NDTV Khabar

पटना


'पटना' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • पटना हाईकोर्ट के जज ने कमिश्नर से की जलजमाव की शिकायत, बात तो सुनी लेकिन नहीं हुई कोई कार्रवाई

    पटना हाईकोर्ट के जज ने कमिश्नर से की जलजमाव की शिकायत, बात तो सुनी लेकिन नहीं हुई कोई कार्रवाई

    ये बात खुद उच्च न्यायालय के जज शिवाजी पांडे ने जल जमाव जल निकासी और सफ़ाई पर हो रही सुनवाई के दौरान खुले कोर्ट में नगर निगम के वक़ील से कहा. उन्होंने कहा कि आपके निगम आयुक्त को जब फोन करके ओवरफ्लो और जाम की शिकायत की तो उन्होंने कुछ नहीं किया वो तो किसी की सुनते ही नहीं हैं.

  • बिना लाइसेंस कूड़े से भरा ट्रैक्टर चला रहे थे पूर्व सांसद पप्पू यादव, अब भुगतना पड़ा ये अंजाम

    बिना लाइसेंस कूड़े से भरा ट्रैक्टर चला रहे थे पूर्व सांसद पप्पू यादव, अब भुगतना पड़ा ये अंजाम

    जन अधिकार पार्टी के नेता एवं पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव पर बिना वैध लाइसेंस कूड़े से भरा ट्रैक्टर ट्राली चलाने के मामले में जुर्माना लगाया गया है. पुलिस ने बताया कि पप्पू यादव ने इस कूड़े को राज्य सरकार में मंत्री के घर के सामने फेंकने की धमकी दी थी. पप्पू यादव ने कहा कि उन्होंने पटना में आई बाढ़ और जल जमाव के बाद सामने आए 200 से अधिक डेंगू के मरीजों और बीमारी के रोकथाम में राज्य सरकार के असफल रहने के विरोध में यह प्रदर्शन किया.

  • पटना हाईकोर्ट जल जमाव को लेकर सिर्फ अधिकारियों के तबादले से संतुष्ट नहीं

    पटना हाईकोर्ट जल जमाव को लेकर सिर्फ अधिकारियों के तबादले से संतुष्ट नहीं

    पटना हाईकोर्ट का मानना है कि जल जमाव के लिए दोषी अधिकारियों का तबादला पर्याप्त नहीं. जल जमाव के मुद्दे पर भी जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए बुधवार को कोर्ट ने कहा कि इसके लिए जिम्मेदार किसी भी अधिकारी को बख्शा नहीं जाएगा. पटना उच्च न्यायालय में इस मुद्दे पर कई जनहित याचिका दायर हुई हैं. जिसकी सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह भी साफ किया कि कुछ अधिकारियों के निलंबन और कुछ वरिष्ठ अधिकारियों के तबादले करके राज्य सरकार अपना पल्ला नहीं झाड़ सकती है और कोर्ट देखेगी कि आखिर दोषी अधिकारियों के ख़िलाफ़ क्या और कार्रवाई की जाए.

  • पटना में जल जमाव के लिए जिम्मेदार दो अधिकारियों का हुआ तबादला

    पटना में जल जमाव के लिए जिम्मेदार दो अधिकारियों का हुआ तबादला

    साथ ही जल जमाव के लिए प्रथम दृश्टया ज़िम्मेवार नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद और बुडको के प्रबंध निदेशक अमरेन्द्र कुमार सिंह का तबादला कर दिया. मंगलवार शाम जारी तबादले के आदेश के अनुसार जहां पटना के आयुक्त आनंद किशोर; चैतन्य प्रसाद का स्थान लेंगे. वहीं चंद्रशेखर सिंह; अमरेन्द्र कुमार सिंह के जगह नये प्रबंध निदेशक होंगे. संजय अग्रवाल को पटना का नया आयुक्त का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.

  • मंत्री पर फेंकी स्याही, क्या पटना के लोग सही में गुस्से में हैं?

