NDTV Khabar

एनडीए सरकार


'एनडीए सरकार' - 628 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विधेयक लाएगी राजस्थान सरकार

    केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विधेयक लाएगी राजस्थान सरकार

    राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को कहा कि राजस्थान सरकार भी केंद्र द्वारा हाल ही में पारित कृषि संबंधी कानूनों के खिलाफ विधेयक लाएगी और इसके लिए जल्द ही राज्य विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा.

  • सचिन पायलट का दावा, बिहार में परिवर्तन होगा और कांग्रेस-आरजेडी की सरकार बनेगी

    सचिन पायलट का दावा, बिहार में परिवर्तन होगा और कांग्रेस-आरजेडी की सरकार बनेगी

    Bihar Assembly Election 2020: कांग्रेस नेता सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने मंगलवार को यहां दावा किया कि बिहार में विधानसभा चुनाव के बाद परिवर्तन होगा और निश्चित रूप से कांग्रेस-आरजेडी (Congress-RJD) की साझा सरकार बनेगी. पायलट ने संवाददाताओं से बातचीत करते कहा, ‘‘बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के कथित सुशासन की कलई पूरी तरह से खुल चुकी है. कोरोना काल में श्रमिकों को पूरी तरह उनके अपने हाल पर छोड़ दिया था और कोटा में जो बच्चे फंसे हुए थे, उनको लाने से मना कर दिया था. जिस सुशासन की बात वह करते हैं, उसका पूरी तरह खुलासा हो चुका है.''

  • बिहार चुनाव: कांग्रेस ने वीडियो जारी किया, नीतीश सरकार पर आरोपों की बौछार

    बिहार चुनाव: कांग्रेस ने वीडियो जारी किया, नीतीश सरकार पर आरोपों की बौछार

    Bihar Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए कांग्रेस (Congress) ने अपना एक वीडियो (Video) जारी किया है. इस वीडियो में गीत है 'बोले बिहार अब के बदलें सरकार...बोले बिहार महागठबंधन सरकार...'  इस वीडियो में कांग्रेस ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार (NDA Government) को निशाना बनाया है. मौजूदा नीतीश सरकार पर वादे पूरे नहीं करने का आरोप इस वीडियो में लगाया गया है.

  • नीतीश कुमार को क्या अपने 15 सालों पर भरोसा नहीं है?

    नीतीश कुमार को क्या अपने 15 सालों पर भरोसा नहीं है?

    नीतीश कुमार अकेले मुख्यमंत्री नहीं हैं जिन्होंने 15 साल लगातार शासन किया. दिल्ली आने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन बार चुने जा चुके थे और लगभग 13 साल पूरे कर चुके थे. दिल्ली में शीला दीक्षित ने 15 साल पूरे किए, उसके बाद चुनाव हारीं. ओडिशा में नवीन पटनायक भी उनसे लंबे समय से सरकार चला रहे हैं.

  • नीतीश ने किसे निशाने पर रखकर कहा- लोग बात करते हैं और आपका वोट ले लेते हैं

    नीतीश ने किसे निशाने पर रखकर कहा- लोग बात करते हैं और आपका वोट ले लेते हैं

    Bihar Election 2020: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को भरोसा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में उन्हें अल्पसंख्यक खासकर मुस्लिम मतदाताओं (Muslim Voters) के वोट मिलेंगे. नीतीश कुमार ने सोमवार को अपने वर्चुअल सम्मेलन में कहा कि हमने सबके लिए काम किया है और राज्य में कभी न दंगा हुआ, न भेदभाव, और कुछ लोग बात करते हैं और वोट ले लेते हैं. नीतीश कुमार का निश्चित रूप से इशारा राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और मुस्लिम मतदाताओं की ओर था. इसलिए उन्होंने एक बार फिर भागलपुर दंगों की चर्चा करते हुए कहा कि क्या हुआ था जांच के नाम पर और कैसे उनकी सरकार आई तो पुनः जांच कराकर दोषियों को सजा दिलाई. इसके अलावा उन्होंने इस समुदाय के लिए अपने हुनर और औज़ार कार्यक्रम की चर्चा करते हुए कहा कि तलाक़शुदा महिलाओं को उन्होंने पच्चीस हज़ार के अलावा अन्य सुविधाएं देना शुरू किया.

