NDTV Khabar

बुद्ध जयंती


'बुद्ध जयंती' - 14 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • PM मोदी ने 17 मिनट के अपने संबोधन में दिया शांति और सद्भाव का संदेश, 10 खास बातें 

    PM मोदी ने 17 मिनट के अपने संबोधन में दिया शांति और सद्भाव का संदेश, 10 खास बातें 

    PM Modi UNGA Speech: पीएम मोदी (PM Modi) ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) को संबोधित किया. 17 मिनट के अपने संबोधन में पीएम मोदी ने दुनिया को शांति और सद्भाव का संदेश दिया. UN में एक तरफ पीएम ने अपनी सरकार की तमाम जन कल्याणकारी योजनाओं का जिक्र किया, तो दुसरी तरफ आतंकवाद पर भी प्रहार करते हुए पूरी दुनिया को इससे निपटने के लिए एकजुट होने का आह्वान किया. पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत नमस्कार से की और कहा कि यह अवसर इसलिये भी महत्वपूर्ण है कि इस वर्ष हम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहे हैं. इस वर्ष दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का चुनाव हुआ और मुझे जनादेश मिला. इस जनादेश की वजह से ही मैं आपके बीच हूं. इस जनादेश से निकला संदेश प्रेरक है. नए भारत में तेजी से बदलाव हो रहा है. पीएम ने कहा कि भारत ने पूरी दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध का संदेश दिया है. हम पूरी दुनिया का ख्याल रखते हैं.  सवा सौ साल पहले भारत के महान आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद ने शिकागो में World Parliament of Religions के दौरान विश्व को एक संदेश दिया था. विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का आज भी अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए यही संदेश है- Harmony and Peace. पढ़ें- पीएम मोदी के संबोधन की 10 खास बातें...

  • Buddha Purnima के दिन पढ़ें जीवन में शांति और सफलता लाने वाले महात्मा बुद्ध के 10 विचार

    Buddha Purnima के दिन पढ़ें जीवन में शांति और सफलता लाने वाले महात्मा बुद्ध के 10 विचार

    आज पूरे देश में महात्मा बुद्ध का जन्मदिवस (Buddha's Birthday) मनाया जा रहा है. बौद्ध धर्म के साथ-साथ हिंदुओं के लिए भी ये दिन बहुत खास होता है. बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) को बुद्ध जयंती (Buddha Jayanti) और 'वेसाक' (Vesak) उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है.

  • Buddha Purnima 2019: 18 मई को है बुद्ध पूर्णिमा, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्‍व और मान्‍यताएं

    Buddha Purnima 2019: 18 मई को है बुद्ध पूर्णिमा, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्‍व और मान्‍यताएं

    बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) को सिद्ध विनायक पूर्णिमा या सत्‍य विनायक पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. कहा जाता है कि वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध को बोधगया में पीपल के पेड़ के नीचे बुद्धत्‍व की प्राप्‍ति हुई थी.

  • Statue of Unity: 250 इंजीनियर, 3,400 मजदूर और लगे 4 साल, यूं तैयार हुई दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल की प्रतिमा, 10 बातें

    Statue of Unity: 250 इंजीनियर, 3,400 मजदूर और लगे 4 साल, यूं तैयार हुई दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल की प्रतिमा, 10 बातें

    सरदार वल्लभ भाई पटेल( Vallabhbhai Patel) की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का 31 अक्टूबर को अनावरण हो गया. उनकी 143 वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भव्य समारोह में अनावरण किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कौटिल्य की कूटनीति और शिवाजी के शौर्य के समावेश थे सरदार पटेल. उन्होंने कहा कि जब सबको लगता था कि देश ऐसे ही बिखरा रहेगा, ऐसे निराशा के दौर में सरदार पटेल ही आशा की किरण थे. अपनी ऊंचाई के कारण यह प्रतिमा अब दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बन गई है. दुनिया में अब दूसरे स्थान पर चीन में स्प्रिंग टेंपल में बुद्ध की मूर्ति है, जिसकी ऊंचाई 153 मीटर है. सरकार आमदनी के लिए टिकट भी लगाएगी. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. मूर्ति बनाने वाली कंपनी एलएंडटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमण्यन ने कहा, "स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता की प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है." इस मूर्ति के प्रमुख शिल्पकार 92 वर्षीय राम वी. सुतार हैं.

