NDTV Khabar

फिल्‍म रिव्‍यू


'फिल्‍म रिव्‍यू' - 98 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • The Accidental Prime Minister Movie Review: संजय की आंखों से मनमोहन की महाभारत है 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर'

    The Accidental Prime Minister Movie Review: संजय की आंखों से मनमोहन की महाभारत है 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर'

    The Accidental Prime Minister Movie Review: 'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' में अनुपम खेर ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के कैरेक्टर को हूबहू परदे पर उतारने की कोशिश की है. पर बोलने का अंदाज कई बार हंसी ला देता है. कई मौकों पर उनकी चाल भी खटकती है.

  • व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी का मुल्क, साहस भी कोई चीज़ होती है

    व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी का मुल्क, साहस भी कोई चीज़ होती है

    सिनेमा हमेशा सिनेमा के टूल से नहीं बनता है. उसका टूल यानी फ़ॉर्मेट यानी औज़ार समय से भी तय होता है. व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी के छात्रों के लिए बनी इस फ़िल्म को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के चश्मे से मत देखिए.

  • 'बाइस्‍कोप वाला' फिल्‍म रिव्‍यू : इक्कीसवीं सदी के 'बाइस्कोप' में टैगोर

    'बाइस्‍कोप वाला' फिल्‍म रिव्‍यू : इक्कीसवीं सदी के 'बाइस्कोप' में टैगोर

    शायद यह टैगोर की करुणा, और मनुष्यता के प्रति उनका आग्रह है जो उन्होंने एक बड़ा लेखक बनाता है. 'काबुलीवाला' पर 50 बरस बाद हिंदी में बिमल राय इसी नाम से एक फिल्म बनाते हैं. बलराज साहनी ने इस फिल्म में रहमत ख़ान की भूमिका अदा की है. इसके भी क़रीब 60 साल बाद एक युवा निर्देशक देब मेधेकर को यह कहानी छूती है.

  • फिल्‍म रिव्‍यू : दमदार फिल्‍म है आलिया भट्ट की 'राज़ी'

    फिल्‍म रिव्‍यू : दमदार फिल्‍म है आलिया भट्ट की 'राज़ी'

    'राज़ी' फ़िल्म है 1971 के दौरान हिन्दुस्तान-पाकिस्तान के बीच रस्साकशी की जहां कश्मीर में रह रहे हिदायत ख़ान (रजित कपूर) के दोस्त हैं पाकिस्तान सेना के आला अफ़सर ब्रिगेडियर सैय्यद (शिशिर शर्मा) और उन्हें लगता है कि हिन्दुस्तान का उनका दोस्त हिदायत ख़ान उन्हें हिन्दुस्तानी सेना के अहम राज़ उन तक पहुंचाता है. पर है उल्‍टा.

  • फिल्‍म रिव्‍यू : इंसानी रिश्तों की कहानी कहती है 'बियॉन्ड द क्लाउड्स'

    फिल्‍म रिव्‍यू : इंसानी रिश्तों की कहानी कहती है 'बियॉन्ड द क्लाउड्स'

    इरानीयन निर्देशक माजिद मजीदी विश्वस्तरीय सिनेमा का बड़ा नाम है और दुनिया भर में अपने काम के लिए उन्होंने तारीफ़ बटोरी है. अब उन्होंने रुख किया है मुंबई के कुछ किरदारों की ज़िंदगी की और फ़िल्म ‘बीआंड द क्लाउड्ज़’ में जहां आमिर (ईशान खट्टर) और उसके दोस्त ड्रग्स पहुंचाने का धंधा करते हैं.

  • Movie Review: बेकार ही गए Justice League के सुपरहीरो

    Movie Review: बेकार ही गए Justice League के सुपरहीरो

    सुपरहीरो फिल्मों का बड़ी बेसब्री से इंतजार रहता है. दो हफ्ते पहले ही थॉर और हल्क ने बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचाया था, और उनकी कैमिस्ट्री को काफी पसंद भी किया गया था. लेकिन हमेशा ही ढेर सारे सुपरहीरोज को एक फेम में लाना कामयाबी की दास्तान लिखने के लिए काफी नहीं होता है. ऐसा ही कुछ ‘जस्टिस लीग’ के साथ भी हुआ है.

