NDTV Khabar

मायावती सरकार


'मायावती सरकार' - 350 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • सुशांत सिंह राजपूत केस के बहाने मायावती ने साधा कांग्रेस पर निशाना, CBI जांच की मांग की

    सुशांत सिंह राजपूत केस के बहाने मायावती ने साधा कांग्रेस पर निशाना, CBI जांच की मांग की

    बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कांग्रेस पर हमला बोला है. उन्होंने मामले में सीबीआई जांच की बात करते हुए कांग्रेस पर मामले में राजनीतिक स्वार्थ साधने का आरोप लगाया है. उन्होंने गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा कि बेहतर होगा कि मामले की जांच सीबीआई करे.

  • क्या इस कानूनी दलील से मायावती कर पाएंगी कांग्रेस से पुराना हिसाब चुकता?

    क्या इस कानूनी दलील से मायावती कर पाएंगी कांग्रेस से पुराना हिसाब चुकता?

    राजस्थान में सचिन पायलट और उनके साथ 18 विधायकों की बगावत का सामना कर रही कांग्रेस और सीएम अशोक गहलोत ने राज्यपाल को 102 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी देकर विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की है. दरअसल सीएम अशोक गहलोत विधानसभा सत्र शक्ति परीक्षण कराने चाहते हैं. लेकिन राज्यपाल को दी गई चिट्ठी में फ्लोर टेस्ट का कोई जिक्र नहीं है. लेकिन  हो सकता है सत्र के दौरान ही सरकार किसी पेडिंग बिल को पास कराने के लिए व्हिप जारी कर दे. ऐ

  • 'तुम कार पलटो, हम सरकार पलटेंगे' : उत्तर प्रदेश की राजनीति में 'ब्राह्मण कार्ड'?

    'तुम कार पलटो, हम सरकार पलटेंगे' : उत्तर प्रदेश की राजनीति में 'ब्राह्मण कार्ड'?

    उत्तर प्रदेश पुलिस ने बीती 3 जुलाई को बिकरू गांव में विकास दुबे को पकड़ने के दौरान हुई मुठभेड़ में जान गंवाने वाले 8 पुलिसकर्मियों से लूटे गए असलहे बरामद कर लिए हैं. इनमें एके-47 और इनसास राइफलें शामिल हैं. दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में गैगंस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) के एनकाउंटर पर नई ब्राह्णण राजनीति शुरू हो गई है. सोशल मीडिया पर एक वर्ग ने विकास को 'ब्राह्मण टाइगर' का खिताफ दे दिया है. कुछ ब्राह्मण समुदाय के लोग फेसबुक पर योगी सरकार को गिराने की धमकी दे रहे हैं. कुछ कांग्रेसी नेताओं को इसमें अच्छी राजनीतिक संभावना दिख रही है. लेकिन सवाल इस बात है कि क्या 8 ब्राह्मणों के हत्यारे विकास दुबे की मौत से क्या ब्राह्मण सरकार से नाराज हो जाएगा. क्या इससे ब्राह्मण रंग देने वालों के खिलाफ दूसरी जातियां लामबंद नहीं होंगी? लेकिन इन सब बातों को नजरंदाज कर यूपी में खुलकर ब्राह्मण कार्ड खेला जा रहा है कुछ लोगों ने तो सीधे विकास दुबे को महिमामंडित भी करना शुरू कर दिया है.  

  • मध्य प्रदेश और कर्नाटक की तरह राजस्थान में BJP के लिए राह नहीं आसान, लेकिन मायावती जरूर खुश होंगी

    मध्य प्रदेश और कर्नाटक की तरह राजस्थान में BJP के लिए राह नहीं आसान, लेकिन मायावती जरूर खुश होंगी

    राजस्थान में अशोक गहलोत की अगुवाई में चल रही कांग्रेस की सरकार अपने ही उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की वजह से संकट में दिखाई दे रही है. मध्य प्रदेश के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया तरह सचिन पायलट ने बगावत कर दी है और उनकी ओर से दावा किया जा रहा है कि उनके समर्थन में 30 विधायक हैं और उन्होंने साफ ऐलान कर दिया है कि आज होने वाली कैबिनेट की बैठक में वह हिस्सा नहीं लेंगे. दरअसल राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से ही सचिन पायलट के मन में एक तरह से कुलबुलाहट चल रही थी जो बीच-बीच में सबके सामने भी आई. एक समय खुद को राजस्थान के सीएम पद के लिए खुद को प्रबल दावेदार मान रहे सचिन पायलट को कांग्रेस आलाकमान ने झटका देते हुए अशोक गहलोत को सीएम बना दिया. बात यहीं से बिगड़ने शुरू हो गई. 

