NDTV Khabar

नीतीश कुमार News in Hindi


'नीतीश कुमार' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • लीची खाना नहीं, बल्कि गरीबी भी हो सकती है बिहार में 150 से ज्यादा बच्चों की मौत की वजह

    लीची खाना नहीं, बल्कि गरीबी भी हो सकती है बिहार में 150 से ज्यादा बच्चों की मौत की वजह

    अस्पताल लाए गए बच्चों में से 223 बच्चियां और कुल 159 बच्चे शामिल थे. इलाज के लिए लाए गए ज्यादातर बच्चों की उम्र एक से तीन साल के बीच थी. इस उम्र के 84 बच्चियों को जबकि 51 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया. इससे यह साफ होता है कि इस उम्र के बच्चे तो लीची के बागान तक पहुंचे होंगे नहीं. इसके उम्र के अलावा जिन बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया उनकी उम्र तीन से पांच साल के बीच की थी.

  • मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर PM मोदी-अमित शाह की चुप्पी को लेकर कुशवाहा ने उठाए सवाल, कही यह बात

    मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर PM मोदी-अमित शाह की चुप्पी को लेकर कुशवाहा ने उठाए सवाल, कही यह बात

    RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से बड़ी संख्या में बच्चों की हुई मौत के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहराया. साथ ही आरएलएसपी प्रमुख ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की मामले पर चुप्पी को लेकर भी सवाल उठाए हैं.

  • बिहार में अब भाजपा सांसद अपने फ़ंड से सरकारी अस्पतालों में आईसीयू बनवाएंगे

    बिहार में अब भाजपा सांसद अपने फ़ंड से सरकारी अस्पतालों में आईसीयू बनवाएंगे

    बिहार और केंद्र में भाजपा की सरकार होने के बावजूद ख़ासकर भाजपा के सांसदों को ये भरोसा नहीं कि सरकार अपने पैसे से हर ब्लॉक हॉस्पिटल में आईसीयू बनवा सकती है. इसलिए भाजपा के बिहार से सांसद एमपीलैड से 25-25 लाख का अनुदान दे रहे हैं.

  • सुशील मोदी की सफ़ाई, तेजस्वी यादव को नहीं दी गई कोई क्लीन चिट

    सुशील मोदी की सफ़ाई, तेजस्वी यादव को नहीं दी गई कोई क्लीन चिट

    उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि 5 देशरत्न मार्ग स्थित बंगले की साज-सज्जा पर अपने पद का दुरूपयोग कर करोड़ों खर्च कराने के मामले में तेजस्वी यादव को सरकार ने काई क्लीनचिट नहीं दी है.

  • Blog: क्या बिहार में बच्चों की मौत के बहाने नीतीश कुमार की आलोचना की जगह अब न्यूज चैनल अपने राजनीतिक आकाओं का एजेंडा तो पूरा नहीं कर रहे हैं?

    Blog: क्या बिहार में बच्चों की मौत के बहाने नीतीश कुमार की आलोचना की जगह अब न्यूज चैनल अपने राजनीतिक आकाओं का एजेंडा तो पूरा नहीं कर रहे हैं?

    बिहार में चमकी बुखार (Acute Encephalitis Syndrome) से  अब तक 150 बच्चों की मौत हो गयी है. निश्चित रूप से इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार की सबसे अधिक आलोचना हो रही है. उसके बाद उप मुख्यमंत्री  सुशील मोदी जो विपक्ष के नेता के रूप में किसी भी घटना के बाद सबसे आक्रामक होके इस्तीफ़ा मांगते थे. इन सबके बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय जो अपने संवेदनहीनता के कारण मज़ाक़ के पात्र बन बैठे हैं उनकी आलोचना हो रही है. ये तीनों नेता मीडिया से परेशान हैं क्योंकि मीडिया वाले इनका पीछा करते हैं और कुछ तो इनसे इन्हीं के पूर्व के बयानो का हवाला देते हुए पूछ देते हैं कि आख़िर इस्तीफ़ा कब देंगे. मीडिया ख़ासकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कई दिन तक सुबह से शाम तक प्राइम टाइम में बच्चों की मौत, अस्पतालों की बदहाल स्थिति के बहाने सरकार की निश्चित रूप से जायज बिंदुओं  पर चैनल के पत्रकार से संपादक तक एक स्वर से आलोचना करते हैं.

