NDTV Khabar

प्रोफेसर


'प्रोफेसर' - 419 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • यौन शोषण के आरोपी प्रोफेसर को छुट्टी पर भेजने के बाद  BHU छात्रों का धरना समाप्त

    यौन शोषण के आरोपी प्रोफेसर को छुट्टी पर भेजने के बाद  BHU छात्रों का धरना समाप्त

    यौन शोषण के आरोपी प्रोफेसर को बर्खास्त करने की मांग को लेकर BHU में चल रहा धरना समाप्त हो गया. धरने पर बैठे बीएचयू के छात्र-छात्राओं ने कुलपति से वार्ता के बाद धरना खत्म करने का निर्णय लिया.

  • क्या आर्यों ने हमला किया था, कौन हैं यहां के पूर्वज? ऐसे ही 5 सवालों पर प्रोफेसर वसंत शिंदे के दावे

    क्या आर्यों ने हमला किया था, कौन हैं यहां के पूर्वज? ऐसे ही 5 सवालों पर प्रोफेसर वसंत शिंदे के दावे

    हड़प्पा सभ्यता के सबसे बड़े ज्ञात शहर ‘राखीगढ़ी’ से प्राप्त नमूनों पर हुए एक हालिया शोध ने ‘आर्यों के बाहरी होने’ के सिद्धांत पर प्रश्नचिह्न लगा दिया है. यह शोध प्रतिष्ठित शोधपत्रिका ‘सेल’ में ‘हड़प्पा के एक प्राचीन जीनसमूह में पूर्वी-यूरोप (स्टेपी) या ईरानी कृषकों का डीएनए अनुपस्थित’ शीर्षक से इसी महीने प्रकाशित हुआ. इसके मुख्य शोधकर्ता एवं पुणे स्थित डेक्कन कॉलेज के पूर्व कुलपति प्रोफेसर बसंत शिंदे के इस दावे के बाद सबसे बड़ा सवाल उठा है कि आर्य क्या बाहर से नहीं आए थे. ऐसी ही कई सवालों का प्रोफेसर शिंदे ने विस्तार से जवाब दिया है. 

  • BHU के प्रोफेसर चौबे की बर्खास्तगी की मांग को लेकर छात्र-छात्राओं का धरना जारी, जानें पूरा मामला

    BHU के प्रोफेसर चौबे की बर्खास्तगी की मांग को लेकर छात्र-छात्राओं का धरना जारी,  जानें पूरा मामला

    बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में एक बार फिर छात्राएं नाराज होकर सिंहद्वार पर बीती रात धरने पर बैठ गईं इन छात्राओं की मांग है कि जंतु विज्ञान विभाग के प्रोफेसर एसके चौबे को बर्खास्त किया जाए जिनके ऊपर छेड़खानी का आरोप है. आरोप के मुताबिक बीते साल काशी हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं के साथ प्रोफेसर चौबे दक्षिण भारत के टूर पर गए थे वहां पर इन्होंने कुछ अश्लील हरकतें की थीं. जिसकी शिकायत बीएचयू प्रशासन से की थी.

  • छेड़छाड़ के आरोपी प्रोफेसर के दोबारा यूनिवर्सिटी में लौटने के बाद BHU में हंगामा

    छेड़छाड़ के आरोपी प्रोफेसर के दोबारा यूनिवर्सिटी में लौटने के बाद BHU में हंगामा

    बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) की कुछ छात्राओं ने शनिवार को परिसर के सिंह द्वार को जाम कर दिया. गेट जाम कर बीएचयू प्रशासन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया और विरोध दर्ज कराया. छात्राओं की मांग है कि जंतु विज्ञान के उस प्रोफ़ेसर के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाए जिस पर छात्राओं ने छेड़ख़ानी का आरोप लगाया है. 

