NDTV Khabar

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव


'मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव' - 332 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एमपी: आदिवासी या पिछड़ा को मिल सकती है कांग्रेस की कमान! जानें- इस रेस में कौन-कौन है शामिल

    एमपी: आदिवासी या पिछड़ा को मिल सकती है कांग्रेस की कमान! जानें- इस रेस में कौन-कौन है शामिल

    राज्य विधानसभा चुनाव में सफलता के बाद प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की कुर्सी संभाली और उसके बाद उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश की थी, मगर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें लोकसभा चुनाव तक इस जिम्मेदारी पर बने रहने को कहा था. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मध्य प्रदेश में 29 में से सिर्फ एक सीट मिली. देश में भी इसी तरह के नतीजे कांग्रेस के हिस्से आए. राज्य सरकार में मंत्री कमलेश्वर पटेल कांग्रेस की हार के लिए सभी मंत्रियों और नेताओं को जिम्मेदार मान रहे हैं. वहीं एक अन्य मंत्री उमंग सिघार राज्य में ऐसा अध्यक्ष चाहते हैं, जो सभी को साथ लेकर चले.

  • मध्य प्रदेश में आदिवासियों से कट गए कांग्रेस के आदिवासी नेता

    मध्य प्रदेश में आदिवासियों से कट गए कांग्रेस के आदिवासी नेता

    मध्य प्रदेश में आदिवासी वर्ग की लगभग 22 प्रतिशत आबादी है. विधानसभा के 47 क्षेत्र इस वर्ग के लिए आरक्षित हैं. वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने इन 47 में से 30 स्थानों पर जीत दर्ज की थी.

  • जिन राज्यों में होने हैं विधानसभा चुनाव वहां से किन नेताओं को मिली है मोदी मंत्रिमंडल में जगह

    जिन राज्यों में होने हैं विधानसभा चुनाव वहां से किन नेताओं को मिली है मोदी मंत्रिमंडल में जगह

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव की भी झलक देखी जा सकती है. महाराष्ट्र, झारखंड, बिहार, दिल्ली और हरियाणा में चुनाव होने हैं. इनमें दिल्ली को छोड़े दें तो हर राज्य में बीजेपी की ही सरकार है. साल 2018 के दिसंबर में हुए तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में अपनी सरकार गवां चुकी है. हालांकि लोकसभा चुनाव में इन राज्यों में बीजेपी ने जबरदस्त वापसी की और एक तरह से कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया.

  • लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस के सामने एक और संकट

    लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस के सामने एक और संकट

    लोकसभा चुनाव में करारी हार झेलने वाली कांग्रेस के मात्र 52 सांसद ही संसद पहुंचेंगे और उसको नेता विपक्ष का भी दर्जा नहीं मिलेगा. राहुल गांधी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े हुए हैं और अगर वह नहीं मानते हैं तो पार्टी की कमान कौन संभलेगा यह सबसे बड़ा सवाल बना हुआ है. इसी बीच मध्य प्रदेश और कर्नाटक की राज्य सरकारों पर संकट मंडराया हुआ है. कर्नाटक कांग्रेस के नेता केएन रजन्ना का कहना है कि पीएम मोदी के शपथ लेते ही राज्य सरकार गिर जाएगी. वहीं मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को समर्थन  दे रहीं बीएसपी की विधायक का आरोप है कि बीजेपी उन्हें 50 करोड़ रुपये का ऑफर दे रही है. पार्टी अभी इन संकटों से जूझ रही है कि उसके आगे हरियाण, महाराष्ट्र और झारखंड के विधानसभा चुनाव भी खड़े हैं.

