NDTV Khabar

मुलायम सिंह


'मुलायम सिंह' - 984 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • आय से अधिक संपत्ति मामला: CBI ने मुलायम और अखिलेश यादव को दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं मिला

    आय से अधिक संपत्ति मामला: CBI ने मुलायम और अखिलेश यादव को दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं मिला

    सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में सीबीआई ने कहा है कि मुलायम सिंह और अखिलेश यादव के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए कोई सबूत नहीं मिले. सीबीआई ने अप्रैल महीने में मुलायम सिंह यादव, अखिलेश और प्रतीक यादव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामले में सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल करके बताया था कि उनके खिलाफ PE 2013 में बंद कर दी गई है.

  • Elections 2019 for Phase 6 Updates: छठे चरण में 63.3 प्रतिशत मतदान हुआ

    Elections 2019 for Phase 6 Updates: छठे चरण में 63.3 प्रतिशत मतदान हुआ

    लोकसभा चुनाव के इस चरण को भाजपा (BJP) के लिये कड़ी परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि 2014 के चुनाव में भाजपा ने इनमें से 45 सीटें जीतीं थीं जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) को आठ, कांग्रेस (Congress) को दो और समाजवादी पार्टी (SP) और लोजपा को एक-एक सीट पर जीत मिली थी. भाजपा ने 2014 के चुनाव में इस चरण में उत्तर प्रदेश की 14 में से 13 सीटों पर जीत हासिल की थी, एकमात्र अपवाद आजमगढ़ था जहां से सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) को जीत मिली थी.

  • लोकसभा चुनाव के छठे चरण में कई दिग्गजों के किस्मत का होगा फैसला, कुछ ही देर में शुरू होगा मतदान

    लोकसभा चुनाव के छठे चरण में कई दिग्गजों के किस्मत का होगा फैसला, कुछ ही देर में शुरू होगा मतदान

    भाजपा ने 2014 के चुनाव में इस चरण में उत्तर प्रदेश की 14 में से 13 सीटों पर जीत हासिल की थी, एकमात्र अपवाद आजमगढ़ था जहां से सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव को जीत मिली थी. हालांकि भाजपा को बीते साल फूलपुर और गोरखपुर संसदीय सीट पर हुए उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा था, ऐसे में भाजपा विरोधी गठबंधन इस सीट पर अपनी जीत को बरकरार रखने की उम्मीद लगाए हुए है.

  • Mulayam Singh Yadav: मुलायम सिंह यादव पहलवानी छोड़ राजनीति में कैसे आए और मैनपुरी क्यों है सपा का गढ़, जानें यहां...

    Mulayam Singh Yadav: मुलायम सिंह यादव पहलवानी छोड़ राजनीति में कैसे आए और मैनपुरी क्यों है सपा का गढ़, जानें यहां...

    मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और एक बार देश के रक्षा मंत्री के रूप में भी सेवाएं दीं.

  • VIDEO: वरुण गांधी का एक और विवादित बयान- 'जो लोग पहले सैफई में कंडे उठाते थे, आज करोड़ों की गाड़ियों में घूम रहे'

    VIDEO: वरुण गांधी का एक और विवादित बयान- 'जो लोग पहले सैफई में कंडे उठाते थे, आज करोड़ों की गाड़ियों में घूम रहे'

    चुनावी सरगर्मियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है. इस कड़ी में उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी (Varun Gandhi) के विवादित बयान का एक और वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में वरुण गांधी गठबंधन के लोगों को पाकिस्तान का बता रहे हैं. इसके अलावा उन्होंने समाजवादी पार्टी पर भी जमकर हमला बोला.

  • ...तो मैं मुलायम सिंह यादव या अखिलेश का समर्थन करता : निरहुआ

    ...तो मैं मुलायम सिंह यादव या अखिलेश का समर्थन करता : निरहुआ

    समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ आजमगढ़ संसदीय सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ का कहना है कि अगर मुलायम सिंह यादव या अखिलेश यादव प्रधानमंत्री पद की दौड़ में होते तो वह उनका समर्थन करते लेकिन सपा प्रमुख तो सिर्फ ''ईमानदार'' नरेंद्र मोदी को हटाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि अखिलेश और सपा ने यादवों की पहचान 'देशविरोधी' के रूप में बना रखी है और यह बात उनके ''अंधभक्तों'' को समझ नहीं आ रही है.

  • राज बब्बर: सपा से बगावत करके डिंपल यादव को हराया था चुनाव, पढ़ें- सिनेमा से सियासत तक का सफर

    राज बब्बर: सपा से बगावत करके डिंपल यादव को हराया था चुनाव, पढ़ें- सिनेमा से सियासत तक का सफर

    राज बब्बर कांग्रेस के सीनियर नेताओं में से एक हैं. राजनीति में आने से पहले वह फिल्मी दुनिया के मंझे हुए अभिनेता थे. वह तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और दो बार राज्यसभा के सदस्य रहे हैं. उन्हें सियासत का भी मंझा हुआ खिलाड़ी माना जाता है. राज बब्बर का जन्म यूपी के आगरा में 23 जून 1952 को हुआ था.

