NDTV Khabar

पत्रकारिता


'पत्रकारिता' - 149 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • NDTV की पूर्व पत्रकार निधि राजदान हुईं "फर्जीवाड़े की शिकार", हार्वर्ड में पढ़ाने का ऑफर झूठा निकला

    NDTV की पूर्व पत्रकार निधि राजदान हुईं

    निधि राजदान का कहना है कि वह हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पत्रकारिता की पढ़ाई करने के ऑफर में हो रही देरी को लेकर कुछ खामी महसूस कर रही थीं, लेकिन उन्हें बताया गया था कि प्रशासनिक असंगतियों के कारण ऐसी देरी हो रही है.

  • NDTV के रवीश रंजन शुक्ला 'रामेश्वरम हिन्दी पत्रकारिता पुरस्कार' से सम्मानित

    NDTV के रवीश रंजन शुक्ला 'रामेश्वरम हिन्दी पत्रकारिता पुरस्कार' से सम्मानित

    रामेश्वरम संस्थान झांसी की तरफ से हर साल की तरह इस साल प्रतिष्ठित पत्रकार एवं समाजसेवी स्व. रामेश्वर दयाल त्रिपाठी जी की पुण्य स्मृति में हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम करने के लिए NDTV इंडिया के वरिष्ठ विशेष संवाददाता रवीश रंजन शुक्ला को रामेश्वरम हिन्दी पत्रकारिता पुरस्कार देने की घोषणा की गई है.

  • Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: पोपटलाल को नहीं मिली पत्रकारिता में नौकरी, तो बन गए मैकेनिक

    Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: पोपटलाल को नहीं मिली पत्रकारिता में नौकरी, तो बन गए मैकेनिक

    मतौर पर निंदक रहने वाले पोपटलाल का रातों-रात रवैया बदलने वाला है. तूफान एक्सप्रेस में अपनी नौकरी खोने के बाद उन्हें ऐसा महसूस होता है कि नौकरी नहीं होने का मतलब अपनी जीवनसाथी खोजने की संभावना को खो देना है. उनमें एक तरह का डर पैदा हो जाता है जिससे वह जल्द से जल्द दूसरी नौकरी करना चाहते हैं.

  • NDTV ने जीते 11 बड़े पुरस्कार, असली पत्रकारिता को मिली पहचान

    NDTV ने जीते 11 बड़े पुरस्कार, असली पत्रकारिता को मिली पहचान

    सही, सच्ची और खरी पत्रकारिता में अपनी बादशाहत को बरक़रार रखते हुए NDTV ने 11 न्यूज़ टेलीविज़न अवॉर्ड जीते हैं. ख़बरों के वेश में तमाशा नहीं, बल्कि खरी और सच्ची ख़बर के लिए मिली इस पहचान और प्रशंसा से साबित हुआ कि NDTV के मंत्र 'नफ़रत का नहीं कारोबार' का बड़ा सम्मान है.

  • रेटिंग के बहाने नियम बदल कर वही खेल खेले जाने का दिमाग़ किसका है भाई

    रेटिंग के बहाने नियम बदल कर वही खेल खेले जाने का दिमाग़ किसका है भाई

    आपको एक दर्शक के नाते चैनल के ऊपर जो कंटेंट दिखाया जा रहा है उस पर नज़र रखें. देखिए कि क्या उसमें वाकई कोई पत्रकारिता है, क्या आपने वाकई किसी चीज़ के बारे में जाना. जिन पर सरकार की भक्ति और भजन का आरोप लग रहा है वही एक चैनल को टारगेट करने के बहाने संत बनने का प्रयास कर रहे हैं. ऐसा नहीं होना चाहिए.

  • भारत में TV न्‍यूज पर डॉ. प्रणय रॉय का विश्‍लेषण और किन चीज़ों पर है ध्‍यान देने की ज़रूरत?

    भारत में TV न्‍यूज पर डॉ. प्रणय रॉय का विश्‍लेषण और किन चीज़ों पर है ध्‍यान देने की ज़रूरत?

