NDTV Khabar

रॉकेट प्रक्षेपण


'रॉकेट प्रक्षेपण' - 75 न्यूज़ रिजल्ट्स

  • कोरोना वायरस के बीच अमेरिका की Space x कंपनी ने रचा इतिहास, दो इंसानों को भेजा अंतरिक्ष

    कोरोना वायरस के बीच अमेरिका की Space x कंपनी ने रचा इतिहास, दो इंसानों को भेजा अंतरिक्ष

    नासा के अंतरिक्ष यात्री बॉब बेह्नकेन (49) और डोग हर्ले (53) को लेकर स्पेसएक्स क्रू ड्रैगन अंतरिक्षयान ने नासा के केनेडी अंतरिक्ष केंद्र के प्रक्षेपण परिसर से कंपनी के फाल्कन 9 रॉकेट के जरिए तीन बजकर 22 मिनट पर उड़ान भरी.

  • SpaceX का सबसे महत्वपूर्ण रॉकेट लॉन्च ऐन मौके पर टला, जानिए क्या थी वजह

    SpaceX का सबसे महत्वपूर्ण रॉकेट लॉन्च ऐन मौके पर टला, जानिए क्या थी वजह

    नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों के स्पेसएक्स रॉकेट प्रक्षेपण को अंतिम समय में टाल दिया गया. खराब मौसम की वजह से इसे टाला गया. अगर खराब मौसम साफ हो जाता, तो इसे 4:33 बजे (20:33 GMT) SpaceX रॉकेट, जिस पर नए क्रू ड्रैगन कैप्सूल होते हैं, कैनेडी स्पेस सेंटर के लॉन्च पैड 39A से उड़ान भरता.

  • जानें, जब 'चंद्रयान-2' हो रहा था लॉन्च, तब PM मोदी कहां थे और क्या कर रहे थे?

    जानें, जब 'चंद्रयान-2' हो रहा था लॉन्च, तब PM मोदी कहां थे और क्या कर रहे थे?

    चंद्रयान को सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 दूसरे लॉन्च पैड से लेकर रवाना हुआ है. जिस वक्त चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण हुआ तब पीएम मोदी कहां और क्या कर रहे थे, इसके बारे में भी लोगों को जानने की काफी उत्सुकुता थी. आपको बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ऑफिस से ही टीवी पर चंद्रयान-2 के लॉन्च की लाइव कवरेज देखी.

  • कांग्रेस ने चंद्रयान-2 का 'श्रेय लेने की कोशिश' की, BJP ने पलटवार कर कही यह बात...

    कांग्रेस ने चंद्रयान-2 का 'श्रेय लेने की कोशिश' की, BJP ने पलटवार कर कही यह बात...

    कांग्रेस ने देश के दूसरे चंद्र मिशन चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) के सफल प्रक्षेपण पर संबंधित वैज्ञानिकों एवं परियोजना से जुड़े लोगों को बधाई दी और साथ ही उसने अंतरिक्ष अनुसंधान की बुनियाद रखने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू तथा चंद्रयान-2 मिशन को स्वीकृति प्रदान करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को याद किया. भाजपा ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि सभी भारतीय नागरिकों को गौरवान्वित करने वाली इस उपलब्धि पर राजनीति करना दुखद है.

  • चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के बाद बोले ISRO प्रमुख- चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की यह शुरुआत

    चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के बाद बोले ISRO प्रमुख- चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की यह शुरुआत

    चंद्रयान-2 (Chandrayaan 2) का सोमवार को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सफलता पूर्वक प्रक्षेपण किया गया. चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण के बाद इसरो (ISRO) प्रमुख के. सिवन (K Sivan) ने मिशन के सफल होने की घोषणा की और 15 जुलाई को आई तकनीकी खामी को लेकर कहा कि हम फिर से अपने रास्ते पर आ गए. उन्होंने कहा कि यह चंद्रमा की ओर भारत की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत है.

  • चांद की ओर चला चंद्रयान-2, 'बाहुबली' रॉकेट लेकर उड़ा, जानें 7 बड़ी बातें

    चांद की ओर चला चंद्रयान-2, 'बाहुबली' रॉकेट लेकर उड़ा, जानें 7 बड़ी बातें

    चंद्रमा के अनछुए पहलुओं का पता लगाने के लिए चंद्रयान-2 सोमवार को यहां स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से शान के साथ रवाना हो गया. इसे ‘बाहुबली’ नाम के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी-मार्क ।।। के जरिए अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर प्रक्षेपित किया गया. सोमवार का यह प्रक्षेपण अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की धाक जमाएगा और यह चांद के बारे में दुनिया को नई जानकारी उपलबध कराएगा. गत 15 जुलाई को रॉकेट में तकनीकी खामी का पता चलने के बाद इसका प्रक्षेपण टाल दिया गया था. उस दिन इसका प्रक्षेपण तड़के दो बजकर 51 मिनट पर होना था, लेकिन प्रक्षेपण से 56 मिनट 24 सेकंड पहले रॉकेट में तकनीकी खामी का पता चलने के बाद चंद्रयान-2 की उड़ान टाल दी गई थी. उस दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द भी प्रक्षेपण स्थल पर मौजूद थे.

  • चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग देखने के लिए 7500 ने कराया ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

    चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग देखने के लिए 7500 ने कराया ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

    लॉन्च देखने के लिए विभिन्न स्थानों के लोगों ने पंजीकरण कराया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, "रॉकेट का प्रक्षेपण देखने के लिए कुल 7,500 लोगों ने ऑनलाइन पंजीकरण कराया है."

  • भारत की चांद पर एक और छलांग, ISRO ने लॉन्च किया चंद्रयान-2, 'बाहुबली' रॉकेट लेकर उड़ा

    भारत की चांद पर एक और छलांग, ISRO ने लॉन्च किया चंद्रयान-2, 'बाहुबली' रॉकेट लेकर उड़ा

    चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र में दूसरे लांच पैड से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर किया जायेगा. इस मिशन की लागत 978 करोड़ रुपये है. एक सप्ताह पहले तकनीकी गड़बड़ी आने के बाद चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण रोक दिया गया था.

  • ISRO आज दोपहर लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, मिशन पर खर्च हुआ है 978 करोड़ रुपये, जानें- 8 बड़ी बातें

    ISRO आज दोपहर लॉन्च करेगा चंद्रयान-2, मिशन पर खर्च हुआ है 978 करोड़ रुपये, जानें- 8 बड़ी बातें

    चांद पर भारत के दूसरे महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 को सोमवार को श्रीहरिकोटा से सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 के जरिए प्रक्षेपित किया जायेगा. चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र में दूसरे लांच पैड से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर किया जायेगा. इस मिशन की लागत 978 करोड़ रुपये है. एक सप्ताह पहले तकनीकी गड़बड़ी आने के बाद चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण रोक दिया गया था. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने 15 जुलाई को मिशन के प्रक्षेपण से 56 मिनट 24 सेकंड पहले मिशन नियंत्रण कक्ष से घोषणा के बाद रात 1.55 बजे इसे रोक दिया था. कई दिग्गज वैज्ञानिकों ने इस कदम के लिए इसरो की प्रशंसा भी की थी. उनका कहना था कि जल्दबाजी में कदम उठाने से बड़ा हादसा हो सकता था.

  • चंद्रयान-2 प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू, कल 2.43 बजे होगी लॉन्चिंग

    चंद्रयान-2 प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू, कल 2.43 बजे होगी लॉन्चिंग

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के. सिवन ने रविवार को बताया कि आज शाम 6.43 बजे से चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है. इस दौरान रॉकेट और अंतरिक्ष यान प्रणाली की जांच की जाएगी और रॉकेट के इंजन को शक्ति प्रदान करने के लिए ईंधन भरा जाएगा. और 22 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर इसकी लॉन्चिंग होगी.

  • Chandrayaan 2: बस कुछ समय बाद भारत लॉन्च करेगा 'चंद्रयान-2', पढ़ें- इस मिशन से जुड़ी 10 खास बातें

    Chandrayaan 2: बस कुछ समय बाद भारत लॉन्च करेगा 'चंद्रयान-2', पढ़ें- इस मिशन से जुड़ी 10 खास बातें

    Chandrayaan 2 Launch: दुनिया के सामने अपना लोहा मनवाने और अंतरिक्ष में लंबी छलांग लगाने के मकसद से भारत सोमवार को दूसरे चंद्र मिशन 'चंद्रयान-2' का प्रक्षेपण करने जा रहा है. इसे बाहुबली नाम के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी-एमके तृतीय यान से भेजा जाएगा. 'चंद्रयान-2' चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंच पाया है. इससे चांद के बारे में समझ सुधारने में मदद मिलेगी जिससे ऐसी नयी खोज होंगी जिनका भारत और पूरी मानवता को लाभ मिलेगा. तीन चरणों का 3,850 किलोग्राम वजनी यह अंतरिक्ष यान ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर के साथ यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) से सुबह दो बजकर 51 मिनट पर आकाश की ओर उड़ान भरेगा. 