  • डिंपल यादव: पहले चुनाव में मिली करारी हार, यहां जानिए- यूपी के सबसे बड़े सियासी कुनबे की बहू का सफर

    डिंपल यादव: पहले चुनाव में मिली करारी हार, यहां जानिए- यूपी के सबसे बड़े सियासी कुनबे की बहू का सफर

    डिंपल यादव यूपी के सबसे बड़े सियासी कुनबे से ताल्लुक रखती हैं. वह यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव की बहू हैं और पूर्व सीएम अखिलेश यादव की पत्नी हैं. वह यूपी के कन्नौज से समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं. हालांकि उनका सियासी सफर बहुत लंबा नहीं है लेकिन इसमें काफी ट्विस्ट हैं.

  • शिवपाल सिंह यादव: मुलायम सिंह की उंगली पकड़कर सीखी राजनीति, अब भतीजे को दे रहे चुनौती

    शिवपाल सिंह यादव: मुलायम सिंह की उंगली पकड़कर सीखी राजनीति, अब भतीजे को दे रहे चुनौती

    यूपी के सियासी गलियारों में शिवपाल सिंह यादव एक बड़ा नाम हैं. वह यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई हैं. भतीजे और पूर्व सीएम अखिलेश यादव से हुए गहरे मतभेद के बाद शिवपाल ने समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) बनाई और इस लोकसभा चुनाव में वह फिरोजाबाद सीट से अपने भतीजे अक्षय यादव के खिलाफ ताल ठोंक रहे हैं.

  • PM की रेस में मुलायम सिंह? अखिलेश यादव बोले- अच्छा होगा, अगर नेताजी को प्रधानमंत्री बनने का सम्मान मिले

    PM की रेस में मुलायम सिंह? अखिलेश यादव बोले- अच्छा होगा, अगर नेताजी को प्रधानमंत्री बनने का सम्मान मिले

    उन्होंने कहा, 'मैं लोकसभा में SP के सांसदों की संख्या को बढ़ाना चाहता हूं. मैं उन लोगों में शुमार होना चाहता हूं, तो देश का नया प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं. मैं चाहता हूं कि केंद्र की अगली सरकार के गठन में उत्तर प्रदेश का योगदान हो.'

  • Phase 3 Election : 15 राज्यों की 117 लोकसभा सीटों पर 23 अप्रैल को होगा मतदान

    Phase 3 Election : 15 राज्यों की 117  लोकसभा सीटों पर 23 अप्रैल को होगा मतदान

    लोकसभा चुनाव  के तीसरे चरण (lok sabha election phase 3 voting) 15 राज्यों की 117 लोकसभा सीटों पर 23 अप्रैल को मतदान होगा. उत्तर प्रदेश की 10 सीटों पर 23 अप्रैल को होने वाला मतदान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव समेत कई दिग्गज नेताओं का सियासी भाग्य तय करेगा.

  • उत्तर प्रदेश: तीसरे चरण में तय होगी यादव परिवार की किस्मत, जानें और कौन-कौन हैं दांव में

    उत्तर प्रदेश: तीसरे चरण में तय होगी यादव परिवार की किस्मत, जानें और कौन-कौन हैं दांव में

    लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में उत्तर प्रदेश में उन क्षेत्रों में मतदान होगा जिन्हें कद्दावर यादव नेता मुलायम सिंह यादव के परिवार का गढ़ माना जाता है.

  • मायावती ने की तारीफ, अखिलेश यादव 'टाइगर बाम' की तरह

    मायावती ने की तारीफ, अखिलेश यादव 'टाइगर बाम' की तरह

    उत्तर प्रदेश की राजनीति के दो बड़े दिग्गज मुलायम सिंह यादव और मायावती जब दशकों पुरानी दुश्मनी भुलाकर मैनपुरी की रैली में एक ही मंच पर आए तो उनकी तस्वीरें खूब वायरल हुईं देखी गईं.  दुश्मनी भुलाकर दोनों नेताओं ने अब उत्तर प्रदेश में पीएम मोदी को रोकने की कोशिश करने की एक तरह से कसम खाई है. इन दोनों नेताओं को एक साथ लाने में मुलायम सिंह के बेटे और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने का बड़ा रोल रहा है. समाजवादी पार्टी की डिजिटल सेल का दावा है कि इन दोनों नेताओं की संयुक्त रैली ने यूट्यूब में सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. लेकिन इस सबके होते हुए यह साफ नहीं है कि मुलायम  सिंह यादव और मायावती ने अपने-अपने कॉडर और वोटर को क्या संदेश दिया है जो कि एक दूसरे के विरोधी हैं. ऐसा लगता है कि कुछ खास नहीं. 

