NDTV Khabar

बंगाल की खाड़ी


'बंगाल की खाड़ी' - 88 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • हैदराबाद : भारी बारिश की वजह से गिरी दीवार, 2 महीने के मासूम सहित 9 की मौत

    हैदराबाद : भारी बारिश की वजह से गिरी दीवार, 2 महीने के मासूम सहित 9 की मौत

    आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh Rain) और तेलंगाना (Telangana) में बीते तीन दिनों से रुक-रुककर बारिश हो रही है. मौसम विभाग (IMD) ने अगले 24 घंटों में भारी बारिश का अनुमान जताया है. आंध्र सरकार ने प्रभावित जिलों के अधिकारियों को इस बाबत पत्र लिख अलर्ट रहने को कहा है. वहीं दूसरी ओर राजधानी हैदराबाद (Hyderabad Wall Collapse) में बारिश के चलते एक दीवार गिर गई. इस हादसे में 2 माह के मासूम समेत 9 लोगों की मौत हो गई.

  • आंध्र प्रदेश में भारी बारिश का अनुमान, हाई अलर्ट, जिला प्रशासन से कहा गया- पुलों पर नजर बनाए रखें

    आंध्र प्रदेश में भारी बारिश का अनुमान, हाई अलर्ट, जिला प्रशासन से कहा गया- पुलों पर नजर बनाए रखें

    बंगाल की खाड़ी में बना गहरे दबाव का क्षेत्र मंगलवार को आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के पूर्वी गोदावरी जिले के काकीनाडा में तटीय इलाकों के करीब से होकर गुजरा, जिसकी वजह से कई जिलों में भारी बारिश हुई. भारी बारिश के कारण कई जगहों पर नुकसान की भी खबर है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा कि गहरे दबाव का क्षेत्र कल शाम साढ़े छह बजे से आज सुबह साढ़े सात बजे के बीच तटीय क्षेत्रों से गुजरा. पूर्वी गोदावरी जिले में भारी बारिश की वजह से बोम्मुरु गांव में घर की छत गिरने से एक महिला की मौत हो गई.

  • मौसम विभाग ने कहा- मानूसन के जाने की शुरुआत अगले सप्ताह से होने की संभावना, ओडिशा में भारी वर्षा के आसार

    मौसम विभाग ने कहा- मानूसन के जाने की शुरुआत अगले सप्ताह से होने की संभावना, ओडिशा में भारी वर्षा के आसार

    भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने शुक्रवार को कहा कि दक्षिण पश्चिम मानसून के जाने की शुरुआत अगले सप्ताह के अंत तक होने की संभावना है. वहीं ओडिशा में भारी वर्षा के आसार बन रहे हैं क्योंकि 20 सितंबर के आसपास बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का एक क्षेत्र बनने की संभावना है.

  • भारत-रूस की गहरी होती दोस्ती, बंगाल की खाड़ी में शुरू हुआ नौसेनाओं का 'इंद्रा-2020'

    भारत-रूस की गहरी होती दोस्ती, बंगाल की खाड़ी में शुरू हुआ नौसेनाओं का 'इंद्रा-2020'

    भारत (India) और रूस (Russia) की सामरिक दोस्ती भी रंग ला रही है. एक तरफ जहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) मॉस्को के दौरे पर हैं, वहीं भारत और रूस की नौसेनाओं ने बंगाल की खाड़ी में दो दिवसीय संयुक्त युद्धाभ्यास 'इंद्रा-2020' (Indra 2020) शुरू कर दिया है. इस युद्धाभ्यास का मकसद समुद्र में चुनौतियों का सामना करने के लिए नौसेनाओं के बीच साझा रणनीतिक समझ विकसित करना है. यह अभ्यास 2003 में दोनों देशों के बीच शुरू हुआ था.

  • Weather News: अगले चार-पांच दिनों में देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, इन राज्यों में जोर पर रहेगा मॉनसून

    Weather News: अगले चार-पांच दिनों में देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, इन राज्यों में जोर पर रहेगा मॉनसून

    9 अगस्त को बंगाल की खाड़ी के उत्तर में कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है, जिसके चलते 9 अगस्त के बाद पूर्वी और मध्य भारत में बारिश की घटनाओं में तेजी आ सकती है. 9 से 12 अगस्त के बीच में ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और विदर्भ में तेज से भारी बारिश देखने को मिल सकती है.

  • राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आंधी और बारिश से लोगों को मिली गर्मी से राहत

    राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आंधी और बारिश से लोगों को मिली गर्मी से राहत

    मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि उत्तरी राजस्थान से लेकर बंगाल की खाड़ी तक कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण यहां बारिश हुयी.मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि दिल्ली के कुछ हिस्सों में प्रति घंटे 50 किलोमीटर तक की रफ्तार से हवाएं चलीं और हल्की बारिश हुयी.

