NDTV Khabar

महागठबंधन


'महागठबंधन' - 625 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • एक ही झटके में महागठबंधन धड़ाम! विधानसभा की ये 11 सीटें बनीं वजह

    एक ही झटके में महागठबंधन धड़ाम! विधानसभा की ये 11 सीटें बनीं वजह

    उत्तर प्रदेश में 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उप चुनाव को लेकर सपा-बसपा गठबंधन टूट गया है. लोकसभा चुनाव में बड़े जोर-शोर से बने इस गठबंधन में आरएलडी भी शामिल थी. जिस दिन गठबंधन हुआ था उस दिन ऐसा लग रहा था कि अब यह महागठबंधन उत्तर प्रदेश की राजनीति ही नहीं पूर देश में असर डालेगा और बीएसपी सुप्रीमो मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की बातों से ऐसा लग रहा था कि दोनों के बीच अच्छा समन्वय है और लोकसभा चुनाव में दोनों मिलकर पीएम मोदी के विजय रथ को रोक देंगे.

  • मंत्री पद को लेकर BJP से 'नाराज' चल रहे नीतीश को मिला लालू का न्योता, कहा- फिर एकजुट होने का समय

    मंत्री पद को लेकर BJP से 'नाराज' चल रहे नीतीश को मिला लालू का न्योता, कहा- फिर एकजुट होने का समय

    लोकसभा चुनाव में बहुमत के साथ जीत के बाद भाजपा ने अपने सभी सहयोगी दलों को एक-एक मंत्री पद का ऑफर दिया है, लेकिन इसको लेकर नीतीश कुमार नाराज दिख रहे हैं. नीतीश कुमार ने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया था कहा कि जदयू सरकार का हिस्सा नहीं बनेगी. नीतीश की पार्टी को साल 2017 में भी मोदी सरकार का हिस्सा नहीं बनाया गया था, जब उन्होंने कांग्रेस और लालू यादव का साथ छोड़कर भाजपा से हाथ मिलाया था. इस बार उम्मीद थी कि उन्हें इसका फल मिलेगा. विशेषकर तब जब लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने 17 में से 16 सीटों पर जीत हासिल की है.

  • SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    यूपी में बना महागठबंधन लोकसभा चुनावों में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. इसके लेकर बीजेपी ने तंज कसा है. मायावती (Mayawati) के फैसले के बाद प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने तंज कसते हुए कहा, 'चुनाव के पहले जो गठबंधन हुआ था हार के बाद आज वह अंतिम सांसे, अंतिम हिचकियां ले रहा है, एक तरह से वह वेंटिलेटर पर है, कभी भी, वेंटिलेटर पर जो हिचकियां है वह और बढ़ सकती है.'

  • यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी में बना महागठबंधन (Mahagathbandhan) पहले लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections) में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के साथ-साथ कई नेताओं ने बुआ-बबुआ की जोड़ी को चुनाव परिणाम के बाद टूटने की बात कही थी. बता दें कि दिल्ली में कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में मायावती (Mayawati) ने साफ कर दिया कि विधानसभा की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनावों में BSP अकेले लड़ेगी. वैसे ये भी एक नया चलन है, क्योंकि बीएसपी (BSP) आम तौर पर उपचुनाव लड़ने से अब तक परहेज करती रही है, लेकिन आज की बैठक में मायावती ने जो कुछ कहा, उससे साफ है कि वो नई राजनीतिक लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही हैं और गठबंधन उनके लिए अप्रासंगिक हो रहा है. बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले 12 जनवरी को उत्तर प्रदेश की राजनीति के दो कट्टर प्रतिद्वंद्वी समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने मिलकर आम चुनाव लड़ने का ऐतिहासिक फैसला लिया था, लेकिन चुनाव में इस गठबंधन को उम्मीद के मुताबिक कामयाबी नहीं मिली. बसपा के खाते में 10 सीटें आईं, जबकि सपा को 5 सीट से ही संतोष करना पड़ा. हालांकि गठबंधन तोड़ने का ऐलान अभी तक बसपा प्रमुख मायावती ने औपचारिक रूप से नहीं किया है. इन सबके बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी की यह भविष्यवाणी सच साबित हो गई कि चुनाव बात यह गठबंधन टूट जाएगा. पीएम मोदी के साथ-साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी चुनाव बाद इस गठबंधन के टूटने की बात कही थी.

