NDTV Khabar

रवीश कुमार


'रवीश कुमार' - 662 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • देश के कारोबार पर GST की मार: रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    देश के कारोबार पर GST की मार: रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    जयपुर में 20 सितंबर के बाद भी पोर्टल सही से काम नहीं कर रहा था. पूरे दिन मेसेज आते रहा कि आप क़तार में है, दिन बीत गया क़तार नहीं बीता. व्यापारियों के साथ टैक्स वकील और सीए सभी दबाव में काम कर रहे हैं.

  • नोटबंदी के मारे, GST से हारे? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    नोटबंदी के मारे, GST से हारे? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    डीज़ल के दाम बढ़ने से खेती की लागत बढ़ गई है, किसान परेशान हैं, नौकरियों का पता नहीं है, बैंक संकट में हैं, इसके बाद भी टीवी चैनलों पर हिन्दू मुस्लिम टॉपिक की भरमार है. ये हिन्दू मुस्लिम टॉपिक इतना ज़्यादा क्यों हैं, क्या आपने कभी सोचा है, आप साढ़े तीन साल के दौरान सभी चैनलों पर हुए डिबेट की सूची बनाइये, ज़्यादातर का संबंध हिन्दू मुस्लिम से मिलेगा.

  • रोहिंग्याओं को भारत में शरण क्यों? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    रोहिंग्याओं को भारत में शरण क्यों? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    कहीं ऐसा तो नहीं कि उनकी जगह डिक्टर एक पुनर्खोज या तानाशाही, आज की आवश्यकता टाइप के कार्यक्रम हुआ करेंगे? इलाहाबाद में 18 सितंबर को एक दिन का लिबर्टी फेस्टिवल होने वाला था, जिसे वाइस चांसलर ने अनुमति देने के बाद मना कर दिया.

  • प्राइम टाइम इंट्रो: क्‍या जनता की क़ीमत पर कमाया जा रहा है तेल से मुनाफ़ा?

    प्राइम टाइम इंट्रो: क्‍या जनता की क़ीमत पर कमाया जा रहा है तेल से मुनाफ़ा?

    क्या अर्थशास्त्र के किताब से उस चैप्टर को हटा दिया गया है जिसमें पढ़ाया जाता था कि अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने से भारत या दुनिया के मुल्कों के घरेलू बाज़ार में पेट्रोल और डीज़ल के दाम बढ़ते हैं. आख़िर पेट्रोल के दाम बढ़ने पर अर्थशास्त्री से लेकर राजनेता क्यों चुप हैं.

  • पब्लिक सेक्टर बैंक पर निजीकरण का खतरा? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    पब्लिक सेक्टर बैंक पर निजीकरण का खतरा? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    नमस्कार मैं रवीश कुमार, जब हमने देश के बाकी शहरों का रेट जानना चाहा तो पता चला कि भारत पेट्रोलियम, इंडियन आयल कोरपोरेशन और एच पी सी एल की वेबसाइट पर सभी ज़िलों के पेट्रोल और डीज़ल के भाव नहीं मिले. इनकी साइट पर महानगरों और राज्यों की राजधानियों के ही रेट हैं. इसलिए अभी तक मुंबई का 79 रुपये प्रति लीटर से अधिक पर ही हैरानी हो रही थी और पता नहीं चल रहा था कि सोलापुर जैसे ज़िले 83 रुपये से अधिक दाम दे रहे हैं. जब हमने पेट्रोल डीज़ल की कीमत बताने वाली दूसरी कई वेबसाइट देखी और कुछ जगहों पर खुद भी देखा तो पता चला कि महाराष्ट्र के ही कई शहरों में पेट्रोल के भाव मुंबई से महंगे हैं और 80 रुपये के पार जा चुके हैं.

  • असफल योजनाओं की सफल सरकार- अबकी बार ईवेंट सरकार

    असफल योजनाओं की सफल सरकार- अबकी बार ईवेंट सरकार

    2022 में बुलेट ट्रेन के आगमन को लेकर आशावाद के संचार में बुराई नहीं है. नतीजा पता है फिर भी उम्मीद है तो यह अच्छी बात है. मोदी सरकार ने हमें अनगिनत ईवेंट दिए हैं. जब तक कोई ईवेंट याद आता है कि अरे हां, वो भी तो था, उसका क्या हुआ, तब तक नया ईवेंट आ जाता है. सवाल पूछकर निराश होने का मौका ही नहीं मिलता.

  • बुलेट ट्रेन को प्राथमिकता कितनी सही? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    बुलेट ट्रेन को प्राथमिकता कितनी सही? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    बुलेट ट्रेन के समर्थन और विरोध में दिए जाने वाले कई तर्कों में समस्या है. अगर हम वाकई इतने गंभीर थे तो शिलान्यास से पहले इस पर चर्चा करते कि एक ट्रैक पर सवा लाख करोड़ ख़र्च कर रहे हैं जबकि काकोदकर कमेटी ने कहा था कि मौजूदा रेल पटरियों के पूरे ढांचे को ठीक करने के लिए एक लाख करोड़ चाहिए. इस ज़रूरी काम के लिए पैसा नहीं आ सका. 

  • रोहिंग्या शरणार्थी आख़िर कहां जाएं? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    रोहिंग्या शरणार्थी आख़िर कहां जाएं? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    फिर यह जानने के बाद क्या आप नए सिरे से सोचना चाहेंगे कि शरणार्थियों को लेकर हमारा नज़रिया हिन्दू बनाम मुस्लिम को होना चाहिए या इंसानियत बनाम हैवानियत का होना चाहिए. हमने जोधपुर के अपने सहयोगी अरुण हर्ष से गुज़ारिश की कि वे वहां रह रहे उन हिन्दुओं का हाल चाल लें जो पाकिस्तान से आए हैं.