  • Movie Review: शानदार क्राइम थ्रिलर बनते बनते रह गई ‘अक्सर-2’

    Movie Review: शानदार क्राइम थ्रिलर बनते बनते रह गई ‘अक्सर-2’

    हमेशा देखा गया है कि सक्सेसफुल फिल्मों के सीक्वल बनाए जाते हैं. लेकिन अनंत नारायण महादेवन ने 2006 की ‘अक्सर’पर हाथ आजमाया है.

  • Tumhari Sulu Movie Review: विद्या बालन ने बता दिया, 'सुलु सब कर सकती है'...

    Tumhari Sulu Movie Review: विद्या बालन ने बता दिया, 'सुलु सब कर सकती है'...

    फिल्‍म 'तुम्हारी सुलु' की कहानी है एक हाउस वाइफ सुलोचना की जिसका पति गारमेंट फैक्ट्री में काम करता है और 10 साल का एक बेटा भी है.

  • Movie Review: CUTE मम्‍मी और सुपर हॉट RJ विद्या बालन की सीधी-सादी कहानी है ‘तुम्हारी सुलु’

    Movie Review: CUTE मम्‍मी और सुपर हॉट RJ विद्या बालन की सीधी-सादी कहानी है ‘तुम्हारी सुलु’

    विद्या बालन मध्यवर्गीय किरदार करने में माहिर हैं. वे इस तरह के किरदारों की बारीकियों को बहुत ही बेहतरीन ढंग से समझती भी हैं. जब भी उन्होंने इस तरह का किरदार किया है उसने दिल जीता है, बेशक बॉक्स ऑफिस पर फिल्म का प्रदर्शन कैसा भी रहा हो.

  • Movie Review: नए कॉन्सेप्ट, जोरदार इरफान और कमजोर क्लाइमेक्स का कॉकटेल है ‘करीब करीब सिंगल’

    Movie Review: नए कॉन्सेप्ट, जोरदार इरफान और कमजोर क्लाइमेक्स का कॉकटेल है ‘करीब करीब सिंगल’

    अच्छी-खासी कहानी को पलीता लगाने कोई बॉलीवुड से सीखे. इस हुनर में बॉलीवुड का कोई सानी नहीं है. ऐसा ही कुछ ‘करीब करीब सिंगल’ में भी किया गया है. फिल्म ऑनलाइन डेटिंग और अधेड़ उमर के प्रेम के इंट्रेस्टिंग कॉन्सेप्ट पर बेस्ड है. इरफान खान और साउथ की पार्वती जैसे सधे हुए कलाकार हैं.

  • Movie Review: असल जिंदगी के करीब है काल्‍की कोचलिन और सुमित व्‍यास की Ribbon

    Movie Review: असल जिंदगी के करीब है काल्‍की कोचलिन और सुमित व्‍यास की Ribbon

    महानगरीय जिंदगी की भाग-दौड़ और परेशानियां, करियर से जुड़े कई तरह के उतार-चढ़ाव और इस सबके बीच पेरेंटहुड. एक महानगरीय कपल की जिंदगी की यह सब ऐसी चीजें जो कहीं भी आसानी से देखी जा सकती हैं.

  • Movie Review: रिश्‍तों की धीमी पकने वाली जायकेदार डिश है सैफ की Chef

    Movie Review: रिश्‍तों की धीमी पकने वाली जायकेदार डिश है सैफ की Chef

    बाप-बेटे के ख़ूबसूरत रिश्ते को बयां करती सैफ़ अली ख़ान की फ़िल्म शेफ़ रिलीज़ हो गई है. लंबे वक्त से सैफ़ एक हिट के इंतज़ार में थे और शेफ़ से बड़ी उम्मीदें थीं, लेकिन क्‍या शेफ में उतनी ही दम है...