  • लोकसभा चुनाव में हार के बाद महागठबंधन में रार, मांझी बोले तेजस्वी तो...

    लोकसभा चुनाव में हार के बाद महागठबंधन में रार, मांझी बोले तेजस्वी तो...

    महागठबंधन में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने गुरुवार को स्पष्ट कहा कि 2020 में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन का नेता अभी तक तय नहीं हुआ है.

  • बिहार में महागठबंधन की बैठक में शामिल नहीं हुई कांग्रेस, तेजस्वी के नेतृत्व को लेकर भी असंतोष

    बिहार में महागठबंधन की बैठक में शामिल नहीं हुई कांग्रेस, तेजस्वी के नेतृत्व को लेकर भी असंतोष

    लोकसभा चुनाव में भारी हार के बाद बिहार के महागठबंधन के अंदर का असंतोष बुधवार को सामने दिखा और कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित सहयोगी दलों की बैठक में भाग नहीं लिया.

  • एक चुनाव से सूपड़ा साफ नहीं होता, जीत का रास्ता दिखाती है हार : तेजस्वी यादव

    एक चुनाव से सूपड़ा साफ नहीं होता, जीत का रास्ता दिखाती है हार : तेजस्वी यादव

    बिहार (Bihar) में करारी हार के बाद बुधवार को आरजेडी और उनके सहयोगी दलों के बीच दो दिवसीय समीक्षा इस बात पर समाप्त हुई कि जो पराजय हुई उसकी कल्पना या अनुमान किसी को नहीं था और हार से ही जीत का रास्ता खुलता है. तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) ने कहा कि एक चुनाव से सूपड़ा साफ नहीं होता.

  • 'बिहार में महागठबंधन की हार के लिए तेजस्वी यादव नहीं, षड्यंत्र जिम्मेदार'

    'बिहार में महागठबंधन की हार के लिए तेजस्वी यादव नहीं, षड्यंत्र जिम्मेदार'

    बिहार में भले महागठबंधन को करारी हार का मुंह देखना पड़ा हो लेकिन महागठबंधन के प्रचार की कमान संभाल रहे राजद के वरिष्ठ नेता और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को इसकी ज़िम्मेदारी लेने की कोई ज़रूरत नहीं है. राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेताओं ने सभी 19 पराजित उम्मीदवारों के साथ मंगलवार को एक समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया है.

  • करारी शिकस्त के बाद RJD में अंदरूनी कलह, पार्टी विधायक ने तेजस्वी से मांगा इस्तीफा, कहा- परिवारवाद के कारण....

    करारी शिकस्त के बाद RJD में अंदरूनी कलह, पार्टी विधायक ने तेजस्वी से मांगा इस्तीफा, कहा- परिवारवाद के कारण....

    लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद RJD में अंदरूनी कलह और बगावती तेवर भी दिखने शुरू हो गए हैं. पार्टी के एक विधायक ने पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) से बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष पद से इस्तीफा मांगा है.

  • समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ आखिर वही हुआ जिसका मार्च में लगाया गया था अंदाजा

    समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ आखिर वही हुआ जिसका मार्च में लगाया गया था अंदाजा

    लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी के बीच सीटों का जिस तरह से बंटवारा  हुआ था उसे देखकर ऐसा लग गया था अखिलेश यादव मायावती की चतुराई समझ नहीं पाए हैं. एनडीटीवी ने 4 मार्च 2019 को ही सीटों का विश्लेषण कर अंदाजा लगाया गया था कि सपा की क्या हालत हो सकती है. रिपोर्ट में कहा गया था कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने सीटों के बंटवारे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से बाजी मार ली है. शायद इस हालात को सपा के सबसे वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव भांप गए थे. यही वजह है कि उन्होंने टिकटों के गलत बंटवारे की बात कही थी. दरअसल सपा के खाते में कई सीटें ऐसी आई थीं जहां पर उसका प्रदर्शन पहले बहुत ही खराब था और सीट बंटवारे में मायावती ने वो सारी सीटें ले लीं, जहां जातीय गणित के लिहाज से जीत का भरोसा था.

