NDTV Khabar

मौद्रिक नीति की समीक्षा


'मौद्रिक नीति की समीक्षा' - 127 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति से पहले बाजार रिकार्ड स्तर से नीचे आया, सेंसेक्स 184 अंक गिरा

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति से पहले बाजार रिकार्ड स्तर से नीचे आया, सेंसेक्स 184 अंक गिरा

    शेयर बाजारों में मंगलवार को मुनाफा वसूली की बिकवाली से सूचकांक गिरावट में बंद हुये. रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा की घोषणा से पहले वाहन और सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों के शेयरों में मुनाफा वसूली का जोर रहा.

  • आरबीआई की मौद्रिक नीति बैठक से पहले शेयर बाजारों में मिला-जुला असर

    आरबीआई की मौद्रिक नीति बैठक से पहले शेयर बाजारों में मिला-जुला असर

    भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा समिति की बैठक शुरू होने से पहले मंगलवार को शेयर बाजारों की शुरुआत मिली-जुली रही. घरेलू और विदेशी निवेशकों की बिकवाली के बीच निवेशकों का रुख सावधानी भरा है.

  • मौद्रिक नीति समीक्षा में RBI ने नहीं किया रेपो रेट में कोई बदलाव

    मौद्रिक नीति समीक्षा में RBI ने नहीं किया रेपो रेट में कोई बदलाव

    रेपो रेट 6.5 फीसदी पर बरकरार रहा है और रिवर्स रेपो रेट भी 6.25 फीसदी पर ही बरकरार रहेगा. जून से केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दरों में लगातार दो बार इजाफा किया है. उसके बाद अक्टूबर में केंद्रीय बैंक ने बाजार को हैरान करते हुए ब्याज दरों को यथावत रखा था. हालांकि रुपए में गिरावट तथा कच्चे तेल की ऊंची कीमतों की वजह से मुद्रास्फीतिक दबाव के चलते उम्मीद की जा रही थी कि ब्याज दरों में इजाफा होगी. उस समय रेपो दर को 6.50 प्रतिशत पर कायम रखा गया था.

  • चार महीने के उच्च स्तर पर पहुंची थोक महंगाई, दरें यथावत रख सकता है रिजर्व बैंक

    चार महीने के उच्च स्तर पर पहुंची थोक महंगाई, दरें यथावत रख सकता है रिजर्व बैंक

     थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अक्टूबर महीने में बढ़कर चार माह के उच्च स्तर 5.28 प्रतिशत पर पहुंच गई. हालांकि कच्चा तेल के नरम पड़ने तथा रुपये की स्थिरता लौटने के कारण रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में दरें यथावत रख सकता है.

  • आरबीआई ने जारी की मौद्रिक समीक्षा : प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार

    आरबीआई ने जारी की मौद्रिक समीक्षा : प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं, रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार

    भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी मौद्रिक समीक्षा में प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया. रेपो दर 6.5 फीसदी पर बरकरार है.

  • लोन हो जाएंगे महंगे, आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 प्रतिशत बढ़ाया

    लोन हो जाएंगे महंगे, आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 प्रतिशत बढ़ाया

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन से जारी बैठक आज खत्म हुई. इस बैठक के बाद आरबीआई ने रेपो रेट 0.25 बेसिस प्वाइंट से बढ़ा दिया है. अब यह 6.25 प्रतिशत हो गया है. अब यह तय है कि इससे सभी लोन महंगे हो जाएंगे.

  • आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज होगी खत्म, नई दरें हो सकती हैं जारी

    आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज होगी खत्म, नई दरें हो सकती हैं जारी

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन से जारी बैठक के निष्कर्षों पर पेट्रोलियम उत्पादों में तेजी का असर पड़ सकता है. एमपीसी की बैठक चार जून से जारी है और आज इस चर्चा का समापन होगा. रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा था, ‘‘एमपीसी की 2018-19 की दूसरी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा के लिये 4-6 जून को बैठक होगी. एमपीसी के निर्णय को छह जून 2018 को दोपहर 2.30 मिनट पर वेबसाइट पर डाला जाएगा.’’

