NDTV Khabar

गेस्ट हाउस कांड


'गेस्ट हाउस कांड' - 9 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • यूपी के मंत्री बोले- मायावती बिजली का नंगा तार हैं, जो छुएगा, मर जाएगा

    यूपी के मंत्री बोले- मायावती बिजली का नंगा तार हैं, जो छुएगा, मर जाएगा

    उन्होंने कहा, "उन्होंने लोकसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी (सपा) का उपयोग कर अपनी पार्टी को 10 सीटों पर पहुंचाकर उसे (सपा) धोखा दे दिया.' उन्होंने कहा कि वह भाजपा के नेता दिवंगत बृह्मदत्त द्विवेदी थे, जिन्होंने प्रसिद्ध गेस्ट हाउस कांड में मायावती की जान बचाई थी. उन्होंने कहा कि भारतयी जनता पार्टी (भाजपा) ने ही उन्हें तीन बार मुख्यमंत्री बनने में सहायता प्रदान की थी.

  • तारीख 2 जून 1995 : गेस्ट हाउस कांड की पूरी कहानी, जानें क्या हुआ था उस दिन

    तारीख 2 जून 1995 : गेस्ट हाउस कांड की पूरी कहानी, जानें क्या हुआ था उस दिन

    24 साल बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक बार सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती एक ही मंच पर आए और एक-दूसरे को जिताने की अपील की. उत्तर प्रदेश बीते 24 सालों में हर उस लम्हे का गवाह रहा है जब मायावती और मुलायम सिंह यादव एक दूसरे को देखना भी पसंद नहीं करते थे. दोनों के बीच कटुता इतनी बढ़ गई थी कि मायावती मुलायम को पागल खाने भेजने की बात कहती थीं और फिर दोनों ओर से बयानों के तीर मर्यादाओं को तार-तार कर देते थे. ऐसा नहीं था कि दोनों के बीच हमेशा से ही दुश्मनी थी, दोनों नेता एक साथ मिलकर बना चुके हैं. लेकिन तारीख 2 जून 1995 को हुए गेस्ट हाउस कांड ने न सिर्फ दोनों को कट्टर दुश्मन बना दिया बल्कि खाई इतनी चौड़ी हो गई कि सियासी मतभेद एक दूसरे को देख लेने जैसे चुनौती में बदल गए. गेस्ट हाउस कांड के बाद एक पूरी पीढ़ी बदल गई और अब फिर दोनों के एक साथ हैं और मैनपुरी में 19 अप्रैल 2019 की तारीख दोनों की दोस्ती की गवाह बन गई.

  • लोकसभा चुनाव : 24 साल बाद आज बीएसपी सुप्रीमो मायावती और सपा के संस्थापक मुलायम सिंह होंगे एक ही मंच पर

    लोकसभा चुनाव : 24 साल बाद आज बीएसपी सुप्रीमो मायावती और सपा के संस्थापक मुलायम सिंह होंगे एक ही मंच पर

    सपा-बीएसपी-रालोद महागठबंधन की चौथी रैली शुक्रवार को मैनपुरी में होगी. इस दौरान बसपा अध्यक्ष मायावती भी अपने दशकों पुराने प्रतिद्वंद्वी सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के लिये वोट मांगेंगी.  मैनपुरी की क्रिश्चियन फील्ड में होने वाली इस रैली में मायावती और मुलायम के मंच साझा करेंगे.

  • अखिलेश-मायावती, और 'हट नॉटी कहीं का', देखें-यूपी के बीजेपी अध्यक्ष का विवादास्पद बयान

    अखिलेश-मायावती, और 'हट नॉटी कहीं का', देखें-यूपी के बीजेपी अध्यक्ष का विवादास्पद बयान

    उन्होंने गेस्ट हाउस कांड का जिक्र करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और बसपा अध्यक्ष मायावती (Mayawati) का मजाक उड़ाया है. उन्होंने उत्तर प्रदेश के चंदौली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, 'मैंने सोशल मीडिया पर देखा कि एक नौजवान ने पोस्ट कर दिया कि मायावती जी को अखिलेश जी शॉल पहना रहे हैं. नौजवान नीचे लिखता है कि (अखिलेश के मुंह से) ये वही शॉल है, जो गेस्ट हाउस में पिताजी ने उतारा था. तो वो भी नटखट स्वर में जवाब दे रही हैं... हट नॉटी कहीं का.'

