NDTV Khabar

मुलायम सिंह यादव


'मुलायम सिंह यादव' - 970 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • सपा के सुरेन्द्र सिंह नागर, संजय सेठ, कांग्रेस के भुवनेश्वर कालिता ने दिया राज्यसभा से इस्तीफा

    सपा के सुरेन्द्र सिंह नागर, संजय सेठ, कांग्रेस के भुवनेश्वर कालिता ने दिया राज्यसभा से इस्तीफा

    एक ओर जहां केंद्र सरकार राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म करने का ऐलान करने जा रही थी तो दूसरी ओर से दो सांसद विपक्ष को झटका देने की तैयारी में थे. राज्यसभा में सोमवार को समाजवादी पार्टी के सुरेन्द्र सिंह नागर, संजय सेठ और कांग्रेस के भुवनेश्वर कालिता के इस्तीफे की घोषणा की गयी.  राज्यसभा की बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने नागर, सेठ और कालिता के इस्तीफे के बारे में सदन को जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इन सदस्यों ने दो अगस्त को अपने अपने इस्तीफे दिये जिन्हें स्वीकार कर लिया गया है. राज्यसभा में उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे सुरेंद्र सिंह नागर का कार्यकाल चार जुलाई 2022 तक था. संजय सेठ सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के करीबी माने जाते थे. राज्यसभा में उनका कार्यकाल भी 2022 तक था.    

  • लोकसभा में सीटें आवंटित : स्मृति ईरानी पहली पंक्ति में, राहुल गांधी दूसरी पंक्ति में बैठेंगे

    लोकसभा में सीटें आवंटित : स्मृति ईरानी पहली पंक्ति में, राहुल गांधी दूसरी पंक्ति में बैठेंगे

    लोकसभा में सीटों का आवंटन कर दिया गया है. यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ डीएमके के टीआर बालू को पहली पंक्ति में स्थान दिया गया है. राहुल गांधी इस बार भी दूसरी पंक्ति में ही बैठेंगे. उन्हें हराने वालीं बीजेपी सांसद व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को पहली पंक्ति में जगह मिली है. लोकसभा में सीटों के बंटवारे में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह को भी पहली पंक्ति में स्थान मिला है. पहली पंक्ति में पहली सीट पीएम मोदी की होगी. उनके बाद राजनाथ सिंह, अमित शाह व नितिन गडकरी की सीटें तय की गई हैं.

  • जब अटल जी के वजह से UP में मुलायम सिंह यादव की चली थी सबसे लंबी अवधि की सरकार!

    जब अटल जी के वजह से UP में मुलायम सिंह यादव की चली थी सबसे लंबी अवधि की सरकार!

    एनडीटीवी के कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा लंबे अवधि तक मुलायम सिंह जी की जो सरकार चली, वह सरकार किसने चलवाई? वह सरकार अटल बिहारी वाजपेयी ने चलवाई. मैंने ही बात की थी अटल जी से..प्रमोद महाजन जी से.. कह रहा हूं खुलेआम.

  • यूपी पुलिस की करतूत: पत्नी से रेप की शिकायत करने थाने पहुंचा शख़्स, तो उसी को दी 'थर्ड डिग्री' यातना

    यूपी पुलिस की करतूत:  पत्नी से रेप की शिकायत करने थाने पहुंचा शख़्स, तो उसी को दी 'थर्ड डिग्री' यातना

    उत्तर प्रदेश पुलिस की एक और करतूत सामने आई है. एक शख़्स जब अपनी पत्नी के अपहरण और उसके साथ किए गए दुष्कर्म के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंचा तो पुलिसकर्मियों ने कथित तौर पर उसे ही थर्ड-डिग्री की यातना दी. यह घटना मैनपुरी जिले में हुई, जो समाजवादी दिग्गज मुलायम सिंह यादव का संसदीय क्षेत्र है.

