NDTV Khabar

बिहार में भाजपा


'बिहार में भाजपा' - 637 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • पटना में डेंगू का कहर: सात साल की बच्ची की मौत और BJP विधायक भी इसकी चपेट में

    पटना में डेंगू का कहर: सात साल की बच्ची की मौत और BJP विधायक भी इसकी चपेट में

    इस बीच पटना में इस बीमारी से एक सात साल के बच्ची की जहां मौत हुई, वहीं भाजपा विधायक संजीव चौरसिया भी अब प्रभावित लोगों में से एक है. सोमवार को अकेले पटना मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में जिन 294 सैम्पल की जांच हुई, उसमें 116 पॉजिटिव पाये गये.

  • अपने ही घर के बाहर धरना प्रदर्शन झेल रहे सुशील मोदी ने कहा, 'काम भी हम लोग ही करेंगे'

    अपने ही घर के बाहर धरना प्रदर्शन झेल रहे सुशील मोदी ने कहा, 'काम भी हम लोग ही करेंगे'

    बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी पटना में जल जमाव के बाद दो तरफ़ा समस्या का सामना कर रहे हैं. एक हर चीज़ के लिए लालू-रबड़ी राज को कोसने वाले सुशील मोदी इस बार किसी और के ऊपर ठीकरा नहीं फोड़ सकते क्योंकि नगर विकास विभाग न केवल भाजपा के पास है बल्कि इस विभाग को अपने संरक्षण में ही सुशील मोदी चलाते हैं.

  • जल जमाव के बाद बिहार की राजनीति में सुशील मोदी को लेकर इतने सवाल क्यों?

    जल जमाव के बाद बिहार की राजनीति में सुशील मोदी को लेकर इतने सवाल क्यों?

    पटना शहर से जल जमाव की समस्या फ़िलहाल ख़त्म हो गई है. इस जल जमाव के यूं तो कई कारण रहे लेकिन वो चाहे भाजपा समर्थक हों या विरोधी, सब मानते हैं कि अगर एक व्यक्ति जिसकी लापरवाही का सबने ख़ामियाज़ा उठाया वो हैं सुशील मोदी. और राजधानी पटना की इस नरकीय स्थिति ने सबसे ज़्यादा नुक़सान किसी की व्यक्तिगत और राजनीतिक छवि को पहुंचाया है तो वो हैं बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी. सुशील मोदी ने पटना की हर समस्या में आम लोगों के साथ खड़े होकर अपनी व्यक्तिगत राजनीतिक छवि चमकाई और साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी को लगातार पिछली पांच विधानसभा चुनावों से हर सीट पर जीत दिलाई. उसी सुशील मोदी ने इस बार के पानी में, उनके समर्थकों के अनुसार सब कुछ खोया है.

  • पटना में जल जमाव : नेताओं के एक वर्ग ने लोगों की सेवा की, दूसरे वर्ग ने वोट पाने की रणनीति बनाई

    पटना में जल जमाव : नेताओं के एक वर्ग ने लोगों की सेवा की, दूसरे वर्ग ने वोट पाने की रणनीति बनाई

    बिहार की राजधानी पटना में जल जमाव से दो तरह के नेता जनता के सामने आए हैं. एक जिन्होंने इस जल जमाव के बहाने वोट मिले या नहीं, इसकी परवाह किए बिना जनता की ख़ूब सेवा की और वाहवाही भी बटोरी. इन नेताओं में पूर्व सांसद पप्पू यादव, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद रहे. दूसरे वे नेता जो पानी में तो जनता के बीच नहीं दिखे लेकिन पानी के बहाने सरकार, खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी. ऐसे नेताओं में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार भाजपा के अध्यक्ष संजय जयसवाल और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव प्रमुख थे.

  • आखिर क्यों बिहार में JDU और BJP के रिश्ते सामान्य नहीं हो रहे हैं

    आखिर क्यों  बिहार में JDU और BJP के रिश्ते सामान्य नहीं हो रहे हैं

    बिहार में सत्तारूढ़ एनडीए में सब शांत हैं लेकिन सब कुछ असामान्य है. ऐसा पिछले एक हफ़्ते के दौरान भाजपा के नेताओं ख़ासकर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा जलजमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 'पानी -पानी' करने के उद्देश्य से जो हर दिन बयानों और ट्वीट का दौर चला था वह भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के हस्तक्षेप के बाद फ़िलहाल थम गया है.

  • बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुए भाजपा प्रत्याशी सतीश चंद्र दुबे

    बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुए भाजपा प्रत्याशी सतीश चंद्र दुबे

    राजग प्रत्याशी की जीत पक्की होने के चलते बिहार में विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने राज्यसभा की इस सीट के लिए अपने किसी उम्मीदवार को मैदान में नहीं उतारा था. हालांकि शुरुआत में ऐसी अटकलें लगायी जा रही थीं कि इस सीट से जदयू अपना उम्मीदवार खड़ा करना चाहेगी.