  • BSP विधायक का दावा: BJP ने दिया मंत्री पद और 50-60 करोड़ रुपये का ऑफर, कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने के लिए कहा

    BSP विधायक का दावा: BJP ने दिया मंत्री पद और 50-60 करोड़ रुपये का ऑफर, कमलनाथ सरकार से समर्थन वापस लेने के लिए कहा

    लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में उनकी पार्टी की हार के लिए पथरिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक रामबाई ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा, 'यह सब ईवीएम की गड़बड़ है. राजनीति में आने के बाद मैंने महसूस किया कि यह बहुत खराब चीज है.' इसके साथ ही उन्होंने योग गुरु रामदेव के उस बयान का भी समर्थन किया कि देश की आबादी रोकने के लिए परिवार के तीसरे बच्चे से वोट करने का अधिकारी छीन लेना चाहिए. उन्होंने कहा, 'मैं उनके बयान से सहमत हूं. ना केवल वोट का अधिकार, बल्कि सबी तरह की सरकारी सुविधाएं छीन लेनी चाहिए.' गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में बसपा कांग्रेस के साथ गठबंधन में है. प्रदेश में रामबाई सहित बसपा के दो विधायक हैं और उन्होंने कमलनाथ सरकार को समर्थन दे रखा है.

  • लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस के सामने खड़े हो गए यह 6 बड़े संकट...

    लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस के सामने खड़े हो गए यह 6 बड़े संकट...

    कांग्रेस पार्टी पर अब आने वाले तीन राज्यों में- हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में अच्छे प्रदर्शन को लेकर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. इतना ही नहीं कांग्रेस के सामने मध्य प्रदेश, कर्नाटक और राजस्थान में सरकार बचाने का भी संकट है.

  • Results 2019: मध्य प्रदेश में दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के कई बड़े नेताओं को मिला करारी हार, अब खतरे में कांग्रेस की राज्य सरकार

    Results 2019: मध्य प्रदेश में  दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के कई बड़े नेताओं को मिला करारी हार, अब खतरे में कांग्रेस की राज्य सरकार

    विधानसभा चुनावों में जीत के बावजूद, लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मध्य प्रदेश में बड़ा झटका लगा. लगभग सारे आला नेता चुनाव हार गए. अब बीजेपी कह रही है कि राज्य सरकार का अस्तित्व खतरे में पड़ सकता है. मध्यप्रदेश में गुरुवार को बीजेपी दफ्तर में 2014 की तस्वीरों का रीप्ले दिखा, हर तरफ भगवा लहर.

  • तीन राज्यों की विधानसभा की जीत को नहीं भुना पाई कांग्रेस, जानें- राजस्थान, एमपी और छत्तीसगढ़ के आंकड़े

    तीन राज्यों की विधानसभा की जीत को नहीं भुना पाई कांग्रेस, जानें- राजस्थान, एमपी और छत्तीसगढ़ के आंकड़े

    राजस्थान की बात करें तो वहां भी मध्य प्रदेश जैसा ही कांग्रेस का हाल है. राजस्थान की 25 सीटों में से 24 पर भाजपा आगे हैं, वहीं कांग्रेस ने सिर्फ टोंक-सवाई माधोपुर सीट पर बढ़त बनाई हुई है. इस सीट से कांग्रेस के टिकट पर नमो नारायण मीणा चुनाव लड़ रहे हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने यहां सभी 25 सीटों पर जीत हासिल की थी. इसके अलावा छत्तीसगढ़ की 11 में से 9 सीटों पर भाजपा ने बढ़त बना रखी है. जबकि कांग्रेस केवल दो सीटों पर आगे दिख रही है. ये दो सीटें महासमुंद और बस्तर हैं. महासमुंद से कांग्रेस के धनेंद्र साहू और बस्तर से दीपक बैज कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं.

  • Elections 2019 : Exit Poll के बाद मध्यप्रदेश में सियासती हलचल, बीजेपी तलाश रही कमजोर कड़ी

    Elections 2019 : Exit Poll के बाद मध्यप्रदेश में सियासती हलचल, बीजेपी तलाश रही कमजोर कड़ी

    लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) के नतीजे से पहले आए एग्जिट पोल (Exit Poll) के रुझानों ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सियासत में हलचल पैदा कर दी है. निर्दलीय और दूसरे दलों के सहयोग से चल रही कमलनाथ सरकार की कमजोर कड़ी तलाशने के मकसद से भाजपा ने विधानसभा का सत्र बुलाने की मांग कर डाली है.