  • पश्चिम बंगाल, ओडिशा और पूर्वोत्तर के राज्यों में 11-12 जून तक आगे बढ़ सकता है मॉनूसन

    पश्चिम बंगाल, ओडिशा और पूर्वोत्तर के राज्यों में 11-12 जून तक आगे बढ़ सकता है मॉनूसन

    मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय निदेशक जी के दास ने कहा कि कम दबाव का क्षेत्र पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ सकता है. उन्होंने कहा, ‘कम दबाव का क्षेत्र बनने से उत्तर पूर्वी राज्यों के कुछ हिस्सों में, सिक्किम, ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल में 11-12 जून के दौरान दक्षिण पश्चिम मानसून के बढ़ने के लिहाज से परिस्थितियां अनुकूल हो सकती हैं.’

  • बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र, मध्‍य-दक्षिण भारत में अगले हफ्ते जोर पकड़ेगी बारिश: IMD

    बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र, मध्‍य-दक्षिण भारत में अगले हफ्ते जोर पकड़ेगी बारिश: IMD

    मौसम विभाग ने कहा, ‘‘अरब सागर, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल, बंगाल की खाड़ी के समस्त दक्षिणी-पूर्वी और पश्चिमी मध्य के कुछ हिस्सों में अगले दो दिनों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं.’’

  • Rain Alert News : 26 से 28 मई के बीच इन दो राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी

    Rain Alert News : 26 से 28 मई  के बीच इन दो राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी

    भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने असम और मेघालय में 26 से 28 मई के बीच बहुत भारी बारिश होने की चेतावनी दी है. आईएमडी के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र की प्रमुख एस देवी ने कहा कि बंगाल की खाड़ी से दक्षिण-पश्चिम हवाओं के तेज प्रवाह के कारण इन दोनों राज्यों में नमी बहुत बढ़ गयी है. इसके अलावा अन्य भौगोलिक वजहों से दोनों राज्यों में बहुत भारी बारिश होगी. विभाग ने कहा कि ज्यादातर स्थानों पर बारिश की संभावना है वहीं कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है. 

  • सुपर साइक्‍लोन अम्‍फान के प्रभाव से उठ रही 5 मीटर ऊंची लहरें, इस घंटे से जुड़ीं 5 खास बातें..

    सुपर साइक्‍लोन अम्‍फान के प्रभाव से उठ रही 5 मीटर ऊंची लहरें, इस घंटे से जुड़ीं 5 खास बातें..

    Super Cyclone Amphan Update: चक्रवाती तूफान 'अम्फान' के असर के कारण ओडिशा और बंगाल के कुछ हिस्सों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है. इस तूफान के बुधवार शाम 4 से 6 बजे के बीच बंगाल से टकराने की संभावना है. प्रचंड चक्रवातीय तूफान ‘अम्फान' के कारण होने वाली तबाही को ध्यान में रखते हुए एनडीआरएफ ने जानमाल की हानि/क्षति रोकने के लक्ष्य से बल की 53 टीमें तैनात की हैं.रिकॉर्ड्स रखे जाने के बाद से यह पूर्वोत्तर हिंद महासागर में बनने वाला यह दूसरा "सुपर साइक्लोन" है और इसे हाल के वर्षों में बंगाल की खाड़ी के सबसे भीषण तूफानों में से एक बताया जा रहा है.

  • ओडिशा के तटों के करीब पहुंचा महाचक्रवात ‘अम्फान’, कुछ हिस्सों में हुई बारिश

    ओडिशा के तटों के करीब पहुंचा महाचक्रवात ‘अम्फान’, कुछ हिस्सों में हुई बारिश

    मौसम विज्ञान केंद्र, भुवनेश्वर के निदेशक एच आर विश्वास ने कहा कि सुबह ‘अम्फान’ का केंद्र पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर था, जो पारादीप (ओडिशा) से करीब 520 किलोमीटर दक्षिण, दीघा से 670 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपश्चिम और बांग्लादेश के खेपुपारा से 800 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपश्चिम में है.

  • भयानक तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान अम्फन

    भयानक तबाही मचा सकता है चक्रवाती तूफान अम्फन

    सुपर साइक्लोनिक चक्रवात अम्फन की वजह से उष्णकटिबंधीय मौसम के बदलावों से सबसे ज़्यादा प्रभावित होने वाले क्षेत्र - बंगाल की खाड़ी, जिसमें भारत के कुछ हिस्से, बांग्लादेश के निचले हिस्से और म्यांमार शामिल हैं - में भयानक तबाही हो सकती है.