  • मुजफ्फरपुर में जिस अस्पताल में चमकी बुखार से हुई 108 बच्चों की मौत, वहां मिले मानव कंकाल

    मुजफ्फरपुर में जिस अस्पताल में चमकी बुखार से हुई 108 बच्चों की मौत, वहां मिले मानव कंकाल

    भाजपा के एक सदस्य ने शुक्रवार को लोकसभा में सरकार से इस बात की जांच कराने की मांग की कि बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम से बच्चों की मौत के मामले में लीची को जिम्मेदार ठहराना कहीं इस फल को बदनाम करने की साजिश तो नहीं है. बिहार के सारण से लोकसभा सदस्य राजीव प्रताप रूड़ी ने शून्यकाल में इस विषय को उठाया और कहा कि मुजफ्फरपुर में हालात बहुत चिंताजनक हैं.

  • क्‍या चुप्‍पी साध कर जानबूझकर नीतीश कुमार को निशाना बनने दे रहे बीजेपी नेता?

    क्‍या चुप्‍पी साध कर जानबूझकर नीतीश कुमार को निशाना बनने दे रहे बीजेपी नेता?

    बिहार में बीजेपी और जेडीयू भले ही साथ में सरकार चला रहे हों लेकिन दोनों के बीच दूरियां कई मौकों पर साफ दिख जाती हैं. चाहे केंद्र सरकार में जेडीयू का कोई मंत्री न होने का मामला हो या फिर तीन तलाक बिल का जेडीयू द्वारा विरोध. राज्‍य के मुजफ्फरपुर में दिमागी बुखार यानी इंसेफलाइटिस से 100 से ज्‍यादा बच्‍चों की मौत के मामले में भी कुछ ऐसा ही दिख रहा है.

  • बिहार में नीतीश सरकार ने दी आरजेडी नेता तेजस्वी यादव को बड़ी राहत, कयासबाजी शुरू

    बिहार में नीतीश सरकार ने दी आरजेडी नेता तेजस्वी यादव को बड़ी राहत, कयासबाजी शुरू

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव के बयानों से खुश न रहते हों लेकिन उन्होंने तेजस्वी को बड़ी राहत दी है. बिहार सरकार ने कहा है कि तेजस्वी यादव जब उप मुख्यमंत्री थे तो उनके बंगले में खर्च नियमानुसार ही किया गया है. सरकार की ओर से जारी इस बयान को एक तरह से क्लीनचिट के तौर पर देखा जा रहा है.  भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार जो मुख्य मंत्री के भी प्रधान सचिव ने एक संवादाता सम्मेलन में कहा,  'पांच देश रत्न मार्ग जो उपमुख्य मंत्री के लिए चिन्हित हैं उस पर जब तक तेजस्वी यादव रहे उस समय नियम के अनुसार राशि ख़र्च हुई.

  • क्या बिहार सरकार के पास 100 बेड का ICU बनाने के लिए भी पैसा नहीं है?

    क्या बिहार सरकार के पास 100 बेड का ICU बनाने के लिए भी पैसा नहीं है?

    सुशील मोदी ने यह मांग दिल्ली में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात के दौरान की. दिल्‍ली के विज्ञान भवन में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीमारमण की अध्यक्षता में हुई राज्यों के वित्त मंत्रियों के साथ बजट पूर्व बैठक में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यह मांग रखी. उन्‍होंने नए एम्स के निर्माण की जगह राज्य के पुराने मेडिकल कॉलेज को ही एम्स में परिवर्तित करने की मांग भी की.