  • तेजस्वी के नेतृत्व में बिहार में RJD की करारी हार के बाद अब बड़े भाई तेज प्रताप करेंगे यह काम...

    तेजस्वी के नेतृत्व में बिहार में RJD की करारी हार के बाद अब बड़े भाई तेज प्रताप करेंगे यह काम...

    बिहार में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के नेतृत्व में राजद (RJD) की करारी हार के बाद लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) एक बार फिर से पटना स्थित पार्टी के प्रदेश कार्यालय में 'जनता दरबार' लगाएंगे.

  • चुनाव परिणाम के बाद तनाव में RJD प्रमुख लालू यादव, दोपहर का खाना तक छोड़ा

    चुनाव परिणाम के बाद तनाव में RJD प्रमुख लालू यादव, दोपहर का खाना तक छोड़ा

    Lalu Yadav News: लोकसभा चुनाव (Lok sabha Elections) में राजद (RJD) की करारी हार के बाद पार्टी प्रमुख लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) तनाव में हैं.

  • लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद बिहार में राजनीतिक उठापटक शुरू, उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी के तीन विधायक जद (यू) में शामिल

    लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद बिहार में राजनीतिक उठापटक शुरू, उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी के तीन विधायक जद (यू) में शामिल

    विजय कुमार चौधरी और रशीद ने कहा, 'विधायकों ने जद (यू) से अनुमोदन के पत्र भी संलग्न किए थें. उन्हें औपचारिकताओं के लिए व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के लिए कहा गया था. इसलिए उन्हें जद (यू) विधायक माना जाएगा.'

  • लालू प्रसाद की अनुपस्‍थ‍िति या तेज प्रताप का विद्रोह, आखिर कैसे डूबी बिहार में महागठबंधन की नैया?

    लालू प्रसाद की अनुपस्‍थ‍िति या तेज प्रताप का विद्रोह, आखिर कैसे डूबी बिहार में महागठबंधन की नैया?

    लालू प्रसाद यादव जेल में सजा काट रहे हैं. यह पहला मौका है जब किसी चुनाव में लालू प्रसाद यादव रैली, सभा से दूर रहे. इसका नुकसान उनकी पार्टी राष्‍ट्रीय जनता दल समेत उनके सहयोगी दलों को भी उठाना पड़ा. चुनावी समर में नेतृत्‍व उनके बेटे तेजस्‍वी यादव के कंधों पर था. अभी तक चली आ रही जातिगत समीकरण पर आधारित राजनीति ने सभी दलों को उसके हिसाब से चुनावी मैदान में उम्‍मीदवार उतारने को विवश कर दिया. चाहे एनडीए हो या यूपीए, किसी ने उस फार्मूले से किनारा नहीं किया.

  • Results 2019: ...तो इस वजह से बिहार में हुई महागठबंधन की दुर्गति

    Results 2019: ...तो इस वजह से बिहार में हुई महागठबंधन की दुर्गति

    बिहार में शायद 1991 के बाद इस बार के लोकसभा चुनाव का परिणाम होगा जहां सत्तारूढ़ दल ने विपक्ष को मात्र एक सीट पर समेट दिया. 1991 के चुनाव में सामाजिक न्याय की हवा और लालू यादव के नेतृत्व के कारण कांग्रेस पार्टी एक मात्र बेगूसराय की सीट जीत पायी थी और भाजपा को चार सीटें अब के झारखंड में मिली थीं. लेकिन इस बार भी उसी कांग्रेस पार्टी को किशनगंज सीट से संतोष करना पड़ा. लेकिन इस बार के बाद सब इस पराजय का कारण जानने में लगे हैं लेकिन सरसरी नज़र से देखें तो इस परिणाम के कारण कुछ यूं हैं...