  • रोमिला थापर का बायो डाटा मांगे जाने से आहत हैं जेएनयू के इतिहास के छात्र

    रोमिला थापर का बायो डाटा मांगे जाने से आहत हैं जेएनयू के इतिहास के छात्र

    जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में इतिहास के छात्र-छात्राओं ने कहा है कि वे इतिहासकार रोमिला थापर से बायो डाटा मांगने के प्रशासन के कदम से ‘‘आहत’’ हैं. उन्होंने कहा कि थापर का विश्वविद्यालय में होना जेएनयू के लिए प्रतिष्ठा की बात है. जेएनयू प्रशासन ने प्रोफेसर एमेरिटा के रूप में सेवा निरंतरता के लिए आकलन के वास्ते थापर से बायो डाटा जमा करने को कहा है. विश्वविद्यालय प्रशासन के इस कदम की कई तबकों की ओर से आलोचना की जा रही है. जवाहर लाल नेहरू शिक्षक संघ ने प्रशासन के इक कदम को ‘‘राजनीति से प्रेरित’’ करार दिया जिसके बाद विश्वविद्यालय रजिस्ट्रार ने कहा कि 11 अन्य से भी बायो डाटा जमा करने को कहा गया है.

  • अल्जाइमर से बचाने के लिए नई दवा की खोज, अब नहीं रहेगा याददाश्त जाने का खतरा

    अल्जाइमर से बचाने के लिए नई दवा की खोज, अब नहीं रहेगा याददाश्त जाने का खतरा

    बुफालो यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर शोधकर्ता यिंग जू ने कहा, "इस तरह के अवलोकन का मतलब है कि अल्जाइमर पैथोलॉजी को कुछ हद तक मस्तिष्क द्वारा कुछ हद तक बर्दाश्त किया जा सकता है, ऐसा प्रतिपूरक प्रक्रिया के कोशिकीय व सिनेप्टिक स्तर पर चलने की वजह से है."

  • एलगार परिषद मामला: पुलिस ने नोएडा में डीयू प्रोफेसर के घर तलाशी ली

    एलगार परिषद मामला: पुलिस ने नोएडा में डीयू प्रोफेसर के घर तलाशी ली

    पवार ने कहा, “हमने पुणे के विश्रामबाग पुलिस थाने में दर्ज एलगार परिषद से संबंधित मामले के सिलसिले में नोएडा स्थित बाबू के घर पर छापा मारा.” उन्होंने कहा कि पुलिस ने कुछ इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद किये हैं.’’

  • एल्गार परिषद मामला : नोएडा में दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर के घर पर छापा

    एल्गार परिषद मामला : नोएडा में दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर के घर पर छापा

    दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के प्रोफ़ेसर हनी बाबू के नोएडा के आवास पर पुणे पुलिस ने छापा मारा. एल्गार परिषद केस (भीमा-कोरेगांव) मामले में उनसे पूछताछ की गई. उनके पास से कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क और पेन ड्राइव जब्त कर ली गई. दिल्ली यूनिवर्सिटी के इंग्लिश के प्रोफेसर हनी बाबू के नोएडा के सेक्टर 78 स्थित आवास पर पुणे पुलिस ने मंगलवार को एल्गार परिषद मामले में छापेमारी की. पुलिस की इस छापेमारी से इलाके में हड़कंप मच गया. प्रोफेसर बाबू के कथित माओवादी संपर्कों (अर्बन नक्सल) को लेकर छापेमारी की गई. घंटों पूछताछ के बाद पुलिस कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क और पेन ड्राइव अपने साथ ले गई जिसे बाद में वापस करने की बात कही.

  • विदेशी छात्रा ने IIT कानपुर के प्रोफेसर पर लगाया अनुचित व्यवहार का आरोप, संस्थान ने हटाया

    विदेशी छात्रा ने IIT कानपुर के प्रोफेसर पर लगाया अनुचित व्यवहार का आरोप, संस्थान ने हटाया

    आईआईटी कानपुर में पढ़ने वाली एक विदेशी छात्रा द्वारा संस्थान के ही एक प्रोफेसर पर अनुचित व्यवहार करने का आरोप लगाये जाने के बाद आरोपी प्रोफेसर को शिक्षण कार्य से हटा दिया गया है.

