Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

राजनीतिक फंडिंग News in Hindi


'राजनीतिक फंडिंग' - 7 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • पाकिस्तान, लश्कर और जैश-ए- मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर लगाम लगाने में नाकाम : अमेरिकी रिपोर्ट

    पाकिस्तान, लश्कर और जैश-ए- मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर लगाम लगाने में नाकाम : अमेरिकी रिपोर्ट

    अमेरिका सरकार की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे संगठनों को फंडिंग, रिक्रूटिंग और ट्रेनिंग पर रोक नहीं लगा पाया है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इन संगठनों से जुड़े समूहों को बीती जुलाई में खुलेआम आम चुनाव लड़ने की भी इजाजत दी गई है. 'कंट्री रिपोर्ट ऑन टेरोरिज्म 2018' के नाम से प्रकाशित इस दस्तावेज में पाकिस्तान को लेकर जो भी कहा गया है यह उसकी मौजूदा छवि से भी मेल खाता है. इसमें आगे लिखा है कि पाकिस्तान, अफगान तालिबान और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकी संगठनों को अपनी जमीन का इस्तेमाल करने पर भी रोक लगा पाने में नाकाम साबित हुआ है. जबकि पाकिस्तान अफगान सरकार और तालिबानियों के बीच राजनीतिक  समन्वय की खुलकर वकालत करता है.  

  • आप को आयकर का नोटिस : केजरीवाल ने कहा, बदले की राजनीति की पराकाष्ठा

    आप को आयकर का नोटिस : केजरीवाल ने कहा, बदले की राजनीति की पराकाष्ठा

    दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आप को कर से दी गई छूट को खत्म करने के आयकर विभाग के नोटिस को ‘बदले की राजनीति की पराकाष्ठा’ बताया. उनकी पार्टी ने केंद्र पर प्रतिद्वंद्वी पार्टियों को बदनाम करने के लिए जांच एजेंसियों के इस्तेमाल का आरोप लगाया. आप के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दीपक बाजपेयी ने आयकर विभाग की कार्रवाई को ‘अभूतपूर्व’ करार देते हुए कहा कि पहली बार दस रुपये तक के चंदे को कर के दायरे में रखा गया है.

  • जहुर वताली को 10 दिन की रिमांड पर भेजा गया, सामने आ सकते हैं बड़े नाम

    जहुर वताली को 10 दिन की रिमांड पर भेजा गया, सामने आ सकते हैं बड़े नाम

    कश्मीर के व्यापारी जहुर वताली वह शख़्स है जो पूरी घाटी की नब्ज़ जानता है. राजनीतिक पार्टियों से लेकर अलगाववादी नेताओं तक. उसे मालूम है किस पार्टी का रिश्ता किस हद तक किसके साथ है. घाटी के जाने-माने कारोबारी ज़हूर वटाली को एनआइए ने गुरुवार को गिरफ़्तार किया और शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया.

  • चुनावी फंडिंग की सफाई या आंखों का धोखा..

    चुनावी फंडिंग की सफाई या आंखों का धोखा..

    राजनीतिक पार्टियों को दिए जाने वाले नकद चंदे को लेकर बजट में लाए गए नए नियम से क्रांति आए न आए, लेकिन ये आंखों का धोखा ज़रूर है.

  • राजनीतिक दल अब 2000 रुपये से ज्यादा चंदा नकद में नहीं ले सकेंगे

    राजनीतिक दल अब 2000 रुपये से ज्यादा चंदा नकद में नहीं ले सकेंगे

    राजनीतिक दलों के चंदे की पारदर्शिता पर छिड़ी बहस के बीच वित्त मंत्री अरुण जेटली ने घोषणा की है कि अब राजनीतिक पार्टी किसी एक आदमी से सिर्फ 2000 रुपये तक ही कैश में चंदा ले सकती है. चंदे के रूप में बड़ी रकम चेक या डिजिटल माध्यम से ली जा सकती है.

  • सभी राजनीतिक दल 2000 रुपये तक की कमाई के स्रोत सार्वजनिक करें : चुनाव आयोग

    सभी राजनीतिक दल 2000 रुपये तक की कमाई के स्रोत सार्वजनिक करें : चुनाव आयोग

    देश में राजनीतिक दलों की कमाई पर नेशनल इलेक्शन वॉच की ताजा रिपोर्ट ने एक नई बहस छेड़ दी है. बुधवार को चुनाव आयोग ने कहा कि सभी राजनीतिक दलों को 2000 रुपये तक की कमाई के स्रोत को सार्वजनिक करना चाहिए. फिलहाल 20,000 तक की कमाई का स्रोत नहीं बताने की छूट है.

  • विदेशी कंपनियों से चुनावी चंदे को जायज़ बनाने के लिये कानून में 'चुपचाप' संशोधन की तैयारी

    विदेशी कंपनियों से चुनावी चंदे को जायज़ बनाने के लिये कानून में 'चुपचाप' संशोधन की तैयारी

    एक ओर एनजीओ के खिलाफ विदेश से चंदा लेने से संबंधित कार्रवाई की जा रही है, वहीं राजनीतिक पार्टियों को बचाने के लिये बजट में संशोधन हो रहे हैं।

Advertisement

 

राजनीतिक फंडिंग वीडियो

राजनीतिक फंडिंग से जुड़े अन्य वीडियो »