  • Statue of Unity: सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा की 8 साल पहले हो गई थी प्लानिंग, पीएम मोदी के भाषण की 10 बातें

    Statue of Unity: सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा की 8 साल पहले हो गई थी प्लानिंग, पीएम मोदी के भाषण की 10 बातें

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी((Prime Minister Narendra Modi) ने सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की जयंती पर बुधवार को उनकी 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का अनावरण किया. 182 मीटर ऊंची यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है. इससे पहले चीन के स्प्रिंग टेंपल में बुद्ध की 153 मीटर ऊंची मूर्ति के नाम पर यह रिकॉर्ड था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी दुनिया का एक अजूबा है. उन्होंने कहा, सरदार साहब का सामर्थ्य तब भारत के काम आया था, जब 'मां भारती' साढ़े पांच सौ से ज्यादा रियासतों में बंटी पड़ी थी. मोदी ने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि उस दौर में भी निराशावादी थे, जो समझते थे कि भारत अपनी विविधताओं से ही बिखर जाएगा, मगर सरदार पटेल ने कौटिल्य की कूटनीति और शिवाजी महाराज के शौर्य का समावेश थे. पांच जुलाई 1947 को रियासतों को संबोधित करते हुए सरदार साहब ने कहा था-विदेशी आक्राताओं के सामने हमारे आपसी झगड़े, आपसी दुश्मनी और बैर का भाव ही हमारी सबसे बड़ी कमजोरी है. इस गलती को नहीं दोहराना है. सरदार साहब के आह्वान पर देश के सैकड़ों राजे-रजवाड़े ने त्याग की मिसाल कायम की थी. इस त्याग को भी नहीं भूलना चाहिए था.

  • 80 फुट के पैर, 70 फुट के हाथ, ऊंचाई 600 फुट - सरदार पटेल की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा - जानें 10 खास बातें

    80 फुट के पैर, 70 फुट के हाथ, ऊंचाई 600 फुट - सरदार पटेल की दुनिया में सबसे ऊंची प्रतिमा - जानें 10 खास बातें

    सरदार वल्लभ भाई पटेल( Vallabhbhai Patel) की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) का 31 अक्टूबर को उनकी जयंती पर उद्घाटन होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में भव्य तरीके से आयोजित समारोह में इस मूर्ति के उद्घाटन की तैयारी है. अपनी ऊंचाई के कारण यह प्रतिमा अब  दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बन गई है. दुनिया में अब दूसरे स्थान पर चीन में स्प्रिंग टेंपल में बुद्ध की मूर्ति है, जिसकी ऊंचाई 153 मीटर है. गुजरात सरकार को उम्मीद है कि इस विशालकाय मूर्ति को देखने के लिए देश ही नहीं विदेशों के पर्यटक भी आएंगे. इस नाते सरकार की ओर से पर्यटकों के ठहने के लिए भी विशेष व्यवस्था की गई है. सरकार आमदनी के लिए टिकट भी लगाएगी. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. मूर्ति बनाने वाली कंपनी एलएंडटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमण्यन ने कहा, "स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता की प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है." 

  • बुद्ध पूर्णिमा 2018: राष्‍ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने दी बधाई

    बुद्ध पूर्णिमा 2018:  राष्‍ट्रपति कोविंद, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने दी बधाई

    बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) के मौके पर राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री ने बधाई देते हुए सभी से भगवान बुद्ध की शिक्षाओं का अनुसरण करने के लिए कहा.