  • बिहार : नीतीश कुमार ने 121 बच्चों की मौत पर बोलने से किया इनकार

    बिहार : नीतीश कुमार ने 121 बच्चों की मौत पर बोलने से किया इनकार

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को मुजफ्फरपुर जिले में चमकी बुखार (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) के कारण 121 बच्चों की मौत के मामले में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया.

  • बिहार में जल्दी आने वाला है ‘नीतीश सूखा’, लग रहे हैं हजारों सबमर्सिबल पंप

    बिहार में जल्दी आने वाला है ‘नीतीश सूखा’, लग रहे हैं हजारों सबमर्सिबल पंप

    जिस तरह चक्रवाती तूफानों के नाम होते हैं उसी तरह अब सूखे का भी नाम रखना चाहिए. मैं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम पर ‘नीतीश सूखा’ रखना चाहता हूं. ‘नीतीश सूखा’ वह सूखा है जो राज्य सरकार की हज़ारों सबमर्सिबल पंप लगाने की नीति से आ चुका है या आने वाला है.

  • बिहार में बच्चों की मौत के लिए ज़िम्मेदार कौन - नीतीश कुमार या सुशील मोदी...?

    बिहार में बच्चों की मौत के लिए ज़िम्मेदार कौन - नीतीश कुमार या सुशील मोदी...?

    अगर कुछ महीने छोड़ दिए जाएं, तो पिछले कुछ सालों से दोनों नेता राज्य की सता पर क़ाबिज़ हैं, लेकिन अब बिहार में कुछ ही दिनों में 130 से अधिक बच्चों की मौत ने इनकी प्रशासनिक कुशलता पर सवाल खड़े कर दिए हैं, और इसीलिए जहां नीतीश कुमार अपनी ज़िम्मेदारियों के बारे में बात करने की बजाय मीडिया से मुंह फुलाए बैठे हैं, वहीं सुशील मोदी का हमेशा की तरह इस बार भी 'लालू-राबड़ी' राग जारी है.

  • बिहार में दूसरे एम्स के निर्माण के लिए नीतीश सरकार ने नहीं दी जमीन

    बिहार में दूसरे एम्स के निर्माण के लिए नीतीश सरकार ने नहीं दी जमीन

    बिहार में दिमागी बुखार (एक्यूट एनसिफेलाइटिस सिंड्रोम) का कहर जारी है. इस बीच यह महत्वपूर्ण बात सामने आई है कि बिहार में दूसरा नया एम्स नहीं बन पाया क्योंकि नीतीश सरकार चार साल तक राज्य में दूसरे प्रस्तावित एम्स के लिए ज़मीन आवंटित नहीं कर पाई. इसके बाद भारत सरकार ने दरभंगा मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल को ही एम्स की तर्ज़ पर अपग्रेड करके का फैसला किया. यह महत्वपूर्ण है कि 28 नवंबर 2014 को स्वास्थ्य मंत्रालय ने PMSSY के तीसरे चरण में जिन 39 अस्पतालों को अपग्रेड करने का फैसला किया था उसमें दरभंगा अस्पताल भी शामिल था.

  • मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर आरजेडी का नीतीश कुमार और मोदी सरकार पर जोरदार हमला

    मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर आरजेडी का नीतीश कुमार और मोदी सरकार पर जोरदार हमला

    बिहार के मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) में अज्ञात बीमारी से सौ से अधिक बच्चों की मौत और इस पर सरकार के रवैये को लेकर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी (Shivanand Tivary) ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) व केंद्र सरकार को निशाना बनाया है. इस बीमारी, जिसे 'चमकी बुखार' कहा जा रहा है, का कारण और निदान न मिलने पर तिवारी ने नीतीश कुमार के 'सुशासन' पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने केंद्र और बिहार सरकार (Bihar Government) से कहा है कि वे मृत बच्चों के मां-बाप से क्षमा याचना करें.