  • Exit Poll Results 2019 : एग्जिट पोल के नतीजों से उत्साहित बीजेपी ने मध्य प्रदेश विधानसभा में की 'शक्ति परीक्षण' की मांग

    Exit Poll Results 2019 : एग्जिट पोल के नतीजों से उत्साहित बीजेपी ने मध्य प्रदेश विधानसभा में की 'शक्ति परीक्षण' की मांग

    लोकसभा चुनाव को लेकर विभिन्न समाचार माध्यमों के एग्जिट पोल व सर्वे में भारतीय जनता पार्टी को बहुमत मिलने के आसार के बीच मध्य प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने विधानसभा का सत्र बुलाए जाने की मांग की है. नेता प्रतिपक्ष भार्गव ने सोमवार को संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि एग्जिट पोल के अनुसार एक बार फिर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं, वहीं मध्य प्रदेश में कांग्रेस को दो से तीन सीटें मिलने वाली हैं, यह इस बात का संकेत है कि वर्तमान सरकार ने जनता का भरोसा खो दिया है. इसलिए उनकी मांग है कि राज्य विधानसभा का सत्र बुलाया जाए.  इसके लिए वे राज्यपाल को पत्र लिखने वाले हैं.

  • Lok Sabha Election 2019 Updates : अंतिम चरण में 59 सीटों पर 64 फीसदी मतदान

    Lok Sabha Election 2019 Updates : अंतिम चरण में 59 सीटों पर 64 फीसदी मतदान

    आज लोकसभा चुनावों का सातवां और आख़िरी चरण हो रहा है. 7 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश की 59 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. पंजाब की सभी 13, उत्तर प्रदेश की 13,  पश्चिम बंगाल की 9, बिहार और मध्य प्रदेश की 8-8, हिमाचल प्रदेश की 4, झारखंड की 2 सीटों पर मतदान हो रहा है.59 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान में 10 करोड़ से अधिक मतदाता हैं और 918 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. आज 112993 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. शाम तक तमिलनाडु के वेल्लोर को छोड़कर सभी निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव समाप्त हो जाएगा. धन के अत्यधिक इस्तेमाल के बाद वेल्लोर में मतदान रद्द कर दिया गया था. नई तारीख की घोषणा बाद में होगी. इसके अलावा, गोवा की पणजी विधानसभा सीट पर उपचुनाव भी हो रहा है. यह सीट पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन से रिक्त हुई है. इसके अलावा तमिलनाडु की सुलुर, अरावकुरिची, ओत्तापिदाराम (सुरक्षित) , थिरुपरंकुन्द्रम विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव हो रहा है. बिहार की देहरी विधानसभा सीट पर भी उपचुनाव के लिए वोट डाले जा रहे हैं. उत्तर प्रदेश में, सभी की नजरें वाराणसी सीट पर लगी हुई हैं, जहां से मोदी के अलावा 25 उम्मीदवार मैदान में हैं. प्रधानमंत्री को मुख्य रूप से चुनौती कांग्रेस के अजय राय और सपा-बसपा गठबंधन की प्रत्याशी शालिनी यादव से मिल रही है. 