    सामान्‍य रूप से एक न्‍यूज़ ऑर्गेनाइज़ेशन के लिए लाभ कमाने का रास्‍ता उन समझौतों से होकर जाता है, जो पत्रकारिता की प्रकृति को बदल देते हैं. अक्सर ऐसा होता है कि जब इसकी पहचान एक न्‍यूज़ चैनल की नहीं रह सकती है. भारत में ख़बरिया चैनलों के भीड़ भरे बाज़ार में मुनाफे की तलाश में कई विकल्‍प संभव हैं और विभिन्‍न चैनलों ने अलग-अलग रास्‍ते चुने भी हैं, लेकिन इन रास्‍तों में से किसी के भी साथ जितनी अधिक सफलता मिलती है, न्‍यूज़ जर्नलिज़्म (पत्रकारिता) का नेचर उतना ही बदल जाता है.

  • TRP पत्रकारिता के चक्कर में बड़े-बड़े संस्थान आ गए, सरकार मीडिया की आजादी की पक्षधर : जावड़ेकर

    TRP पत्रकारिता के चक्कर में बड़े-बड़े संस्थान आ गए, सरकार मीडिया की आजादी की पक्षधर : जावड़ेकर

    बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा है कि पहले पीत पत्रकारिता, फिर पेड न्यूज़, उसके बाद फेक न्यूज़ और अब TRP पत्रकारिता हो गई है. इसके चक्कर में बड़े-बड़े भले संस्थान आ गए हैं. पहले टैम प्राइवेट संस्था थी जो TRP निकालती थी. फिर बार्क सेल्फ़ रेगुलेशन के लिए आई. लेकिन अब उसके संस्थापक ही उसका विरोध कर रहे हैं. पिछले दो महीने का हाल देखिए कि ये कहां से कहां तक आ गई है. 

  • टीवी मीडिया के गटर से निकला जमूरा पत्रकारिता का जिन्न

    टीवी मीडिया के गटर से निकला जमूरा पत्रकारिता का जिन्न

    पुलिस बेरीकेटिंग के नजदीक हम लोग लाइव की तैयारी कर रहे थे..सुबह के आठ बजने वाले थे...नर्म धूप धीरे-धीरे तीखी हो रही थी लेकिन हवा में अब भी  हल्की ठंड मौजूद थी. गांव जाने वाले रास्ते को पुलिस बेरीकेट से बंद कर दिया गया था और एक इंस्पेक्टर जीप के बोनट पर ड्यूटी बदलने का चार्ट बना रहा था. रात भर की ड्यूटी से हलकान पुलिस और PAC वालों के चेहरे तो मास्क में छिपे थे लेकिन कोई बेरीकेट तो कोई दीवार के सहारे टिका शरीर को थोड़ा आराम देने की कोशिश कर रहा था. असहाय सी दिखने वाली सबकी आंखें बस बिना उम्मीद मीडिया के कैमरे और रिपोर्टर पर टिकी थी. गोरिल्ला युद्ध की तरह अचानक लस्त पस्त पड़ी पुलिस फोर्स को देखकर एक महिला एंकर बेरीकेट खींचकर अंदर दाखिल हुई और लाइव में चीखते हुए.. ये देखिए किस तरह हमें रोकने की कोशिश हो रही है लेकिन हम इंसाफ दिलाकर रहेंगे...

  • कोरोना की तरह ही आंकड़ों की बाजीगरी में खोईं आर्थिक चिंताएं

    कोरोना की तरह ही आंकड़ों की बाजीगरी में खोईं आर्थिक चिंताएं

    अर्थ तंत्र ने मुक्त मन संसार को कुछ ज़्यादा ही अधिग्रहीत कर लिया था. शिक्षा, फ़ीस और परीक्षा जैसे सवाल उचित ही जर्जर होकर ख़त्म हो गए. इनका कुछ होता तो नहीं है, अनावश्यक एक की चिंता दूसरे तक फैल जाती है. रोज़गार कारोबार तो वैसे ही बनते-बिगड़ते रहे हैं. अब इन सबका कवरेज बंद होना चाहिए. पत्रकारिता को इन प्रश्नों से दूरी बनाने की ज़रूरी है.