  • कहां से आए थे आर्य? डीएनए रिपोर्ट के बाद कई नए दावे

    कहां से आए थे आर्य? डीएनए रिपोर्ट के बाद कई नए दावे

    राखीगढ़ी प्रोजेक्‍ट के डायरेक्‍टर प्रोफेसर वसंत शिंदे ने कहा, 'आर्य इनवेजन और वैदिक काल की थ्योरी बदलनी पेड़ेगी. अगर आर्यन इनवेजन हुआ तो उसका कारण बताएं.' वहीं डीएनए साइंटिस्‍ट डॉ. नीरज राय ने कहा, 'आर्यन शब्द गलत है. आर्य से समझा जाता है कि वो बाहर से आए. बहुत सारे लोग आए होंगे लेकिन उसके कोई प्रमीण हमें नहीं मिले. आर्य शब्द ही नहीं यूज होना चाहिए.'

  • भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते हटाए गए त्रिपुरा विश्वविद्यालय के कुलपति

    भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते हटाए गए त्रिपुरा विश्वविद्यालय के कुलपति

    मानव संसाधन मंत्रालय ने त्रिपुरा विश्वविद्यालय (केंद्रीय) के कुलपति (वीसी) प्रोफेसर विजयकुमार लक्ष्मीकांतराव धारुरकर को भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद हटा दिया. एक शीर्ष अधिकारी ने रविवार को कहा कि मंत्रालय ने उनके स्थान पर बॉटनी विभाग के वरिष्ठतम प्रोफेसर संग्राम सिन्हा को कार्यवाहक कुलपति नियुक्त किया है.

  • भारतीय उपमहाद्वीप के लोगों ने विकसित की थी हड़प्पा सभ्यता, आर्य-द्रविणों में संघर्ष के प्रमाण नहीं : रिसर्च

    भारतीय उपमहाद्वीप के लोगों ने विकसित की थी हड़प्पा सभ्यता, आर्य-द्रविणों में संघर्ष के प्रमाण नहीं : रिसर्च

    पुणे के दक्कन कॉलेज आफ आर्कियोलॉजी के प्रोफेसर वसंत शिंदे की अगुवाई में 2015 से राखीगढ़ी के टीलों की पुरातात्विक खुदाई शुरू हुई थी. यहां पर साढ़े चार हजार साल पुराने नर कंकाल मिले थे.  इनका डीएनए सैंपल पहले बीरबल इंस्टीट्यूट आफ पेलिओबॉटनी में भेजा गया था. प्रोफेसर वीएस शिंदे ने  पुरातात्विक और डीएनए टेस्ट का साइंटिस्ट आकलन करने के बाद पाया है कि  हड़प्पा सभ्यता को विकसित करने वाले आर्यन नहीं बल्कि भारतीय उपमहाद्वीप के लोग ही थे.

  • भारत में वकालत और विधि शिक्षा का केंद्र बनने की क्षमता : प्रोफेसर विल्किंस

    भारत में वकालत और विधि शिक्षा का केंद्र बनने की क्षमता : प्रोफेसर विल्किंस

    हार्वर्ड लॉ स्कूल के प्रोफेसर डेविड बी विल्किंस ने कहा कि भारत में वकालत और विधि शिक्षा के प्रमुख केंद्रों में से एक बनने की क्षमता है. इसलिए भारतीय वकीलों को दुनिया के अन्य वकीलों से देश और विदेश में भी प्रतिस्पर्धा से भयभीत होने की जरूरत नहीं.

  • कौन हैं रोमिला थापर जिनके सीवी को लेकर छिड़ गया है विवाद?

    कौन हैं रोमिला थापर जिनके सीवी को लेकर छिड़ गया है विवाद?

