NDTV Khabar

बीएसपी


'बीएसपी' - 546 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • विकास दुबे : साल 2001, जगह- कानपुर का शिवली थाना, कांड- दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री की हत्या, Video में देखें पूरी रिपोर्ट

    विकास दुबे : साल 2001, जगह- कानपुर का शिवली थाना, कांड- दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री की हत्या, Video में देखें पूरी रिपोर्ट

    उत्तर प्रदेश के कानपुर में यूपी पुलिस के 8 लोगों को मारने वाला विकास दुबे अभी तक फरार है. पुलिस का दावा है कि इस इस मामले में विकास दुबे के दो सहयोगियों को मार दिया गया है.  उधर प्रशासन अब गांव में बने विकास दुबे के अवैध तरीके से बने घर को ढहा दिया है. लेकिन बात करें विकास दुबे की तो उस पर 60 आपराधिक मामले दर्ज हैं. लेकिन उसको माफिया बनाने में तमाम छोटी-बड़ी सियासी हस्तियां शामिल हैं. लोग बताते हैं कि उसने उत्तर प्रदेश में बीजेपी और बीएसपी कई नेताओं की सरपरस्ती में अपराध का अपना साम्राज्य खड़ा  किया है.  विकास दुबे के किसी चाहने वाले ने एक फेसबुक पेज पर उसे 'ब्राह्मण शिरोमणि' घोषित किया गया है. इसमें उसके 1 हजार फॉलोवर्स हैं. इस फेसबुक पेज पर लगी विकास की तस्वीर को देखकर लगता है कि वह कोई नेता है.  विकास का गांव बिकरू जो आज पुलिस वालों की हत्या की वजह से सुर्खियों में है, यहीं पर 1990 में एक हत्या हुई थी जिसमें उसका नाम आया था. लेकिन बाद में उसके खिलाफ रिपोर्ट वापस ले ली गई. 

  • आजमगढ़ मामले में हुई कार्रवाई पर मायावती बोलीं- यूपी के सीएम देर आए, दुरुस्त आए...अच्छी बात है

    आजमगढ़ मामले में हुई कार्रवाई पर मायावती बोलीं- यूपी के सीएम देर आए, दुरुस्त आए...अच्छी बात है

    यूपी के आजमगढ़ में एक दलित लड़कियों से छेड़छाड़ और मारपीट के मामले में 12 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. इस कार्रवाई पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने सीएम योगी आदित्यनाथ की तंज के साथ ही तारीफ करते हुए कहा कि यूपी के मुख्यमंत्री देर आये  पर दुरस्त आये, यह अच्छी बात है. लेकिन बहन-बेटियों के मामले में कार्रवाई आगे भी तुरन्त व समय से होनी चाहिये तो यह बेहतर होगा.

  • दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज का फैसला 'दुर्भाग्यपूर्ण' : मायावती

    दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज का फैसला 'दुर्भाग्यपूर्ण' : मायावती

    दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों के इलाज करने के अरविंद केजरीवाल सरकार के फैसले को बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने दुर्भाग्यपूर्ण कहा है. मायावती ने अपने आधिकारिक ट्विवटर हैंडल पर कहा, कि यदि कोई व्यक्ति अचानक बीमार पड़ जाता है तो उसको यह कहकर कि वह दिल्ली का नहीं है इसलिए दिल्ली सरकार उसका इलाज नहीं होने देगी, यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण है. केन्द्र को इसमें जरूर दखल देना चाहिये. उन्होंने कहा, 'दिल्ली देश की राजधानी है। यहाँ पूरे देश से लोग अपने जरूरी कार्यों से आते रहते हैं। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति अचानक बीमार पड़ जाता है तो उसको यह कहकर कि वह दिल्ली का नहीं है इसलिए दिल्ली सरकार उसका इलाज नहीं होने देगी, यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण। केन्द्र को इसमें जरूर दखल देना चाहिये.