  • BJP विधायक साधना सिंह ने मायावती पर कर दी ऐसी टिप्पणी कि मचा घमासान, बसपा का पलटवार

    BJP विधायक साधना सिंह ने मायावती पर कर दी ऐसी टिप्पणी कि मचा घमासान, बसपा का पलटवार

    यूपी की मुगलसराय से भाजपा विधायक साधना सिंह की बसपा मुखिया मायावती पर की गई टिप्पणी से घमासान मच गया है.

  • 25 साल पहले हुए गेस्ट हाउस कांड पर बोलीं मायावती- हमने देशहित में उसको किनारे रख दिया

    25 साल पहले हुए गेस्ट हाउस कांड पर बोलीं मायावती- हमने देशहित में उसको किनारे रख दिया

    यूपी की सियासत में 25 साल बाद एक बार फिर से समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का मिलन हुआ है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज यानी शनिवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान किया और इस गठबंधन से कांग्रेस को बाहर ही रखा.

  • PM ने कहा- गेस्ट हाउस कांड भूल साथ आए सपा-बसपा, तो अखिलेश ने किया पलटवार- गठबंधन से डर रहे हैं नरेंद्र मोदी

    PM ने कहा- गेस्ट हाउस कांड भूल साथ आए सपा-बसपा, तो अखिलेश ने किया पलटवार- गठबंधन से डर रहे हैं नरेंद्र मोदी

    आगरा में मोदी ने अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) और मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर निशाना साधते हुए कहा, ‘एक दूसरे के घोटालों-घपलों को छिपाने के लिए वो हाथ मिला रहे हैं, जो कभी आंख मिलाने को तैयार नहीं थे. राजनीतिक स्वार्थ के लिए लखनऊ के गेस्ट हाउस का वो शर्मनाक कांड, उसे भी भुला दिया. मुजफ्फरनगर सहित पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अनेक हिस्सों में क्या हुआ, उसे भी भुलाने की कोशिश की जा रही है.'

  • उन्नाव रेप कांड पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, अपराध-भ्रष्टाचार के मामले में कोई समझौता नहीं

    उन्नाव रेप कांड पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, अपराध-भ्रष्टाचार के मामले में कोई समझौता नहीं

    सीबीआई की टीम उन्नाव के उस गेस्ट हाउस में भी पहुंच गई है जहां पर पीड़ित परिवार को ठहराया गया है. सीबीआई पीड़ित परिवार के सदस्यों के बयान लेगी.

  • उत्तर प्रदेश की राजनीति का 'काला दिन' : 2 जून 1995, गेस्ट हाउस कांड और मायावती

    उत्तर प्रदेश की राजनीति का 'काला दिन' :  2 जून 1995, गेस्ट हाउस कांड और मायावती

    1993 में बीजेपी को सत्ता से बाहर करने के लिए समाजवादी पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव और बीएसपी प्रमुख कांशीराम ने गठजोड़ किया था. उस समय उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश का हिस्सा था और कुल सीट थीं 422. मुलायम 256 सीट पर लड़े और बीएसपी को 164 सीट दी थीं. चुनाव में एसपी और बीएसपी गठबंधन जीता. एसपी को 109 और बीएसपी को 67 सीट मिली थीं इसके बाद मुलायम सिंह यादव बीएसपी के समर्थन से मुख्यमंत्री बने. लेकिन, आपसी मनमुटाव के चलते 2 जून, 1995 को बसपा ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया और समर्थन वापसी की घोषणा कर दी. इस वजह से मुलायम सिंह की सरकार अल्पमत में आ गई.

Advertisement