NDTV Khabar

राज्यपाल सत्यपाल मलिक


'राज्यपाल सत्यपाल मलिक' - 63 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • जम्मू-कश्मीर में जुमे की नमाज़ के बाद मिल सकती है ढील, आज से खुलेंगे सरकारी कार्यालय

    जम्मू-कश्मीर में जुमे की नमाज़ के बाद मिल सकती है ढील, आज से खुलेंगे सरकारी कार्यालय

    उन्होंने बताया कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राज्य में गुरुवार शाम सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के बाद सरकारी सचिवालय एवं अन्य कार्यालयों में सामान्य कामकाज बहाल किए जाने का निर्देश दिया.

  • राज्यपाल ने श्रीनगर में तिरंगा फहराया, बोले- जम्मू-कश्मीर के लोगों की पहचान न तो दांव पर है और न ही इसमें छेड़छाड़ हुई

    राज्यपाल ने श्रीनगर में तिरंगा फहराया, बोले- जम्मू-कश्मीर के लोगों की पहचान न तो दांव पर है और न ही इसमें छेड़छाड़ हुई

    उन्होंने यह बात 73वें स्वतंत्रता दिवस पर श्रीनगर में आयोजित समारोह में ध्वजारोहण के बाद कही. केंद्र के ओर से किए गए बदलाव को ऐतिहासिक करार देते हुए मलिक ने कहा कि इससे विकास के नए रास्ते खुलेंगे और जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख के विभिन्न समुदायों को अपनी भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी.

  • राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर मामले में सत्यपाल मलिक को ट्वीट से फिर दिया जवाब, लिखा- प्रिय 'मालिक जी', मैं कब आ सकता हूं?

    राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर मामले में सत्यपाल मलिक को ट्वीट से फिर दिया जवाब, लिखा- प्रिय 'मालिक जी', मैं कब आ सकता हूं?

    इस बार उन्होंने अपने ट्वीट में मलिक की जगह 'मालिक जी' लिखकर राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर तंज कसा है.

  • राहुल गांधी ने दिया जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल को जवाब- हमें हवाई जहाज नहीं, घूमने की आजादी मिले

    राहुल गांधी ने दिया जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल को जवाब- हमें हवाई जहाज नहीं, घूमने की आजादी मिले

    कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के राज्य का दौरा करने का न्योता दिए जाने और हवाईजहाज़ भेज देने की पेशकश पर कहा है कि उन्हें हवाई जहाज़ भले ही न दिया जाए, लेकिन उन्हें तथा उनके साथ आने वाले विपक्षी नेताओं को राज्यभर में घूमने तथा आम लोगों के अलावा मुख्यधारा के नेताओं व राज्य में तैनात फौजियों से मिलने की आज़ादी दी जाए. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने टवीट किया, "प्रिय राज्यपाल (जम्मू एवं कश्मीर) मलिक, मैं तथा विपक्षी नेताओं का शिष्टमंडल जम्मू एवं कश्मीर तथा लद्दाख के दौरे के लिए आपके उदार निमंत्रण को स्वीकार करते हैं... हमें विमान की आवश्यकता नहीं होगी, लेकिन कृपया सुनिश्चित करें कि हमें घूमने तथा लोगों, मुख्यधारा के नेताओं और वहां तैनात फौजियों से मिलने की आज़ादी मिले..."

  • राहुल गांधी ने घाटी के हालात पर उठाए सवाल, तो राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले, मैं उनके लिए विशेष विमान...

    राहुल गांधी ने घाटी के हालात पर उठाए सवाल, तो राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले, मैं उनके लिए विशेष विमान...

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कश्मीर में हिंसा की खबर होने संबंधी टिप्पणी के बारे में कहा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को घाटी का दौरा कराने और जमीनी स्थिति का जायजा लेने के लिए वह विमान भेजेंगे.

  • जम्मू-कश्मीर में लगे कर्फ्यू के बीच राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दिया बड़ा बयान, कहा- ईद पर तो हम....