  • उतार-चढ़ाव भरे कारोबार के बीच सेंसेक्स-निफ्टी गिरे

    उतार-चढ़ाव भरे कारोबार के बीच सेंसेक्स-निफ्टी गिरे

    भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की समीक्षा बैठक से पहले शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव भरा रुख रहा. सेंसेक्स 215.37 अंक फिसलकर 35,011.89 पर और निफ्टी 67.70 अंक गिरकर 10,628.50 अंक पर बंद हुआ. वहीं आज सेंसेक्स सुबह ही शुरुआती कारोबारी तेजी खोते हुए करीब 137 अंक गिर गया था. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की द्वैमासिक बैठक 4 से 6 जून तक होनी है.

  • 6 जून को जारी होगी आरबीआई की मौद्रिक नीति, शेयर बाजार पर दिखेगा असर

    6 जून को जारी होगी आरबीआई की मौद्रिक नीति, शेयर बाजार पर दिखेगा असर

    अगले सप्ताह शेयर बाजार की चाल भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति के निर्णय और घरेलू और वैश्विक व्यापक आर्थिक आंकड़े मिलकर तय करेंगे. इसके साथ ही निवेशकों की नजर प्रमुख कंपनियों के तिमाही नतीजे, मानसून की चाल, वैश्विक बाजारों के रुख, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) और घरेलू संस्थापक निवेशकों (डीआईआई) द्वारा किए गए निवेश, डॉलर के खिलाफ रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतों पर भी रहेगी.

  • रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति के निर्णयों पर ईंधन के दाम का असर झलक सकता है

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति के निर्णयों पर ईंधन के दाम का असर झलक सकता है

    रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की अगली बैठक के निष्कषों पर पेट्रोलियम उत्पादों में तेजी का असर पड़ सकता है. एमपीसी की बैठक चार से शुरू होगी और तीन दिन चलेगी.  यह पहला मौका है जब प्रशासनिक जरूरतों के कारण मौद्रिक नीति समिति की बैठक तीन दिन चलेगी. सामान्य स्थिति में समिति मौद्रिक नीति की घोषणा से पहले दो महीने में दो दिन के लिये बैठक करती है. 

  • कच्चे तेल के दाम बढ़ने से रिजर्व बैंक अगस्त में दरें बढ़ाने को हो सकता है मजबूर: विश्लेषक

    कच्चे तेल के दाम बढ़ने से रिजर्व बैंक अगस्त में दरें बढ़ाने को हो सकता है मजबूर: विश्लेषक

    कच्चे तेल के दाम बढ़ने का देश में मुद्रास्फीति पर असर पड़ सकता है और इससे रिजर्व बैंक अगस्त में होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की वृद्धि करने पर मजबूर होना पड़ सकता है. एक विदेशी ब्रोकरेज एजेंसी ने यह कहा है. एजेंसी ने कहा है , ‘हालांकि शीर्ष बैंक जून में होने वाली आगामी समीक्षा में यथास्थिति बनाये रख सकता है.’

  • आरबीआई ने मौद्रिक समीक्षा बैठक की अवधि बढ़ाई, 4 जून से शुरू

    आरबीआई ने मौद्रिक समीक्षा बैठक की अवधि बढ़ाई, 4 जून से शुरू

    भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की दो दिवसीय बैठक एक दिन पहले 4 जून से शुरू होगी और " कुछ प्रशासनिक जरुरतों " की वजह से इसकी अवधि को दो से बढ़ाकर तीन दिन किया गया है. पहली बार एमपीसी की बैठक, दो दिन के बजाए तीन दिन होगी.