  • IIMC Admission 2020: इस साल बिना एंट्रेंस मिलेगा एडमिशन, यह होगा चयन का तरीका

    IIMC Admission 2020: इस साल बिना एंट्रेंस मिलेगा एडमिशन, यह होगा चयन का तरीका

    COVID-19 महामारी के कारण इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन (IIMC) इस साल PG डिप्लोमा कोर्सेस में एडमिशन के लिए एंट्रेंस टेस्ट आयोजित नहीं करेगा. दरअसल, कई क्षेत्रों में COVID 19 की बिगड़ती स्थिति के मद्देनजर IIMC ने फैसला किया है कि इस साल नंबरों के आधार पर एडमिशन दिए जाएंगे. इंस्टीट्यूट ने एडवरटाइजिंग और पब्लिक रिलेशन,  रेडियो और टेलीविजन पत्रकारिता, हिंदी पत्रकारिता और अंग्रेजी पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के एडमिशन प्रक्रिया से संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है. 

  • प्रोफेसर संजय द्विवेदी बने IIMC के महानिदेशक, जानिए डिटेल

    प्रोफेसर संजय द्विवेदी बने IIMC के महानिदेशक, जानिए डिटेल

    प्रोफेसर संजय द्विवेदी को बुधवार को भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) का महानिदेशक नियुक्त किया गया. कार्मिक मंत्रालय के एक आदेश में यह जानकारी दी गई. द्विवेदी वर्तमान में भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार संस्थान के रजिस्ट्रार हैं. आदेश में कहा गया कि कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने तीन साल की अवधि के लिए सीधी नियुक्ति के आधार पर आईआईएमसी (IIMC) के डीजी के तौर पर उनकी नियुक्ति को स्वीकृति दी. 

  • सिर्फ उम्मीद से पत्रकारिता नहीं चलती है

    सिर्फ उम्मीद से पत्रकारिता नहीं चलती है

    पत्रकारिता बिनाका गीतमाला नहीं है. फरमाइश की चिट्ठी लिख दी और गीत बज गया. गीतमाला चलाने के लिए भी पैसे और लोगों की ज़रूरत तो होती होगी. मैं हर दिन ऐसे मैसेज देखता रहता हूं. आपसे उम्मीद है. लेकिन पत्रकारिता का सिस्टम सिर्फ उम्मीद से नहीं चलता. उसका सिस्टम बनता है पैसे से और पत्रकारिता की प्राथमिकता से. कई बार जिन संस्थानों के पास पैसे होते हैं वहां प्राथमिकता नहीं होती, लेकिन जहां प्राथमिकता होती है वहां पैसे नहीं होते. कोरोना के संकट में यह स्थिति और भयावह हो गई है.

  • कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पुलित्जर पुरस्कार जीतने वाले जम्मू-कश्मीर के तीन फोटो पत्रकारों को दी बधाई, ट्वीट कर कही यह बात...

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पुलित्जर पुरस्कार जीतने वाले जम्मू-कश्मीर के तीन फोटो पत्रकारों को दी बधाई, ट्वीट कर कही यह बात...

    कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने, 2020 का पुलित्जर पुरस्कार जीतने वाले, जम्मू-कश्मीर के तीन फोटो पत्रकारों को बधाई दी है. उन्होंने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, ‘‘डार यासीन, मुख्तार खान और चन्नी आनंद को जम्मू-कश्मीर में जिंदगी की असरदार तस्वीरें खींचने पर पुलित्जर पुरस्कार जीतने के लिए बधाई. आप लोगों ने हमें गौरवान्वित किया है.’’ गांधी ने एक खबर का हवाला देते हुए कहा कि इन तीनों फोटो पत्रकारों ने पिछले साल अगस्त में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद, क्षेत्र में लॉकडाउन के दौरान की गई अपनी फोटोग्राफी के लिए यह पुरस्कार जीता है. पुलित्जर पुरस्कार, पत्रकारिता के क्षेत्र का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है.

  • BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर को करना पड़ा छात्रों के विरोध का सामना, देखें- VIDEO

    BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर को करना पड़ा छात्रों के विरोध का सामना, देखें- VIDEO

    माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता और संचार विश्वविद्यालय में उपस्थिति कम होने पर परीक्षा से वंचित की गईं दो छात्राओं द्वारा दिए गए धरने का समर्थन करने पहुंचीं सांसद प्रज्ञा ठाकुर को भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (NSUI) के छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा.

  • MCU में छात्रों ने दो शिक्षकों पर लगाया जातिगत नफरत फैलाने का आरोप, हटाने की मांग को लेकर अड़े

    MCU में छात्रों ने दो शिक्षकों पर लगाया जातिगत नफरत फैलाने का आरोप, हटाने की मांग को लेकर अड़े

    भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय में दो शिक्षकों पर छात्रों ने जातिगत नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाने की मांग की है.

  • IGNOU Admission: शुरू हुए 2 नए कोर्स, अब MA पत्रकारिता और BBA कोर्स में मिलेगा एडमिशन

    IGNOU Admission: शुरू हुए 2 नए कोर्स, अब MA पत्रकारिता और BBA कोर्स में मिलेगा एडमिशन

    इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (Indira Gandhi National Open University) ने दो नए कोर्स की शुरुआत की है, जिसकी कक्षाएं जनवरी 2020 सत्र (IGNOU January 2020 session) से शुरू कर दी जाएंगी. इग्नू ने एमए पत्रकारिता और जनसंचार (IGNOU Mass Communication) और बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (सर्विस मैनेजमेंट) कोर्स (IGNOU BBA Course) शुरू किए हैं. बता दें कि इग्नू ने जनवरी 2020 सत्र दाखिले के लिए आवेदन मांगे हैं जिसके लिए 31 दिसंबर तक आवेदन किया जा सकता है. इग्नू मास्टर डिग्री, बैचलर डिग्री, पीजी डिप्लोमा, डिप्लोमा, पीजी सर्टिफिकेट और सर्टिफिकेट कोर्स में दाखिला दे रहा है.

  • बिना इंटरनेट कश्मीर में पत्रकारिता सूनी और डीयू में कैसे जी रहे हैं शिक्षक

    बिना इंटरनेट कश्मीर में पत्रकारिता सूनी और डीयू में कैसे जी रहे हैं शिक्षक

    कश्मीर में आम लोगों के लिए 120 दिनों से इंटरनेट बंद है. पांच अगस्त से इंटरनेट बंद है. कश्मीर टाइम्स की अनुराधा भसीन ने दस अगस्त को सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी कि बगैर इंटरनेट के पत्रकार अपना मूल काम नहीं कर पा रहे हैं तो उन्हें छूट मिलनी चाहिए. इस केस को लेकर पहली सुनवाई 16 अगस्त हुई और नवंबर के महीने तक चली. बहस पूरी हो चुकी है और फैसले का इंतज़ार है. मगर बगैर इंटरनेट के कश्मीर के पत्रकार क्या कर रहे हैं. वे कैसे खबरों की बैकग्राउंड चेकिंग के लिए तथ्यों का पता लगा रहे हैं. दुनिया में यह अदभुत प्रयोग हो रहा है. न्यूयार्कर को इसी पर रिसर्च करना चाहिए कि बगैर इंटरनेट के अखबार छप सकते हैं. कश्मीर के न्यूज़ रूम में इंटरनेट बंद है लेकिन सरकार ने पत्रकारों के लिए एक मीडिया सुविधा केंद्र बनाया है.

  • JNU के बाद अब IIMC के छात्र धरने पर, महंगी फीस का कर रहे हैं विरोध

    JNU के बाद अब IIMC के छात्र धरने पर, महंगी फीस का कर रहे हैं विरोध

    IIMC में अंग्रेजी पत्रकारिता की छात्र आस्था सव्यसाची ने कहा कि दस महीने के पाठ्यक्रम के लिए 95,500 रुपये देने पड़ते हैं, जबकि छात्रवास तथा भोजनालय का शुल्क अलग है. उन्होंने कहा कि गरीब और मध्य वर्ग के छात्र इतनी फीस का भार नहीं उठा सकते हैं.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com