  • सुपर साइक्लोन अम्फान (Super Cyclone Amphan ): ट्रेन-पटरियां, घर-बिजली की खंबे, सड़क जो भी सामने आएगा, हो जाएगा तबाह

    सुपर साइक्लोन अम्फान (Super Cyclone Amphan ): ट्रेन-पटरियां, घर-बिजली की खंबे, सड़क जो भी सामने आएगा, हो जाएगा तबाह

    मौसम वैज्ञानिकों ने कहा है कि ‘अम्फान' 20 मई को बेहद भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में पश्चिम बंगाल में दीघा और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच पश्चिम बंगाल- बांग्लादेश तटों से गुजरेगा. तटों से टकराने से पहले इसकी प्रचंडता कुछ कम होगी और हवाओं की गति निरंतर 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे बनी रहेगी जो बीच-बीच में प्रति घंटे 180 किलोमीटर की रफ्तार पकड़ सकती है.  मौसम विभाग ने बताया कि पश्चिम मध्य और उसके बगल में पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर प्रति घंटे 240 से 250 किलोमीटर की रफ्तार वाली तूफानी हवाओं की स्थिति बन रही है. साथ ही बताया कि मंगलवार शाम तक यह गति घटकर 200 से 210 किलोमीटर प्रति घंटे रह जाएगी जिसमें कभी-कभी 230 किलोमीटर प्रति घंटे की प्रचंड हवाएं चल सकती हैं.

  • Cyclone Amphan: आखिर इस तूफान का नाम अम्‍फान कैसे पड़ा? जानिए इसके बारे में ये बातें

    Cyclone Amphan: आखिर इस तूफान का नाम अम्‍फान कैसे पड़ा? जानिए इसके बारे में ये बातें

    चक्रवाती तूफान अम्फान (Amphan) बंगाल की खाड़ी के ऊपर भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है जिससे ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल के कई तटीय जिलों में तेज रफ्तार हवाओं के साथ भारी बारिश की संभावना है.

  • चक्रवाती तूफान अम्फान अगले कुछ घंटों में ले सकता है विकराल रूप, ओडिशा और बंगाल अलर्ट पर

    चक्रवाती तूफान अम्फान अगले कुछ घंटों में ले सकता है विकराल रूप, ओडिशा और बंगाल अलर्ट पर

    मौसम विभाग के अनुसार बुधवार तक यह पश्चिम बंगाल भी पहुंच सकता है. IMD द्वारा जारी किए गए एक बयान के अनुसार पश्चिम बंगाल के दक्षिण खाड़ी के मध्य भागों में बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान 'अम्फान' पिछले छह घंटों के दौरान 13 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ रहा है. जोकि एक बेहद गंभीर स्थिति है. मौसम विभाग ने अगले 06 घंटों में इस चक्रवाती तूफान के विकराल रूप लेने की आंशका व्यक्त की है.

  • चक्रवात 'अम्फान' 24 घंटों में प्रचंड चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है : मौसम एजेंसी

    चक्रवात 'अम्फान' 24 घंटों में प्रचंड चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है : मौसम एजेंसी

    चक्रवात ‘अम्फान’ के आसन्न खतरे के मद्देनजर रविवार को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम तैनात कर दी गईं. इस बीच, ओडिशा ने कहा कि वह इस चक्रवात से बुरी तरह से प्रभावित होने वाले 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए तैयार है. एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने नयी दिल्ली में कहा कि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग की रविवार सुबह की एक रिपोर्ट के अनुसार चक्रवात ‘अम्फान’ बंगाल की खाड़ी में एक प्रचंड चक्रवाती तूफान में तब्दील हो रहा है और संभवत: अगले 24 घंटों में यह अत्यधिक प्रचंड चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है.

  • बंगाल की खाड़ी में Cyclone Amphan के प्रचंड होने की आशंका, कुछ ही घंटो में हो सकती है भारी बारिश

    बंगाल की खाड़ी में Cyclone Amphan के प्रचंड होने की आशंका, कुछ ही घंटो में हो सकती है भारी बारिश

    भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बताया कि इस तूफान के प्रभाव से 19 मई से राज्य के तटीय जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. क्षेत्रीय मौसम विभाग के निदेशक जी के दास ने बताया कि कम दबाव का क्षेत्र रविवार की शाम तक भयंकर चक्रवात में बदल सकता है और यह 17 मई तक उत्तर-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ सकता है. उन्होंने बताया कि इसके 18 से 20 मई के दौरान उत्तर-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ने और फिर पश्चिम बंगाल तट की ओर बढ़ने की संभावना है.

  • मौसम विभाग ने कहा, बंगाल की खाड़ी में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र, शनिवार को चक्रवाती तूफान की जताई आशंका

    मौसम विभाग ने कहा, बंगाल की खाड़ी में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र, शनिवार को चक्रवाती तूफान की जताई आशंका

    भारतीय मौसम विभाग ने शनिवार यानी 16 मई को चक्रवाती तूफान की आशंका जताई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अपने पूर्वानुमान में कहा, 'बंगाल की खाड़ी पर कम दबाव का क्षेत्र निर्मित हो रहा है, इसके अगले 12 घंटों में और कल और बढ़ने की आशंका है, इससे 16 मई की शाम चक्रवाती तूफान आ सकता है.'

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com