  • Movie Review: साइंस फिक्शन लवर्स के लिए मस्ट वॉच है Blade Runner 2049

    Movie Review: साइंस फिक्शन लवर्स के लिए मस्ट वॉच है Blade Runner 2049

    हॉलीवुड का समय पिछले कुछ समय से अच्छा नहीं चल रहा था. उसके कई सीक्वल और रीमेक बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे और क्रिटिक्स तथा ऑडियंस के गले भी नहीं उतर पा रहे थे.

  • Movie Review: फूड, एम्बीशन और फैमिली के मसाले से बनी जायकेदार डिश है Chef

    Movie Review: फूड, एम्बीशन और फैमिली के मसाले से बनी जायकेदार डिश है Chef

    सैफ अली खान की ‘शेफ’ फूड, एम्बीशन और फैमिली को लेकर बुनी गई मॉडर्न फैमिली ड्रामा है, जिसमें एक प्यारी-सी कहानी है. इसमें एक महत्‍वकांक्षी शेफ है, अपने बेटे को प्यार करने वाला पिता है और एक सिंगल मदर है.

  • Movie Review: नए पैकेट में पुराना माल है वरुण धवन की जुड़वां-2

    Movie Review: नए पैकेट में पुराना माल है वरुण धवन की जुड़वां-2

    इस फिल्‍म की कहानी वही पुरानी ‘जुड़वां’ वाली है. प्रेम और राजा (वरुण धवन) दो भाई हैं और वे दोनों एक-दूसरे से अलग हो जाते हैं. लेकिन फिर भी वे एक-दूसरे से जुड़े हैं. एक टपोरी टाइप का है जबकि दूसरा डिसेंट. एक कमजोर है दूसरा ताकतवर. इसी बीच में ग्लैमरस का छौंक लगाने के लिए एंट्री होती है तापसी और जैक्लिन की.

  • Judwaa 2: बॉलीवुड celebs की मानें तो तापसी और जैकलीन पर भारी हैं वरुण धवन

    Judwaa 2: बॉलीवुड celebs की मानें तो तापसी और जैकलीन पर भारी हैं वरुण धवन

    आज सिनेमाघरों में सिर्फ एक ही बड़ी फिल्‍म रिलीज हो रही है और वह है 'जुड़ावां 2'. वरुण धवन, तापसी पन्नू और जैकलीन फर्नांडीज की तिकड़ी वाली यह फिल्‍म बॉक्‍स ऑफिस पर एक बार फिर पुरानी यादें ताजा करेगी, क्‍योंकि यह 1997 में आई सलमान खान की फिल्‍म 'जुड़वां' का ही सीक्‍वेल है.

  • ‘न्यूटन’ के साथ अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलने की उम्मीद : राजकुमार राव

    ‘न्यूटन’ के साथ अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलने की उम्मीद : राजकुमार राव

    ऑस्कर 2018 के लिए भारत की तरफ से आधिकारिक प्रविष्टि के रूप में ‘न्यूटन’ को भेजने की घोषणा के बाद फिल्म के अभिनेता राजकुमार राव ने कहा कि वह सातवें आसमान पर हैं क्योंकि फिल्म को बहुत ईमानदारी के साथ बनाया गया है.

  • Movie Review: जेब पर डाका डालेगी ‘हसीना पारकर’!

    Movie Review: जेब पर डाका डालेगी ‘हसीना पारकर’!

    हसीना पारकर के डायरेक्टर अपूर्वा लाखिया ने 2003 में फिल्में बनानी शुरू की थीं लेकिन अभी तक वे सिर्फ एक ही हिट फिल्म दे सके हैं और वह ‘शूटआउट एट लोखंडवाला’. ‘हसीना पारकर’ अपूर्वा की सातवीं फिल्म है, और यह फिल्म भी बुरी तरह से निराश करती है.

Advertisement