    जम्मू-कश्मीर में लगे कर्फ्यू के बीच राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दिया बड़ा बयान, कहा- ईद पर तो हम....

    बता दें कि इससे पहले मोदी सरकार द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार रात सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की थी. इस दौरान उन्होंने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए निरंतर सतर्कता बरतने और तैयारी की आवश्यकता पर जोर दिया था. राजभवन के प्रवक्ता ने बताया था कि सरकार ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की और राज्य में मौजूदा सुरक्षा और कानून व्यवस्था की समीक्षा की.

  • अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर से हटा : श्रीनगर में मौजूद हैं अजीत डोभाल और गृह सचिव राजीव गौबा, 10 बड़ी बातें

    अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर से हटा :  श्रीनगर में मौजूद हैं अजीत डोभाल और गृह सचिव राजीव गौबा, 10 बड़ी बातें

    अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के फैसले के बाद कश्मीर घाटी में सुरक्षा की समीक्षा के लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और गृह सचिव राजीव गौबा श्रीनगर पहुंच गए हैं. वहीं योजना आयोग ने जानकारी दी है कि जम्मू-कश्मीर में तीन महीने का खाने-पीने का स्टॉक जमा कर दिया गया है. वहीं डोभाल और राजीव गौबा हर जानकारी केंद्र सरकार को दे रहे हैं. राज्य में पहले ही अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई थी. सोमवार रात राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सुरक्षा हालात की समीक्षा की है. उन्होंने किसी भी हालात से निपटने के लिए निरंतर सतर्कता बरतने और तैयारी की आवश्यकता पर ज़ोर दिया. साथ ही घाटी में बिजली, पानी की आपूर्ति और स्वास्थ्य सेवाओं समेत लोगों को विभिन्न सार्वजनिक सेवाओं की आवश्यक आपूर्ति और वितरण के बारे में जानकारी दी. जम्मू और श्रीनगर में लगातार धारा 144 लागू है. ऐसे में घाटी के ज़्यादातर शहरों में सड़कों पर सन्नाटा पसरा है. इक्का-दुक्का लोग नज़र आ रहे हैं. साथ ही बाज़ार भी बंद हैं. बड़ी संख्या में सुरक्षाबल की तैनाती है जो लगातार चप्पे-चप्पे पर नज़र बनाए हुए हैं. वहीं अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के फ़ैसले के बाद पूर्व मुख्यमंत्री मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला को गिरफ़्तार किया गया है. पीडीपी नेता महबूबा मुफ़्ती और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला की गिरफ़्तारी के बाद श्रीनगर के सरकारी गेस्ट हाउस में ले जाया गया है. कश्मीर में सुरक्षा जिस कदर बढ़ाई गई है उससे लगता है कि लॉक डाउन की स्थिति लंबी चलने वाली है

  • जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की, प्रशासन को अलर्ट रहने के निर्देश दिए

    जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की, प्रशासन को अलर्ट रहने के निर्देश दिए

    मोदी सरकार द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार रात सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए निरंतर सतर्कता बरतने और तैयारी की आवश्यकता पर जोर दिया. राजभवन के प्रवक्ता के अनुसार, सरकार ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की और राज्य में मौजूदा सुरक्षा और कानून व्यवस्था की समीक्षा की.

  • कश्मीर 'छोड़ने' की एडवाइजरी के बाद एयर इंडिया ने घटाया किराया, अब इतना ही चुकाना होगा

    कश्मीर 'छोड़ने' की एडवाइजरी के बाद एयर इंडिया ने घटाया किराया, अब इतना ही चुकाना होगा

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने शुक्रवार शाम को राज्य के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मंडल के साथ मुलाकात की और उन्हें शांत रहने व अफवाहों पर ध्यान न देने की नसीहत दी थी. उन्होंने कहा था कि अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़कर 'बेवजह का डर' पैदा किया जा रहा है. जम्मू कश्मीर के राज्यपाल ने राजनीतिक नेताओं से अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने और 'अफवाहों' पर भरोसा ना करने की बात कही थी. 