  • सुशील मोदी ने दी सफाई, देशद्रोह के मुकदमे से कोई वास्ता नहीं; बीजेपी ने कभी भीड़ की हिंसा का समर्थन नहीं किया

    सुशील मोदी ने दी सफाई, देशद्रोह के मुकदमे से कोई वास्ता नहीं; बीजेपी ने कभी भीड़ की हिंसा का समर्थन नहीं किया

    बिहार के मुजफ्फरपुर में एक शिकायत के बाद स्थानीय कोर्ट के आदेश पर देश की जानी मानी 49 हस्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई और फिर पुलिस जांच में शिकायत झूठी पाई गई. एफआईआर दर्ज होने पर बिहार की एनडीए सरकार की जमकर आलोचना होती रही. पुलिस के शिकायत झूठी पाई जाने का खुलासा करने के पहले बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस पर सफाई दी कि राज्य सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं है. सुशील मोदी ने दावा किया है कि उसी याचिकाकर्ता सुधीर ओझा ने कुछ वर्ष पूर्व उनके खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई थी.

  • नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे गिरिराज सिंह आखिर शांत क्यों हो गए? यह है कारण

    नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे गिरिराज सिंह आखिर शांत क्यों हो गए? यह है कारण

    केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) अपने पार्टी हाई कमान की फटकार के बाद पिछले दो दिनों से शांत हैं. भाजपा के सूत्रों के अनुसार पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने फिलहाल उन्हें कोई भी ऐसा बयान देने से मना किया है जिससे गठबंधन पर प्रतिकूल असर पड़े. गिरिराज और उनकी तरह के बिहार भाजपा के अन्य नेता जो जल जमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को पानी-पानी करने में लगे थे, अब सब या तो मौन हैं, या शांत हैं. हालांकि बिहार भाजपा के कद्दावर नेता और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के करीबियों का हमेशा दावा था कि गिरिराज की अपनी सरकार को घेरने की इस मुहिम को पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का कोई समर्थन प्राप्त नहीं था.

  • क्या BJP-JDU के बीच दरार? रावण दहन में CM नीतीश तो पहुंचे लेकिन खाली रही भाजपा नेताओं की कुर्सियां

    क्या BJP-JDU के बीच दरार? रावण दहन में CM नीतीश तो पहुंचे लेकिन खाली रही भाजपा नेताओं की कुर्सियां

    लेकिन इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ किसी भाजपा नेता के मंच पर मौजूद नहीं होने से राज्य में राजग में दरार पड़ने की अटकलें फिर से लगाई जाने लगी हैं. ऐतिहासिक गांधी मैदान में वर्षों से ‘रावण वध’ किया जा रहा है लेकिन इस बार यहां भीड़ अपेक्षाकृत कम रही.

  • जेडीयू-बीजेपी में सब कुछ ठीक नहीं, आखिर पटना में भाजपा नेता रावण वध कार्यक्रम से अलग क्यों रहे?

    जेडीयू-बीजेपी में सब कुछ ठीक नहीं, आखिर पटना में भाजपा नेता रावण वध कार्यक्रम से अलग क्यों रहे?

    बिहार में सत्तारूढ़ NDA के दो घटक जनता दल यूनाइटेड और भारतीय जनता पार्टी के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. इसका एक उदाहरण मंगलवार को पटना के गांधी मैदान में देखने को मिला जब हर साल आयोजित होने वाली रावण वध कार्यक्रम में वो चाहे बिहार के राज्यपाल हों या उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी या भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय विधायक, कोई नहीं दिखा.

  • जलजमाव मामले पर आलोचनाओं का सामना कर रहे CM नीतीश कुमार को लेकर क्या बिहार BJP बंट गई?

    जलजमाव मामले पर आलोचनाओं का सामना कर रहे CM नीतीश कुमार को लेकर क्या बिहार BJP बंट गई?

    नीतीश की आलोचना के बहाने कई नेताओं ने अपना राजनीतिक एजेंडा भी खुल कर सामने रख दिया. जहां नीतीश कुमार के समर्थन में बिहार भाजपा के दो वरिष्ठ नेता सुशील मोदी और नंद किशोर यादव एक बार फिर खड़े दिखे. वहीं केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नीतीश कुमार का खुलकर विरोध किया, जो राजनीतिक ताना बाना पिछले एक महीने से बुनना शुरू किया था. उन्होंने अपने विरोध के पत्ते सरकार की आलोचना के नाम पर एक बार फिर खुल कर खेले. इसमें उन्हें बिहार के नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा और बिहार भाजपा के नव नियुक्त अध्यक्ष संजय जयसवाल का भी साथ मिला.

  • बिहार के CM नीतीश कुमार फिर से जद(यू) के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए

    बिहार के CM नीतीश कुमार फिर से जद(यू) के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए

    केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सहित भाजपा के कई नेताओं ने राज्य में, खासतौर पर पटना में आई हालिया बाढ़ से निपटने में सरकार की अक्षमता सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर उनके नेतृत्व की आलोचना है. इसके अलावा भाजपा के एक अन्य नेता एवं विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) संजय पासवान ने यह मांग की है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद के लिए अब भगवा पार्टी के किसी नेता का मार्ग प्रशस्त करें.