    मंत्री पर फेंकी स्याही, क्या पटना के लोग सही में गुस्से में हैं?

    स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे के ऊपर मंगलवार को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल में स्याही फेंकी गई.इसके बाद इस घटना को अंजाम देने वाले व्यक्ति ने कहा कि वह पटना के जल जमाव के बाद इतना व्यथित था कि उसने आवेश में आकर ऐसा किया. हालांकि उसने अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता नहीं छिपाई और माना कि उसका संबंध पूर्व सांसद पप्पू यादव की जन अधिकर पार्टी से है. जिसका पूर्व का इतिहास रहा है कि वो किसी भी त्रासदी में वाहवाही बटोरने के बाद राजनीतिक फ़ायदा उठाने के लिए सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं पर स्याही फेंकने जैसी घटनाओं को अंजाम देती रही है.

  • तेजस्वी यादव का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला, जल जमाव के मुद्दे पर उठाए कई सवाल

    तेजस्वी यादव का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला, जल जमाव के मुद्दे पर उठाए कई सवाल

    बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव इन दिनों विधानसभा की पांच सीटों और लोकसभा की एक सीट पर होने वाले उप चुनाव के प्रचार में व्यस्त हैं. हालांकि वे पटना में पिछले हफ़्ते कुछ दिन थे लेकिन जल जमाव से प्रभावित लोगों की सुध लेने में उन्होंने दिलचस्पी नहीं दिखाई. दूसरी तरफ सोशल मीडिया के माध्यम से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरने का उनका दैनिक कार्यक्रम जारी है. मंगलवार को उन्होंने ताज़ा बयान में कहा कि 'आदरणीय नीतीश कुमार जी आंख में धूल झोंकने के माहिर खिलाड़ी हैं. हर छोटी मोटी उपलब्धि का श्रेय स्वयं हड़पते हैं पर विकराल नाकामियों का ठीकरा छोटे-छोटे कर्मचारियों पर फोड़ते हैं.'

  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के चेहरे पर फेंकी गई स्याही, मरीजों का हाल जानने गए थे पटना मेडिकल कॉलेज

    केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के चेहरे पर फेंकी गई स्याही, मरीजों का हाल जानने गए थे पटना मेडिकल कॉलेज

    अश्विनी चोबे ने इस घटना के बाद कहा, ''ना केवल मेरे ऊपर बल्कि पत्रकारों के ऊपर भी स्याही फेंकी गयी और इस घटना के पीछे वही लोग हैं जो पहले अपराध जगत में सक्रिय थे.'' एक रीजनल टीवी चैनल से बात करते हुए स्याही फेंकने वाले लड़के निशान्त झा ने कहा है कि उसका संबंध पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी (JAP) से है. साथ उसने कहा कि यह उसका व्यक्तिगत निर्णय था. हालांकि पप्पू यादव ने कहा कि वो ऐसे किसी व्यक्ति को नहीं जानते.

  • नीतीश कुमार ने की जलजमाव की समीक्षा बैठक, नहीं बुलाए जाने पर BJP के सांसद-विधायक हुए नाराज

    नीतीश कुमार ने की जलजमाव की समीक्षा बैठक, नहीं बुलाए जाने पर BJP के सांसद-विधायक हुए नाराज

    इस बैठक में नहीं बुलाए जाने को लेकर सरकार में सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद और विधायक नाराज़ बताए जाते हैं. अब मुख्यमंत्री शनिवार को इन सभी के साथ बैठक कर शिकायतों और उनके समाधानों पर विचार-विमर्श करेंगे. BJP विधायक नितिन नवीन, संजीव चौरसिया और सांसद रामकृपाल यादव का कहना था कि जनप्रतिनिधियों के बिना इस तरह की बैठक का औचित्य नहीं है. फिर शाम को सरकार ने शनिवार को होने वाली बैठक की घोषणा की.