  • 3 सेक्स वर्करों के साथ नोएडा के एक फार्म हाउस में 9 लोगों ने किया गैंगरेप

    3 सेक्स वर्करों के साथ नोएडा के एक फार्म हाउस में 9 लोगों ने किया गैंगरेप

    अधिकारी ने बताया कि महिला के अनुसार दोनों उन्हें नोएडा के सेक्टर 18 के लिए कहकर दिल्ली से नोएडा लाए, लेकिन नोएडा में ये लोग थाना एक्सप्रेसवे क्षेत्र के छपरौली गांव स्थित एचपीएस फार्म हाउस पर उन्हें ले गए. एसएसपी ने बताया कि फार्म हाउस पर तीन की बजाय 9 लोग मिले और जब महिलाओं ने इतने लोगों को देखकर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाने से इनकार किया तो, इन लोगों ने उनके साथ मारपीट करके बारी-बारी से उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया. उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने अरोपी अखिलेश यादव, लवलेश यादव, भोला यादव, अंजन यादव, राजेश यादव, सतीश पाल, राजकुमार मौर्य को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मुलायम सिंह यादव तथा पंकज उर्फ बाउंसर अब भी फरार हैं.

  • लोकसभा चुनाव में हार के बाद क्या सपा का कुनबा दोबारा होगा एकजुट? शिवपाल यादव ने दिया बड़ा बयान

    लोकसभा चुनाव में हार के बाद क्या सपा का कुनबा दोबारा होगा एकजुट? शिवपाल यादव ने दिया बड़ा बयान

    लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद समाजवादी कुनबे के दोबारा एकजुट होने की खबरें आ रही थीं, लेकिन अब सपा से अलग होकर अपनी अलग पार्टी बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने इन खबरों पर विराम लगा दिया है. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) ने शुक्रवार को यहां कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ अब उनका चैप्टर बंद हो गया है. 

  • सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की फिर बिगड़ी तबीयत, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में कराया गया भर्ती  

    सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की फिर बिगड़ी तबीयत, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में कराया गया भर्ती  

    मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) को हाई शुगर की समस्या से चलते भर्ती किया गया था. हालांकि बाद में उनकी अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी. मेदांता अस्पताल की तरफ से अभी तक मुलायम सिंह यादव की सेहत को लेकर कोई भी जानकारी साझा नहीं की गई है.

  • मुलायम सिंह यादव से मिले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, Tweet कर कही यह बात...

    मुलायम सिंह यादव से मिले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, Tweet कर कही यह बात...

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) से उनके आवास पर मुलाकात की और उनका हाल जाना.

  • सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तबीयत बिगड़ी, लखनऊ के राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती

    सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तबीयत बिगड़ी, लखनऊ के राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती

    सपा (SP) संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) की तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया है.

  • मुलायम ने शुरू की यादव परिवार को एकजुट करने की कवायद, अखिलेश और शिवपाल से की बात...

    मुलायम ने शुरू की यादव परिवार को एकजुट करने की कवायद, अखिलेश और शिवपाल से की बात...

    हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के निराशाजनक प्रदर्शन को देखते हुए पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) ने बेटे अखिलेश (Akhilesh Yadav) और भाई शिवपाल (Shivpal Yadav) के बीच सुलह कराने की एक बार फिर कोशिश की.

  • SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    SP-BSP गठबंधन टूटने की खबरों पर BJP का तंज, यूपी के डिप्टी सीएम ने कही यह बात...

    यूपी में बना महागठबंधन लोकसभा चुनावों में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. इसके लेकर बीजेपी ने तंज कसा है. मायावती (Mayawati) के फैसले के बाद प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने तंज कसते हुए कहा, 'चुनाव के पहले जो गठबंधन हुआ था हार के बाद आज वह अंतिम सांसे, अंतिम हिचकियां ले रहा है, एक तरह से वह वेंटिलेटर पर है, कभी भी, वेंटिलेटर पर जो हिचकियां है वह और बढ़ सकती है.'

  • SP-BSP गठबंधन में दरार के बीच मायावती का बड़ा बयान- अखिलेश तो डिंपल को भी नहीं जीत दिला पाए, क्योंकि...

    SP-BSP गठबंधन में दरार के बीच मायावती का बड़ा बयान- अखिलेश तो डिंपल को भी नहीं जीत दिला पाए, क्योंकि...