  • Lok Sabha Election 2019 Phase 7: 10 बड़े चेहरे जिनकी किस्मत आज EVM में हो जाएगी कैद

    Lok Sabha Election 2019 Phase 7: 10 बड़े चेहरे जिनकी किस्मत आज EVM में हो जाएगी कैद

    रविवार यानी आज लोकसभा चुनावों के आखिरी चरण के लिए मतदान शुरू हो गया है. कुल 59 सीटों पर आज मतदान हो रहा है. वोटों की गिनती 23 मई को होगी. खास बात ये है कि आज पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी वोट डाले जा रहे हैं, जहां से पीएम दोबारा उम्मीदवार हैं. आज के मतदान से कई बड़े नेताओं की किस्मत का चुनाव होगा जिनमें पीएम मोदी, शत्रुघ्न सिन्हा, सुखबीर सिंह बादल, मनीष तिवारी, किरण खेर अभिषेक बनर्जी, सनी देओल, मीसा भारती, रविशंकर प्रसाद और रवि किशन प्रमुख हैं. सातवें चरण में पंजाब में 13, उत्तर प्रदेश में 13, पश्चिम बंगाल में नौ, बिहार और मध्य प्रदेश में आठ-आठ, हिमाचल प्रदेश में चार, झारखंड में तीन और चंडीगढ़ की एकमात्र लोकसभा सीट पर मतदान हो रहा है. इस चरण में 918 उम्मीदवार अपने किस्मत आजमा रहे हैं. रविवार को ही पणजी विधानसभा सीट के लिए वोट डाले जा रहे हैं, जो पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद रिक्त हो गई थी. इसके साथ ही तमिलनाडु की चार विधानसभा सीटों-सुलूर, अरवाकुरुचि, ओत्तापिदरम (सुरक्षित) और तिरुपरंकुंद्रम पर भी रविवार को उपचुनाव होगा. यूपी में वाराणसी के अलावा गाजीपुर, मिर्जापुर, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, चंदौली और रॉबर्ट्सगंज सीटों के लिये मतदान शुरू हो चुका है.

  • Lok Sabha Election 2019 Phase 7: 10 करोड़ से ज्यादा वोटर करेंगे 918 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला, जानिए 11 बड़ी बातें

    Lok Sabha Election 2019 Phase 7: 10 करोड़ से ज्यादा वोटर करेंगे 918 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला, जानिए 11 बड़ी बातें

    19 मई यानी आज लोकसभा चुनावों के आखिरी चरण के लिए मतदान शुरू हो गया है. आज का चुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि आज पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी वोट डाले जा रहे हैं, जहां से पीएम दोबारा उम्मीदवार हैं. कुल 59 सीटों पर आज मतदान हो रहा है. वोटों की गिनती 23 मई को होगी. सातवें चरण में पंजाब में 13, उत्तर प्रदेश में 13, पश्चिम बंगाल में 9, बिहार और मध्य प्रदेश में 8-8, हिमाचल प्रदेश में 4, झारखंड में 3 और चंडीगढ़ की एक मात्र लोकसभा सीट पर मतदान हो रहा है. रविवार को ही पणजी विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव है जो पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद खाली हो गई थी. आज के मतदान से कई बड़े नेताओं की किस्मत का चुनाव होगा जिनमें केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा, यूपी भाजपा के मुखिया महेंद्र नाथ पांडेय, सुखबीर सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल, हरदीप सिंह पुरी, किरण खेर, पवन सिंह बंसल, सनी देओल, शत्रुघ्न सिन्हा और भगवंत मान समेत कई प्रमुख नाम हैं.

  • Lok Sabha Election 2019 का आखिरी चरण आज, पीएम मोदी समेत कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

    Lok Sabha Election 2019  का आखिरी चरण आज, पीएम मोदी समेत कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

    Lok Sabha Election 2019: सातवें चरण में पंजाब में 13, उत्तर प्रदेश में 13, पश्चिम बंगाल में नौ, बिहार और मध्य प्रदेश में आठ-आठ, हिमाचल प्रदेश में चार, झारखंड में तीन और चंडीगढ़ की एकमात्र लोकसभा सीट पर मतदान होगा. इस चरण में 10.01 करोड़ से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे और वे 918 उम्मीदवारों की चुनावी किस्मत का फैसला करेंगे. निर्वाचन आयोग ने मतदान सुगम तरीके से संपन्न कराने के लिए 1.12 लाख मतदान केंद्र बनाए हैं.