  • मायावती ने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत, साथ ही कहा- गरीबों को मिलना चाहिए लाभ जो नहीं मिल रहा

    मायावती ने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत, साथ ही कहा- गरीबों को मिलना चाहिए लाभ जो नहीं मिल रहा

    उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार के उस फैसले का स्वागत किया है जिसके मुताबिक एक साल नई योजनाओं में पैसा खर्च नहीं किया जाएगा. केवल पीएम गरीब कल्याण पैकेज और आत्मनिर्भर भारत अभियान पैकेज पर ही खर्च किया जाएगा. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि यह कदम स्वागतयोग्य है लेकिन इसका लाभ गरीबों, मजदूरों और बेरोजगारों को मिलना चाहिए जो कि नहीं रहा है.   न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक मायावती ने कहा कि  जब प्रवासी मज़दूर आ रहे थे तब खासकर उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बात पर जोर दिया था कि प्रवासी लोगों का उनकी योग्यता के हिसाब से रजिस्ट्रेशन होना चाहिए और इन्होंने रजिस्ट्रेशन कराया भी. 

  • एक इंजीनियर जो IPS-IAS के बाद बना अपने राज्य का पहला मुख्यमंत्री, नाम अजीत जोगी 

    एक इंजीनियर जो IPS-IAS के बाद बना अपने राज्य का पहला मुख्यमंत्री, नाम अजीत जोगी 

    2018 विधानसभा चुनाव में राज्य के पहले मुख्यमंत्री जोगी पहली बार कांग्रेस पार्टी से अलग चुनाव लड़े. अजीत जोगी अपनी अलग पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCC-J) के साथ मैदान में उतरे. राज्य की 90 सीटों में जोगी की पार्टी 55 सीटों पर चुनाव लड़ी बाकि 35 सीटों पर जेसीसीजे ने बीएसपी को समर्थन किया है. अजीत जोगी खुद मरवाही सीट से चुनाव लड़े और जीते थे.

  • प्रवासी मजदूर (Migrant Workers) और विधानसभा चुनाव : इस बार यूपी और बिहार में सत्ता इन्हीं के कदमों पर चलकर आने वाली है?

    प्रवासी मजदूर (Migrant Workers) और विधानसभा चुनाव : इस बार यूपी और बिहार में सत्ता इन्हीं के कदमों पर चलकर आने वाली है?

    कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई को पूरा हो जाएगा. इस बात की चर्चा है कि सरकार अब पांचवें लॉकडाउन (Lockdown 5.0 ) की तैयारी कर रही है. जिसमें पिछली बार की तुलना में कुछ और रियायत दी जाएगी. 25 मार्च से जारी लॉकडाउन की वजह से प्रवासी मजदूरों का पलायन राजनीति का प्रमुख मुद्दा बन गया है. सोशल मीडिया में पैदल और श्रमिक ट्रेनों में जा रहे प्रवासी मजदूरों की तस्वीरें खूब वायरल की जा रही हैं. वहीं बीजेपी, कांग्रेस, बीएसपी, सपा, जेडीयू और आरजेडी सहित तमाम राजनीतिक पार्टियां खुद को इनका राजनीतिक हितैषी बताने से चूक नहीं रही हैं. 

  • प्रवासी मजदूरों की रोजी-रोटी की समस्या का समाधान करना केंद्र और राज्य सरकारों का पहला कर्तव्य है : मायावती

    प्रवासी मजदूरों की रोजी-रोटी की समस्या का समाधान करना केंद्र और राज्य सरकारों का पहला कर्तव्य है : मायावती

    बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को कहा कि उत्तर प्रदेश और बिहार में घर वापसी कर रहे लाखों प्रवासी श्रमिकों की रोजी-रोटी की समस्या का समाधान करना केंद्र और राज्य सरकारों का पहला कर्तव्य है. मायावती ने ट्वीट किया, 'खासकर यूपी व बिहार में घर वापसी कर रहे इन बेसहारा लाखों प्रवासी श्रमिकों की रोजी-रोटी की मूलभूत समस्या का समाधान करना केन्द्र व राज्य सरकारों का अब पहला कर्तव्य बनता है.'

  • प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और कांग्रेस पर क्यों बरस रही हैं BSP सुप्रीमो मायावती, बीते साल फरवरी में ऐसा क्या हुआ था

    प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और कांग्रेस पर क्यों बरस रही हैं BSP सुप्रीमो मायावती, बीते साल फरवरी में ऐसा क्या हुआ था

    बीएसपी सुप्रीमो मायावती को इस समय कांग्रेस फूटी आंखों नहीं सुहा रही है. राजस्थान के कोटा से छात्रों के लाने के मुद्दे से लेकर यूपी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की ओर से बसें भेजे जाने तक, हर चीज पर मायावती कांग्रेस पर ही दोष मढ़ने से नहीं चूक रही हैं. हालांकि उनके निशाने पर बीजेपी सरकार भी है. यह विपक्ष में होने के नाते उनकी एक जिम्मेदारी भी है कि सरकार को कटघरे में खड़ा करें.

