NDTV Khabar

उद्योग जगत


'उद्योग जगत' - 130 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • टैक्स में कटौती वित्त मंत्रालय नहीं, जीएसटी काउंसिल करेगी : निर्मला सीतारमण

    टैक्स में कटौती वित्त मंत्रालय नहीं, जीएसटी काउंसिल करेगी : निर्मला सीतारमण

    उद्योग जगत और ऑटो सेक्टर अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए जिस टैक्स कटौती की मांग कर रहे हैं, वह वित्त मंत्रालय से संभव नहीं है. यह काम जीएसटी काउंसिल करेगी. ये बात आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोलकाता में कही. निर्मला सीतारमण ने कहा कि जहां तक जीएसटी का सवाल है, इस पर जीएसटी को विचार करना है, जवाब देना है या फ़ैसला करना है. कोलकाता में टैक्स अधिकारियों के साथ बैठक के बाद वित्त मंत्री ने साफ़ कर दिया कि टैक्सों में कटौती पर फ़ैसला जीएसटी काउंसिल को करना है.

  • क्या मीडिया 5 प्रतिशत जीडीपी की सच्चाई छिपा रहा है?

    क्या मीडिया 5 प्रतिशत जीडीपी की सच्चाई छिपा रहा है?

    सड़क पर बेरोज़गारों की फौज पुकार रही है कि काम नहीं है, दुकानदारों की फौज कह रही है कि मांग रही है और उद्योग जगत की फौज पुकार रही है कि न पूंजी है, न मांग है और न काम है. नेशनल स्टैस्टिकल ऑफिस के आंकड़ों ने बता दिया कि स्थिति बेहद ख़राब है. छह साल में भारत की जीडीपी इतना नीचे नहीं आई थी. तिमाही के हिसाब से 25 तिमाही में यह सबसे ख़राब रिपोर्ट है.

  • प्राइम टाइम इंट्रो : उद्योग जगत को मिल गई इनकम टैक्स से मुक्ति!

    प्राइम टाइम इंट्रो : उद्योग जगत को मिल गई इनकम टैक्स से मुक्ति!

    2014 के बाद शायद यह पहला बड़ा मौक़ा है जब उद्योगपतियों की सुगबुगाहट, खुली नाराज़गी और अर्थव्यवस्था के संकट के दबाव में वित्त मंत्री निमर्ला सीतारमण ने प्रेस कांफ्रेस में कई बड़े एलान किए. ये वो एलान थे जिनके बारे में सरकार के पीछे हटने की उम्मीद कम नज़र आ रही थी

  • भारत, ब्रिटेन व्यापार अड़चनों को दूर करने के लिये तीन नये द्विपक्षीय कार्य समूह बनाने पर सहमत 

    भारत, ब्रिटेन व्यापार अड़चनों को दूर करने के लिये तीन नये द्विपक्षीय कार्य समूह बनाने पर सहमत 

    ब्रिटेन भारत व्यावसायिक परिषद के मुख्य परिचालन अधिकारी केविन मैक्कोले ने कहा कि संयुक्त आर्थिक और व्यापार समिति इतनी महत्वपूर्ण क्यों है क्योंकि यह सरकार से सरकार के बीच द्विपक्षीय से आगे बढ़कर है और इसमें उद्योग जगत की सीधी संलिप्तता है.

  • बजट 2019 : ध्यान राहत के बजाय वृद्धि पर केंद्रित, उद्योग जगत की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं

    बजट 2019 :  ध्यान राहत के बजाय वृद्धि पर केंद्रित, उद्योग जगत की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं

    उद्योग जगत ने बजट 2019 पर मिली-जुली प्रतिक्रियाएं दी हैं. उद्योगपतियों ने कहा है कि यह बजट राहत देने वाला नहीं बल्कि आर्थिक वृद्धि पर केंद्रित है. कार्पोरेट जगत को इस बजट में कुछ हासिल नहीं हुआ है.

  • Budget 2019: एसोचैम ने बजट में की राहत पैकेज की मांग

    Budget 2019: एसोचैम ने बजट में की राहत पैकेज की मांग

    बजट से पहले उद्योग जगत ने रियायत के लिए दबाव बढ़ा दिया है. उसका कहना है, सरकार कारपोरेट टैक्स कम करे, बैंकों को पैसा मुहैया कराए और बेरोज़गारी पर क़ाबू पाने के लिए ज़रूरी निवेश करे. 5 जुलाई के बजट पर उद्योगों की नजर है. वो चाहते हैं कि डूबे हुए क़र्ज़ के संकट और करीब 9 फ़ीसदी के एनपीए से जूझ रहे बैंकों को सरकार पैसा मुहैया कराए ताकि वह उद्योगों तक आए.

  • आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की, जानें- इससे क्या होगा लाभ

    आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की, जानें- इससे क्या होगा लाभ

    अर्थव्यवस्था की घटती रफ्तार के बीच गुरूवार को RBI गवर्नर ने रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर दी. यानि अब बैंक आरबीआई से सस्ती दर पर कर्ज़ ले पाएंगे. इससे होम लोन के साथ-साथ उद्योग जगत के लिए क्रेडिट के सस्ता होने की उम्मीद फिर बंधी है. आरबीआई के गवर्नर ने एक राहत बैंकों को दी और दूसरी आम लोगों को. रेपो रेट 6 फ़ीसदी से घटकर 5.75 फ़ीसदी कर दिया गया. इस साल ये तीसरी कटौती है. खास बात ये भी है कि अब RTGS, NEFT ट्रांज़ैक्शन पर कोई चार्ज भी नहीं लगेगा. यानी आप जब ऑनलाइन कोई पैसा किसी को भेजते हैं तो इस पर लगने वाला चार्ज अब नहीं लगेगा.  

  • Budget 2019 : उद्योग जगत में मायूसी, छोटे करदाताओं को मिली टैक्स में छूट से उम्मीद

    Budget 2019 : उद्योग जगत में मायूसी, छोटे करदाताओं को मिली टैक्स में छूट से उम्मीद

    उद्योग जगत ने वित्त मंत्री को बजट से पहले अपनी मांगों की लंबी चौड़ी सूची सौंपी थी. अब यह वर्ग कुछ मायूस है कि उसकी मांगों पर कुछ नहीं हुआ. वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने निम्न मध्यम वर्ग और किसानों के लिए राहत का ऐलान किया लेकिन उद्योग जगत को मायूसी ही हाथ लगी.

  • बजट पर सीपीएम ने कहा- सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही?

    बजट पर सीपीएम ने कहा- सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही?

    केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए बजट पर सीपीएम ने नाखुशी जाहिर की है और उद्योग जगत भी इससे खुश नहीं हुआ. सीपीएम ने कहा है कि सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही है? एसोचैम ने कहा है कि कार्पोरेट टेक्स से राहत की उम्मीद थी जो पूरी नहीं हुई.

  • आमिर खान, अक्षय कुमार समेत बॉलीवुड स्टार्स ने इस वजह से की PM मोदी की तारीफ, किए ये Tweets

    आमिर खान, अक्षय कुमार समेत बॉलीवुड स्टार्स ने इस वजह से की PM मोदी की तारीफ, किए ये Tweets

    वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को यह घोषणा की. आमिर खान, अक्षय कुमार और अजय देवगन जैसे बॉलीवुड सितारों ने इस कदम का स्वागत किया है. सिनेमा टिकटें उन सेवाओं में शामिल है जिसे जीएसटी के उच्चतम 28 फीसदी ब्रैकेट से घटाकर 18 फीसदी में डाल दिया गया है, जिससे ये सस्ती हो जाएंगी. यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फिल्म जगत के एक प्रतिनिधियों की बैठक के बाद आया है, जिसमें उद्योग को नुकसान पहुंचानेवाले मुद्दों पर चर्चा की गई.

  • दूसरी बार उद्योगपतियों के पक्ष में खड़े दिखे पीएम मोदी, बोले- उद्योग, व्यापार की आलोचना की संस्कृति से सहमत नहीं

    दूसरी बार उद्योगपतियों के पक्ष में खड़े दिखे पीएम मोदी, बोले- उद्योग, व्यापार की आलोचना की संस्कृति से सहमत नहीं

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के उद्योग जगत के पक्ष में एक बार फिर से अपना मजबूत समर्थन दर्शाते हुए बुधवार को कहा कि उद्योग व्यापार की आलोचना करने की संस्कृति में उनका विश्वास नहीं है. पीएम मोदी ने कहा, उनका मानना है कि उद्योग जगत अपना कारोबार के साथ-साथ उल्लेखनीय सामाजिक कार्य भी कर रहा है. उन्होंने यह भी इच्छा जतायी कि देश के नागरिक न केवल ईमानदारी से कर अदा करें बल्कि सामाजिक बदलाव के लिये भी अपनी तरफ से थोड़ा योगदान करें. प्रधानमंत्री ने आईटी पेशेवरों एवं विनिर्माण क्षेत्र से जुड़े लोगों को टाउनहॉल संबोधन में कहा, ‘हमारे देश में कारोबारियों, उद्योगपतियों को गाली देना सामान्य बात है. मुझे नहीं पता कि इसका कारण क्या है लेकिन यह एक फैशन बन गया. मैं इस प्रकार की सोच से सहमत नहीं हूं.’ 

