NDTV Khabar

ताजा खबर


'ताजा खबर' - 199 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • आज की ताज़ा ख़बर 18 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताज़ा ख़बर 18 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताजा खबरें, 18 November, सोमवार की दिनभर की सुर्खियां यहां पढ़ें

  • आज की ताज़ा ख़बर 17 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताज़ा ख़बर 17 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताजा खबरें, 17 November, रविवार की दिनभर की सुर्खियां यहां पढ़ें

  • आज की ताज़ा ख़बर 14 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताज़ा ख़बर 14 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताजा खबरें, November 14, गुरुवार की दिनभर की सुर्खियां यहां पढ़ें: प्रदूषण स्तर (Delhi Air Quality Index)बढ़ने पर सभी स्कूलों को दो दिनों के लिए बंद कर दिया गया है.

  • आज की ताज़ा ख़बर 13 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताज़ा ख़बर 13 November 2019 की प्रमुख खबरें

    आज की ताजा खबरें, 13 November, बुधवार की दिनभर की सुर्खियां यहां पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने अयोग्य ठहराए गए बागी विधायकों के मामले में स्पीकर के फैसले को सही ठहराया है.

  • कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    कांग्रेस की बैठक खत्म, शिवसेना को समर्थन देने पर कुछ भी साफ नहीं, NCP भी अकेले नहीं लेना चाहती रिस्क, 10 बड़ी बातें

    बीजेपी-शिवसेना का क़रीब 30 साल पुराना रिश्ता टूट गया है और वह एनडीए से बाहर आ गई है. शिवसेना के इकलौते केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया. शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा कि बीजेपी अपने वादे से मुकर गई और विपक्ष में बैठने का फ़ैसला जनता के अपमान जैसा है. इधर राज्य में बदले समीकरण के एनसीपी कोर कमेटी की बैठक भी है. वहीं दिल्ली में सोनिया गांधी के घर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई है. इधर सरकार गठन की कवायद को लेकर उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत दिल्ली आकर कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी से मिल सकते हैं.

  • अगर BJP,पीडीपी से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत

    अगर BJP,पीडीपी  से हाथ मिला सकती है तो शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के साथ क्यों नहीं : संजय राउत

    शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि बीजेपी के मुख्यमंत्री पद साझा ना करने के अहंकार के कारण मौजूदा स्थिति उत्पन्न हुई. उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का अहंकार ही है कि वह समझौते की बात न मानकर विपक्ष में बैठने को तैयार है लेकिन सरकार बनाने के लिए राजी नहीं है.

  • महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद का Updates: महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी ने NCP से सरकार गठन के लिए पूछा

    महाराष्ट्र में सियासी समीकरण ने करवट ले ली है. लंबी खींचतान के बाद आख़िरकार बीजेपी ने सरकार बनाने से इनकार कर दिया. अब राज्यपाल ने शिवसेना को चिट्ठी लिखकर सरकार बनाने की इच्छाशक्ति और समर्थता पर जवाब मांगा है. शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाने को तैयार दिख रही है. लेकिन समर्थन से पहले एनसीपी ने शिवसेना के सामने एनडीए से बाहर आने की शर्त रख दी है, जिसके बाद शिवसेना बीजेपी से 30 साल पुरानी दोस्ती तोड़ दी है. हालांकि शिवसेना की ओर से मोदी सरकार में शामिल एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत दोपहर 11 बजे अपने इस्तीफे का ऐलान करने वाले थे लेकिन अब सूत्रों के हवाले खबर मिल रही है कि वह उद्धव ठाकरे की हां का इंतजार कर रहे हैं और उधर उद्धव भी कांग्रेस और एनसीपी से लिखित समर्थन का इंतजार कर रहे हैं.  उद्धव ठाकरे आज शरद पवार से मिल सकते हैं. वहीं शिवसेना नेता संजय राउत आज दिल्ली में सोनिया गांधी से मिल कर सियासी समीकरण साधने की कोशिश कर सकते हैं. महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 105 सीटों पर जीत मिली थी वहीं शिवसेना 56 सीटें जीतकर दूसरे नंबर की पार्टी बनी थी. महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला था लेकिन 50-50 फॉर्मूले की वजह से दोनों दलों में मतभेद हो गया. 

  • 26 नवंबर को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने पर फैसला करेगा

    26 नवंबर को सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने पर फैसला करेगा

    Ayodhya News: सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड उत्तर प्रदेश सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने के मामले पर 26 नवंबर को प्रस्तावित अपनी बैठक में फैसला करेगा. बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारूकी ने रविवार को बातचीत में कहा कि बोर्ड की सामान्य बैठक आगामी 26 नवंबर को संभावित है. उसमें ही यह निर्णय लिया जाएगा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार अयोध्या में सरकार द्वारा दी जाने वाली पांच एकड़ जमीन ली जाए या नहीं.