  • पटना में डेंगू का कहर: सात साल की बच्ची की मौत और BJP विधायक भी इसकी चपेट में

    पटना में डेंगू का कहर: सात साल की बच्ची की मौत और BJP विधायक भी इसकी चपेट में

    इस बीच पटना में इस बीमारी से एक सात साल के बच्ची की जहां मौत हुई, वहीं भाजपा विधायक संजीव चौरसिया भी अब प्रभावित लोगों में से एक है. सोमवार को अकेले पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में जिन 294 सैम्पल की जांच हुई, उसमें 116 पॉजिटिव पाये गये.

  • सीएम नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की

    सीएम नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की

    उन्होंने बताया कि एक कार्यकारी अभियंता को प्रशासनिक आधार पर तबादला कर दिया गया है. मुख्यमंत्री ने बताया कि इसके अलावा कई अन्य अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है व वेतन भुगतान बंद कर दिया गया है. कुमार ने बताया कि आज की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि विकास आयुक्त की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया जाएगा जो एक महीने के अंदर जल जमाव से संबधित रिपोर्ट पेश करेगी. 

  • पटना में जल जमाव की समीक्षा के लिए नीतीश कुमार ने बैठक बुलाई

    पटना में जल जमाव की समीक्षा के लिए नीतीश कुमार ने बैठक बुलाई

    पटना शहर में जल जमाव के कारणों की समीक्षा करने के लिए सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई. इसमें संबंधित विभागों के मंत्री और प्रधान सचिव मौजूद थे. इस बैठक में कई फैसले लिए गए.

  • अपने ही घर के बाहर धरना प्रदर्शन झेल रहे सुशील मोदी ने कहा, 'काम भी हम लोग ही करेंगे'

    अपने ही घर के बाहर धरना प्रदर्शन झेल रहे सुशील मोदी ने कहा, 'काम भी हम लोग ही करेंगे'

    बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी पटना में जल जमाव के बाद दो तरफ़ा समस्या का सामना कर रहे हैं. एक हर चीज़ के लिए लालू-रबड़ी राज को कोसने वाले सुशील मोदी इस बार किसी और के ऊपर ठीकरा नहीं फोड़ सकते क्योंकि नगर विकास विभाग न केवल भाजपा के पास है बल्कि इस विभाग को अपने संरक्षण में ही सुशील मोदी चलाते हैं.

  • महिला ने छोटे कपड़े पहनकर 'नाइट पार्टी' में जाने और शराब पीने से मना किया तो पति ने दिया तीन तलाक

    महिला ने छोटे कपड़े पहनकर 'नाइट पार्टी' में जाने और शराब पीने से मना किया तो पति ने दिया तीन तलाक

    पटना में एक महिला ने दावा किया है कि उसके पति ने उसे इसलिए तीन तलाक दे दिया क्योंकि उसने मॉडर्न पत्नी बनने, शराब पीने और फैन्सी ड्रेस पहनने से मना कर दिया. महिला का नाम नूरी फातिमा है. एएनआई से बात करते हुए फातिमा ने कहा, 'इमरान मुस्तफा से मेरी शादी 2015 में हुई थी. शादी के कुछ दिनों बाद हम दिल्ली आ गए. कुछ महीनों बाद उसने मुझसे कहा कि शहर की बाकी लड़कियों की तरह मैं भी मॉडर्न लड़की बन जाऊं. वो चाहता था कि मैं शॉर्ट ड्रेस पहनूं, रात में पार्टी में जाऊं और शराब पियूं.'

  • बोधगया और पटना विस्फोट मामले में पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार

    बोधगया और पटना विस्फोट मामले में पुलिस ने एक आरोपी को किया गिरफ्तार

    अजहर के खिलाफ वर्ष 2013 में हुए बिहार के बोधगया और पटना बम विस्फोट मामले में शामिल होने का आरोप है. वह पिछले छह वर्ष से फरार था.आरिफ शेख ने बताया कि छत्तीसगढ़ एटीएस को जानकारी मिली थी कि अजहर शुक्रवार को सऊदी अरब से हैदराबाद पहुंच रहा है. इसके बाद पुलिस ने अजहर को गिरफ्तार कर लिया.

