NDTV Khabar

एनडीए सरकार


'एनडीए सरकार' - 585 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    बीजेपी-शिवसेना का क़रीब 30 साल पुराना रिश्ता टूट गया है और वह एनडीए से बाहर आ गई है. शिवसेना के इकलौते केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया. शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा कि बीजेपी अपने वादे से मुकर गई और विपक्ष में बैठने का फ़ैसला जनता के अपमान जैसा है. इधर राज्य में बदले समीकरण के एनसीपी कोर कमेटी की बैठक भी है. वहीं दिल्ली में सोनिया गांधी के घर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई है. इधर सरकार गठन की कवायद को लेकर उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत दिल्ली आकर कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी से मिल सकते हैं.

  • NDA से Shiv Sena के  अलग होने पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार का आया बयान, कहा- हमको तो...

    NDA से Shiv Sena के  अलग होने पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार का आया बयान, कहा- हमको तो...

    महाराष्ट्र में BJP सरकार नहीं बनाएगी यह अब साफ हो गया है. ऐसे में अब सभी की निगाहें Shiv Sena-Congress और NCP की तरफ हैं. NCP प्रमुख शरद पवार ने Shiv Sena के साथ सरकार बनाने की संभावनाओं को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हम सरकार बनाने को लेकर कोई भी फैसला कांग्रेस से बात किए बगैर नहीं करने जा रहे हैं. उधर, कांग्रेस पार्टी ने महाराष्ट्र के मौजूदा राजनीतिक हालात को लेकर CWC की बैठक बुलाई है. इस बैठक में पार्टी शिवसेना को समर्थन को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करने के बाद ही कोई फैसला लेगी. 

  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर Congress और NCP की बैठक, Shiv Sena-BJP की 30 साल पुरानी दोस्ती टूटी, पढ़ें 10 बड़ी बातें

    महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर Congress और NCP की बैठक, Shiv Sena-BJP की 30 साल पुरानी दोस्ती टूटी, पढ़ें 10 बड़ी बातें

    केंद्र की मोदी सरकार में शामिल शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफे का ऐलान किया है. ट्विटर पर इस्तीफे के फैसले की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि शिवसेना का पक्ष सच्चा है. झूठे माहौल के साथ नहीं रहा सकता है. यह फैसला ऐसे में उन्होंने किया है जब महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की सरकार बनाने की खबरें हैं. अरविंद सावंत के इस्तीफे के ऐलान के साथ ही तय हो गया है कि शिवसेना एनडीए से बाहर हो गई है. शिवसेना और बीजेपी की दोस्ती 30 साल पुरानी थी. महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस और एनसीपी ने भी सोमवार को बैठक बुलाई है. इस बैठक के बाद ही तय हो पाएगा कि क्या कांग्रेस और एनसीपी शिवसेना को अपना समर्थन देगी या नहीं. 

  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सियासी समीकरण ने करवट ले ली है. लंबी खींचतान के बाद आख़िरकार बीजेपी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया. अब राज्यपाल ने शिवसेना को चिट्ठी लिखकर सरकार बनाने की इच्छाशक्ति और समर्थता पर जवाब मांगा है. शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाने को तैयार दिख रही है. लेकिन समर्थन से पहले एनसीपी ने शिवसेना के सामने एनडीए से बाहर आने की शर्त रख दी है, जिसके बाद शिवसेना बीजेपी से 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़ दी है. हालांकि शिवसेना की ओर से मोदी सरकार में शामिल एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत दोपहर 11 बजे अपने इस्तीफे का ऐलान करने वाले थे लेकिन अब सूत्रों के हवाले खबर मिल रही है कि वह उद्धव ठाकरे की हां का इंतजार कर रहे हैं और उधर उद्धव भी कांग्रेस और एनसीपी से लिखित समर्थन का इंतजार कर रहे हैं.  उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत आज दिल्ली में सोनिया गांधी से मिल कर सियासी समीकरण साधने की कोशिश कर सकते हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 105 सीटों पर जीत मिली थी वहीं शिवसेना 56 सीटें जीतकर दूसरे नंबर की पार्टी बनी थी. महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला था लेकिन 50-50 फॉर्मूले की वजह से दोनों दलों में मतभेद हो गया. 

  • कोल्हापुर में बोले शाह, मोदी जी ने वो किया जिसका देश 70 सालों से इंतजार कर रहा था

    कोल्हापुर में बोले शाह, मोदी जी ने वो किया जिसका देश 70 सालों से इंतजार कर रहा था

    महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कोल्हापुर जिले में एक रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि लोगों को कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं से यह पूछना चाहिए कि क्या वे जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाए जाने संबंधी एनडीए सरकार के फैसले का समर्थन करते हैं.