  • 'कल के बारे में नहीं जानता लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं'- जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

    'कल के बारे में नहीं जानता लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं'- जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की यह टिप्पणी उमर अब्दुल्ला के साथ हुई मुलाकात के कुछ घंटों के बाद आई. नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने अंदेशा जताया था कि  केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर राज्य के विशेष दर्जे को लेकर बड़ा कदम उठाने की तैयारी में है.

  • राज्यपाल से मिलने के बाद उमर अब्दुल्ला ने कहा- जम्मू-कश्मीर के हालात पर कहीं से कोई जवाब नहीं मिल रहा है

    राज्यपाल से मिलने के बाद उमर अब्दुल्ला ने कहा- जम्मू-कश्मीर के हालात पर कहीं से कोई जवाब नहीं मिल रहा है

    जम्मू-कश्मीर में अचानक से रोकी गई अमरनाथ यात्रा, सैलानियों को वापस आने की एडवाइजरी और घाटी में 25 हजार सैनिकों की अतिरिक्त तैनातगी के बीच राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात की है. इसके साथ ही अफवाह यह भी है कि केंद्र सरकार राज्य में अनुच्छेद 35A हटाने का विचार कर रही है. राज्यपाल से मुलाकात के बाद मीडिया से बाहर आकर उमर अब्दुल्ला ने कहा, हमें पता नहीं पता कि क्या हो रहा है. इसलिए एक प्रतिनिधिमंडल जिसमें में भी शामिल हूं, राज्यपाल से मिलकर पूछा कि यह सब कुछ क्यों हो रहा है. हमने अनुच्छेद 35A और अनुच्छेद 370 को हटाने की खबरों के बारे में भी पूछा है, जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया है कि ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है.'

  • महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी से की अपील, कहा- राज्य के विशेष दर्जे के साथ छेड़छा़ड न करें

    महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी से की अपील, कहा-  राज्य के विशेष दर्जे के साथ छेड़छा़ड न करें

    महबूबा ने अन्य पार्टियों के नेताओं के साथ शुक्रवार रात को राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात की और उनसे उन 'अफवाहों को खारिज करने का अनुरोध किया जिससे घाटी में भय का माहौल पैदा हो गया है' उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि अपनी विशिष्ट पहचान की रक्षा के लिये जो कुछ भी बाकी बचा है, उसे भारत, जम्मू कश्मीर की जनता से 'बलपूर्वक छीन'ने की तैयारी में है. 

  • जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राजनीतिक दलों से कहा, शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राजनीतिक दलों से कहा, शांति बनाए रखें और अफवाहों पर ध्यान न दें

    जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकने को अन्य मुद्दों के साथ जोड़कर 'बेवजह का डर' पैदा किया जा रहा है. जम्मू कश्मीर के राज्यपाल ने राजनीतिक नेताओं से अपने समर्थकों से शांति बनाए रखने और 'अफवाहों' पर भरोसा ना करने की बात कही है. 

  • Jammu And Kashmir Live Update:राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा-अफवाहों पर न दें ध्यान

    Jammu And Kashmir Live Update:राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा-अफवाहों पर न दें ध्यान

    जम्मू कश्मीर में आंतकी हमले की आशंका को देखते हुए प्रशासन की ओर से अमरनाथ यात्रियों को घोटी छोड़ने की एडवाइजरी जारी की गई है. बदले हालातों पर चर्चा के लिए सभी दलों ने कश्मीर में आपात बैठक भी बुलाई. वहीं एकाएक  कश्मीर में बढ़ी हलचल को देखते हुए स्थानीय लोगों में उहापोह की स्थिति पैदा हो गई है.

  • जम्मू कश्मीर को लेकर चल रही अफवाहों के बीच राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जनता से की यह अपील...

