NDTV Khabar

दिल्ली में प्रदूषण


'दिल्ली में प्रदूषण' - 435 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • दिल्ली में प्रदूषण: दुनिया में सबसे प्रदूषित हुई राजधानी की हवा, NGT के जुर्माने का भी कोई असर नहीं 

    दिल्ली में प्रदूषण: दुनिया में सबसे प्रदूषित हुई राजधानी की हवा, NGT के जुर्माने का भी कोई असर नहीं 

    राज्य में बढ़ते प्रदूषण (Pollution in Delhi) को देखते हुए एनजीटी (NGT) ने बीते सोमवार को ही आदेश ना मानने और ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई न करने की वजह से दिल्ली सरकार (Delhi Government) पर 25 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. इतना ही नहीं दिल्ली सरकार (Delhi Government) को एनजीटी (NGT) का आदेश सही से लागू न करने की स्थिति में अतिरिक्त 25 करोड़ रुपये सिक्यूरिटी डिपोजिट के तौर पर भी जमा कराने को कहा गया है.

  • प्रदूषण पर लगाम लगाने में नाकाम रही दिल्ली सरकार, NGT ने लगाया 25 करोड़ का जुर्माना

    प्रदूषण पर लगाम लगाने में नाकाम रही दिल्ली सरकार, NGT ने लगाया 25 करोड़ का जुर्माना

    प्रदूषण से जुड़ी तकरीबन आधा दर्जन याचिकाओं पर एनजीटी सुनवाई कर रहा था, जिनमें एनजीटी के पिछले आदेशों का पालन नहीं किया गया . इसमें एक मामला अक्टूबर में रोहिणी के आवासीय इलाके से जुड़ा हुआ था, जिसमें 200 से ऊपर कार वर्कशॉप को बंद करने के आदेश दिए हैं. क्योंकि इसके चलते उस इलाके में अक्सर ट्रैफिक जाम की समस्या और प्रदूषण का स्तर बढ़ा रहता था. यह सभी कार वर्कशॉप अवैध रूप से इलाके में चल रही थीं.

  • दिल्लीवालों सावधान! और खराब हो सकती है दिल्ली की हवा, अगले दो दिन घर से बाहर निकलने से बचें

    दिल्लीवालों सावधान! और खराब हो सकती है दिल्ली की हवा, अगले दो दिन घर से बाहर निकलने से बचें

    दिल्ली की वायु गुणवत्ता शुक्रवार को ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रही. इसकी वजह मौसम के विपरित हालात रहे जिनकी वजह से प्रदूषक तत्व तितर-बितर नहीं हो सके. सप्ताह के आखिर में प्रदूषण का स्तर और भी बदतर होने की आशंका है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली का समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 358 रहा. 301 से 400 के बीच एक्यूआई को बहुत खराब और 401 से 500 के बीच एक्यूआई को बेहद गंभीर माना जाता है.

  • सुप्रीम कोर्ट का सरकार से सवाल- दिल्ली में प्रदूषण करने वाले वाहनों की पहचान की योजना का क्या हुआ?

    सुप्रीम कोर्ट का सरकार से सवाल- दिल्ली में प्रदूषण करने वाले वाहनों की पहचान की योजना का क्या हुआ?

    दिल्ली और NCR में प्रदूषण के मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने वाहनों के कलर कोड स्टीकर पर कानून मंत्रालय से नियमों में बदलाव के हालत पर जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मंत्रालय जवाब दे कि प्रदूषित वाहनों की पहचान के लिए बनी इस योजना का क्या हुआ?