  • Assembly Elections 2019 Live Updates: आज है रैलियों का 'घमासान', पीएम मोदी, अमित शाह और राहुल गांधी होंगे मैदान में

    Assembly Elections 2019 Live Updates: आज है रैलियों का 'घमासान', पीएम मोदी, अमित शाह और राहुल गांधी होंगे मैदान में

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज महाराष्ट्र में दो रैलियों को संबोधित करेंगे.  मोदी ने एक ट्वीट में बताया कि वह जलगांव और सकोली में रैलियों को संबोधित करेंगे. मोदी ने ट्विटर पर कहा, 'महाराष्ट्र में कल प्रचार करूंगा. जलगांव और सकोली में रैलियों को संबोधित करने के लिए उत्सुक हूं. एनडीए हमारे युवा और दूरदर्शी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जी के नेतृत्व वाली सरकार के कामों के अधार पर लोगों के बीच जा रहा है.

  • सुशील मोदी ने दी सफाई, देशद्रोह के मुकदमे से कोई वास्ता नहीं; बीजेपी ने कभी भीड़ की हिंसा का समर्थन नहीं किया

    सुशील मोदी ने दी सफाई, देशद्रोह के मुकदमे से कोई वास्ता नहीं; बीजेपी ने कभी भीड़ की हिंसा का समर्थन नहीं किया

    बिहार के मुजफ्फरपुर में एक शिकायत के बाद स्थानीय कोर्ट के आदेश पर देश की जानी मानी 49 हस्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई और फिर पुलिस जांच में शिकायत झूठी पाई गई. एफआईआर दर्ज होने पर बिहार की एनडीए सरकार की जमकर आलोचना होती रही. पुलिस के शिकायत झूठी पाई जाने का खुलासा करने के पहले बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस पर सफाई दी कि राज्य सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं है. सुशील मोदी ने दावा किया है कि उसी याचिकाकर्ता सुधीर ओझा ने कुछ वर्ष पूर्व उनके खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई थी.

  • BJP-JDU नेताओं में मचे घमासान पर तेजस्वी का हमला- 'NDA ने बिहार को सर्कस बना दिया और ये लोग कुत्ते-बिल्ली की तरह...'

    BJP-JDU नेताओं में मचे घमासान पर तेजस्वी का हमला- 'NDA ने बिहार को सर्कस बना दिया और ये लोग कुत्ते-बिल्ली की तरह...'

    बिहार में बाढ़ और भारी बारिश के बाद हुए जल जमाव को लेकर सियासत जारी है. सरकार की सहयोगी दल BJP के कुछ नेता भी इसे लेकर नीतीश कुमार पर हमलावर हैं. उधर, इसी कड़ी में आज प्रमुख विपक्षी दल राजद (RJD) ने NDA गठबंधन वाले नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार पर हमला बोला है.

  • सुशील मोदी के बाद अब रामविलास पासवान भी बोले- नीतीश हैं एनडीए का चेहरा और रहेंगे

    सुशील मोदी के बाद अब रामविलास पासवान भी बोले- नीतीश हैं एनडीए का चेहरा और रहेंगे

    पासवान ने कहा कि BJP के नेताओं से मेरी बातचीत होती रहती है. बिहार में NDA की सरकार है और सरकार रहेगी. 2020 के चुनाव में उनके अनुसार 200 से ज्यादा सीटें NDA जीतेगी. जहां तक चेहरा का सवाल है तो रामविलास पासवान ने साफ किया कि नीतीश कुमार चेहरा है और वही चेहरा रहेंगे. किसी के कहने से चेहरा बदल नहीं जाता है. भाजपा नेताओं के बयान पर उन्होंने कहा कि इसका कोई अर्थ नहीं है जब तक की कोई आधिकारिक बयान पार्टी की तरफ से ना आए.

  • पटना में लगेगी अरुण जेटली की प्रतिमा, जन्मदिन सरकारी समारोह के तौर पर मनाया जाएगा : नीतीश कुमार

    पटना में लगेगी अरुण जेटली की प्रतिमा, जन्मदिन सरकारी समारोह के तौर पर मनाया जाएगा : नीतीश कुमार

    बिहार में एनडीए सरकार के गठन में और लालू -रबड़ी शासन के ख़ात्मे में पूर्व वित मंत्री अरुण जेटली की अहम भूमिका रही है. उनके निधन के बाद अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को घोषणा की उनकी आदमक़द प्रतिमा पटना में लगाने के अलावा उनका जन्मदिवस राजकीय समारोह के रूप में मनाया जायेगा.  शनिवार को पटना में एनडीए की ओर से एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया. इस मौके पर नीतीश कुमार ने बिहार में एनडीए सरकार के गठन में उनकी भूमिका की चर्चा करते हुए कहा कि उनके साथ उनका एक विशेष सम्बंध रहा है ख़ासकर जब बिहार के भाजपा के प्रभारी बने और विधानसभा के दो चुनाव हुए उसमें उनकी भूमिका कोई नहीं भुला नहीं सकता.

