NDTV Khabar

ब्लॉग


'ब्लॉग' - more than 1000 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • नीतीश कुमार के गुस्से के लिए उनकी आलोचना नहीं, उनके प्रति सहानुभूति की जरूरत

    नीतीश कुमार के गुस्से के लिए उनकी आलोचना नहीं, उनके प्रति सहानुभूति की जरूरत

    इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश कुमार की हत्या के सम्बंध में शुक्रवार को जब सवाल पूछा गया तो नीतीश कुमार आग बबूला हो गए. उनके जवाब से साफ़ था कि आपत्ति सवाल और सवाल पूछने वाले दोनों से है. कमोबेश पत्रकारों से दूरी बनाए रखने वाले नीतीश कुमार चुनाव में अपने निराशाजनक प्रदर्शन के बाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कृपा से मुख्यमंत्री बनने के बाद मीडिया से अपने सम्बंध फिर पुराने दिनों की तरह सामान्य रखने लगे थे.

  • Google ने Play store से हटाएं 100 से ज्यादा पर्सनल लोन ऐप्स, जानें क्या है वजह

    Google ने Play store से हटाएं 100 से ज्यादा पर्सनल लोन ऐप्स, जानें क्या है वजह

    ये ऐप्स सेफ्टी पॉलिसी का उल्लंघन कर ऑनलाइन लोन की सर्विस दे रही थी।

  • नीतीश कुमार के राजनीतिक पतन के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराना कितना सही

    नीतीश कुमार के राजनीतिक पतन के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराना कितना सही

    बिहार में एनडीए के नेता के रूप में नीतीश कुमार एक बार फिर मुख्यमंत्री हैं. लेकिन ये भी सच है कि नीतीश कुमार के नाम और काम पर जो एनडीए चुनाव में गई उसमें सबका प्रदर्शन उम्मीदों के विपरीत निराशाजनक रहा. खासकर जनता दल यूनाइटेड का जो अब बिहार में तीसरे नंबर की पार्टी है. इस बात से भी कोई इनकार नहीं कर सकता कि नीतीश कुमार आज जनता से अधिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जिन्हें पिछले चुनाव तक वो सामने से चुनौती देते थे, की कृपा से आज मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे हैं. साथ ही ये भी एक कड़वा सच है कि भाजपा ने उन्हें हाशिये पर ले जाने का जो भी प्रयास किया उसमें उसको आंशिक सफलता तो मिली. लेकिन जैसा अधिकांश राज्यों में अपने सहयोगियों को निपटा कर सत्ता में अपनी पकड़ मज़बूत करने का उनका लक्ष्य कामयाब होता रहा है, वो बिहार में अभी तक अधूरा है.

  • ताकि लोकतंत्र का मंदिर बचा रहे

    ताकि लोकतंत्र का मंदिर बचा रहे

    पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनवा में एक ऐतिहासिक हिंदू मंदिर तोड़े जाने की ख़बर सुर्खियों में रही. इसे भारत में सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया गया. अख़बारों और टीवी चैनलों पर भी यह ख़बर ख़ूब चली. इसे इस बात के प्रमाण की तरह पेश किया गया कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं की स्थिति कितनी बुरी है. वहां जबरन धर्मांतरण कराए जाने की लगातार आ रही ख़बरें इस स्थिति के दूसरे प्रमाण की तरह गिनाई जाती हैं.

  • क्या शराबबंदी की विफलता के कारण नीतीश कुमार बिहार की विधि व्यवस्था सुधार नहीं सकते?

    क्या शराबबंदी की विफलता के कारण नीतीश कुमार बिहार की विधि व्यवस्था सुधार नहीं सकते?

    ये बात किसी से छुपी नहीं है कि बिहार की विधि व्यवस्था दिनोंदिन खराब हो रही है. अपराध चाहे हत्या हो या डकैती, अपराधी शहर के बीचोंबीच दिन में ही वारदात को अंजाम दे देते हैं. दिक्कत यह नहीं है कि घटनाओं में वृद्धि हो रही है बल्कि समस्या यह है कि हाई प्रोफ़ाइल मामले भी महीनों अनसुलझे रह जाते हैं. और इसका सीधा असर नीतीश कुमार सरकार और उनकी अपनी व्यक्तिगत छवि पर पड़ता है. अब तो नीतीश कुमार के कट्टर समर्थक भी मानने लगे हैं कि करीब चार साल आठ महीने पूर्व जो राज्य में शराबबंदी उन्होंने की उसके कारण विधि व्यवस्था चौपट होती जा रही है. राज्य में अपराधियों और पुलिस के गठज़ोड ने जो एक समानांतर शासन कायम किया है उसने नीतीश कुमार के सुशासन की हवा निकाल दी है.

  • बिहार में मंडी ख़त्म हुई तो बिहार के किसान बर्बाद हो गए

    बिहार में मंडी ख़त्म हुई तो बिहार के किसान बर्बाद हो गए

    बिहार के किसानों को गेहूं और धान का दाम नहीं मिलता है. मक्का और दाल का भी नहीं मिलता है. अगर वहां मंडी होती तो कुछ प्रतिशत ही सही किसानों को MSP तो मिलती.