    इतिहासकार रोमिला थापर (RomilaThapar) का सीवी मांगने पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. #RomilaThapar ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा है और लोग लगातार इस मामले पर अपने विचार रख रहे हैं. इस मामले ने तूल पकड़ लिया है और रोमिला से सीवी मांगने पर कई छात्रों, शिक्षकों और इतिहासकारों ने इसका विरोध किया है. वहीं, थापर (RomilaThapar) से सीवी मांगने के मामले पर जेएनयू प्रशासन का कहना है कि उसने यह पत्र उनकी सेवा को खत्म करने के लिए नहीं बल्कि विश्वविद्यालय की सर्वोच्च वैधानिक निकाय कार्यकारिणी परिषद द्वारा समीक्षा करने की जानकारी देने के लिए लिखा है और ऐसा अन्य प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयें जैसे एमआईटी और प्रिसंटन विश्वविद्यालय में भी होता है. वहीं रोमिला थापर का कहना है कि  'यह जीवन भर का सम्मान है.' रोमिला थापर जानी मानी इतिहासकार और प्रोफेसर इमेरिटस हैं. प्राचीन भारतीय इतिहास की विशेषज्ञ रोमिला थापर 1970 से 1991 तक जेएनयू में प्रोफेसर रहीं. रिटायर होने के बाद उन्हें 1993 में प्रोफेसर इमेरिटस का दर्जा दिया गया. 

  • JNU ने इतिहासकार रोमिला थापर से मांगा बायोडाटा, शिक्षक संघ ने बताया राजनीति से प्रेरित कदम

    JNU ने इतिहासकार रोमिला थापर से मांगा बायोडाटा, शिक्षक संघ ने बताया राजनीति से प्रेरित कदम

    जवाहरलाल नेहरू शिक्षक संघ (जेएनयूटीए) ने विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से इतिहासकार रोमिला थापर से प्रोफेसर एमेरिटस पद पर बने रहने के लिए बायोडाटा मांगने के फैसले को ‘राजनीतिक रूप से प्रेरित’ बताया.

  • बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रहे जगन्नाथ मिश्र का 82 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

    बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रहे जगन्नाथ मिश्र का 82 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

    बिहार के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके मिश्र की बचपन से ही राजनीति में रुचि थी. उन्होंने कॉलेज के प्रोफेसर के रूप में अपना करियर प्रारंभ किया लेकिन इसके बाद वे राजनीति में आ गए और कांग्रेस में शामिल हो गए. डॉ. मिश्र केंद्रीय मंत्री का भी दायित्व संभल चुके थे. वे वर्तमान में जनता दल (युनाइटेड) में थे. 

  • जानिए जगन्नाथ मिश्र के प्रोफेसर से लेकर बिहार के मुख्यमंत्री बनने तक का सफर

    जानिए जगन्नाथ मिश्र के प्रोफेसर से लेकर बिहार के मुख्यमंत्री बनने तक का सफर

    बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र (Ex Bihar CM Jagannath Mishra) का दिल्ली में निधन हो गया. 82 वर्षीय जगन्नाथ मिश्र (Jagannath Mishra) लंबे समय से बीमार थे. उन्हें ब्लड कैंसर था. मिश्र के निधन पर बिहार में 3 दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया गया है. मिश्र के निधन पर कई दिग्गज नेताओं ने शोक व्यक्त किया है. जगन्नाथ मिश्र (Jagannath Mishra) का राजनीतिक सफर बेहद दिलचस्प है.

  • बॉर्डर पर झूला झूलते नज़र आए बच्चे, Viral Video के साथ जानिए क्या है मामला

    बॉर्डर पर झूला झूलते नज़र आए बच्चे, Viral Video के साथ जानिए क्या है मामला

    इन झूलों को रोनाल्ड रेल ने डिज़ाइन किया है. रोनाल्ड रेल कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में आर्किटेक्चर के प्रोफेसर ने डिज़ाइन किया है. इनका साथ दिया है सैन जोस यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर वर्जिनिया सैन फ्रैटेलो ने. 

Advertisement