NDTV Khabar

तपेदिक


'तपेदिक' - 9 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • Genital Tuberculosis: बांझपन की वजह हो सकता है जेनिटल ट्यूबरकुलोसिस! जानिए कारण, लक्षण, इलाज और बचाव के उपाय

    Genital Tuberculosis: बांझपन की वजह हो सकता है जेनिटल ट्यूबरकुलोसिस! जानिए कारण, लक्षण, इलाज और बचाव के उपाय

    टीबी (Tuberculosis) जिसे हिंदी में तपेदिक या क्षय रोग भी कहा जाता है एक गंभीर स्थिति होती है. अगर आप जानना चाहते हैं कि टीबी यानी ट्यूबरकुलोसिस क्या है, तो हम आपको बता दें कि असल में ट्यूबरकुलोसिस एक जीवाणु संक्रमण है. टीबी की वजह बनने वाले जीवाणु ही कुष्ठ रोग के जनक भी हो सकते हैं.

  • दुनिया की एक-तिहाई आबादी पर इस घातक रोग का खतरा, हर साल होती है 20 लाख लोगों की मौत

    दुनिया की एक-तिहाई आबादी पर इस घातक रोग का खतरा, हर साल होती है 20 लाख लोगों की मौत

    TB (Tuberculosis या तपेदिक) को लेकर हाल ही में एक अध्ययन हुआ है, जिसमें बताया गया है कि दुनिया की एक-तिहाई आबादी पर तपेदिक का खतरा मंडरा रहा है.

  • World TB Day 2018: पीएम मोदी बोले, टीबी खत्म करने के लिए आगे आएं नागरिक, संगठन

    World TB Day 2018: पीएम मोदी बोले, टीबी खत्म करने के लिए आगे आएं नागरिक, संगठन

    आज पूरा विश्व टीबी दिवस मना रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को विश्व तपेदिक (टीबी) दिवस के अवसर पर नागरिकों और संगठनों से इस बीमारी को खत्म करने के लिए आगे आने का आग्रह किया. बता दें कि इससे पहले End TB Summit में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2025 तक भारत को TB मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा है.  

  • शरीर में हुई विटामिन ए की कमी, तो हो सकता है टीबी!

    शरीर में हुई विटामिन ए की कमी, तो हो सकता है टीबी!

    भारत में टीबी की बीमारी से आज कई लोग पीडि़त हैं. किसी को गांठ तो किसी को फेफड़ों में टीबी शिकायत हो रही है. तपेदिक (टीबी) से बीमार लोगों के साथ रहने वाले विटामिन ए के निम्न स्तर वालों में पोषक तत्वों के उच्चस्तर वालों की तुलना में टीबी का खतरा 10 गुना अधिक होता है.

  • भारत में हैं दुनिया के एक-चौथाई तपेदिक के मामले

    भारत में हैं दुनिया के एक-चौथाई तपेदिक के मामले

    शहर में तपेदिक के मामलों में ज्यादा लोगों के संक्रमित होने का खतरा होता है, वहीं ग्रामीण इलाकों में ऐसे मामले अधिक समय तक संक्रामक रहते हैं.भारत में दुनिया भर के सबसे अधिक तपेदिक के मरीज हैं और यह आंकड़ा करीब 25 प्रतिशत के आसपास का बैठता है.

  • बजट में कहा तो... पर क्या टीबी को हराना आसान है?

    बजट में कहा तो... पर क्या टीबी को हराना आसान है?

    आंगन में बैठी इन महिलाओं को गौर से देखिए. इनके माथे पर बिंदी नहीं है. मांग में सिंदूर भी नहीं. ये सभी विधवा हैं. पति को खोने के बाद अब ये लाचार सी जिंदगी जी रही हैं. यह महिलाएं मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के पोहरी ब्लॉक के एक ही गांव जाखनौद के एक मोहल्ले में रहती हैं. इन सभी के पति टीबी के कारण मौत का असमय ही शिकार हो गए. इस जिले में गांव-गांव की ऐसी ही कहानी है, जहां आपको मोहल्ले के मोहल्ले टीबी से पीड़ित मिलेंगे. शिवपुरी ही क्यों, तकरीबन 17 हजार साल पुरानी टीबी की यह बीमारी चुपचाप देश के गांव-गांव में फैल रही है. शिवपुरी जिले के बारे में तो कहा जाता है कि इस जिले में रहने वाले बच्चे कुपोषण से असमय मरते हैं और सहरिया आदिवासी टीबी से.

  • भारत में टीबी से मरने वालों की संख्या दोगुनी हुई

    भारत में टीबी से मरने वालों की संख्या दोगुनी हुई

    भारत में साल 2015 में तपेदिक (टीबी) से मरनेवालों की संख्या 4,80,000 थी, जो साल 2014 में इस रोग से हुई 2,20,000 मौतों से दोगुनी है। इसका कारण है कि पहले की मौतों के जो अनुमान लगाए गए थे, वे गलत थे। यह बात विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की वैश्विक तपेदिक रिपोर्ट से सामने आई है।

  • टीबी इंफेक्शन के एक नए तरीके की हुई पहचान

    टीबी इंफेक्शन के एक नए तरीके की हुई पहचान

    टीबी, एक ऐसी जानलेवा बीमारी है, जो मानव शरीर में कमजोरी पैदा करती है। शोधकर्ताओं ने शरीर को संक्रमित करने के लिए तपेदिक (टीबी) के जीवाणुओं द्वारा अपनाए जाने वाले एक नए तरीके की खोज की है, जिससे इस बीमारी के इलाज में काफी मदद मिल सकती है।

  • मैं टीबी का शिकार रहा हूं, उम्मीद है भारत जल्द ही इस बीमारी से मुक्त होगा : अमिताभ

    मैं टीबी का शिकार रहा हूं, उम्मीद है भारत जल्द ही इस बीमारी से मुक्त होगा : अमिताभ

    हिन्दी सिनेमा के महानायक अमिताभ बच्चन ने सोमवार को कहा कि वह पहले तपेदिक से पीड़ित रहे हैं और इसलिए उन्होंने बीमारी के प्रति जागरुकता फैलाने का बीड़ा उठाया।