  • योगी आदित्यनाथ का ताजा हमला: बाबा साहेब का अपमान करने वालों का चुनाव प्रचार कर रही हैं मायावती

    योगी आदित्यनाथ का ताजा हमला: बाबा साहेब का अपमान करने वालों का चुनाव प्रचार कर रही हैं मायावती

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि वह उन लोगों के लिए चुनाव प्रचार कर रही हैं, जो लोग बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का अपमान करते थे.

  • राहुल गांधी के बयान पर भड़के अखिलेश यादव, कांग्रेस को बताया सबसे धोखेबाज पार्टी

    राहुल गांधी के बयान पर भड़के अखिलेश यादव, कांग्रेस को बताया सबसे धोखेबाज पार्टी

    कांग्रेस पर हमला तेज करते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसे सबसे 'धोखेबाज' पार्टी करार दिया और आरोप लगाया कि कांग्रेस ने उनके और पिता मुलायम सिंह यादव के खिलाफ सीबीआई का गलत इस्तेमाल किया.

  • तारीख 2 जून 1995 : गेस्ट हाउस कांड की पूरी कहानी, जानें क्या हुआ था उस दिन

    तारीख 2 जून 1995 : गेस्ट हाउस कांड की पूरी कहानी, जानें क्या हुआ था उस दिन

    24 साल बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक बार सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती एक ही मंच पर आए और एक-दूसरे को जिताने की अपील की. उत्तर प्रदेश बीते 24 सालों में हर उस लम्हे का गवाह रहा है जब मायावती और मुलायम सिंह यादव एक दूसरे को देखना भी पसंद नहीं करते थे. दोनों के बीच कटुता इतनी बढ़ गई थी कि मायावती मुलायम को पागल खाने भेजने की बात कहती थीं और फिर दोनों ओर से बयानों के तीर मर्यादाओं को तार-तार कर देते थे. ऐसा नहीं था कि दोनों के बीच हमेशा से ही दुश्मनी थी, दोनों नेता एक साथ मिलकर बना चुके हैं. लेकिन तारीख 2 जून 1995 को हुए गेस्ट हाउस कांड ने न सिर्फ दोनों को कट्टर दुश्मन बना दिया बल्कि खाई इतनी चौड़ी हो गई कि सियासी मतभेद एक दूसरे को देख लेने जैसे चुनौती में बदल गए. गेस्ट हाउस कांड के बाद एक पूरी पीढ़ी बदल गई और अब फिर दोनों के एक साथ हैं और मैनपुरी में 19 अप्रैल 2019 की तारीख दोनों की दोस्ती की गवाह बन गई.

  • लोकसभा चुनाव : क्या गढ़वाघाट आश्रम बीजेपी की नई 'प्रयोगशाला' है?

    लोकसभा चुनाव : क्या गढ़वाघाट आश्रम बीजेपी की नई 'प्रयोगशाला' है?

    गढ़वाघाट आश्रम वाराणसी में है. इस आश्रम के अनुयायियों की संख्या करोड़ों में है, जिनमें ज्यादातर दलित और पिछड़े समाज, खासकर यादवों की हैं. इसकी बड़ी वजह ये है कि इस आश्रम को भगवान कृष्ण के वंशजों का माना जाता है. लिहाजा यहां पर समय-समय पर लगभग सभी पार्टियों के नेताओं का आना जाना लगा रहा. यही नहीं इस पीठ से कई बड़े राजनेताओं की आस्था भी जुड़ी हुई है. राहुल गांधी से लेकर राजनाथ सिंह जैसे नेता यहां आ चुके हैं. सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव अक्सर यहां आते रहे हैं तो 2017 में विधानसभा चुनाव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी पहली बार गढ़वाघाट आश्रम पहुंचे थे और यहीं से अपने चुनाव प्रचार के अभियान की शुरुआत भी की थी. 

  • मुलायम ने कहा- मायावती जी का हमेशा सम्मान करना, बीएसपी सुप्रीमो ने भी नहीं छोड़ी सम्मान में कोई कसर

    मुलायम ने कहा- मायावती जी का हमेशा सम्मान करना, बीएसपी सुप्रीमो ने भी नहीं छोड़ी सम्मान में कोई कसर

    उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में आयोजित महागठबंधन में नजारा देखने वाला था, कभी एक दूसरे को फूटी आंखों न सुहाने वाले मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि वह आखिरी चुनाव लड़ रहे हैं. इसके साथ ही वहां आए लोगों से अपील करते हुए कहा, 'आप लोग हमेशा मायावती जी का सम्मान करना.' इससे पहले जब मंच पर मुलायम सिंह यादव को जब पानी दिया गया तो उन्होंने लोगों से भी यह पूछा कि क्या मायावती को पानी दिया गया है नहीं.

Advertisement