  • सांसदों और उद्योग जगत ने ट्रम्प प्रशासन के यूरोपीय संघ पर शुल्क लगाने के कदम का किया विरोध

    सांसदों और उद्योग जगत ने ट्रम्प प्रशासन के यूरोपीय संघ पर शुल्क लगाने के कदम का किया विरोध

    रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने इस कदम को गलत करार दिया. उनका कहना है कि इसके घातक परिणाम होंगे.

  • पेट्रोल-डीजल से पांच साल में सरकार ने 9 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा कमाए

    पेट्रोल-डीजल से पांच साल में सरकार ने 9 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा कमाए

    जब पेट्रोल 85 रुपये पार हो गया और डीज़ल 75 के पार चला गया तब पेट्रोलियम मंत्री को जीएसटी की याद आई. अब उद्योग जगत भी पेट्रोल पदार्थों पर जीएसटी लगाने की मांग कर रहा है. इस बीच केंद्र सरकार के आंकड़े बता रहे हैं कि पांच साल में सरकार क़रीब 9 लाख करोड़ से ज्यादा की कमाई पेट्रोल-उत्पादों से कर चुकी है.

  • पैक भोजन पर लेबलिंग के नियम अगले 2-3 महीनों में : FSSAI

    पैक भोजन पर लेबलिंग के नियम अगले 2-3 महीनों में : FSSAI

    खाद्य नियामक एफएसएसएआई (FSSAI) के मुख्य कार्याधिकारी पवन कुमार अग्रवाल ने कहा कि पैक किए गए खाद्य उत्पादों पर लेबलिंग करने संबंधी मानकों को 2-3 महीनों मेंअंतिम रूप देगा. नियाति उद्योग जगत की जायज चिंताओं के समाधान के लिए नियमों के मसौदे में बदलाव करने को लेकर उदार दृष्टिकोण रखे हुए है.

  • जीएसटी रिटर्न भरने की मौजूदा व्यवस्था जून तक रहेगी जारी : अरुण जेटली

    जीएसटी रिटर्न भरने की मौजूदा व्यवस्था जून तक रहेगी जारी : अरुण जेटली

    उद्योग व व्यवसाय जगत के लिए माल एवं सेवाकर(जीएसटी) रिटर्न भरने की मौजूदा व्यवस्था जून तक जारी रहेगी. जीएसटी परिषद ने शुक्रवार को हुई अपनी बैठक में रिटर्न दर्ज करने की मौजूदा जीएसटीआर- 3 बी व्यवस्था को तीन माह के लिये बढ़ा दिया है.

  • बजट की बड़ी बातें : आयकर में बदलाव नहीं, उज्‍ज्‍वला योजना में 8 करोड़ गैस कनेक्‍शन

    बजट की बड़ी बातें : आयकर में बदलाव नहीं, उज्‍ज्‍वला योजना में 8 करोड़ गैस कनेक्‍शन

    वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पीएम मोदी के 'न्‍यू इंडिया का बजट' पेश किया. अपने बजट भाषण में वे किसान, गरीब, युवा, गृहणी, उद्यमी सबों को खुश करते नजर आए. वित्तमंत्री जेटली ने किसानों को लागत मूल्‍य से 50 फीसदी ज्‍यादा देने की घोषणा की है.

  • जम्मू कश्मीर में पेश हुआ 80 हजार करोड़ रुपये का बजट, किसानों और उद्योग जगत को दी छूट

    जम्मू कश्मीर में पेश हुआ 80 हजार करोड़ रुपये का बजट, किसानों और उद्योग जगत को दी छूट

    राज्य के वित्त मंत्री हसीब द्राबु ने विधानसभा में कहा, ‘‘उदार होने के साथ ही मेरा बजट काफी अच्छा है. मैं वित्त वर्ष 2018-19 में 80,313 करोड़ रुपये खर्च करने का वादा करता हूं. इनमें से 29,128 करोड़ रुपये पूंजीगत खर्च के लिए है. यह अब तक का सबसे बड़ा पूंजीगत खर्च है.’’

  • आरबीआई (RBI) इस बार भी ब्याज दरों को रख सकता है अपरिवर्तित

    आरबीआई (RBI) इस बार भी ब्याज दरों को रख सकता है अपरिवर्तित

    उद्योग जगत की मांग है कि ब्याज दर में कटौती की जाए ताकि क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज द्वारा देश की रेटिंग बढ़ाने से बाजार में जगे उत्साह का लाभ उठाया जा सके.