    जम्मू कश्मीर को लेकर चल रही अफवाहों के बीच राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जनता से की यह अपील...

    जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने कहा कि राज्य के विशेष दर्जे पर कोई बड़ा निर्णय होने के बारे में अफवाहों की तरफ लोगों को ध्यान नहीं देना चाहिए.

  • सत्यपाल मलिक के बयान पर उमर अब्दुल्ला ने साधा निशाना तो गवर्नर बोले- वह राजनीतिक नौसिखिया हैं...

    सत्यपाल मलिक के बयान पर उमर अब्दुल्ला ने साधा निशाना तो गवर्नर बोले- वह राजनीतिक नौसिखिया हैं...

    राज्यपाल के इस बयान पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट करके लिखा, ‘‘इस ट्वीट को सहेज लें- आज के बाद जम्मू-कश्मीर में मारे गये किसी भी मुख्यधारा के नेता या सेवारत/सेवानिवृत्त नौकरशाह की अगर हत्या होती है तो समझा जायेगा कि यह जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के आदेशों पर की गयी है.’’ इसके बाद सत्यपाल मलिक ने अपने बयान पर सफाई दी और उमर अब्दुल्ला पर निशाना साधा.

  • 'मुल्क को लूटने वालों को आतंकी मारें' वाले बयान पर सत्यपाल मलिक की सफाई- गवर्नर के तौर पर बयान सही नहीं, पर मेरी निजी सोच वही है

    'मुल्क को लूटने वालों को आतंकी मारें' वाले बयान पर सत्यपाल मलिक की सफाई- गवर्नर के तौर पर बयान सही नहीं, पर मेरी निजी सोच वही है

    राज्यपाल के इस बयान पर राजनीतिक विवाद पैदा हो गया. राज्यपाल के इस बयान की मुख्यधारा के नेताओं ने आलोचना की है. राज्यपाल की इस टिप्पणी पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं जम्मू कश्मीर नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि मलिक को दिल्ली में अपनी प्रतिष्ठा की पड़ताल करनी चाहिए. अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ‘यह शख्स जो जाहिर तौर पर एक जिम्मेदार संवैधानिक पद पर काबिज है और वह आतंकवादियों को भ्रष्ट समझे जाने वाले नेताओं की हत्या के लिये कह रहा है.’ बाद में, नेकां नेता ने कहा, ‘‘इस ट्वीट को सहेज लें - आज के बाद जम्मू-कश्मीर में मारे गये किसी भी मुख्यधारा के नेता या सेवारत/सेवानिवृत्त नौकरशाह की अगर हत्या होती है तो समझा जायेगा कि यह जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के आदेशों पर की गयी है.’

  • J&K के राज्यपाल ने आतंकियों से कहा, 'मुल्क लूटने वालों को मारो..' तो उमर अब्दुल्ला बोले- किसी नेता का मर्डर होने पर गवर्नर जिम्मेदार

    J&K के राज्यपाल ने आतंकियों से कहा, 'मुल्क लूटने वालों को मारो..' तो उमर अब्दुल्ला बोले- किसी नेता का मर्डर होने पर गवर्नर जिम्मेदार

    राज्यपाल के इस बयान पर राजनीतिक विवाद उत्पन्न हो सकता है. राज्यपाल के इस बयान की मुख्यधारा के नेताओं ने आलोचना की है. लद्दाख संभाग के करगिल में एक पर्यटन कार्यक्रम में मलिक ने कहा, ‘‘ये लड़के जिन्होंने हथियार उठाये है वे अपने ही लोगों की हत्या कर रहे हैं, वे पीएसओ (निजी सुरक्षा अधिकारियों) और एसपीओ (विशेष पुलिस अधिकारियों) की हत्या कर रहे हैं. इनकी हत्या क्यों कर रहे हो? उनकी हत्या करो जिन्होंने कश्मीर की सम्पदा लूटी है. क्या तुमने इनमें से किसी मारा है?’’