेपी के साथ गठबंधन में है और पिछली बार के बीजेपी के साथी अब लालू यादव की आरजेडी के साथ हैं. बिल्कुल अलहदा बात यह भी है कि बीजेपी इस बार बिहार में उतनी ही सीटों पर चुनाव लड़ रही है जितनी सीटों पर जेडीयू चुनाव मैदान में है. जहां तक प्रचार अभियान की बात है तो जमीन पर एक ही मुद्दा हावी है. जहां मोदी समर्थकों के लिए मोदी को फिर वापस लाना है, वहीं मोदी विरोधियों के लिए मोदी को किसी भी हाल में रोकना है. लेकिन 2014 में एक ही मुद्दा था एक बार मोदी को आजमाकर देखो. बिहार में एनडीए और महागठबंधन के नेता हों या कार्यकर्ता दोनों अपने-अपने पक्ष में जीत की उम्मीद में पीठ थपथपा रहे हैं. हालांकि किसका दावा सही है, इसका पता 23 मई को ही चल पाएगा.

  • चंद्रबाबू नायडू ने चुनाव आयोग पर साधा निशाना, कहा- पीएम और भाजपा के इशारे पर करती है काम 

    चंद्रबाबू नायडू ने चुनाव आयोग पर साधा निशाना, कहा- पीएम और भाजपा के इशारे पर करती है काम 

    पीएम मोदी पर चंद्रबाबू नायडू ने इससे पहले भी हमला किया है. कोलकाता में ममता की रैली में शामिल हुए चंद्रबाबू नायडू ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा था. एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा था कि बीजेपी ने 2014 के आम चुनाव से पहले किये सभी वादों को पूरा नहीं करके देश के लोगों से धोखा किया है.

  • पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात से भी बीजेपी के लिए नहीं है अच्छी खबर, इस सर्वे में हुआ खुलासा

    पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात से भी बीजेपी के लिए नहीं है अच्छी खबर, इस सर्वे में हुआ खुलासा

    एक सर्वे में गुजरात के मतदाताओं ने आम जन से जुड़े मुद्दों पर मोदी सरकार के कामकाज को औसत से भी कम रेटिंग दी है. जो साफ-साफ बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है. 

  • पीएम मोदी ने कांग्रेस को बताया डूबता हुआ जहाज, कहा - उसकी हालत 2014 से भी बुरी

    पीएम मोदी ने कांग्रेस को बताया डूबता हुआ जहाज, कहा - उसकी हालत 2014 से भी बुरी

    चुनावी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कांग्रेस पर हमले बदस्‍तूर जारी हैं. शनिवार को भी पीएम मोदी ने कई रैलियां कीं जिनमें निशाने पर मुख्‍य रूप से कांग्रेस और राहुल गांधी रहे.

  • हरियाणा में आज से चुनाव प्रचार शुरू करेंगे राहुल गांधी, यमुनानगर और करनाल में रोड शो

    हरियाणा में आज से चुनाव प्रचार शुरू करेंगे राहुल गांधी, यमुनानगर और करनाल में रोड शो

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार से हरियाणा में चुनाव प्रचार शुरू करेंगे. कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बनने के बाद और लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचार के लिए पहली बार राहुल गांधी हरियाणा पहुंचेंगे. यहां पर वे यमुनानगर और करनाल के इलाकों में जनसभा और रोड शो करेंगे.

  • महाराष्ट्र के मंत्री ने NCP चीफ शरद पवार के गढ़ से BJP के चिह्न पर चुनाव लड़ने से किया इनकार

    महाराष्ट्र के मंत्री ने NCP चीफ शरद पवार के गढ़ से BJP के चिह्न पर चुनाव लड़ने से किया इनकार

    राकांपा नेता सुप्रिया सुले को 2014 आम चुनाव में बारामती से कड़ी टक्कर देने वाले जानकर ने कहा कि वह अपने आरएसपी चुनाव चिह्न से ही चुनाव लड़ना चाहते हैं. उन्होंने मीडिया से कहा, ‘मैंने भाजपा नेतृत्व को पहले ही कह दिया है कि मैं केवल हमारी पार्टी के चुनाव चिह्न पर लोकसभा चुनाव में उतरूंगा. विधानसभा चुनाव में भी हमारा यही रुख रहेगा.’