  • आतंकवादी से अब किसान दलाल हो गया

    आतंकवादी से अब किसान दलाल हो गया

    आवश्यकता है आंदोलन पर बैठे किसानों को एक परिभाषा की. 26 दिन से आंदोलन चल रहा है कि अभी तक सरकार के मंत्री और बीजेपी के विधायक, सांसद आंदोलन पर बैठे किसानों की एक ऐसी परिभाषा नहीं खोज पाए हैं जो सभी को मंज़ूर हो. बीजेपी के वरिष्ठ विधायक और बिहार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने आंदोलन पर बैठे किसानों को दलाल कहा है. यही नहीं कृषि मंत्री के अनुसार किसान आंदोलन तभी किसानों का कहलाएगा जब देश के 5 लाख गांवों में भी आंदोलन होगा और उन्हें दिखाई देगा.

  • स्मृतिशेष मंगलेश डबराल: ‘इसी रात में अपना घर है’

    स्मृतिशेष मंगलेश डबराल: ‘इसी रात में अपना घर है’

    भाषा या कविता के इस व्यर्थता-बोध के बावजूद यह एहसास जाता नहीं कि अंततः रास्ता कोई और नहीं है. मंगलेश डबराल कविता न लिखते तो क्या करते? विकट और विराट ईश्वरों और दरिंदों के मुक़ाबले वे अपनी मनुष्यता का संधान न करते तो क्या करते. अन्याय को पहचानने का सयानापन कई जगह से मिल सकता है, लेकिन अन्याय से आंख मिलाने का साहस और अन्याय न करने का मनुष्योचित विवेक अगर सबसे ज़्यादा कहीं से मिल सकता है तो वह कविता है.

  • नेहा धूपिया ने न्यूड मेकअप में करवाया फोटोशूट, ताहिरा कश्यप का यूं आया रिएक्शन

    नेहा धूपिया ने न्यूड मेकअप में करवाया फोटोशूट, ताहिरा कश्यप का यूं आया रिएक्शन

    जहां तक नेहा (Neha Dhupia) की वायरल हो रही इस फोटो की बात करें तो इसमें एक्ट्रेस बेहद ग्लैमरस अंदाज में नजर आ रही हैं. इसमें नेहा ने ब्लू कलर की ड्रेस पहन रखी है और खूबसूरत पोज दे रही हैं वहीं इस फोटो को शेयर करते हुए नेहा ने लिखा है- ब्लू कलर को फील करो.

  • हैदराबाद में ओवैसी पर निशाना साध रही BJP- एक गोपनीय उद्देश्य?

    हैदराबाद में ओवैसी पर निशाना साध रही BJP- एक गोपनीय उद्देश्य?

    कोई भी चुनाव इतना छोटा नहीं है कि उसे नजरअंदाज किया जाए. मोदी-शाह युग में भाजपा के लिए तो कतई नहीं. हर चुनाव सहयोगियों को परखने, तैयार करने या उनकी ताकत खत्म करने का अवसर है. यह विस्तार, विस्तार और ज्यादा विस्तार है.

  • कैसे नरेंद्र मोदी ने बिहार चुनाव में नीतीश को निपटाने के चक्कर में तेजस्वी और चिराग को नेता बना दिया

    कैसे नरेंद्र मोदी ने बिहार चुनाव में नीतीश को निपटाने के चक्कर में तेजस्वी और चिराग को नेता बना दिया

    बिहार के चुनाव परिणाम की हर जगह, हर व्यक्ति अपने तरह से विवेचना कर रहा है. लेकिन इस चुनाव का सबसे बड़ा संदेश यही है कि नीतीश कुमार इस बार अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदी तेजस्वी यादव, चिराग पासवान, उपेन्द्र कुशवाहा को पराजित कर कुर्सी पर नहीं बैठे हैं बल्कि एक बार फिर वे अपने सहयोगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के रचे चक्रव्यूह को भेदकर निकले हैं.

  • दीपिका कक्कड़ ने पति संग की स्कूटी की सवारी, रोमांटिक Photo और Video वायरल

    दीपिका कक्कड़ ने पति संग की स्कूटी की सवारी, रोमांटिक Photo और Video वायरल

    दीपिका कक्कड़ (Dipika Kakkar) अकसर अपनी फैमिली के साथ ट्रेवलिंग ब्लॉग या अपनी लाइफस्टाइल से जुड़ी ब्लॉग और फोटो शेयर करती रहती हैं.