  • मजबूत महागठबंधन और गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से परेशान थी BJP,तब अमित शाह ने निकाला पुराना फॉर्मूला

    मजबूत महागठबंधन और गोरखपुर-फूलपुर के नतीजों से परेशान थी BJP,तब अमित शाह ने निकाला पुराना फॉर्मूला

    लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन को आपेक्षित सफलता नहीं मिली है. इन दलों की 80 सीटों पर जातिगत गोलबंदी की कोशिश सफल नहीं हो सकी. जातियों में बंटी इन दोनों पार्टियों का हर समीकरण धरातल पर नाकाम साबित हुआ. इस तरह सपा-बसपा गठबन्धन के जातीय समीकरण के मिथक ध्वस्त हो गए. दोनों दल राज्य में हो रहे परिवर्तन को समझने में नाकाम रहे. वे लोगों तक अपनी बात को जनता तक पहुंचाने में कामयाब नहीं हो सके. दलित, पिछड़ा और मुस्लिम वोटों की फिराक में हुए इस गठबन्धन के सारे गणित ध्वस्त हो गए. गठबन्धन में कांग्रेस को शामिल न करना भी कुछ हदतक नुकसानदायक गया है. कांग्रेस के उतारे प्रत्याशी किसी-किसी सीट पर सपा बसपा पर भारी पड़ते दिखे. वह इनके लिए सचमुच वोटकटवा साबित हुए हैं. लेकिन बीजेपी के लिए उत्तर प्रदेश में लड़ाई बिलकुल आसान नहीं थी. गोरखपुर-फूलपुर और कैराना में हुए उपचुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में बीजेपी के पक्ष में माहौल बिलकुल नहीं था.

  • उत्तर प्रदेश : मछलीशहर में बीएसपी से मात्र 181 वोटों से जीती BJP, पढ़ें ऐसी ही सीटें जहां कुछ भी हो सकता था

    उत्तर प्रदेश : मछलीशहर में बीएसपी से मात्र 181 वोटों से जीती BJP, पढ़ें ऐसी ही सीटें जहां कुछ भी हो सकता था

    उत्तर प्रदेश में बीजेपी तमाम कयासों और गढ़बंधन के चक्रव्यूह के बाद भी 62 सीटें  जीतने में कामयाब रही जबकि राजनीतिक पंडित 40 से ऊपर नहीं दे रहे थे.  इन 61 सीटों में तकरीबन 16 ऐसी सीटे हैं जो 50 हज़ार से काम की हार जीत वाली रहीं. जबकि 2 ऐसी है जो 50 हज़ार से ज़्यादा लेकिन 60 हज़ार कम की हार जीत वाली रहीं.  कहने का मतलब ये कि यहां कांटे की लड़ाई रही इस लड़ाई में भाजपा का पलड़ा ज़्यादा भारी रहा और नतीजों में बीजेपी 62, अपना दल 2, बसपा 10, सपा को 5 सीटें मिलीं. आपको बता दें कि अपना दल ने बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ी हैं.

  • बॉलीवुड एक्टर ने विपक्ष को दी सलाह, बोले- मायावती, अखिलेश, केजरीवाल, ममता अब हो जाएं रिटायर

    बॉलीवुड एक्टर ने विपक्ष को दी सलाह, बोले- मायावती, अखिलेश, केजरीवाल, ममता अब हो जाएं रिटायर

    बॉलीवु़ड एक्टर कमाल आर खान (Kamaal R Khan) ने भी लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के अब तक के नतीजों में बीजेपी (BJP) की बढ़त पर उसकी तारीफ की है. इसके साथ ही उन्होंने (Kamaal R Khan)अपने ट्वीट के जरिए विपक्ष और महागठबंधन पर भी निशाना साधा है.