  • बिहार चुनाव: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा- मोदी हैं तो मुमकिन है, नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा

    बिहार चुनाव: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा- मोदी हैं तो मुमकिन है, नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा

    Bihar Election 2020: भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने बिहार में चुनावी अभियान की शुरुआत करते हुए कहा कि मोदी हैं तो मुमकिन है और नीतीश हैं तो प्रदेश आगे बढ़ेगा, इसको याद रखना. रविवार को गया (Gaya) के गांधी मैदान से बिहार चुनाव के अभियान की शुरुआत करते हुए नड्डा ने कहा कि देश का नेतृत्व आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) जी के हाथों में जैसे सुरक्षित है, आवश्यकता इस चीज़ की है कि बिहार का नेतृत्व नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के हाथों में सुरक्षित हो. उन्होंने साफ़-साफ़ कहा कि सारा एनडीए (NDA) कटिबद्ध है कि नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाएंगे और एनडीए की सरकार लाएंगे.

  • रामविलास पासवान के निधन के बाद मोदी सरकार में अब सहयोगी दल से सिर्फ एक मंत्री

    रामविलास पासवान के निधन के बाद मोदी सरकार में अब सहयोगी दल से सिर्फ एक मंत्री

    उपभोक्‍ता मामले तथा खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के निधन के बाद मोदी सरकार (Modi Government) में कैबिनेट में अब सहयोगी दल से कोई मंत्री नहीं है. मंत्रिपरिषद में सहयोगी दल से केवल एक राज्यमंत्री आरपीआई (ए) के रामदास अठावले हैं. वे सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री हैं. शिवसेना ने पिछले साल नवंबर में एनडीए छोड़ दिया था. तब अरविंद सावंत ने कैबिनेट में भारी उद्योग मंत्रालय के मंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया था. इस साल सितंबर में शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था.

  • बिहार चुनाव: महागठबंधन ने बनाई नीतीश की नाकामियों को उजागर करने की रणनीति

    बिहार चुनाव: महागठबंधन ने बनाई नीतीश की नाकामियों को उजागर करने की रणनीति

    Bihar Election 2020: बिहार में चुनावी बिगुल बज चुका है. महागठबंधन में लम्बी खींचतान के बाद घटक दलों में सीटों का बंटवारा हो चुका है. अब महागठबंधन (Mahagathbandhan) के घटक दल "बोले बिहार, बदले सरकार" के नारे को लेकर चुनाव मैदान में उतरेंगे. उनका निशाना इस बार नीतीश सरकार (Nitish Government) के 15 साल के कार्यकाल की कथित नाकामियों और खामियों को उजागर करने पर होगा. आरजेडी (RJD) का आरोप है कि नीतीश के सत्ता में रहने के दौरान बेरोज़गारी और पलायन बढ़ा, आर्थिक विकास नहीं होने से बिहार काफी पिछड़ गया. साथ ही लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के एनडीए (NDA) से अलग होकर चुनाव लड़ने के ऐलान से महागठबंधन को लगता है कि नीतीश कुमार की राजनीतिक स्थिति कमज़ोर हुई है.

  • मेरे रोल मॉडल पीएम मोदी हैं जिन्हें नीतीश कुमार ने धोखा द‍िया : चिराग पासवान

    मेरे रोल मॉडल पीएम मोदी हैं जिन्हें नीतीश कुमार ने धोखा द‍िया : चिराग पासवान

    मैं राजनीति में हूं औरा मेरा सपना एक अलग बिहार का भी है. मैं एक बात स्पष्ट कर दूं कि में नीतीश कुमार से मेरा कोई निजी अलगाव नहीं हैं जो कि इस चुनाव में एनडीए का चेहरा भी हैं. बिहार में एनडीए से अलग होकर मेरा अकेले चुनाव में जाने का फैसला मेरे उस यकीन की वजह से था कि अगर मेरे राज्य को विकास करना है तो इसे एक डबल इंजन की सरकार चाह‍िए जिसमें कोई बीजेपी नेता राज्य की कमान संभाले और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन आत्मनिर्भर भारत के साथ कदम से कदम मिलाकर चल सके.

  • क्या बीजेपी नीतीश कुमार को पछाड़ना चाहती है? चिराग पासवान का फैसला किस ओर कर रहा इशारा...

    क्या बीजेपी नीतीश कुमार को पछाड़ना चाहती है? चिराग पासवान का फैसला किस ओर कर रहा इशारा...