  • दिल्ली में प्रदूषण: कानून मंत्रालय से सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब, पूछा- वाहनों की पहचान वाली योजना का क्या हुआ

    दिल्ली में प्रदूषण: कानून मंत्रालय से सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब, पूछा- वाहनों की पहचान वाली योजना का क्या हुआ

    कोर्ट ने वाहनों के कलर कोड स्टीकर मामले में कानून मंत्रालय से नियमों में बदलाव के हालत पर जवाब मांगा है. मंत्रालय को निर्देश देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि गुरुवार तक जवाब दें कि प्रदूषित वाहनों की पहचान के लिए बनी इस योजना का क्या हुआ? अमिक्स क्यूरी ने कोर्ट को बताया कि सड़क परिवहन मंत्रालय ने सकारात्मक तरीके से नियमों का पालन किया और योजना को कानून मंत्रालय को भेजा. लेकिन कानून मंत्रालय ने इस पर कदम नहीं उठाया. अगर कानून मंत्रालय ने समय पर कार्य किया होता तो दिल्ली में गंभीर श्रेणी प्रदूषण को रोका जा सकता था.

  • दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- किसी न किसी को जेल भेजा जाना चाहिए, यही एक तरीका है

    दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- किसी न किसी को जेल भेजा जाना चाहिए, यही एक तरीका है

    दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है. पिछली सुनवाई में प्रदूषण मामले में सुप्रीम कोर्ट में पुराने वाहनों को लेकर दिल्ली सरकार की रिपोर्ट पेश की गई थी. सरकार ने कहा था कि 7 मई 2015 के एनजीटी के आदेश के मुताबिक पेट्रोल और डीजल के 10 और 15 साल पुराने वाहनों के दिल्ली में प्रवेश पर पाबंदी रहेगी.

  • नहीं सुधरी दिल्ली एनसीआर की हवा, सुबह से छाई रही धुंध की चादर, सांस लेने में हो रही है दिक्कत

    नहीं सुधरी दिल्ली एनसीआर की हवा, सुबह से छाई रही धुंध की चादर, सांस लेने में हो रही है दिक्कत

    हवा की गुणवत्ता 0-50 को अच्छा माना जाता है, 51-100 को संतोषजनक, 101-200 को ठीक-ठाक, 201-300 खराब, 301-400 बहुत खराब और 401 से 500 को बहुत ही खऱाब माना जाता है. मंगलवार को राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता बहुत ही खरीब आंकी गई है. मंगलवार को भी दिल्ली में धूंध की चादर देखने को मिली थी. गौरतलब है कि  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बढ़ते स्तर को देखते हुए अधिकारी इस सप्ताह कृत्रिम बारिश कराने की योजना बना रहे हैं.

  • दिल्ली में मंगलवार की सुबह छाएगा कोहरा, प्रदूषण ने 10 साल कम कर दी उम्र

    दिल्ली में मंगलवार की सुबह छाएगा कोहरा, प्रदूषण ने 10 साल कम कर दी उम्र

    राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को नमी का असर रहा और न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया. मंगलवार को आसमान साफ रहने और सुबह हल्का कोहरा छाये रहने का अनुमान है. दूसरी तरफ दिल्ली में प्रदूषण फिर बढ़ने लगा है. सोमवार को एक नया अध्ययन सामने आया है जो कि चौंकाने वाला है.

  • केएमपी एक्सप्रेसवे (KMP Expressway) : जानिए, कहां-कहां जा सकेंगे, क्या है गतिसीमा, कितना देना होगा टोल - 8 खास बातें

    केएमपी एक्सप्रेसवे (KMP Expressway) : जानिए, कहां-कहां जा सकेंगे, क्या है गतिसीमा, कितना देना होगा टोल - 8 खास बातें

    प्रदूषण और ट्रैफिक जाम की मार झेल रही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली अब कुछ राहत पा सकेगी, क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केएमपी एक्सप्रेसवे, यानी कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे को आम जनता के लिए खोल दिया है, और इसकी बदौलत अब हरियाणा के सोनीपत से मानेसर और पलवल जाने वालों को दिल्ली होकर नहीं जाना पड़ेगा, और राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर गाड़ियों की तादाद घटेगी. माना जा रहा है कि दिल्ली को घेरकर चलने वाली रिंग रोड सरीखे और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे कहे जाने वाले कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे या KMP एक्सप्रेसवे की बदौलत कम से कम 50,000 वाणिज्यिक वाहन भी रोज़ाना दिल्ली में प्रवेश से बच सकेंगे.