  • रवीश कुमार का ब्लॉग: बिहार में बच्चों की मौत पर रिपोर्टिंग करती टीवी पत्रकारिता को टेटेनस हो गया

    रवीश कुमार का ब्लॉग: बिहार में बच्चों की मौत पर रिपोर्टिंग करती टीवी पत्रकारिता को टेटेनस हो गया

    आम तौर पर तीन बेड पर एक डॉक्टर होना चाहिए. अगर 1500 बेड की बात कर रहे हैं तो करीब 200-300 डॉक्टर तो चाहिए ही नहीं. बेड बनाकर फोटो खींचाना है या मरीज़ों का उपचार भी करना है. जिस मेडिकल कालेज की बात कर गए हैं वहां मेडिकल की पढ़ाई की मात्र 100 सीट है. 2014 में हर्षवर्धन 250 सीट करने की बात कर गए थे. यहां सीट दे देंगे तो प्राइवेट मेडिकल कालेजों के लिए शिकार कहां से मिलेंगे. गेम समझिए. इसलिए नीतीश कुमार की घोषणा शर्मनाक और मज़ाक है. अस्पताल बनेगा उसकी घोषणा पर मत जाइये. देश में बहुत से अस्पताल बन कर तैयार हैं मगर चल नहीं रहे हैं. गली-गली में खुलने वाले एम्स की भी ऐसी ही हालत है.

  • मुजफ्फरपुर में हो रहे बच्‍चों की मौत पर BJP सांसद ने दिया ज्ञान, 4-जी से मौत का बुखार..

    मुजफ्फरपुर में हो रहे बच्‍चों की मौत पर BJP सांसद ने दिया ज्ञान, 4-जी से मौत का बुखार..

    इसी मुद्दे पर एनडीटीवी के पत्रकारों ने मुजफ्फरपुर के सांसद अजय निषाद, लोक जनशक्‍ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान, बिहार के मंत्री सुरेश शर्मा और केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री से इस सिलसिले में बात की. सबने चिंता जाहिर की लेकिन हकीकत अभी भी यही है कि मुजफ्फरपुर मे‍डिकल कॉ‍लेज में चिकित्‍सा सुविधाओं को लेकर कुछ खास बदलाव नहीं हुए हैं.

  • 100 से भी ज़्यादा बच्चों की मौत के बाद मुज़फ़्फ़रपुर पहुंचे नीतीश कुमार, स्थानीय लोगों ने किया विरोध-प्रदर्शन

    100 से भी ज़्यादा बच्चों की मौत के बाद मुज़फ़्फ़रपुर पहुंचे नीतीश कुमार, स्थानीय लोगों ने किया विरोध-प्रदर्शन

    एक्यूट एन्सिफेलाइटिस (Encephalitis) सिन्ड्रोम (AES) की वजह से 100 से भी ज़्यादा बच्‍चों की मौत हो जाने के बाद मंगलवार को पहली बार बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने मुज़फ़्फ़रपुर (Muzaffarpur) मेडिकल कॉलेज का दौरा किया. अस्‍पताल में मौत का सिलसिला 17 दिन पहले शुरू हुआ था, जो अब तक जारी है. पूरे बिहार में अब तक 126 बच्‍चों की मौत हो चुकी है, और मुख्‍यमंत्री के इस रवैये से लोगों में काफी नाराज़गी है.

  • Muzaffarpur Encephalitis Deaths: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बिहार के स्वास्थ्य मंत्री को थी क्रिकेट वर्ल्डकप में दिलचस्पी, पूछा- कितने विकेट हुए?

    Muzaffarpur Encephalitis Deaths: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बिहार के स्वास्थ्य मंत्री को थी क्रिकेट वर्ल्डकप में दिलचस्पी, पूछा- कितने विकेट हुए?

    बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे बच्चों की मौत पर हो रही प्रेस मीटिंग के दौरान क्रिकेट वर्ल्डकप का स्कोर पूछते दिखाई दिए. रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच मैच चल रहा था. मंत्री ने पूछा कि अब तक कितने विकेट हुए? जिसके जवाब में किसी ने कहा 4 विकेट.

12345»

Advertisement

 

नीतीश कुमार वीडियो

नीतीश कुमार से जुड़े अन्य वीडियो »