  • रिजर्व बैंक आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा में बढ़ा सकता है ब्याज दर

    रिजर्व बैंक आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा में बढ़ा सकता है ब्याज दर

    ड्यूश बैंक की एक रपट के अनुसार भारतीय रिजर्व बैंक जून में अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की वृद्धि कर सकता है. पिछले कुछ महीनों में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के मद्देनजर रपट में यह अनुमान व्यक्त किया गया है. इस वैश्विक ब्रोकरेज फर्म ने इससे पहले कहा था कि उसे केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याज दरों के मोर्च पर फिलहाल यथास्थिति बनाए रखने तथा दरों में वृद्धि अगले साल की शुरुआत में ही किए जाने की उम्मीद है.

  • अर्थव्यवस्था के मोर्चे मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि, महंगाई दर घटी

    अर्थव्यवस्था के मोर्चे मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि, महंगाई दर घटी

    अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर अच्छी खबर रही. एक तरफ जहां औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि दर जनवरी में बढ़कर 7.5 प्रतिशत पहुंच गयी, वहीं महंगाई दर फरवरी में कम होकर 4.4 प्रतिशत पर आ गई. इससे उद्योग ने वृद्धि की गति बनाये रखने के लिये अगले महीने पेश होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर में कटौती की मांग की है. रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक नीति समीक्षा पांच अप्रैल 2018 को करेगा. शीर्ष बैंक ने महंगाई दर में वृद्धि की आशंका में नीतिगत दर में कोई बदलाव नहीं किया.

  • RBI ने रेपो रेट को 6 फीसदी पर कायम रखा, वृद्धि दर का अनुमान घटाया, मुद्रास्फीति का बढ़ाया

    RBI ने रेपो रेट को 6 फीसदी पर कायम रखा, वृद्धि दर का अनुमान घटाया, मुद्रास्फीति का बढ़ाया

    भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को लगातार तीसरी बार द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा में मुख्य नीतिगत दर (रेपो रेट) को छह प्रतिशत पर कायम रखा है. केंद्रीय बैंक का मानना है कि सरकार के ऊंचे खर्च से मुद्रास्फीति बढ़ेगी. इसके साथ ही उसने राजकोषीय घाटे के जोखिमों को लेकर भी चिंता जताई है. चालू वित्त वर्ष की छठी और आखिरी द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा में रिजर्व बैंक ने अपने रुख को तटस्थ रखा है.

  • आरबीआई आज पेश करेगा मौद्रिक नीति की समीक्षा, क्या घटेगी आपके होमलोन पर EMI?

    आरबीआई आज पेश करेगा मौद्रिक नीति की समीक्षा, क्या घटेगी आपके होमलोन पर EMI?

    रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की 6 और 7 फरवरी को बैठक तयशुदा है. देश का केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया मौद्रिक नीति की समीक्षा पेश कर सकता है. क्या बैंक इस बार ब्याज दरों में कोई बदलाव करेगा, इस पर विशलेषकों की अलग अलग राय है.

  • सस्ते नहीं होंगे कर्ज, RBI ने नहीं घटाई प्रमुख ब्याज दरें

    सस्ते नहीं होंगे कर्ज, RBI ने नहीं घटाई प्रमुख ब्याज दरें

    भारतीय रिज़र्व बैंक, यानी RBI या रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की मौद्रिक नीति समिति (MPC या मॉनीटरी पॉलिसी कमेटी) ने प्रमुख ब्याज दरों में इस बार भी कोई बदलाव नहीं किया है, जिससे रेपो रेट छह फीसदी पर, रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी पर और सीआरआर चार फीसदी पर बरकरार रहे. वैसे, विशेषज्ञों ने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा, और अब बदलाव नहीं होने से सभी तरह के कर्ज़ों की ब्याज दरें घटने की उम्मीदें अगली समीक्षा तक टल गई हैं.

  • क्या RBI इस बार क्रेडिट पॉलिसी की समीक्षा में करेगा ब्याज दरों में कटौती?

    क्या RBI इस बार क्रेडिट पॉलिसी की समीक्षा में करेगा ब्याज दरों में कटौती?

    सरकार को उम्मीद है कि रिजर्व बैंक आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिए मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर में कटौती करेगा.