  • भारतीय मूल के अमेरिकियों ने अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का किया स्वागत

    भारतीय मूल के अमेरिकियों ने अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का किया स्वागत

    FIIDS ने एक बयान में अयोध्या राम मंदिर पर ऐतिहासिक फैसला सुनाने के लिए उच्चतम न्यायालय का शुक्रिया अदा किया. FIIDS ने कहा, ‘हम उच्चतम न्यायालय के बेहद संतुलित फैसले का स्वागत करते हैं, जिसमें उसने पूरी भूमि हिंदुओं को दे दी और मस्जिद के लिए अलग से जमीन आवंटित करने को कहा.’

  • Ayodhya Verdict: इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला ‘कानूनी रूप से टिकाऊ’ नहीं था: सुप्रीम कोर्ट

    Ayodhya Verdict: इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला ‘कानूनी रूप से टिकाऊ’ नहीं था: सुप्रीम कोर्ट

    सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में रामलला विराजमान को विवादित जमीन देने का फैसला किया था. इस फैसले के साथ ही रामलला को 2.77 एकड़ जमीन मिलेगी. यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने सुनाया था. इस बेंच में CJI रंजन गोगोई भी शामिल थे. फैसले के दौरान कोर्ट ने कहा कि हमारे सामने जो सबूत रखे गए वह बताता है कि विवादित जमीन हिंदुओं की है.

  • Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने इन बिंदुओं के आधार पर सुनाया विवादित भूमि का फैसला

    Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने इन बिंदुओं के आधार पर सुनाया विवादित भूमि का फैसला

    कोर्ट ने विवादित ढांचे की जमीन हिंदु पक्ष को देने का फैसला सुनाया है. साथ ही मुसलमानों को अयोध्या में ही दूसरी जगह पांच एकड़ जमीन देने के लिए कहा है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का मुख्य उद्देश्य दशकों से देश की राजनीति पर हावी रहे इस मुद्दे को खत्म करना था.

  • अयोध्या पर आए फैसले पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा- गलत तथ्‍य पेश किए गए, फैसले से संतुष्ट नहीं

    अयोध्या पर आए फैसले पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा- गलत तथ्‍य पेश किए गए, फैसले से संतुष्ट नहीं

    अयोध्या पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा है कि वह फैसले से संतुष्‍ट नहीं हैं. बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा, 'कुछ गलत तथ्‍य पेश किए गए हैं हम उनकी जांच करेंगे. सुप्रीम कोर्ट का फैसला है हम उसका सम्‍मान करते हैं.

  • अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, अमन-चैन का वातावरण बनाए रखें : कांग्रेस

    अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, अमन-चैन का वातावरण बनाए रखें : कांग्रेस

    अयोध्या मुद्दे पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सम्मान करती है.  हम सभी संबंधित पक्षों व सभी समुदायों से निवेदन करते हैं कि भारत के संविधान में स्थापित 'सर्वधर्म सम्भाव' और भाईचारे के उच्च मूल्यों को निभाते हुए अमन-चैन का वातावरण बनाए रखें. हर भारतीय की जिम्मेदारी है कि हम सब देश की सदियों पुरानी परस्पर सम्मान और एकता की संस्कृति व परंपरा को जीवंत रखें. सूत्रों के मुताबिक पार्टी के नेताओं को पहले ही हिदायद दे दी गई थी कि अनुच्छेद 370 की तरह सभी अलग-अलग बयान न दें.  अयोध्या के फैसले को देखते हुए कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक भी बुलाई गई थी.  

  • अयोध्या : रामलला विराजमान को विवादित जमीन का मालिकाना हक, मस्जिद ढहाना और मूर्तियां रखना गैर-कानूनी था , फैसले की 10 बड़ी बातें

    अयोध्या : रामलला विराजमान को विवादित जमीन का मालिकाना हक, मस्जिद ढहाना और मूर्तियां रखना गैर-कानूनी था , फैसले की 10 बड़ी बातें

    सुप्रीम कोर्ट (SC) ने अयोध्या केस पर फैसला सुनाते हुए कहा है कि विवादित ढांचे की जमीन हिंदुओं को दी जाएगी और मुसलमानों को मस्जिद बनाने के लिए दूसरी जगह मिलेगी. कोर्ट ने शुरू में ही शिया वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा की याचिकाएं खारिज कर दी हैं. इसके साथ ही कहा है कि मुसलमानों को मस्जिद के लिए दूसरी जगह दी जाएगी. यह फैसला सभी जजों की सहमति से हुआ है. सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि पुरात्व विभाग ने मंदिर (Ayodhya Case) होने के सबूत पेश किए हैं. सैकड़ों पन्नों का जजमेंट पढ़ते हुए पीठ ने कहा कि हिंदू अयोध्या (Ayodhya Verdict) को राम जन्मस्थल मानते हैं और रंजन गोगोई ने कहा कि कोर्ट के लिए थिओलॉजी में जाना उचित नहीं है. लेकिन पुरातत्व विभाग यह भी नहीं बता पाया कि मंदिर गिराकर मस्जिद बनाई गई थी.