    मायावती (Mayawati) ने टिप्पणी की कि अखिलेश अपनी पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav) तक को नहीं जिता पाए. बता दें कि डिंपल यादव ने कन्नौज से चुनाव लड़ा था और बीजेपी (BJP) से हार गईं.

  • यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भविष्यवाणी 100% सच साबित हुई, जानिये PM ने क्या कहा था? 10 बातें...

    यूपी में बना महागठबंधन (Mahagathbandhan) पहले लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections) में अपने लक्ष्य पाने में नाकाम रहा और उसके बाद अब वह टूटता नज़र आ रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के साथ-साथ कई नेताओं ने बुआ-बबुआ की जोड़ी को चुनाव परिणाम के बाद टूटने की बात कही थी. बता दें कि दिल्ली में कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक में मायावती (Mayawati) ने साफ कर दिया कि विधानसभा की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनावों में BSP अकेले लड़ेगी. वैसे ये भी एक नया चलन है, क्योंकि बीएसपी (BSP) आम तौर पर उपचुनाव लड़ने से अब तक परहेज करती रही है, लेकिन आज की बैठक में मायावती ने जो कुछ कहा, उससे साफ है कि वो नई राजनीतिक लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही हैं और गठबंधन उनके लिए अप्रासंगिक हो रहा है. बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले 12 जनवरी को उत्तर प्रदेश की राजनीति के दो कट्टर प्रतिद्वंद्वी समाजवादी पार्टी (SP) और बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने मिलकर आम चुनाव लड़ने का ऐतिहासिक फैसला लिया था, लेकिन चुनाव में इस गठबंधन को उम्मीद के मुताबिक कामयाबी नहीं मिली. बसपा के खाते में 10 सीटें आईं, जबकि सपा को 5 सीट से ही संतोष करना पड़ा. हालांकि गठबंधन तोड़ने का ऐलान अभी तक बसपा प्रमुख मायावती ने औपचारिक रूप से नहीं किया है. इन सबके बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी की यह भविष्यवाणी सच साबित हो गई कि चुनाव बात यह गठबंधन टूट जाएगा. पीएम मोदी के साथ-साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी चुनाव बाद इस गठबंधन के टूटने की बात कही थी.

  • सपा-बसपा की राह हुई अलग? इन 5 वजहों से टूट गया गठबंधन

    सपा-बसपा की राह हुई अलग? इन 5 वजहों से टूट गया गठबंधन

    समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच लोकसभा चुनाव से पहले हुए गठबंधन का अंत हो गया है. हालांकि इसकी कोई अभी तक औपचारिक घोषणा नहीं हुई है लेकिन मायावती ने 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में अकेले दम पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर गठबंधन की स्‍थ‍िति साफ कर दी है. इस मसले पर अभी सपा की ओर से कोई बयान नहीं आया है. सपा-बसपा गठबंधन को पहले भी राजनीतिक विश्‍लेषक बेमेल समझौता बताते आ रहे थे. इस दौरान मायावती की चालाकी का भी जिक्र आया कि कैसे उन्‍होंने अखिलेश यादव के खाते में उन सीटों को दे दिया जिस पर उनकी जीत की कोई गुंजाइश नहीं बन पा रही थी. लखनऊ, गोरखपुर, बनारस, गाजियाबद जैसी लोकसभा सीटें इसके उदाहरण हैं. गठबंधन को लेकर सपा के संस्‍थापक और पूर्व मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह यादव खुश नहीं थे. अपनी नाराजगी उन्‍होंने साफ जाहिर कर दी थी. सपा से अलग होकर शिवपाल सिंह यादव ने अपनी पार्टी बनाई और अपने उम्‍मीदवार सभी सीटों पर उतारे. शिवपाल यादव ने भी इस गठबंधन का मजाक उड़ाया था. गेस्‍ट हाउस कांड का भी जिक्र आया लेकिन कहा गया कि दोनों पार्टियां अब इस हादसे से उबर चुकी हैं. मंच पर मायावती के साथ मुलायम और अखिलेश की कई तस्‍वीरें सामने आईं. हालांकि एक चुनावी भाषण में मायावती यह कहने से नहीं चूकीं कि सपा के कार्यकर्ताओं को बसपा के लोगों से काफी कुछ सीखने की जरूरत है.

  • समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ आखिर वही हुआ जिसका मार्च में लगाया गया था अंदाजा

    समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ आखिर वही हुआ जिसका मार्च में लगाया गया था अंदाजा

    लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी के बीच सीटों का जिस तरह से बंटवारा  हुआ था उसे देखकर ऐसा लग गया था अखिलेश यादव मायावती की चतुराई समझ नहीं पाए हैं. एनडीटीवी ने 4 मार्च 2019 को ही सीटों का विश्लेषण कर अंदाजा लगाया गया था कि सपा की क्या हालत हो सकती है. रिपोर्ट में कहा गया था कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने सीटों के बंटवारे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से बाजी मार ली है. शायद इस हालात को सपा के सबसे वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव भांप गए थे. यही वजह है कि उन्होंने टिकटों के गलत बंटवारे की बात कही थी. दरअसल सपा के खाते में कई सीटें ऐसी आई थीं जहां पर उसका प्रदर्शन पहले बहुत ही खराब था और सीट बंटवारे में मायावती ने वो सारी सीटें ले लीं, जहां जातीय गणित के लिहाज से जीत का भरोसा था.

  • लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की करारी हार पर पार्टी में मंथन जारी

    लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की करारी हार पर पार्टी में मंथन जारी

    लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी(सपा) को महज पांच सीटें मिली हैं. पिछले चुनाव में भी सपा को पांच सीटें मिली थीं. पिछले चुनाव में सपा अकेले चुनाव लड़ी थी. इस बार उसका दो दलों -बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रीय लोकदल (रालोद)- के साथ गठबंधन था. इस गठबंधन को अपराजेय माना जा रहा था. लेकिन ढाक के वही तीन पात. गठबंधन में बसपा को भले ही लाभ हुआ. उसने 10 सीटें जीत लीं, लेकिन बाकी दो दल जहां के तहां रह गए. मुलायम परिवार के तीन सदस्य चुनाव हार गए. रालोद अपने हिस्से की तीनों सीटें हार गया. इस चुनाव में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह यादव क्रमश: आजमगढ़ और मैनपुरी से चुनाव जीतने में कामयाब रहे.

  • पिता मुलायम सिंह यादव की यह बात न मानकर अखिलेश यादव ने सपा को पहुंचा दिया इस हालत में

    पिता मुलायम सिंह यादव की यह बात न मानकर अखिलेश यादव ने सपा को पहुंचा दिया इस हालत में

    उत्तर प्रदेश में बड़े जोर शोर से बनाए गए सपा-बसपा और आरएलडी गठबंधन मोदी लहर में पूरी तरह से साफ हो गया है. सपा को जहां मात्र 5 सीटें आई हैं वहीं बीएसपी को 10 सीटें मिली हैं. आरएलडी अपना खाता खोलने में नाकाम रही है. वहीं 80 सीटों वाले उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को सिर्फ 1 ही सीट (रायबरेली में सोनिया गांधी) आई हैं. अमेठी से राहुल गांधी भी स्मृति ईरानी से हार गए हैं. लेकिन सबसे बड़ा झटका अखिलेश यादव को लगा है.

  • Election Results: यूपी में यादव कुनबे के लिये कहीं खुशी, कहीं गम, जानें- कौन है आगे और कौन पीछे

    Election Results: यूपी में यादव कुनबे के लिये कहीं खुशी, कहीं गम, जानें- कौन है आगे और कौन पीछे

    Election 2019: प्रारम्भिक चरणों में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव, पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव, उनकी पत्नी डिम्पल यादव और फिरोजाबाद से अक्षय यादव अपने-अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वियों से आगे चल रहे हैं. वहीं, बदायूं से धर्मेन्द्र यादव पीछे हैं. मुलायम मैनपुरी सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के प्रेम सिंह शाक्य पर 12 हजार मतों से ज्यादा की बढ़त बनाये हुए हैं. वहीं, आजमगढ़ से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के दिनेश लाल यादव ''निरहुआ'' से 59 हजार मतों से ज्यादा की बढ़त बनाये हुए हैं.