  • उत्तर प्रदेश सरकार विकास दुबे कांड की आड़ में राजनीति नहीं करे : मायावती

    उत्तर प्रदेश सरकार विकास दुबे कांड की आड़ में राजनीति नहीं करे : मायावती

    कानपुर (Kanpur) के कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) की कथित एनकाउंटर (Encounter) में मौत को लेकर यूपी पुलिस पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं. इसको लेकर बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख मायावती (Mayawati) ने भी उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा है कि यूपी सरकार विकास दुबे कांड की आड़ में राजनीति नहीं करे. सरकार ऐसा कोई काम नहीं करे जिससे अब ब्राह्मण समाज भी यहां अपने आपको भयभीत, आतंकित व असुरक्षित महसूस करे.

  • लद्दाख मामले पर बोलीं मायावती परिपक्वता के साथ काम करे विपक्ष, सरकार पर छोड़ें आगे क्या करना है 

    लद्दाख मामले पर बोलीं मायावती परिपक्वता के साथ काम करे विपक्ष, सरकार पर छोड़ें आगे क्या करना है 

    मायावती ने कहा कि ऐसे कठिन व चुनौती भरे समय में भारत सरकार की अगली कार्रवाई के सम्बंध में लोगों व विशषज्ञों की राय अलग-अलग हो सकती है, लेकिन मूल रूप से यह सरकार पर छोड़ देना बेहतर है कि वह देशहित व सीमा की रक्षा हर हाल में करे, जो कि हर सरकार का दायित्व भी है.

  • दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज का फैसला 'दुर्भाग्यपूर्ण' : मायावती

    दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के लोगों का ही इलाज का फैसला 'दुर्भाग्यपूर्ण' : मायावती

    दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों के इलाज करने के अरविंद केजरीवाल सरकार के फैसले को बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने दुर्भाग्यपूर्ण कहा है. मायावती ने अपने आधिकारिक ट्विवटर हैंडल पर कहा, कि यदि कोई व्यक्ति अचानक बीमार पड़ जाता है तो उसको यह कहकर कि वह दिल्ली का नहीं है इसलिए दिल्ली सरकार उसका इलाज नहीं होने देगी, यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण है. केन्द्र को इसमें जरूर दखल देना चाहिये. उन्होंने कहा, 'दिल्ली देश की राजधानी है। यहाँ पूरे देश से लोग अपने जरूरी कार्यों से आते रहते हैं। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति अचानक बीमार पड़ जाता है तो उसको यह कहकर कि वह दिल्ली का नहीं है इसलिए दिल्ली सरकार उसका इलाज नहीं होने देगी, यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण। केन्द्र को इसमें जरूर दखल देना चाहिये.

  • मायावती ने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत, साथ ही कहा- गरीबों को मिलना चाहिए लाभ जो नहीं मिल रहा

    मायावती ने किया मोदी सरकार के कदम का स्वागत, साथ ही कहा- गरीबों को मिलना चाहिए लाभ जो नहीं मिल रहा

    उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार के उस फैसले का स्वागत किया है जिसके मुताबिक एक साल नई योजनाओं में पैसा खर्च नहीं किया जाएगा. केवल पीएम गरीब कल्याण पैकेज और आत्मनिर्भर भारत अभियान पैकेज पर ही खर्च किया जाएगा. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि यह कदम स्वागतयोग्य है लेकिन इसका लाभ गरीबों, मजदूरों और बेरोजगारों को मिलना चाहिए जो कि नहीं रहा है.   न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक मायावती ने कहा कि  जब प्रवासी मज़दूर आ रहे थे तब खासकर उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बात पर जोर दिया था कि प्रवासी लोगों का उनकी योग्यता के हिसाब से रजिस्ट्रेशन होना चाहिए और इन्होंने रजिस्ट्रेशन कराया भी. 