  • मध्य प्रदेश: वोट डालने नहीं पहुंच सके दिग्विजय सिंह, बोले- मैं नर्वस नहीं हूं

    मध्य प्रदेश: वोट डालने नहीं पहुंच सके दिग्विजय सिंह, बोले- मैं नर्वस नहीं हूं

    लोकसभा चुनाव के 6वें चरण में भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार और एमपी के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह अपने गृहक्षेत्र राजगढ़ में वोट डालने नहीं पहुंच सके. उन्होंने एनडीटीवी से कहा , मैं नर्वस नहीं हूं और वोटिंग बहुत अच्छी रही है.

  • मध्य प्रदेश : 4 दिन पहले बसपा छोड़ कांग्रेस में आए वरिष्ठ नेता की हत्या, मचा हड़कंप

    मध्य प्रदेश : 4 दिन पहले बसपा छोड़ कांग्रेस में आए वरिष्ठ नेता की हत्या, मचा हड़कंप

    बीते 12 मार्च को ही दमोह में मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में बसपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए 54 वर्षीय देवेन्द्र चौरसिया (Devendra Chaurasiya) की शुक्रवार को हटा कस्बे में कथित रूप से हत्या कर दी गई. इस मामले में पुलिस ने दमोह की पथरिया विधानसभा सीट से बसपा विधायक रामबाई के पति और तीन परिजन सहित सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

  • चुनाव में जिन मामलों पर 'शिवराज सरकार' को घेरा था, उन्हीं मुद्दों पर 'कमलनाथ सरकार' की मुश्किलें बढ़ी

    चुनाव में जिन मामलों पर 'शिवराज सरकार' को घेरा था, उन्हीं मुद्दों पर 'कमलनाथ सरकार' की मुश्किलें बढ़ी

    मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने मंदसौर के किसान गोलीकांड और नर्मदा नदी के तट पर हुए पौधरोपण में भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाया था, मगर मंत्रियों के बयानों ने कमलनाथ सरकार की मुसीबतें बढ़ा दी हैं, क्योंकि गृह और वन मंत्री के बयानों ने पूर्ववर्ती सरकार का परोक्ष रूप से बचाव जो किया है. कांग्रेस के बड़े नेताओं ने ही सरकार पर सवाल उठा दिए हैं. राज्य सरकार के दो मंत्रियों के बयान कांग्रेस की मंशा के अनुरूप नहीं रहे. भाजपा विधायक हर्ष विजय गहलोत के सवाल पर गृहमंत्री बाला बच्चन ने लिखित में जवाब देते हुए कहा था, "मंदसौर के पिपलिया मंडी में अनियंत्रित भीड़ को नियंत्रित करने और सरकार व निजी संपत्ति की रक्षा के लिए पुलिस ने आत्मरक्षार्थ गोली चलाई थी. गोली चलाने का आदेश मल्हारगढ़ के तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी, राजस्व (एसडीएम) श्रवण भंडारी ने दिया था."

  • लोकसभा चुनाव 2019 : छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के वोट प्रतिशत से कांग्रेस को बड़ी उम्मीद

    लोकसभा चुनाव 2019 : छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के वोट प्रतिशत से कांग्रेस को बड़ी उम्मीद

    लोकसभा चुनाव 2019 के मैदान में जहां प्रियंका गांधी वाड्रा  के उतरने से उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को थोड़ी ऊर्जा मिली है, वहीं राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस के लिए थोड़ी राहत और थोड़ी चिंता की बात दोनों हो सकती है. राजस्थान में जहां गुर्जर आरक्षण आंदोलन से राज्य सरकार जूझ रही है वहीं किसानों के कर्ज माफी के मुद्दे पर मध्य प्रदेश में भी सरकार  को कई जगहों पर नाराजगी झेलनी पड़ रही है.

Advertisement