  • केएमपी एक्सप्रेसवे का उद्घाटन : PM मोदी ने कहा - अटकाने-लटकाने और भटकाने वाली संस्‍कृति ने नुकसान किया

    केएमपी एक्सप्रेसवे का उद्घाटन : PM मोदी ने कहा - अटकाने-लटकाने और भटकाने वाली संस्‍कृति ने नुकसान किया

    दिल्ली में प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों का बोझ कम करने के उद्देश्य से बनाए गए केएमपी एक्सप्रेसवे का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन कर दिया है. कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे परियोजना पर कुल 6,400 करोड़ रूपये खर्च किये गए हैं, जिसके लिये 2,788 करोड़ की लागत से 3,846 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया.

  • दिल्ली प्रदूषण: बारिश से मिली थी कुछ राहत, लेकिन ‘इस वजह’ से फिर खराब हो गई वायु गुणवत्ता

    दिल्ली प्रदूषण: बारिश से मिली थी कुछ राहत, लेकिन ‘इस वजह’ से  फिर खराब हो गई वायु गुणवत्ता

    अधिकारियों ने बताया कि प्रदूषक तत्वों का बिखराव धीमा होने के कारण वायु की गुणवत्ता बिगड़ी. केंद्र संचालित वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान प्रणाली (सफर) के मुताबिक, समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 315 दर्ज किया गया जो ‘अत्यंत खराब’ की श्रेणी में आता है.

  • बारिश ने दिल्लीवासियों को दी राहत: प्रदूषण का स्तर गिरा, हवा की गुणवत्ता सुधरी

    बारिश ने दिल्लीवासियों को दी राहत: प्रदूषण का स्तर गिरा, हवा की गुणवत्ता सुधरी

    गुरुवार को दिल्ली में पीएम 2.5 का स्तर 105 और पीएम 10 का स्तर 191 दर्ज किया गया. वायु गुणवत्ता सूचकांक में शून्य से 50 अंक तक हवा की गुणवत्ता को 'अच्छा', 51 से 100 तक 'संतोषजनक', 101 से 200 तक 'सामान्य', 201 से 300 के स्तर को 'खराब', 301 से 400 के स्तर को 'बहुत खराब' और 401 से 500 के स्तर को 'गंभीर' श्रेणी में रखा जाता है.

  • पब्लिक ट्रांसपोर्ट Vs निजी वाहन: जानें- दिल्ली में सफर के लिए कौन बचाएगा आपका पैसा और समय

    पब्लिक ट्रांसपोर्ट Vs निजी वाहन: जानें- दिल्ली में सफर के लिए कौन बचाएगा आपका पैसा और समय

    निजी वाहनों के मुकाबले पब्लिक ट्रांसपोर्ट सस्ता तो पड़ता है लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्ट में प्राइवेट के मुकाबले 50% समय ज़्यादा बर्बाद होता है. दिल्ली में डीटीसी और क्लस्टर की बसों 50% की कमी है जबकि मेट्रो सुगम तो है उसमें पीक आवर में सांस लेना भी चुनौती बन जाती है. इसलिए लोग दिल्ली के 80000 ऑटो और डेढ़ लाख टैक्सियों पर पहले से निर्भर हैं. ये हाल तब है जब सभी तरह का ट्रांसपोर्ट उपलब्ध है. लेकिन अगर प्राइवेट वाहन बंद कर दिए तो सोचिए कैसी मारामारी झेलनी पड़ेगी.

