NDTV Khabar

मोदी सरकार का एक साल


'मोदी सरकार का एक साल' - 248 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • अधर में लटका 4 लाख उम्मीदवारों का भविष्य, क्या रेलवे देगा एक मौका?

    अधर में लटका 4 लाख उम्मीदवारों का भविष्य, क्या रेलवे देगा एक मौका?

    हर साल करोड़ो लोग सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) के लिए आवेदन करते हैं. खासकर रेलवे (RRB) जहां 10वीं से लेकर ग्रेजुएट तक के लिए हर साल हजारों भर्तियां निकलती हैं. लेकिन इस बार हजारों में नहीं लाखों की संख्या में रेलवे ने भर्तियां निकालीं. रोजगार के मुद्दे पर घिरती आ रही मोदी सरकार ने पिछले साल रेलवे में बंपर भर्तियां निकालीं. इतना ही नहीं इस साल चुनाव से पहले सरकार ने बेरोजगारों के लिए लाखों भर्तियां का ऐलान किया.

  • सुषमा स्वराज का ऐतिहासिक भाषण: 'हमें धर्मनिरपेक्षता की ये परिभााषा मान्य नहीं, चाहे सरकार रहे या जाए'- देखें VIDEO

    सुषमा स्वराज का ऐतिहासिक भाषण: 'हमें धर्मनिरपेक्षता की ये परिभााषा मान्य नहीं, चाहे सरकार रहे या जाए'- देखें VIDEO

    मंगलवार को पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के निधन से पहले लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पास हुआ. अब इसमें अनुच्छेद 370 की सिर्फ एक धारा बच गई है. सुषमा स्वराज ने निधन से पहले ट्वीट पीएम नरेंद्र मोदी को इसके लिए बधाई दी थी. लेकिन मंगलवार शाम को सुषमा स्वराज के निधन की खबर आई और पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई.

  • कांग्रेस का आरोप: मोदी सरकार ने पांच साल में कटवाए एक करोड़ पेड़ 

    कांग्रेस का आरोप: मोदी सरकार ने पांच साल में कटवाए एक करोड़ पेड़ 

    उन्होंने सवाल किया कि क्या मोदी सरकार भविष्य से खिलवाड़ कर रही है? गौरतलब है कि शुक्रवार को लोकसभा में कुछ पूरक प्रश्नों के उत्तर में सुप्रियो ने कहा था कि विकास कार्यों के लिए एक पेड़ काटे जाने की स्थिति में उसके बदले कई पौधे लगाए जाते हैं.

  • मोदी सरकार का एक फैसला केजरीवाल सरकार के लिए बना राहत का कारण, जानिए क्या है मामला?

    मोदी सरकार का एक फैसला केजरीवाल सरकार के लिए बना राहत का कारण, जानिए क्या है मामला?

    दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया था कि उसने दिल्ली के सरकारी स्कूलों में क्लास रूमों के निर्माण में दो हजार करोड़ रुपये का घोटाला किया है. बीजेपी के नेताओं ने इस बारे में दिल्ली पुलिस में शिकायत भी दर्ज करवाई थी. अब दिल्ली पुलिस कमिश्नर की जारत से दिल्ली पुलिस ने इस मामले को एंटी करप्शन ब्रांच यानी एसीबी को भेज दिया है. यानी अब एसीबी भी इस मामले की जांच करेगी कि दिल्ली में सरकारी स्कूलों में क्लास रूम बनवाने में कोई भ्रष्टाचार हुआ है या नहीं.

  • बजट 2019: टैक्‍स स्‍लैब नहीं बदला, घर-गाड़ी खरीदने पर छूट की घोषणा

    बजट 2019: टैक्‍स स्‍लैब नहीं बदला, घर-गाड़ी खरीदने पर छूट की घोषणा

    बैंकों से एक साल में एक करोड़ रुपये की अधिक की निकासी पर अब दो फीसदी टीडीएस (टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स) लगेगा. यानी, बैंकों से एक करोड़ रुपये से ज्यादा की निकासी करने पर दो फीसदी कर चुकाना पड़ेगा. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को संसद में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण बजट पेश करते हुए एक साल में एक करोड़ रुपये से ज्यादा की निकासी पर दो फीसदी टीडीएस लगाने की घोषणा की.

