NDTV Khabar

गिरीन्द्र नाथ झा


'गिरीन्द्र नाथ झा' - 6 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • किसानी के संग कलम- स्याही करने वाले फणीश्वर नाथ रेणु

    किसानी के संग कलम- स्याही करने वाले फणीश्वर नाथ रेणु

    आज (4 मार्च) मेरे प्रिय लेखक फणीश्वर नाथ रेणु का जन्मदिन है. रेणु अब इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन खेत में जब भी फसल की हरियाली देखता हूं तो लगता है कि रेणु हैं, हर खेत के मोड़ पे. उन्हें हम सब आंचलिक कथाकार कहते हैं लेकिन सच यह है कि वे उस फसल की तरह बिखरे हैं जिसमें गांव-शहर सब कुछ समाया हुआ है.

  • किसानी में कुछ अलग : चनका रेसीडेंसी और इयान

    किसानी में कुछ अलग : चनका रेसीडेंसी और इयान

    देखते-देखते चनका रेसीडेंसी के पहले गेस्ट राइटर इयान वुलफोर्ड का एक हफ्ते का चनका प्रवास खत्म हो गया. उनके संग हम सात दिन रहे. वे चनका में ग्रामीण संस्कृति, ग्राम्य गीत और खेत-पथार को समझ-बूझ रहे थे और मैं इस रेणु साहित्य प्रेमी को समझने-बूझने में लगा था. रेणु मेरे प्रिय लेखक हैं, वे मेरे अंचल से हैं. मुझे वे पसंद हैं 'परती परिकथा' के लिए और लोकगीतों के लिए. इयान वुलफोर्ड भी रेणु साहित्य में डूबकर कुछ न कुछ खोज निकालने वालों में एक हैं.

  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम चिट्ठी : हुजूर कभी बिना पूर्व सूचना के भी आइए!

    मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम चिट्ठी : हुजूर कभी बिना पूर्व सूचना के भी आइए!

    माननीय मुख्यमंत्री जी, आप यात्रा करें लेकिन आपके लिए सबकुछ संवारा न जाए. अच्छा होगा यदि आपकी सरकार की योजनाओं के कारण सबकुछ पहले से सजा-संवरा रहे.

  • समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजा संघर्ष और महाभारत की याद...

    समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजा संघर्ष और महाभारत की याद...

    वैसे यह कटु सत्य है कि राजनीति में पचास वर्षों से अधिक समय से सक्रिय मुलायम इस वक़्त अपने राजनीतिक जीवन की सबसे बड़ी चुनौती का सामना कर रहे हैं. उन्हें पार्टी को बचाना है लेकिन इससे ज्‍यादा महत्व वे अपने परिवार की एकजुटता को बनाए रखने को दे रहे हैं.

  • गुदरी माई, पीर बाबा और दुर्गा पूजा...

    गुदरी माई, पीर बाबा और दुर्गा पूजा...

    "मेला जा रहे हो न? घूम के आना तो बताना इस बार क्या नया देखे, और हां मेला से लौटते वक्त पीर बाबा और गुदरी माई को चादर चढ़ा आना." हीरा काका को दुर्गा पूजा के मेले से गजब का लगाव है. गांव की दुनिया में हाट-बाजार से आगे मेला एक अड्डा होता है,जहां हर उम्र के लोग जीवन में खुशी की तलाश में पहुंचते हैं. लेकिन यहां मैं हीरा काका के सवालों के जरिए स्मृति को भी खंगालना चाहूंगा.

  • एक किसान की कहानी, रवीश कुमार की जुबानी

    एक किसान की कहानी, रवीश कुमार की जुबानी

    बिहार के उत्तर और उत्तर पूर्वी हिस्से के 12 जिलों में 21 और 22 अप्रैल की रात को आए चक्रवाती तूफान ने अब तक 57 लोगों की मौत हो चुकी है और कई एकड़ खेतों की फसल चौपट हो चुकी है। देखें इस तूफान की तबाही झेल चुके ऐसे ही एक किसान का वीडियो ब्लॉग...

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com