  • चंद्रयान 2 की तस्वीरें सामने आईं, अगले हफ्ते श्रीहरिकोटा से होगा प्रक्षेपण

    चंद्रयान 2 की तस्वीरें सामने आईं, अगले हफ्ते श्रीहरिकोटा से होगा प्रक्षेपण

    चंद्रयान 2 सैटेलाइट की पहली तस्वीर सामने आ गई है. यह पृथ्वी से चंद्रमा की ओर श्रीहरिकोटा से 15 जुलाई को लगभग आधी रात को रवाना होगा. इसका वजन 3.8 टन है और यह एक हजार करोड़ का मिशन है. जीएसएलवी मार्क-3 रॉकेट इसे लेकर अंतरिक्ष में जाएगा. प्रक्षेपण के बाद उपग्रह 'चंद्रयान 2' को कई हफ्ते लगेंगे, और फिर वह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा.

  • ISRO का अब तक का सबसे वजनी GSAT-11 सैटेलाइट लॉन्च, फ्रेंच गुआना से सफल प्रक्षेपण

    ISRO का अब तक का सबसे वजनी GSAT-11 सैटेलाइट लॉन्च, फ्रेंच गुआना से सफल प्रक्षेपण

    भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा बनाए ‘सबसे अधिक वजनी’ उपग्रह जीसैट-11 का पांच दिसंबर यानी बुधवार को को फ्रेंच गुआना के एरियानेस्पेस के एरियाने-5 रॉकेट से सफल प्रक्षेपण किया गया. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि करीब 5,854 किलोग्राम वजन का जीसैट-11 देशभर में ब्रॉडबैंड सेवाएं उपलब्ध कराने में अहम भूमिका निभाएगा. बताया जा रहा है कि यह सैटेलाइट GSAT-11 इसरो का बनाया अब तक का ‘सबसे अधिक वजन’ वाला उपग्रह है.

  • इसरो ने किया जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, देश के प्रथम मानवयुक्त मिशन की ओर एक अहम कदम

    इसरो ने किया जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, देश के प्रथम मानवयुक्त मिशन की ओर एक अहम कदम

    भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (इसरो) के जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल मार्क III (जीएसएलवी एमके -3) ने अपनी दूसरी उड़ान में संचार उपग्रह जीसैट-29 को भू स्थिर कक्षा में सफलता पूर्वक स्थापित कर दिया.

  • रूस : आपात स्थिति में उतरे सोयुज रॉकेट के दोनों अंतरिक्ष यात्री सुरक्षित

    रूस : आपात स्थिति में उतरे सोयुज रॉकेट के दोनों अंतरिक्ष यात्री सुरक्षित

    अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) के लिए रवाना हुए एक सोयुज रॉकेट के चालक दल के दो सदस्यों को गुरुवार को आपात स्थिति में उतरने के लिए मजबूर होना पड़ा और वे सुरक्षित बताए जा रहे हैं.

  • ‘सूर्य स्पर्श’ के लिए नासा के पहले अंतरिक्षयान के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू

    ‘सूर्य स्पर्श’ के लिए नासा के पहले अंतरिक्षयान के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू

    सूर्य के प्रचंड तापमान वाले वातावरण को टटोलने और इस तारे तक मानवों के पहले मिशन के उद्देश्य से डेढ़ अरब डॉलर के नासा के अंतरिक्षयान के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुक्रवार को शुरू हुई.

  • भारत पर नजर रखने के इरादे से चीन ने पाकिस्तान के लिए 2 सैटेलाइट लॉन्च किए

    भारत पर नजर रखने के इरादे से चीन ने पाकिस्तान के लिए 2 सैटेलाइट लॉन्च किए

    भारत पर नजर रखने के इरादे से चीन ने सोमवार को पाकिस्तान के लिए दो सैटेलाइट लॉन्च किए हैं. ये सैटेलाइट चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर पर नज़र रखने में भी मददगार साबित होंगे. तकरीबन 19 साल के दौरान 'लॉन्ग मार्च -2 सी' रॉकेट का यह पहला अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक प्रक्षेपण है. सैटेलाइट पीआरएसएस-1 और पाकटीईएस -1 ए को पश्चिमोत्तर चीन में जिउकान उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से सुबह 11 बजकर 56 मिनट पर प्रक्षेपित किया गया.

  • अंतरिक्ष में भेजी गई एलन मस्क की कार धरती या शुक्र ग्रह से टकरा सकती है

    अंतरिक्ष में भेजी गई एलन मस्क की कार धरती या शुक्र ग्रह से टकरा सकती है

    टेस्ला कंपनी के सीईओ एलन मस्क की कार जिसे हाल ही में स्पेसएक्स रॉकेट की परीक्षण उड़ान के एक हिस्से के तौर पर अंतरिक्ष में भेजा गया था वह आखिरकार धरती या शुक्र ग्रह से टकरा जाएगी.

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com