  • मायावती ने कांग्रेस पर साधा जोरदार निशाना, ट्वीट कर लिखा- 'दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद...'

    मायावती ने कांग्रेस पर साधा जोरदार निशाना, ट्वीट कर लिखा- 'दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद...'

    कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच कई राज्यों में फंसे यूपी प्रवासियों को वापस अपने राज्य लौटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने सैकड़ों बसें चलाई. राजस्थान के कोटा में अभी भी कई छात्र-छात्राएं फंसे हुए हैं और उन्हें वापस बुलाने को लेकर दोनों राज्यों में तल्खी जारी है.

  • उत्तर प्रदेश में बसों को लेकर विवाद पर मायावती ने कांग्रेस को दी नसीहत, यह दिया सुझाव

    उत्तर प्रदेश में बसों को लेकर विवाद पर मायावती ने कांग्रेस को दी नसीहत, यह दिया सुझाव

    इस बीच, उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रिमो मायावती ने बीजेपी और कांग्रेस पर घिनौनी राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस को चार सुझाव दिए हैं. मायावती ने ट्विटर के जरिये कांग्रेस पार्टी को दिए अपने सुझाव में कहा कि श्रमिक को बसों से ही घर भेजने में मदद करने पर अड़ने की बजाए, इनका टिकट लेकर ट्रेनों से ही इन्हें इनके घर भेजने में इनकी मदद करनी चाहिये.  

  • 'कोटा में फंसे छात्रों को निकालना यूपी सरकार का स्वागत योग्य कदम, मज़दूर परिवारों के लिए भी हो चिंता'

    'कोटा में फंसे छात्रों को निकालना यूपी सरकार का स्वागत योग्य कदम, मज़दूर परिवारों के लिए भी हो चिंता'

    उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राजस्थान के कोटा में फंसे राज्य के छात्रों को वापस लाने के लिये बसें भेजने के फैसले का शनिवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने स्वागत किया और साथ ही यह भी मांग की कि ऐसे ही कदम उन मजदूरों के लिये भी उठायें जायें जो अपने घरों से दूर फंसे हुये हैं.  शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने 250 बसें कोटा राजस्थान में फंसे 7,500 छात्रों के लिये भेजी थी. यह छात्र वहां कोचिंग में पढ़ाई कर रहे थे और लॉकडाउन के कारण फंसे हुये थे.  शनिवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया, 'कोचिंग पढ़ने वाले लगभग 7,500 युवकों को लॉकडाउन से निकालने व उन्हें सुरक्षित घरो में भेजने के लिए यूपी सरकार ने, काफी बसें कोटा, राजस्थान भेजी है. यह स्वागत योग्य कदम है. बीएसपी इसकी सराहना भी करती है.'

  • पीएम मोदी के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग में बीएसपी नेता सतीश मिश्रा ने मेडिकल सुविधाओं की जरूरत पर दिया जोर

    पीएम मोदी के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग में बीएसपी नेता सतीश मिश्रा ने मेडिकल सुविधाओं की जरूरत पर दिया जोर

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए देश के विपक्षी नेताओं के साथ मीटिंग की. इसमें देश में कोरोनावायरस के बढ़ते केसों के मद्देनजर इस महामारी से बचाव के उपायों और लॉकडाउन के मुद्दे पर चर्चा हुई.बहुजन समाज पार्टी के नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि पार्टी के हर नेता और कार्यकर्ता को यह कहा गया है कि कोरोना की महामारी के खिलाफ सभी अपना योगदान दें. लॉकडाउन के समय में कोई भूखा न रहे इसके लिए सभी कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए गए हैं. साथ ही केंद्र और राज्य सरकारों के निर्देशों का पालन करने को कहा गया है. 

  • लॉकडाउन पर अगले फैसले के बीच PM नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये की विपक्षी नेताओं से बात..

    लॉकडाउन पर अगले फैसले के बीच PM नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये की विपक्षी नेताओं से बात..

    वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग में जो नेता शामिल हुए, उसमें कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंधोपाध्‍याय, शिवसेना के संजय राउल, समाजवादी पार्टी के राममोपाल यादव, बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा, लोक जनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान, एनसीपी नेता शरद पवार और डीएमके नेता टीआर बालू शामिल थे.

  • भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर 15 मार्च को करेंगे अपनी पार्टी का ऐलान, मायावती पर यूं साधा निशाना

    भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर 15 मार्च को करेंगे अपनी पार्टी का ऐलान, मायावती पर यूं साधा निशाना

    बसपा एक मजबूत पार्टी है, उसका जनाधार भी खूब है, इसकी काट कैसे ढूंढेंगे, इसके जवाब में चंद्रशेखर ने कहा, "हम कोई काट नहीं ढूंढ रहे हैं. इस देश के करोड़ों मुस्लिमों, दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों को देख रहे हैं. उनके हितों की हमें रक्षा करनी है. प्रदेश में हमारा बड़ा संगठन है. हमने पिछले दिनों भारत बंद भी किया था, जो सफल रहा."

  • Corona Virus पर संसद में बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, कहा- देश इस खतरे से निबटने को तैयार है

    Corona Virus पर संसद में बोले  स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, कहा- देश इस खतरे से निबटने को तैयार है

    कांग्रेस ने आगाह किया कि अगर कोरोना वायरस गांवों में फैला तो उसे रोकना मुश्किल होगा. जबकि बसपा ने मास्क, सेनिटाइज़र्स जैसी चीजों की मुनाफाखोरी का सवाल उठा दिया. लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, कोरोना वायरस एक एलियन डिसेस है. सरकार को एहतियात बरतनी होगी कि वायरस न फैले. जरूरी दवाओं को गांव-गांव में मुहैय्या कराना होगा. 

  • MP: कांग्रेस में सियासी उठापटक के बीच गुरुग्राम के फाइव स्टार होटल के बाहर हाई वोल्टेज ड्रामा, देर रात 'डैमेज कंट्रोल' शुरू

    MP: कांग्रेस में सियासी उठापटक के बीच गुरुग्राम के फाइव स्टार होटल के बाहर हाई वोल्टेज ड्रामा, देर रात 'डैमेज कंट्रोल' शुरू

    कल रात करीब दो बजे दोनों नेता रमाबाई के साथ होटल से बाहर आते हुए दिखे. रमाबाई मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से निष्कासित विधायक हैं.

  • बिजली का बिल नहीं भरने पर मायावती के भाई के घर का काटा गया कनेक्शन, 67 हजार रुपये थे बकाया

    बिजली का बिल नहीं भरने पर मायावती के भाई के घर का काटा गया कनेक्शन, 67 हजार रुपये थे बकाया

    उन्होंने बताया कि बिल के भुगतान के लिए उनको नोटिस जारी किया गया था. फिर भी समय पर उनके द्वारा भुगतान नहीं किया गया. बुधवार शाम चार बजे के करीब बिजली विभाग ने मकान का बिजली कनेक्शन काट दिया. बाद में एक अधिकारी ने बताया कि बिजली के बिल का पूरा भुगतान कर दिए जाने पर मकान का बिजली कनेक्शन चालू कर दिया गया.

  • शाहीन बाग फायरिंग: आम आदमी पार्टी की टोपी वाली तस्वीर की आरोपी कपिल के पिता ने बताई सच्चाई

    शाहीन बाग फायरिंग: आम आदमी पार्टी की टोपी वाली तस्वीर की आरोपी कपिल के पिता ने बताई सच्चाई

    शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में फायरिंग करने वाले आरोपी कपिल गुर्जर (Kapil Gujjar) को लेकर मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने दावा कि कि आरोपी आम आदमी पार्टी से जुड़ा हुआ है. इस दावे के बाद आरोपी के पिता गजे सिंह का भी बयान आ चुका है. उन्होंने कहा, ''आम आदमी पार्टी का प्रचार हो रहा था. प्रचार होने पर जबरदस्ती आकर के टोपी पहना दी थी. आम आदमी पार्टी से हमारा कोई ताल्लुक नहीं और न ही कुछ हमें लेना-देना है. हम राजनीति में आए थे, लेकिन 2012 तक बहुजन समाज पार्टी (BSP) में रहे थे. बीएसपी में आने के बाद से मेरी तबियत खराब होने लगी. फिर मैंने राजनीति छोड़ दिया. राजनीति करनी बंद कर दी.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com