    Bihar Election 2020: लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) बिहार (Bihar) में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को सत्ता से बेदखल करने के प्रयासों में जुटे हैं. वे एनडीए (NDA) का हिस्सा बने रहते हुए ही जनता दल यूनाइटेड (JDU) के खिलाफ कमर कस रहे हैं. दिल्ली में आज हुई एक बैठक में लोक जनशक्ति पार्टी ने बिहार में सत्तारूढ़ नीतीश कुमार की जनता दल यूनाईटेड के खिलाफ उम्मीदवार उतारने का फैसला किया. पार्टी ने बैठक के बाद कहा कि कोई भी उम्मीदवार बीजेपी के खिलाफ चुनाव मैदान में नहीं होगा और "जीतने वाले सभी उम्मीदवार बीजेपी-एलजेपी सरकार बनाएंगे."

  • बिहार चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के ख‍िलाफ उम्मीदवार उतारेगी चिराग पासवान की LJP: सूत्र

    बिहार चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के ख‍िलाफ उम्मीदवार उतारेगी चिराग पासवान की LJP: सूत्र

    बिहार में एनडीए (NDA) में काफी दिनों से बढ़ती दरार आखिरकार खाई बनने की स्थिति में आ गई. विधानसभा चुनाव से पहले सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के दल जनता दल यूनाईटेड (JDU) और चिराग पासवान (Chirag Paswan) के नेतृत्व वाली लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के बीच मनमुटाव आखिरकार एलजेपी के एनडीए से टूटकर अलग होने का कारण बनकर सामने आ गया. लोक जनशक्ति पार्टी की संसदीय बोर्ड की आज हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि बिहार (Bihar) में एलजेपी अकेले चुनाव लड़ेगी. यानी कि विधानसभा चुनाव में एलजेपी एनडीए का हिस्सा नहीं रहेगी. हालांकि एलजेपी ने बीजेपी के नेतृत्व में बिहार में सरकार बनाने को तैयार है. यानी कि वह बीजेपी का साथ नहीं छोड़ेगी.

  • लालू यादव ने कविता 'बदल दो अबकी बारी' के जरिए केंद्र और बिहार सरकार पर बोला हमला

    लालू यादव ने कविता 'बदल दो अबकी बारी' के जरिए केंद्र और बिहार सरकार पर बोला हमला

    राष्ट्रीय जनता दल नेता लालू प्रसाद यादव ने आगामी बिहार चुनाव को ध्यान में रखते हुए एक कविता ट्वीट कर राजनीतिक संदेश दिया है. लालू यादव ने कविता के जरिए कहा कि लॉकडाउन के दौरान जिन लोगों ने प्रवासी मजदूरों को पैदल चलने पर मजबूर किया राज्य की जनता उनकी सरकार को बदल दे. साथ ही साथ लालू यादव ने देश में बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दे पर केंद्र की बीजेपी समेत राज्य की एनडीए सरकार को भी घेरने की कोशिश की है. 

  • किसान बिलों के विरोध में आज राष्ट्रपति से मिलने की तैयारी में विपक्ष, पढ़ें- अब तक की 10 बड़ी बातें

    किसान बिलों के विरोध में आज राष्ट्रपति से मिलने की तैयारी में विपक्ष, पढ़ें- अब तक की 10 बड़ी बातें

    केंद्र की एनडीए सरकार के तीन किसान बिलों पर जबरदस्त हंगामा मचा हुआ है. ये तीनों बिल संसद के दौनों सदनों में पास किए जा चुके हैं. अब इनके कानून बनने में बस राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के एक हस्ताक्षर भर की जरूरत है. इन बिलों के विरोध में विपक्षी पार्टियां पूरी तरह से लामबंद हैं. विपक्ष ने मंगलवार को विरोध में राज्यसभा का बहिष्कार करने का ऐलान किया था. अब इसके बाद वो राष्ट्रपति से मुलाकात करने की तैयारी कर रहे हैं. विपक्ष चाहता है कि राष्ट्रपति इन बिलों पर हस्ताक्षर न करके इन्हें लौटा दें. बस विपक्ष ही नहीं, देश के कई राज्यों में किसानों और किसान संघों का भी इन विधेयकों के खिलाफ गुस्सा दिख रहा है. विपक्ष के नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आज़ाद आज शाम पांच बजे राष्ट्रपति से मुलाकात करने वाले हैं.