  • हल्की बारिश से दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में सुधार, फिर भी सेहत के लिए है हानिकारक

    हल्की बारिश से दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में सुधार, फिर भी सेहत के लिए है हानिकारक

    राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार रात हुई हल्की बारिश के कारण बुधवार को वायु की गुणवत्ता में मामूली सुधार दर्ज किया गया. पिछले एक सप्ताह से दिल्ली में प्रदूषण का स्तर ‘‘गंभीर’’ श्रेणी में बना हुआ था. ह

  • दिल्ली में बारिश की फुहारों ने दिलाई प्रदूषण से राहत, अगले दो दिनों में और सुधर सकते हैं हालात

    दिल्ली में बारिश की फुहारों ने दिलाई प्रदूषण से राहत, अगले दो दिनों में और सुधर सकते हैं हालात

    केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 348 दर्ज किया गया जो 'बहुत खराब' की श्रेणी में आता है. इसमें बताया गया कि दिल्ली के 28 इलाकों में वायु गुणवत्ता 'बेहद खराब' दर्ज की गई जबकि तीन इलाकों में यह 'खराब' की श्रेणी में बनी रही.

  • सुप्रीम कोर्ट के जज बोले- दिल्ली में प्रदूषण की वजह से मैं नहीं कर पा रहा सैर, घर से बाहर निकलना दूभर

    सुप्रीम कोर्ट के जज बोले- दिल्ली में प्रदूषण की वजह से मैं नहीं कर पा रहा सैर, घर से बाहर निकलना दूभर

    दिल्ली की जहरीली हवा पर सुप्रीम कोर्ट भी चिंतित है. दिल्ली में प्रदूषण की खतरनाक स्थिति को लेकर लेकर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरुण मिश्रा ने चिंता जताई और कहा कि दिल्ली में इतना प्रदूषण है कि वह सुबह की सैर पर नहीं जा पा रहे हैं. जस्टिस मिश्रा ने कोर्ट में कहा कि दिल्ली में इतना प्रदूषण क्यों है? लोग घरों से बाहर तक नहीं जा पा रहे हैं. मैं सुबह जल्दी उठता हूं और सैर पर जाने की कोशिश करता हूं, लेकिन प्रदूषण की वजह से कई दिनों से सैर पर नहीं जा पा रहा हूं.

  • पटाखा छोड़ इस परिवार ने गोलियां दाग मनाई दीवाली, महिलाएं और बच्चों ने भी की फायरिंग, देखें- VIDEO

    पटाखा छोड़ इस परिवार ने गोलियां दाग मनाई दीवाली, महिलाएं और बच्चों ने भी की फायरिंग, देखें- VIDEO

    दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण को देखते हुए पटाखों पर सख़्ती की गई. इसके बावजूद स्थिति में कोई खास सुधार नहीं हुआ. पटाखों से निकले जहरीले धुएं की वजह से सांस लेना मुश्किल हो गया. इस बीच अब दिल्ली से सटे नोएडा का एक वीडियो वायरल हुआ है. यह वीडियो दीवाली के आसपास का बताया जा रहा है. वीडियो में एक शख़्स अपने परिवार के सदस्यों से बारी-बारी से फायरिंग करवा रहा है. यहां तक कि महिलाएं और बच्चे भी ताबड़तोड़ फायरिंग करते नजर आ रहे हैं. 

  • प्रदूषण की मार, दिल्ली-एनसीआर में निर्माण कार्यों और ट्रकों की एंट्री पर प्रतिबंध 12 नवंबर तक बढ़ा, हवा अब भी 'बहुत खराब'

    प्रदूषण की मार, दिल्ली-एनसीआर में निर्माण कार्यों और ट्रकों की एंट्री पर प्रतिबंध 12 नवंबर तक बढ़ा, हवा अब भी 'बहुत खराब'

    प्रदूषण की वजह से पैदा हुई आपात स्थिति को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में निर्माण कार्यों और ट्रकों की एंट्री पर प्रतिबंध 12 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है. अब दिल्ली और एनसीआर में 12 नवंबर तक निर्माण कार्य पूरी तरह से बंद रहेगा. साथ ही स्टोन क्रशर और हॉट मिक्स प्लांट बंद रहेंगे. इसके अलावा ऐसे सभी प्लांट्स, जिसमें ईंधन के तौर पर कोयले या बॉयोमॉस का इस्तेमाल होता है वे भी बंद रहेंगे. EPCA और पर्यावरण मंत्रालय के बीच बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया है.

Advertisement