  • पटना जल जमाव के जांच के लिए समिति के गठन का मामला : सुशील मोदी ने नीतीश सरकार की लाज बचाई

    पटना जल जमाव के जांच के लिए समिति के गठन का मामला : सुशील मोदी ने नीतीश सरकार की लाज बचाई

    पटना में जलजमाव क्यों हुआ इसकी जांच के लिए बनाई गई समिति को लेकर उठे विवाद के बाद अब खबर आ रही है कि उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जैसे ही इस आदेश के बारे में पता चला उन्होंने नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव से जानकारी ली और साफ़ कहा कि कि ये जांच दल काम शुरू नहीं करेगा.

  • नीतीश सरकार का 'अजीब' फैसला, पटना की दुर्दशा के 'जिम्मेदार' ही करेंगे जांच

    नीतीश सरकार का 'अजीब' फैसला, पटना की दुर्दशा के 'जिम्मेदार' ही करेंगे जांच

    बिहार की राजधानी पटना में जलजमाव (Patna Flood) से राज्य के नगर विकास विभाग की पोल खुल गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने 14 वर्षों के शासनकाल में किस प्रकार से अर्बन प्लानिंग की उपेक्षा की है इसका भी नजारा इस बाढ़ में दिखा है. लेकिन राज्य सरकार ने इस अभूतपूर्व जलजमाव से कुछ ना सीखा और न ही कुछ सबक़ लेना चाहती है.

  • जल जमाव के बाद बिहार की राजनीति में सुशील मोदी को लेकर इतने सवाल क्यों?

    जल जमाव के बाद बिहार की राजनीति में सुशील मोदी को लेकर इतने सवाल क्यों?

    पटना शहर से जल जमाव की समस्या फ़िलहाल ख़त्म हो गई है. इस जल जमाव के यूं तो कई कारण रहे लेकिन वो चाहे भाजपा समर्थक हों या विरोधी, सब मानते हैं कि अगर एक व्यक्ति जिसकी लापरवाही का सबने ख़ामियाज़ा उठाया वो हैं सुशील मोदी. और राजधानी पटना की इस नरकीय स्थिति ने सबसे ज़्यादा नुक़सान किसी की व्यक्तिगत और राजनीतिक छवि को पहुंचाया है तो वो हैं बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी. सुशील मोदी ने पटना की हर समस्या में आम लोगों के साथ खड़े होकर अपनी व्यक्तिगत राजनीतिक छवि चमकाई और साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी को लगातार पिछली पांच विधानसभा चुनावों से हर सीट पर जीत दिलाई. उसी सुशील मोदी ने इस बार के पानी में, उनके समर्थकों के अनुसार सब कुछ खोया है.

  • पटना में जल जमाव : नेताओं के एक वर्ग ने लोगों की सेवा की, दूसरे वर्ग ने वोट पाने की रणनीति बनाई

    पटना में जल जमाव : नेताओं के एक वर्ग ने लोगों की सेवा की, दूसरे वर्ग ने वोट पाने की रणनीति बनाई

    बिहार की राजधानी पटना में जल जमाव से दो तरह के नेता जनता के सामने आए हैं. एक जिन्होंने इस जल जमाव के बहाने वोट मिले या नहीं, इसकी परवाह किए बिना जनता की ख़ूब सेवा की और वाहवाही भी बटोरी. इन नेताओं में पूर्व सांसद पप्पू यादव, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद रहे. दूसरे वे नेता जो पानी में तो जनता के बीच नहीं दिखे लेकिन पानी के बहाने सरकार, खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी. ऐसे नेताओं में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार भाजपा के अध्यक्ष संजय जयसवाल और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव प्रमुख थे.