  • 'NDA मतलब No Data Available': शशि थरूर ने सरकार के पास आंकड़ों के अभाव को लेकर साधा निशाना

    'NDA मतलब No Data Available': शशि थरूर ने सरकार के पास आंकड़ों के अभाव को लेकर साधा निशाना

    संसद के मॉनसून सत्र में कई मुद्दों पर मोदी सरकार ने सदन में कहा है कि उसके पास आंकड़े नहीं हैं. इसे लेकर विपक्ष सरकार पर जबरदस्त हमले बोल रही है. कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मंगलवार को एक कार्टून शेयर करते हुए व्यंगात्मक अंदाज में केंद्र की एनडीए सरकार पर हमला बोला.

  • किसान विधेयक पर हरसिमरत कौर ने अब राष्ट्रपति से की गुहार, कहा- अन्नदाताओं की आवाज सुनिए

    किसान विधेयक पर हरसिमरत कौर ने अब राष्ट्रपति से की गुहार, कहा- अन्नदाताओं की आवाज सुनिए

    किसान विधेयक पर किसानों के बीच फैले असंतोष को लेकर केंद्र की एनडीए सरकार में कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुकीं हरसिमरत कौर ने अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से गुहार लगाई है. कौर ने मंगलवार को एक ट्वीट कर राष्ट्रपति से आग्रह किया कि वो विधेयकों पर हस्ताक्षर किए बिना लौटा दें.

  • किसान बिल के राज्यसभा में पास होने का ये है गणित, BJP की इन दलों पर नजर; जानें 10 बड़ी बातें

    किसान बिल के राज्यसभा में पास होने का ये है गणित, BJP की इन दलों पर नजर; जानें 10 बड़ी बातें

    Farm Bills: कृषि सुधार से जुड़े तीन विधेयकों में से दो विधेयकों को आज राज्यसभा पेश किया गया. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने विधेयकों को सदन में रखा. किसान बिल पर राज्यसभा में बहस चल रही है. विपक्ष ने कहा कि सरकार कृषि विधेयकों को लेकर जल्दबाजी दिखा रही है. सरकार के लिए विधेयकों को राज्यसभा में पास करवाना बड़ी चुनौती है. विपक्षी पार्टियां किसान बिल के विरोध में एक साथ आ सकती हैं. बीजेडी, वाईएसआर कांग्रेस और तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) बिल को पारित कराने में अहम भूमिका निभा सकते हैं. एनडीए की पुरानी सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल के विरोध के बाद सरकार को आंतरिक और बाहरी मोर्चे पर विरोध का सामना करना पड़ रहा है. राज्यसभा में बिल पारित कराने के लिए बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी करके सदन में मौजूद रहने का निर्देश दिया है. सरकार ने किसान बिल को पास करवाने के लिए समर्थन जुटाने के खातिर विपक्षी दलों से भी मोर्चा बंदी शुरू कर दी है. 245 सदस्यों वाली राज्य सभा में सरकार के पास बहुमत नहीं है. फिलहाल दो स्थान खाली हैं. ऐसे में बहुमत का आंकड़ा 122 है. 

  • कैसे हो राज्यसभा से किसान बिल पास? सरकार ने बनाई ये रणनीति

    कैसे हो राज्यसभा से किसान बिल पास? सरकार ने बनाई ये रणनीति

    सियासी गणित की बात करें तो बीजेपी के अपने 86 सांसद हैं। एनडीए के घटक दलों व अन्य छोटी पार्टियाँ मिला कर उसके पास  कुल 105 की संख्या बल है।

  • राज्यसभा में रविवार को आएंगे किसानों के बिल, सरकार को समर्थन की जरूरत

    राज्यसभा में रविवार को आएंगे किसानों के बिल, सरकार को समर्थन की जरूरत

    किसानों वाले बिल (Agricultural Bills) रविवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में आएंगे. इन बिलों को रविवार की कार्य सूची में रखा गया है. राज्यसभा में सरकार को बहुमत नहीं है. अकाली दल (SAD) के तीन सांसद हैं जिन्हें बिलों के खिलाफ वोट करने के लिए पार्टी ने व्हिप जारी किया है. इन बिलों को पारित कराने के लिए बीजेडी, एआईएडीएमके, वायएसआर कांग्रेस और टीआरएस आदि पार्टियों का समर्थन चाहिए. 

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com