  • Ayodhya Verdict: SC का फैसला- विवादित ढांचे की जमीन हिंदुओं को, तो मुसलमानों को मिलेगी दूसरी जमीन

    Ayodhya Verdict: SC का फैसला- विवादित ढांचे की जमीन हिंदुओं को, तो मुसलमानों को मिलेगी दूसरी जमीन

    Ayodhya Case: अयोध्या भूमि विवाद को लेकर पांच जजों की पीठ ने शनिवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड विवादित ढांचे पर अपना एक्सक्लूसिव राइट साबित नहीं कर पाया. कोर्ट ने विवादित ढांचे की जमीन हिंदुओं को देने का फैसला सुनाया, तो मुसलमानों को दूसरी जगह जमीन देने के लिए कहा है.

  • Ayodhya Case : जमीन के मालिकाना हक पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला

    Ayodhya Case : जमीन के मालिकाना हक पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला

    Ayodhya Case: अयोध्या में सारी बहस और तथ्यों के बीच आज सिर्फ इस बात का जवाब मिलेगा कि विवादित जमीन पर मालिकाना हक किसका है. अदालत में फैसला सिर्फ इसी बात का होना है. कोर्ट में बहस के दौरान दलीलें भी इसी बात को लेकर दोनों पक्षों की ओर से दी गई हैं. संविधान सभा का आज का फैसला सिर्फ इसी बात पर टिका हुआ है और इस सवाल का जवाब आते ही इस 100 साल से ज्यादा पुराने इस विवाद से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे. हालांकि यह फैसला इस मामले पर अंतिम फैसला नहीं होगा, इसके बाद रिव्यू पिटीशन दाखिल की जा सकेगी. रिव्यू पिटीशन यानी कि पुनर्विचार याचिका उसी बेंच के पास आती है जो बेंच फैसला सुनाती है. जस्टिस रंजन गोगोई की इस बेंच में उनके अलावा जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल हैं. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं. यदि 17 नवंबर के पहले पुनर्विचार याचिका आती है तो इसे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की बेंच ही सुनेगी. लेकिन यदि यह पिटीशन इसके बाद आई तो अगले चीफ जस्टिस तय करेंगे कि रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई के लिए मौजूदा पीठ में जस्टिस गोगोई की जगह पांचवा जज कौन होगा. सुप्रीम कोर्ट यह भी तय करेगा कि रिव्यू पिटीशन पर सुनवाई की जाए या नहीं की जाए.

  • Ayodhya Verdict: अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाने जा रही है संवैधानिक पीठ में शामिल हैं ये 5 जज

    Ayodhya Verdict: अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाने जा रही है संवैधानिक पीठ में शामिल हैं ये 5 जज

    अयोध्या विवाद में आज सुबह साढ़े 10 बजे सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फ़ैसला आने वाला है. सीजेआई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच फ़ैसला सुनाएगी. बेंच में चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नज़ीर शामिल हैं.

  • अयोध्या पर फैसले से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अपील, कहा- जीत-हार से न जोड़ा जाए

    अयोध्या पर फैसले से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  की अपील, कहा- जीत-हार से न जोड़ा जाए

    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन सभी की सुरक्षा व प्रदेश में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कटिबद्ध है. कोई भी व्यक्ति यदि कानून-व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करेगा, तो उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी.

  • जानें, अयोध्या मामले पर 17 नवंबर के बजाय 9 नवंबर को ही क्यों आ रहा है फैसला

    जानें, अयोध्या मामले पर 17 नवंबर के बजाय 9 नवंबर को ही क्यों आ रहा है फैसला

    इस मामले की सुनवाई पूरी करने के बाद देश की शीर्ष अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. तभी से यह अनुमान लगाया जा रहा था कि CJI रंजन गोगोई के रिटायर होने से पहले इस मामले में फैसला आ जाएगा. चीफ जस्टिस गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं. वैसे तो कोर्ट किसी भी दिन बैठ सकती है, मामले को सुन सकती है और फैसला दे सकती है लेकिन फिर भी 17 नवंबर को रविवार है और सामान्यत: इतने बड़े मामलों में फैसला अवकाश के दिन नहीं आया करता.

  • Ayodhya Case Final Verdict: अयोध्या मामले पर फैसले से पहले पीएम मोदी ने जनता से की यह अपील

    Ayodhya Case Final Verdict: अयोध्या मामले पर फैसले से पहले पीएम मोदी ने जनता से की यह अपील

    पीएम मोदी ने लिखा कि अयोध्या पर कल सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ रहा है. पिछले कुछ महीनों से सुप्रीम कोर्ट में निरंतर इस विषय पर सुनवाई हो रही थी, पूरा देश उत्सुकता से देख रहा था। इस दौरान समाज के सभी वर्गों की तरफ से सद्भावना का वातावरण बनाए रखने के लिए किए गए प्रयास बहुत सराहनीय हैं.