  • बिहार: चमकी बुखार से बच्चों की मौत मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

    बिहार: चमकी बुखार से बच्चों की मौत मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

    केंद्र ने कहा कि मेडिकल सेवाएं राज्य सरकार का विषय हैं फिर भी केंद्र द्वारा राज्य सरकार की सहायता और मार्गदर्शन करने के लिए पर्याप्त उपाय किए गए हैं. इनमें एक्सपर्ट और मेडिकल सुविधा मुहैया कराए जाने के अलावा प्रचार और प्रसार भी शामिल है. केंद्र ने बताया है कि केंद्र सरकार से धन के साथ एक साल में SKMCH में 100 बिस्तर वाले बाल चिकित्सा आईसीयू का निर्माण होगा. राज्य के विभिन्न जिलों में पांच वायरोलॉजी लैब बनेंगी.

  • ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ व्यवस्था शुरू करने के लिये केंद्र ने राज्यों को दिया एक साल का समय

    ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ व्यवस्था शुरू करने के लिये केंद्र ने राज्यों को दिया एक साल का समय

    केन्द्र सरकार ने देश में ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ व्यवस्था लागू करने के लिये राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को 30 जून 2020 तक का एक साल का समय दिया है.

  • देश का नया बजट तैयार करने में जुटी मोदी सरकार, फिर मिलेगी आयकर में छूट? 

    देश का नया बजट तैयार करने में जुटी मोदी सरकार, फिर मिलेगी आयकर में छूट? 

    इस दौरान में विजिटर्स व मीडिया को वित्त मंत्रालय में आने की मनाही होगी. याद हो कि मोदी सरकार ने इस साल आम चुनावों से पहले एक फरवरी को अंतरिम बजट पेश किया गया था. उस दौरान सरकार को सीमित अवधि के लिए खर्चों की राशि मंजूर की गयी थी. अब लोकसभा चुनाव के बाद देश में नई सरकार संभाल चुकी है.

  • ब्लॉग : 'हिस्सेदारी' नीतीश कुमार का पीछा क्यों नहीं छोड़ती!

    ब्लॉग :  'हिस्सेदारी' नीतीश कुमार का पीछा क्यों नहीं छोड़ती!

    राजनीति में चीज़ें जितनी बदलती है उतनी ही अपने मूल स्वरूप में भी रह जाती हैं. ये सच बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार से बेहतर कोई नहीं जानता जो पिछले 5 दिनों से केंद्र के सरकार में हिस्सेदारी को लेकर सुर्ख़ियों में हैं. हालांकि वह हर दिन एक बात की दुहाई देते हैं की NDA में है और अगर केंद्र के सरकार में हिस्सेदारी को लेकर उनकी बात नहीं बनी तो इसका मतलब बिहार में BJP के साथ सरकार पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ेगा और साथ ही वह केन्द्र और बिहार में एनडीए में ही रहेंगे. लेकिन वर्तमान विवाद और संकट का क्या समाधान होगा उसके लिए नीतीश कुमार की राजनीति को 25 साल पहले से देखना होगा. उस समय क्या हुआ था यह बिहार बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं जैसे सुशील मोदी और नंद किशोर यादव को अच्छी तरह से याद होगा. सत्ता में हिस्सेदारी का ही मामला था कि जब नीतीश कुमार ने लालू यादव से अलग होकर लोक समता पार्टी बनायी थी.

  • अमित शाह ने संभाला गृहमंत्री के रूप में कार्यभार, जम्मू-कश्मीर सहित कई मुद्दे हैं सामने

    अमित शाह ने संभाला गृहमंत्री के रूप में कार्यभार, जम्मू-कश्मीर सहित कई मुद्दे हैं सामने

    अमित शाह ने केंद्रीय गृहमंत्री के रूप में कार्यभार संभाल लिया है. गुरुवार को उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के साथ पद और गोपनीयता की शपथ ली थी. इस लिहाज से सरकार में उनकी भूमिका अब एक तरह से नंबर दो की होगी. अमित शाह के गृहमंत्री बनने के साथ ही उनकी प्राथमिकताओं को लेकर अटकलों का दौर शुरू हो गया है. खासकर जम्मू-कश्मीर में धारा-370 और आर्टिकल 35-ए पर सरकार का रुख देखने लायक होगा. लोगों की निगाहें इस बात पर होंगी कि बतौर गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) इस मसले पर क्या रुख अपनाते हैं, क्योंकि वे लगातार इसको हटाने की बात करते हैं. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में इसी साल नवंबर में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं. ऐसे में उससे पहले धारा-370 और आर्टिकल 35-ए पर गृह मंत्रालय का रुख राज्य की सियासत में काफी उतार-चढ़ाव लाने वाला साबित हो सकता है.  