  • क्या किसानों की बात सुन रही है सरकार? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    क्या किसानों की बात सुन रही है सरकार?  रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    केंद्र सरकार ने ग्रेच्युटी को अधिकतम दस लाख से बढ़ाकर बीस लाख तक कर दिया है. यह प्राइवेट से लेकर सरकारी कंपनियों पर लागू होगा. सरकार इसके लिए संसद में बिल लाएगी.

  • बुनियादी मुद्दों पर चर्चा क्यों नहीं होती? रवीश कुमार के साथ 'प्राइम टाइम'

    बुनियादी मुद्दों पर चर्चा क्यों नहीं होती? रवीश कुमार के साथ 'प्राइम टाइम'

    हिन्दू मुस्लिम टापिक से दिल भर गया हो क्या कुछ समय के लिए हम स्वास्थ्य शिक्षा और रोज़गार के सवाल पर बात कर सकते हैं. उससे पहले हम अर्थशास्त्र से जुड़ा एक सवाल कर सकते हैं कि दुनिया के हर अर्थशास्त्री ने समझाया कि तेल के दाम बढ़ने से बाकी चीज़ों के दाम बढ़ते हैं. क्या अब ये थ्योरी पलट गई है, तेल के दाम बढ़ने से बाकी चीज़ें सस्ती हो जाती हैं, उनका कोई निगेटिव असर नहीं पड़ता.

  • सोशल मीडिया पर चलने वाले इस झूठ को कैसे पहचाना जाए?

    सोशल मीडिया पर चलने वाले इस झूठ को कैसे पहचाना जाए?

    गौरी लंकेश की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर जैसे एक जंग छिड़ी हुई है. हालत ये है कि कुछ लोग हत्या का जश्न मना रहे हैं. कुछ पूछ रहे हैं कि पहले की हत्याओं पर शोक क्यों नहीं मनाया.

  • मैंने प्रधानमंत्री को गुंडा नहीं कहा: रवीश कुमार

    मैंने प्रधानमंत्री को गुंडा नहीं कहा: रवीश कुमार

    ख़ास बात यह है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह भी इस फेक न्यूज के भंवर में फंस गए और सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे फर्जी पोस्टों पर अपनी सहमति जताते हुए उसे शेयर भी कर दिया. हालांकि सच्चाई जानने के बाद उन्होंने माफी भी मांगी. 

  • दिग्विजय सिंह ने पोस्ट किया फर्ज़ी वीडियो, बाद में रवीश कुमार से मांगी माफी

    दिग्विजय सिंह ने पोस्ट किया फर्ज़ी वीडियो, बाद में रवीश कुमार से मांगी माफी

    कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने NDTV के सीनियर एक्ज़ीक्यूटिव एडिटर रवीश कुमार के एक भाषण के ऐसे फर्जी संस्करण को ट्विटर पर पोस्ट करने के लिए माफी मांगी है.

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया म्यांमार के सबसे प्राचीन शहर बागान में स्थित आनंद मंदिर का दौरा

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया म्यांमार के सबसे प्राचीन शहर बागान में स्थित आनंद मंदिर का दौरा

    भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को म्यांमार के सबसे प्राचीन शहर बागान में स्थित आनंद मंदिर का दौरा किया. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, 'इतिहास से जुड़ रहे हैं.

  • हमें सबसे पहले इस बात का जवाब चाहिए कि गौरी लंकेश की हत्या किसने की: रवीश कुमार

    हमें सबसे पहले इस बात का जवाब चाहिए कि गौरी लंकेश की हत्या किसने की: रवीश कुमार

    गौरी लंकेश हत्याकांड के विरोध में दिल्ली के प्रेस क्लब में बुधवार को पत्रकारों ने रोष व्यक्त किया. यहां हुई विरोध सभा में NDTV इंडिया के रवीश कुमार ने भी अपनी बात रखी. पढ़ें उनके द्वारा कही गई पूरी बात.

  • गौरी लंकेश नहीं मारी गईं, समाज की संवेदना और करुणा मर गई

    गौरी लंकेश नहीं मारी गईं, समाज की संवेदना और करुणा मर गई

    फेसबुक और ट्विटर पर कल रात से बहुत से हत्यारे बजबजाने लगे हैं. हत्या के समर्थन में भी लोग आ सकते हैं, अब हमारे सहिष्णु समाज में दिख रहा है. हम सिर्फ जिसकी हत्या होती है उसे ही देखते हैं, उसकी हत्या नहीं देखते जो हत्या करने आता है. पहली हत्या हत्यारे की होती है, तभी वह किसी की जान लेने लायक बनता है. फेक़ न्यूज़ और प्रोपेगैंडा की राजनीति ने सोशल मीडिया के समाज में हत्यारों की फौज खड़ी कर दी है.

  • 'रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार में ज़ुल्म' रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    'रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार में ज़ुल्म' रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    11 लाख रोहिंग्या मुसलमान बेहद ग़रीब हैं. सेना और बौद्ध हिंसा का शिकार होकर उन्हें जब भी भागना होता है बंगाल की खाड़ी में नाव के ज़रिये भाग कर बांग्लादेश आते हैं. भूखे-प्यासे जंगलों में भागते हुए सीमा पर म्यांमार की सेना की गोलियों से ढेर होते हुए वे किसी तरह बांग्लादेश पहुंचते हैं.

  • क्या बच्चों का सही तरीके से इलाज नहीं होता है? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    क्या बच्चों का सही तरीके से इलाज नहीं होता है? रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम

    आजकल हम और आप सिस्टम के बदलने पर नॉर्मल नहीं होते, बल्कि सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया देने के बाद नॉर्मल हो जाते हैं.