  • मोदी 2.0 की पहली वर्षगांठ: मायावती ने BJP पर साधा निशाना- गरीबों, प्रवासी मजदूरों का जीवन पहले से भी कष्ठदायक

    मोदी 2.0 की पहली वर्षगांठ: मायावती ने BJP पर साधा निशाना- गरीबों, प्रवासी मजदूरों का जीवन पहले से भी कष्ठदायक

    अपने ट्विटर अकाउंट पर मायावती ने लिखा कि केन्द्र में बीजेपी सरकार का एक वर्ष पूरा होने पर आज अनेकों दावे किए गए हैं लेकिन वे जमीनी हकीकत व जनता की सोच से दूर न हों तो बेहतर है. वैसे इनका यह कार्यकाल अधिकतर मामलों में काफी विवादों से घिरा रहा है जिनपर इनको देश व आमजनहित में जरूर गम्भीरता से चिन्तन करना चाहिए. 

  • प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और कांग्रेस पर क्यों बरस रही हैं BSP सुप्रीमो मायावती, बीते साल फरवरी में ऐसा क्या हुआ था

    प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और कांग्रेस पर क्यों बरस रही हैं BSP सुप्रीमो मायावती, बीते साल फरवरी में ऐसा क्या हुआ था

    बीएसपी सुप्रीमो मायावती को इस समय कांग्रेस फूटी आंखों नहीं सुहा रही है. राजस्थान के कोटा से छात्रों के लाने के मुद्दे से लेकर यूपी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की ओर से बसें भेजे जाने तक, हर चीज पर मायावती कांग्रेस पर ही दोष मढ़ने से नहीं चूक रही हैं. हालांकि उनके निशाने पर बीजेपी सरकार भी है. यह विपक्ष में होने के नाते उनकी एक जिम्मेदारी भी है कि सरकार को कटघरे में खड़ा करें.

  • योगी आदित्यनाथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बैठक की तस्वीर देखकर खुश हुए होंगे?

    योगी आदित्यनाथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की बैठक की तस्वीर देखकर खुश हुए होंगे?

    अगर आप सोच रहे होंगे कि कोरोना वायरस से जूझ रहे देश में राजनीतिक पार्टियां चुनावी गुणा-भाग में नहीं लगीं है तो आप गलत साबित हो सकते हैं क्योंकि राजनीति में जब कुछ न होता दिख रहा है तो उसे शांत जल की तरह समझना चाहिए जिसमें धाराएं एक दूसरे को अंदर ही अंदर काटती रहती हैं. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 22022 में होने हैं, लेकिन राजनीतिक दलों ने हमेशा की तरह अपने मुद्दे तलाशने शुरू कर दिए हैं. कोरोना संकट के बीच कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को जमकर घेरा है. लेकिन इसमें उनका साथ देने के लिए राज्य के दो प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी सामने नहीं आए. 

  • मायावती ने कांग्रेस पर साधा जोरदार निशाना, ट्वीट कर लिखा- 'दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद...'

    मायावती ने कांग्रेस पर साधा जोरदार निशाना, ट्वीट कर लिखा- 'दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद...'

    कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच कई राज्यों में फंसे यूपी प्रवासियों को वापस अपने राज्य लौटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने सैकड़ों बसें चलाई. राजस्थान के कोटा में अभी भी कई छात्र-छात्राएं फंसे हुए हैं और उन्हें वापस बुलाने को लेकर दोनों राज्यों में तल्खी जारी है.

  • 'मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार और अमीरों के लिए दयावान', औरंगाबाद रेल हादसे पर मायावती ने जताई नाराज

    'मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार और अमीरों के लिए दयावान', औरंगाबाद रेल हादसे पर मायावती ने जताई नाराज

    मायावती ने शुक्रवार को कहा, ‘‘इस बीमारी के दौरान जो सबसे ज्यादा दुखी नजर आ रहे हैं, वे गरीब मजदूर हैं. वे अपनी रोजी रोटी के लिये अपने घर छोड़कर दूसरे प्रदेशों में गये हुये थे. प्रवासी मजदूर बहुत ज्यादा दुखी नजर आ रहे हैं और उनके साथ केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार जो बर्ताव कर रही है वह बहुत गलत है. सरकार ने इन लोगों के भोजन की भी उचित व्यवस्था नहीं की है, जिसकी वजह से ये भूख से तड़प रहे हैं."