  • जिन राज्यों में होने हैं विधानसभा चुनाव वहां से किन नेताओं को मिली है मोदी मंत्रिमंडल में जगह

    जिन राज्यों में होने हैं विधानसभा चुनाव वहां से किन नेताओं को मिली है मोदी मंत्रिमंडल में जगह

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव की भी झलक देखी जा सकती है. महाराष्ट्र, झारखंड, बिहार, दिल्ली और हरियाणा में चुनाव होने हैं. इनमें दिल्ली को छोड़े दें तो हर राज्य में बीजेपी की ही सरकार है. साल 2018 के दिसंबर में हुए तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में अपनी सरकार गवां चुकी है. हालांकि लोकसभा चुनाव में इन राज्यों में बीजेपी ने जबरदस्त वापसी की और एक तरह से कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया.

  • NDA के पास अगले साल तक राज्यसभा में हो जाएगा बहुमत, तीन तलाक, NRC पर मोदी सरकार की राह होगी आसान

    NDA के पास अगले साल तक राज्यसभा में हो जाएगा बहुमत, तीन तलाक, NRC पर मोदी सरकार की राह होगी आसान

    अगले साल नवंबर में उत्तर प्रदेश में खाली होने वाली राज्यसभा की 10 में से अधिकांश सीटें भाजपा जीतेगी. इनमें से नौ सीटें विपक्षी दलों के पास हैं. इनमें से छह समाजवादी पार्टी (सपा) के पास, दो बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और एक कांग्रेस के पास है. उत्तर प्रदेश विधानसभा में भाजपा के 309 सदस्य हैं. सपा के 48, बसपा के 19 और कांग्रेस के सात सदस्य हैं. अगले साल तक भाजपा को असम, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश में सीटें मिलेंगी. भाजपा राजस्थान, बिहार, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में सीटें गंवाएगी. महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के परिणामों का भी राजग की सीट संख्या पर असर होगा.

  • लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के एक दिन बाद बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानें- आज का भाव

    लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के एक दिन बाद बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, जानें- आज का भाव

    देशभर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘प्रचंड लहर' पर सवार भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रवाद, हिंदू गौरव और ‘नये भारत' के मुद्दों पर लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज करके लगातार दूसरी बार केंद्र में सरकार बनाने जा रही है. चुनाव आयोग से मिल रहे नतीजों के मुताबिक बीजेपी अब तक 290 सीटें जीत चुकी है और 13 सीटों पर आगे चल रही है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 282 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. भाजपा और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) में शामिल उसके सहयोगी लगभग 350 सीटों पर जीत हासिल करते हुए दिख रहे है. एनडीए ने पिछले लोकसभा चुनाव में 336 सीटों पर विजय हासिल की थी.

  • Election Results : NaMo ने बनाया BJP को 2014 से भी ज्‍यादा मजबूत, दूसरी बार केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार,10 बातें

    Election Results : NaMo ने बनाया BJP को 2014 से भी ज्‍यादा मजबूत, दूसरी बार केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार,10 बातें

    India Election Results 2019 : पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा ने चुनाव को बेशक रक्‍तरंजित बना दिया हो लेकिन जो परिणाम आ रहे हैं उससे यह साबित होते जा रहा है कि चुनाव कैसे इससे प्रभावित हुआ. बताया जा रहा है कि इसबार का चुनाव प्रचार अब तक का सबसे ज्यादा ध्रुवीकरण वाला रहा है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी की अगुवाई में बीजेपी को बहुमत मिला था. 30 साल बाद यह पहला मौका था किसी भी राजनीतिक दल को पूर्ण बहुमत मिला हो. और यह अब दूसरी बार होगा कि कोई गैर कांग्रेसी सरकार अपने दम पर सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में 21 पार्टियां एक साथ हैं. वहीं उत्तर प्रदेश में सपा और बीएसपी मिलकर चुनाव लड़ रही हैं.

  • नीच वाले बयान पर फिर फंसे मणिशंकर अय्यर? अब कहा- मैं उल्लू हूं लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं

    नीच वाले बयान पर फिर फंसे मणिशंकर अय्यर? अब कहा- मैं उल्लू हूं लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं

    पीएम मोदी को 'नीच' कहने वाले बयान को एक वेबसाइट में लेख लिखकर उसको सही ठहराने के मामले में कांग्रेस नेता ने कहा है कि एक लाइन लेकर इसमें मुझसे सवाल पूछा जा रहा है. उन्होंने कहा, 'मैं इस खेल में फंसने वाला नहीं हूं, मैं उल्लू हूं, लेकिन इतना बड़ा उल्लू नहीं हूं'. अय्यर ने कहा 'मैं हमेशा से मीडिया का पीड़ित रहा हूं और इसने मेरा बहुत नुकसान पहुंचाया है. मैं इस पर कोई सफाई नहीं दूंगा, मुझे बताया गया है कि पार्टी की ओर से आधिकारिक बयान दिया जा चुका है. न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि जब वह 6 साल के थे तो प्रधानमंत्री नेहरू देश के प्रधानमंत्री बने थे और जब 23 साल के हुए तो उनका निधन हो गया. अय्यर ने कहा, 'मैंने राजनीति इसी समय सीखा है. आज इस सरकार ने जो माहौल बनाया है उसकी तुलना नेहरू काल से नहीं हो सकती है.