  • Blue Moon 2020: कल दिखेगा नीला चांद, इसके बाद 19 साल बाद

    Blue Moon 2020: कल दिखेगा नीला चांद, इसके बाद 19 साल बाद

    NASA ने अपने ब्लॉग में समझाया है कि Blue Moon हर ढ़ाई साल में दिखाई देता है। साल 2020 के बाद यह ब्लू मून अगस्त 2023 में, मई 2026 में और दिसंबर 2028 में दिखाई देगा।

  • रवीश का डोनाल्ड ट्रंप के नाम खुला खत : लगता है बिहार वाला भैक्सीन घोंपना पड़ेगा

    रवीश का डोनाल्ड ट्रंप के नाम खुला खत : लगता है बिहार वाला भैक्सीन घोंपना पड़ेगा

    'ए ट्रंप बाबू. ढेर डिबेट का शौक़ चढ़ल है न तो आ जाइये बिहार.आपके फ़्रेंड जाने वाले हैं. ऊहां भैक्सीन बाँटने वाले हैं. फिरी में बाँटेंगे. आठ करोड़ भैक्सीन फिरी में देंगे. त हम बूझे कि सगरो फिरी बंटेगा लेकिन फ़्रेंड भाई का पलानिंग त आप जानते ही हैं.'

  • महागठबंधन में भाकपा माले- कितने अवसर, कितनी चुनौती?

    महागठबंधन में भाकपा माले- कितने अवसर, कितनी चुनौती?

    2015 के विधानसभा चुनावों में भाकपा माले ने लगभग अकेले दम पर तीन सीटें जीती थीं- बलरामपुर, दरौली और तरारी. बेशक, तरारी वाली सीट वह बहुत कम अंतर से जीत पाई थी- शायद मुश्किल से सवा दो सौ या ढाई सौ वोटों से. लेकिन भोजपुर क्षेत्र में उसकी वापसी का मज़बूती भरा इशारा भी थी. सुदामा प्रसाद को पूरे दो दशक बाद यह कामयाबी मिली थी. बेशक, तब वाम मोर्चे के नाम पर जुटे बहुत सारे दलों का गठबंधन उसके साथ था, लेकिन उन चुनावों में भाकपा-माकपा- किसी का खाता नहीं खुल पाया था. जाहिर है, माले की जीत उसकी अपनी थी.

  • बिहार सरकार का यह काम तो वाक़ई शानदार है, वाक़ई

    बिहार सरकार का यह काम तो वाक़ई शानदार है, वाक़ई

    नई शिक्षा व्यवस्था के लिए नीतीश कुमार को नोबेल प्राइज़ मिलना चाहिए और सुशील मोदी को संयुक्त राष्ट्र का महासचिव बना देना चाहिए. कमाल का काम किया है दोनों ने. बल्कि दोनों को बिहार से पहले अमरीकी चुनाव में भी विजयी हो जाना चाहिए.

  • टीवी मीडिया के गटर से निकला जमूरा पत्रकारिता का जिन्न

    टीवी मीडिया के गटर से निकला जमूरा पत्रकारिता का जिन्न

    पुलिस बेरीकेटिंग के नजदीक हम लोग लाइव की तैयारी कर रहे थे..सुबह के आठ बजने वाले थे...नर्म धूप धीरे-धीरे तीखी हो रही थी लेकिन हवा में अब भी  हल्की ठंड मौजूद थी. गांव जाने वाले रास्ते को पुलिस बेरीकेट से बंद कर दिया गया था और एक इंस्पेक्टर जीप के बोनट पर ड्यूटी बदलने का चार्ट बना रहा था. रात भर की ड्यूटी से हलकान पुलिस और PAC वालों के चेहरे तो मास्क में छिपे थे लेकिन कोई बेरीकेट तो कोई दीवार के सहारे टिका शरीर को थोड़ा आराम देने की कोशिश कर रहा था. असहाय सी दिखने वाली सबकी आंखें बस बिना उम्मीद मीडिया के कैमरे और रिपोर्टर पर टिकी थी. गोरिल्ला युद्ध की तरह अचानक लस्त पस्त पड़ी पुलिस फोर्स को देखकर एक महिला एंकर बेरीकेट खींचकर अंदर दाखिल हुई और लाइव में चीखते हुए.. ये देखिए किस तरह हमें रोकने की कोशिश हो रही है लेकिन हम इंसाफ दिलाकर रहेंगे...

  • रामविलास पासवान का अपने 'चिराग' से बिहार को रोशन करने का सपना

    रामविलास पासवान का अपने 'चिराग' से बिहार को रोशन करने का सपना

    बिहार चुनाव (Bihar Elections) के बारे में अभी तक यह कहा जा रहा था कि यहां तीन बड़े दल हैं जिसमें से दो एक साथ हो गए तो चुनाव वही जीतेंगे. जैसे कि जेडीयू (JDU) और बीजेपी (BJP), या कहें पिछली बार जेडीयू और आरजेडी (RJD). मगर बिहार में जिस तरह के चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने अपने तेवर दिखाए हैं उससे बिहार का चुनाव दिलचस्प हो गया है. एक तो चिराग पासवान ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के अस्तित्व को ही नकारते हुए जेडीयू के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. चिराग की इस घोषणा के पीछे बीजेपी की भी रणनीति दिखाई दे रही है.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com