  • बुद्ध पूर्णिमा: जिंदगी जीने का तरीका बदल देंगे गौतम बुद्ध के ये 15 विचार

    बुद्ध पूर्णिमा: जिंदगी जीने का तरीका बदल देंगे गौतम बुद्ध के ये 15 विचार

    बुद्ध पूर्णिमा के दिन बौद्ध धर्म के संस्‍थापक गौतम बुद्ध का जन्‍म हुआ था. इस मौके पर जानिए भगवान बुद्ध के 15 अनमोल विचार

  • बुद्ध पूर्णिमा 2018: आज के दिन अशुभ माने जाते हैं ये 4 काम, ना करें तो बेहतर

    बुद्ध पूर्णिमा 2018: आज के दिन अशुभ माने जाते हैं ये 4 काम, ना करें तो बेहतर

    बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) के दिन जरूर करें ये 8 काम...

  • बुद्ध पूर्णिमा 2018: जानिए इस पर्व का महत्‍व और मान्‍यताएं

    बुद्ध पूर्णिमा 2018: जानिए इस पर्व का महत्‍व और मान्‍यताएं

    बुद्ध पूर्णिमा के दिन ही बौद्ध धर्म के संस्‍थापक गौतम बुद्ध का जन्‍म हुआ था. हिंदू धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बुद्ध विष्‍णु के नौवें अवतार हैं. हिन्‍दू इस दिन को सत्‍य विनायक पूर्णिमा के रूप में भी मनाते हैं

  • Buddha Purnima 2018: क्यों मनाई जाती है बुद्ध पूर्णिमा? क्या है 'विशेष स्नान' का महत्व

    Buddha Purnima 2018: क्यों मनाई जाती है बुद्ध पूर्णिमा? क्या है 'विशेष स्नान' का महत्व

    बुद्ध पूर्णिमा (Budha Purnima) वैशाख महीने की पूर्णिमा को मनाई जाती है. इसे वैशाख पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है...जानें क्यों मनाते हैं यह त्यौहार

  • पीएम मोदी आज करेंगे बुद्ध जयंती 2018 समारोह का उद्घाटन

    पीएम मोदी आज करेंगे बुद्ध जयंती 2018 समारोह का उद्घाटन

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज यानी 30 अप्रैल को बुद्ध जयंती समारोह का उद्धाटन करेंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन संस्कृति मंत्रालय इंटरनेशलन बुद्धिस्ट कन्फेडरेशन ( आईबीसी ) के साथ मिल कर कर रहा है. बताया जा रहा है कि मोदी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति पवित्र अवशेषों के दर्शन करेंगे, जिन्हें खासतौर से समारोह के लिए राष्ट्रीय संग्रहालय से इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम लाया जाएगा. 

  • पोखरण में परमाणु परीक्षण कर इंदिरा गांधी ने चौंका था दिया था पूरी दुनिया को

    पोखरण में परमाणु परीक्षण कर इंदिरा गांधी ने चौंका था दिया था पूरी दुनिया को

    18 मई 1974 को उस दिन बुद्ध जयंती थी. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी उस दिन एक फोन का इंतजार कर रही थीं. उनके पास एक वैज्ञानिक का फोन आता है और वह कहते हैं "बुद्ध मुस्कराए". इस संदेश का मतलब था कि भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण कर दिया है जो सफल रहा.

  • Buddha Purnima 2019: बुद्ध पूर्णिमा: महत्व, मान्याताएं और प्रावधान

    Buddha Purnima 2019: बुद्ध पूर्णिमा: महत्व, मान्याताएं और प्रावधान

    वैशाख मास की पूर्णिमा को मनाई जाने वाली बुद्ध पूर्णिमा को वैशाख पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन का काफी महत्व है. इस दिन को भगवान गौतम बुद्ध की जयंती और उनके निर्वाण दिवस दोनों के ही तौर पर मनाया जाता है. इसी दिन भगवान बुद्ध को बौध यानी ज्ञान प्राप्त हुआ था.

Advertisement