  • कांग्रेस लोगों के प्रति असंवेदनशील रही, अपने पापों के लिए कहती है 'हुआ तो हुआ' : पीएम मोदी

    कांग्रेस लोगों के प्रति असंवेदनशील रही, अपने पापों के लिए कहती है 'हुआ तो हुआ' : पीएम मोदी

    पीएम मोदी ने कांग्रेस पर सरकारी नौकरियों को रेवड़ी की तरह बांटने और बेचने का आरोप लगया. उन्‍होंने कहा कि हरियाणा में पहले की कांग्रेस सरकार सरकारी नौकरियों को रेवड़ी की तरह बांटते और बेचते रहे है. यहां के किसानों की जमीन पर भ्रष्‍टाचार की खेती करते रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि आज वे लोग कानून के घेरे में हैं और अगले पांच साल में जेल के अंदर होंगे. पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस अपने पापों के लिए कहती है जो 'हुआ तो हुआ'. लोगों के जीवन के प्रति कांग्रेस कितनी  असंवेदनशील है इसका अंदाजा इसी बात से लगता है. यह बात पीएम मोदी हरियाणा के रोहतक में आयोजित एक चुनावी जनसभा में कही है.  पीएम मोदी ने कहा कि रोहतक और गोहना की तो रेवड़ियां मशहूर हैं. मैं यहां था तो खाता था, जब गुजरात गया तो वहां भी यहां से पुराने दोस्त मुझे भेजते थे अब दिल्ली भी भेजते हैं. लेकिन कांग्रेस की सरकार यहां नौकरियां रेवड़ियों की तरह बांटती थी और रेवड़ियों की तरह बेचती थी. पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस में सिर्फ एक परिवार को आगे बढ़ाने के लिए समर्थ लोगों का अपमान किया जाता है, उनकी पहचान को ऊपर नहीं उठने दिया जाता है. पीएम मोदी ने कहा कि भाखड़ा-नांगल डैम की सोच, सर छोटूराम की थी, लेकिन उनको कभी इसका क्रेडिट ही नहीं दिया गया. 

  • बीजेपी ने जिस बाबा को मंत्री का दर्जा दिया था वह अब कह रहा 'बदल के रख दो चौकीदार'

    बीजेपी ने जिस बाबा को मंत्री का दर्जा दिया था वह अब कह रहा 'बदल के रख दो चौकीदार'

    मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में एक साल पहले जिस बाबा को बीजेपी (BJP) की तत्कालीन शिवराज सिंह सरकार ने राज्यमंत्री का दर्जा दिया था वही बाबा अब कह रहा है कि 'चौकीदार' को बदल डालो. लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) में भोपाल (Bhopal) सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के समर्थन में आगे आ चुके नामदेव त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा (Computer Baba) प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) को साध्वी नहीं मानते. बाबा ने कहा कि 'साधु हत्याकांड, बम ब्लास्ट के साथ नहीं, आतंकवाद के साथ नहीं धर्म के साथ रहेगा.' मोदी सरकार पर उन्होंने टिप्पणी की कि 'राम मंदिर नहीं तो मोदी नहीं ... सबने सोचकर रखा है राम-राम ही अबकी बार, बदल के रख दो चौकीदार.'

  • अनिल अंबानी के बाद अब बीजेपी पर हमले के लिए राहुल गांधी ने टाटा को भी लपेटा

    अनिल अंबानी के बाद अब बीजेपी पर हमले के लिए राहुल गांधी ने टाटा को भी लपेटा

    झारखंड के चाईबासा में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में जब बीजेपी सरकार थी तो वहां बस्तर में आदिवासियों की जमीन लेकर टाटा की दे दी गई थी. लेकिन पांच साल में उस जमीन का कोई इस्तेमाल नहीं किया गया. जब हमारी सरकार आई तो हमने टाटा से उस जमीन को  लेकर दोबारा आदिवासियों के हवाले कर दी. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अपनी जेब हाथ डालिए, बटुआ खोलिए आपको पता लगेगा कि बटुए से पैसा मोदी जी ने निकाल लिया है.