  • अनुच्छेद 370 पर सवाल को नीतीश कुमार ने टाला, राज्यसभा में जेडीयू के नेता ने कहा- ....अब बीजेपी का ही एजेंडा चलेगा

    अनुच्छेद 370 पर सवाल को नीतीश कुमार ने टाला, राज्यसभा में जेडीयू के नेता ने कहा- ....अब बीजेपी का ही एजेंडा चलेगा

    जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के मुद्दे पर आधिकारिक रूप से भले ही लोकसभा और राज्यसभा में जनता दल यूनाइटेड ने विरोध किया हो लेकिन यह अब पार्टी के लिए गले की हड्डी बनता जा रहा है.  हालांकि इस मुद्दे पर जनसमर्थन और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के स्टैंड के कारण नाराज़गी के बाद राज्यसभा में पार्टी के संसदीय दल के नेता रामचंद्र प्रसाद सिंह ने सफ़ाई दी थी कि चूंकि इस संबंध में बिल पारित हो गया है और नया क़ानून बन गया हैं इसलिए अब पार्टी पूरी तरह केंद्र सरकार के पीछे है.

  • कश्मीर पर आखिर सुशील मोदी ने नीतीश कुमार को सलाह दे डाली

    कश्मीर पर आखिर सुशील मोदी ने नीतीश कुमार को सलाह दे डाली

    पिछले दो दिनों से बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार को आर्टिकल 370 के मुद्दे पर विरोधियों से ज़्यादा अपने सहयोगियों और समर्थकों से सलाह और नसीहत मिल रही हैं. हर मुद्दे पर राजद को कोसने वाले नीतीश कुमार मंत्रिमंडल के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी इस मुद्दे पर नीतीश कुमार को कुछ सलाह दी है.

  • आर्टिकल 370 हटाने के मुद्दे पर अब नीतीश की पार्टी पड़ी नरम, रुख बदलने का यह है कारण

    आर्टिकल 370 हटाने के मुद्दे पर अब नीतीश की पार्टी पड़ी नरम, रुख बदलने का यह है कारण

    जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आर्टिकल 370 (Article 370) के अधिकांश प्रावधानों को हटाए जाने के मुद्दे पर विरोध दर्ज करा चुका जनता दल यूनाइटेड (JDU)अब इस मुद्दे पर जनभावना के आगे नतमस्तक होता नजर आ रहा है. बुधवार को जेडीयू ने संसद में इस मुद्दे पर अपने विरोध के पक्ष में सफाई दी कि यदि आर्टिकल 370 को हटाने का समर्थन किया जाता तो जॉर्ज फर्नांडिस (George Fernandes) की आत्मा को दुख पहुंचता. उन्होंने इस मुद्दे पर सन 1996 में ही अपना रुख तय कर दिया था. जेडीयू ने कहा है कि अब जब एक बार कानून बन गया तो वह देश का कानून हो गया और हम सब साथ हैं.

  • धारा 370 हटाने के पक्ष में नहीं जेडीयू, कहा- सरकार ने नीतीश कुमार से सलाह नहीं ली

    धारा 370 हटाने के पक्ष में नहीं जेडीयू, कहा- सरकार ने नीतीश कुमार से सलाह नहीं ली

    हंगामे और लंबी बहस के बाद आखिरकार सरकार ने धारा 370 और जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन का प्रस्ताव राज्यसभा में पारित करा लिया. लेकिन एनडीए के सहयोगी दल जेडीयू की शिकायत है कि उनसे सलाह नहीं ली गई. धारा 370 और जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पर जेडीयू ने खुद को सरकार के रुख से अलग कर लिया है. जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने एनडीटीवी से कहा कि इस मसले पर नीतीश से कोई राय-मशविरा मोदी सरकार ने नहीं किया. यह एनडीए का एजेंडा नहीं है.

  • जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म, बीएसपी का समर्थन, JDU विरोध में, 10 बड़ी बातें

    जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म, बीएसपी का समर्थन, JDU विरोध में, 10 बड़ी बातें

    गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में एक संकल्प पेश किया जिसमें कहा गया है कि संविधान के अनुच्छेद 370 के सभी खंड जम्मू कश्मीर में लागू नहीं होंगे. गृह मंत्री ने कहा, ‘‘ राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद अनुच्छेद 370 के सभी खंड लागू नहीं होंगे. ’’इससे पहले सोमवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की एक घंटे लंबी बैठक चली. समझा जाता है कि इस बैठक में शीर्ष नेतृत्व ने जम्मू-कश्मीर से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की. वहीं राज्यसभा में बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि उनकी पार्टी जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले पर केंद्र सरकार का समर्थन करेगी. दूसरी ओर एनडीए की सहयोगी जेडीयू इस फैसले पर सरकार के साथ नहीं खड़ी है.

  • Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल में क्या हैं प्रावधान

    Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल में क्या हैं प्रावधान

    मंगलवार को राज्यसभा में तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) पेश किया गया. इस बिल को पास कराने के लिए बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी किया है. बता दें कि तीन तलाक बिल को राज्यसभा में संशोधित कार्यसूची में डाला गया है. राज्यसभा में एनडीए (NDA) को बहुमत नहीं  है. जनता दल यूनाईटेड (JDU) बिल के के खिलाफ है. सरकार को बीजेडी (BJD) के समर्थन की उम्मीद है. तीन तलाक बिल 25 जुलाई को लोकसभा में विपक्ष के भारी विरोध के बीच पारित हो चुका है. कांग्रेस (Congress) ने तीन तलाक को निषेध करने वाले विधेयक को स्थायी समिति को भेजने की मांग करते हुए कहा है कि तीन तलाक को फौजदारी का मामला बनाना उचित नहीं है. अब मोदी सरकार के सामने तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पारित कराने की चुनौती है. लोकसभा में पारित तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पारित कराना आसान नहीं है. राज्यसभा में एनडीए को बहुमत हासिल नहीं है और इसके अलावा उसका सहयोगी दल जेडीयू भी इस बिल पर उसके साथ नहीं है. आइये पढ़ते हैं इसके प्रावधान और बिल से जुड़ी 10 बातें...

  • आज राज्यसभा में आ सकता है तीन तलाक बिल, बीजेपी ने व्हिप जारी किया

    आज राज्यसभा में आ सकता है तीन तलाक बिल, बीजेपी ने व्हिप जारी किया

    राज्यसभा में मंगलवार को तीन तलाक बिल (Triple Talaq Bill) आने की संभावना है. बीजेपी ने अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी कर दिया है. तीन तलाक बिल को राज्यसभा में संशोधित कार्यसूची में डाला गया है. राज्यसभा में एनडीए (NDA) को बहुमत नहीं है. इसके अलावा जनता दल यूनाईटेड (JDU) बिल के खिलाफ है. सरकार को बीजेडी (BJD) के समर्थन की उम्मीद है. तीन तलाक बिल 25 जुलाई को लोकसभा में विपक्ष के भारी विरोध के बीच पारित हो चुका है. कांग्रेस (Congress) ने तीन तलाक को निषेध करने वाले विधेयक को स्थायी समिति को भेजने की मांग करते हुए कहा है कि तीन तलाक को फौजदारी का मामला बनाना उचित नहीं है. अब मोदी सरकार के सामने तीन तलाक बिल को राज्यसभा में पारित कराने की चुनौती है.

  • दो साल पहले पीएम मोदी के लिए चुनौती बने रहे नीतीश कुमार अब उन्हीं की कृपा पर निर्भर

    दो साल पहले पीएम मोदी के लिए चुनौती बने रहे नीतीश कुमार अब उन्हीं की कृपा पर निर्भर

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का वर्तमान कार्यकाल इसलिए देश के राजनीतिक इतिहास में महत्वपूर्ण माना जाएगा कि उन्होंने जिस दल के साथ मिलकर विरोधी दल को पराजित किया उसी दल के साथ डेढ़ साल में फिर सरकार भी बनाई. दूसरी तरफ चुनाव में सहयोगी रहे दल को विपक्ष में बैठने पर मजबूर किया. शनिवार को बीजेपी के साथ नीतीश कुमार का दो वर्षों का कार्यकाल पूरा हो जाएगा. इन दो वर्षों में राजनीतिक रूप से नीतीश को हुए हानि-लाभ का यदि हिसाब करें तो वे नुकसान में जाते दिखाई देते हैं. दो साल पहले नीतीश कुमार को गैर एनडीए दलों में बहुत मजबूत नेता माना जाता था. यहां तक कि उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए भी प्रबल दावेदार माना जाता था. पीएम नरेंद्र मोदी के लिए चुनौती बने रहने वाले नीतीश कुमार आज उन्हीं के रहमोकरम पर बिहार की सत्ता की नैया खेते नजर आ रहे हैं.