  • बिहार में बीजेपी-आरजेडी को लेकर 'दो दिल मिल रहे हैं मगर चुपके-चुपके' वाली अटकलें, नीतीश पर गिरिराज के हमले जारी

    बिहार में बीजेपी-आरजेडी को लेकर 'दो दिल मिल रहे हैं मगर चुपके-चुपके' वाली अटकलें, नीतीश पर गिरिराज के हमले जारी

    पटना में जल जमाव से कई तरह की महामारी भी हो रही है. इस बीच केंद्रीय मंत्री  गिरिराज सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 'पानी-पानी करने' का एक नया अभियान शुरू किया है. जिसमें उनके अपनी पार्टी के कई नेता यहां तक कि नीतीश मंत्रिमंडल के सदस्य जैसे नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा भी सार्वजनिक रूप से कह रहे हैं कि अधिकारी उनकी नहीं सुनते थे. इस बीच आरजेडी के कई नेताओं ने गिरिराज के बयानो का समर्थन किया है. जिससे राजनीतिक गलियारे में नीतीश को घेरने के लिए भाजपा के इस गुट और राजद के बीच एक अलिखित सहमति के ऊपर अटकलों को बल मिला है.

  • भाजपा जलजमाव के बहाने आख़िर नीतीश कुमार को निशाने पर क्यों रख रही है?

    भाजपा जलजमाव के बहाने आख़िर नीतीश कुमार को निशाने पर क्यों रख रही है?

    बिहार की राजधानी पटना में जलजमाव के बहाने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जितना विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की आलोचना का सामना नहीं करना पड़ रहा है उससे कहीं अधिक आलोचना उनको अपने सहयोगी भाजपा के नेताओं की झेलनी पड़ रही है जिसका नेतृत्व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह कर रहे हैं.

  • सड़कों पर पानी भरने से पटना की जनता परेशान, JDU और BJP के नेता एक-दूसरे पर डाल रहे जिम्मेदारी

    सड़कों पर पानी भरने से पटना की जनता परेशान, JDU और BJP के नेता एक-दूसरे पर डाल रहे जिम्मेदारी

    इस बात में कोई संदेह नहीं कि बिहार की राजधानी पटना अगर पिछले 7 दिन से जल जमाव से परेशान और तबाह है तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी समेत सभी लोग जिम्मेदार हैं. लेकिन दोनो दलों के नेताओं के बीच अब बयानों के माध्यम से जो हो रहा है, उससे तो लगता है कि जनता के बीच एक दूसरे को विलेन घोषित करने के लिए ये कोई मौका नहीं गंवाना चाहते. सबसे पहले जल जमाव के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिम्मेदार ठहराने का सिलसिला भाजपा की तरफ से शुरू हुआ और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इसकी शुरुआत की.

  • Rajya Sabha By Elections: BJP ने बिहार से सतीश दुबे, यूपी से सुधांशु त्रिवेदी को बनाया उम्मीदवार

    Rajya Sabha By Elections: BJP ने बिहार से सतीश दुबे, यूपी से सुधांशु त्रिवेदी को बनाया उम्मीदवार

    भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश से राज्यसभा उपचुनाव (Rajya Sabha By Election) के लिए सुधांशु त्रिवेदी (Sudhanshu Trivedi) और बिहार से सतीश दुबे (Satish Dubey) को उम्मीदवार बनाया है. भाजपा कार्यालय के बयान के अनुसार, 'भाजपा ने राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को पार्टी ने उपचुनाव में उम्मीदवार बनाया है. यह सीट अरुण जेटली के निधन के कारण खाली हुई थी.

  • पटना में जलजमाव को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह- जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार

    पटना में जलजमाव को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह- जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार

    बेगूसराय में बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए गिरिराज ने कहा ''मैं बेगूसराय से जनप्रतिनिध हूं अगर यहां कुछ नहीं होता है तो कमियों को हम स्वीकारेंगे और जनता से क्षमा याचना करेंगे. राजग का हिस्सा होने के साथ पटना में भी भाजपा के कई सांसद हैं और वहां की जनता ने हमपर भरोसा किया. जो बाढ़ आया उसके लिए जनता नहीं हम जिम्मेदार हैं.

  • पटना में जल जमाव से चार-पांच दिन नहीं मिलेगी निजात, डिप्टी सीएम मोदी ने ली बैठक

    पटना में जल जमाव से चार-पांच दिन नहीं मिलेगी निजात, डिप्टी सीएम मोदी ने ली बैठक

    पटना शहर को फिलहाल जल जमाव से पूरी तरह से निजात पाने में चार से पांच दिन लग जाएंगे. यह मानना है खुद बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी का. उन्होंने मंगलवार को जल जमाव वाले इलाकों का दौरा करने के बाद अपने दफ्तर में नगर विकास विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा की, जिसमें भाजपा के अधिकांश मंत्री भी मौजूद थे. इस बैठक के बाद उनके दफ्तर द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार सुशील मोदी ने कहा कि अगले एक दो दिन में कम से कम दो फीट पानी निकालने की व्यवस्था की जाए.