  • 'कोटा में फंसे छात्रों को निकालना यूपी सरकार का स्वागत योग्य कदम, मज़दूर परिवारों के लिए भी हो चिंता'

    'कोटा में फंसे छात्रों को निकालना यूपी सरकार का स्वागत योग्य कदम, मज़दूर परिवारों के लिए भी हो चिंता'

    उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राजस्थान के कोटा में फंसे राज्य के छात्रों को वापस लाने के लिये बसें भेजने के फैसले का शनिवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने स्वागत किया और साथ ही यह भी मांग की कि ऐसे ही कदम उन मजदूरों के लिये भी उठायें जायें जो अपने घरों से दूर फंसे हुये हैं.  शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने 250 बसें कोटा राजस्थान में फंसे 7,500 छात्रों के लिये भेजी थी. यह छात्र वहां कोचिंग में पढ़ाई कर रहे थे और लॉकडाउन के कारण फंसे हुये थे.  शनिवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया, 'कोचिंग पढ़ने वाले लगभग 7,500 युवकों को लॉकडाउन से निकालने व उन्हें सुरक्षित घरो में भेजने के लिए यूपी सरकार ने, काफी बसें कोटा, राजस्थान भेजी है. यह स्वागत योग्य कदम है. बीएसपी इसकी सराहना भी करती है.'

  • MP: कांग्रेस में सियासी उठापटक के बीच गुरुग्राम के फाइव स्टार होटल के बाहर हाई वोल्टेज ड्रामा, देर रात 'डैमेज कंट्रोल' शुरू

    MP: कांग्रेस में सियासी उठापटक के बीच गुरुग्राम के फाइव स्टार होटल के बाहर हाई वोल्टेज ड्रामा, देर रात 'डैमेज कंट्रोल' शुरू

    कल रात करीब दो बजे दोनों नेता रमाबाई के साथ होटल से बाहर आते हुए दिखे. रमाबाई मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से निष्कासित विधायक हैं.

  • पीएम मोदी के सोशल मीडिया छोड़ने के फैसले को मायावती ने बताया 'राजनीतिक स्वार्थ'

    पीएम मोदी के सोशल मीडिया छोड़ने के फैसले को मायावती ने बताया 'राजनीतिक स्वार्थ'

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सोशल मीडिया छोड़ने पर विचार करने की बातों के बीच बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने तंज करते हुये कहा कि यह कदम वास्तव में उनकी पार्टी और सरकार की कमियों से जनता का ध्यान बंटाने का एक और राजनीतिक स्वार्थ भरा प्रयास ही ज्यादा लगता है.

  • दिल्ली के दंगों के मद्देनजर यूपी के अयोध्या, काशी, मथुरा समेत कई संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षा बढ़ी

    दिल्ली के दंगों के मद्देनजर यूपी के अयोध्या, काशी, मथुरा समेत कई संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षा बढ़ी

    दिल्ली हाईकोर्ट के बाद अब मायावती ने दिल्ली को दंगों को 1984 के सिख विरोधी दंगों जैसा बताया है. जबकि समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बीजेपी ने पोलराइज़ेशन करने और मुद्दों से ध्यान हटाने लिए दंगे करवाए हैं. उधर दिल्ली दंगों के मद्देनज़र यूपी में अयोध्या,काशी, मथुरा समेत सभी संवेदनशील जिलों में सिक्यूरिटी और निगरानी बढ़ा दी गई है. बंटवारे के बाद पहली बार दिल्ली में हिंदू-मुस्लिम दंगे हुए. उस दिल्ली में जिसमें प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, राष्ट्रपति और पूरी केन्द्र सरकार रहती है.

  • आरक्षण के मुद्दे पर मायावती ने केंद्र सरकार को घेरा, लगाया उपेक्षा करने का आरोप

    आरक्षण के मुद्दे पर मायावती ने केंद्र सरकार को घेरा, लगाया उपेक्षा करने का आरोप

    मायावती ने कहा, "केंद्र के ऐसे गलत रवैये के कारण ही कोर्ट ने सरकारी नौकरी व प्रमोशन में आरक्षण की व्यवस्था को जिस प्रकार से निष्क्रिय/निष्प्रभावी ही बना दिया है उससे पूरा समाज उद्वेलित व आक्रोशित है. देश में गरीबों, युवाओं, महिलाओं व अन्य उपेक्षितों के हकों पर लगातार घातक हमले हो रहे हैं."

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com